एक मनोवैज्ञानिक के रूप में आपके अनुसार लव मैरिज ज़्यादा अच्छी चलती है या फिर अरेंज मैरिज और क्यूँ?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

4:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक मनोवैज्ञानिक के रूप में आपके अनुसार लव मैरिज ज्यादा अच्छी चलती है या फिर अरेंज मैरिज मैं तो मनोवैज्ञानिक नहीं हूं लेकिन फिर भी तो थोड़े बहुत अनुभव देते हैं उसके अनुसार बातें कर सकता हूं लव मैरिज बनाम अरेंज मैरिज लव मैरिज होता है इसमें लड़के और लड़की क्या करते हैं वह सबसे अच्छे कपड़े सबसे अच्छे समय और सबसे अच्छी बातें विवाह के पहले एक विशेषज्ञता से अपेक्षाएं रिंकी बहुत ज्यादा होती है एक दूसरे से अब जब विवाह हो जाता है तो विवाह के बाद दो जो होता है वह तो रहता ही है लेकिन अपेक्षाएं विवाह के पहले के लिए होती है विवाह के बाद कभी कभी फलीभूत नहीं होती क्योंकि विवाह जो है वह जिम्मेदारी करना जिम्मेदारी जब आती है तब युवा के पहले किलो की लव लाइफ जो होती है वह पूरी ना होने से एक दूसरे से टकराव होता है और शिकायतें होने लगती 25 शिकायतों का दौर चलता है लड़की और लड़की वर वधु चोदते हैं वह लोग में आपसी असंतोष होता है और कभी-कभी झगड़े भी हो जाते इसलिए अरेंज मैरिज उसे हम लव मैरिज के साथ कंबीनेशन कर दिया कर या नहीं पसंद किया है उसे व्यक्ति के साथ यानी कि लड़का लड़की दोनों मिलकर अगर बातें करें तो वह एक तरह का लव होना शुरू हो जाता है शुरू से विवाह के बाद फिर लो और भी मजबूत हो जाता है दोनों पक्ष वर-वधू समझते की जिम्मेदारी हमें ली है उर्दू एक भाव कान्हा की पिक्चर शुरू होगी तो क्या हुआ कैसी होगी वह सब जो भावनाएं होती है वह व्यक्ति हैं लोग कम होता है लव मैरिज में लो पहले होता है और अरेंज मैरिज में विवाह पहले होता है और लोग बाद में होता है इसलिए विवाह के पहले अगर लव करना है तो अरेंज मैरिज में भी आप कर सकते हैं थोड़ा समय दे दीजिए एक दूसरे को अरेंज मैरेज हुई है सगाई और शादी के बीच में आप तो दो 4 महीने का समय रख लीजिए ट्रेन का समय रख लीजिए और उसमें लव कर लीजिए तो आपको भी मानसिक शांति मिल जाएगी गई लव कब्जे में कर रहा हूं वही घर से मेरे से ज्यादा बेहतर हो सकती है दूसरों की भी गलत अलग हो सकते हैं क्योंकि लोग लव मैरिज को भी पेपर करते हैं कि बिना किसी घर में विजय किसी लड़की लड़का से हम कैसे अपनी जिंदगी बिता सकते हैं जिंदगी हमारी है हमें अपने बड़ों का कहना पर क्यों शादी करें वह उनकी जगह सही है लेकिन जो बड़े होते हैं वह सब कुछ देखते हैं विजय लड़के लड़कियां सिर्फ देखते हैं उसके अलावा भी जो भी हमारे बड़े एल्डर से माता-पिता है वह सकते हैं

ek manovaigyanik ke roop mein aapke anusaar love marriage zyada achi chalti hai ya phir arrange marriage main toh manovaigyanik nahi hoon lekin phir bhi toh thode bahut anubhav dete hain uske anusaar batein kar sakta hoon love marriage banam arrange marriage love marriage hota hai isme ladke aur ladki kya karte hain vaah sabse acche kapde sabse acche samay aur sabse achi batein vivah ke pehle ek visheshagyata se apekshayen rinki bahut zyada hoti hai ek dusre se ab jab vivah ho jata hai toh vivah ke baad do jo hota hai vaah toh rehta hi hai lekin apekshayen vivah ke pehle ke liye hoti hai vivah ke baad kabhi kabhi falibhut nahi hoti kyonki vivah jo hai vaah jimmedari karna jimmedari jab aati hai tab yuva ke pehle kilo ki love life jo hoti hai vaah puri na hone se ek dusre se takraav hota hai aur shikayaten hone lagti 25 shikayaton ka daur chalta hai ladki aur ladki var vadhu chodte hain vaah log mein aapasi asantosh hota hai aur kabhi kabhi jhagde bhi ho jaate isliye arrange marriage use hum love marriage ke saath combination kar diya kar ya nahi pasand kiya hai use vyakti ke saath yani ki ladka ladki dono milkar agar batein kare toh vaah ek tarah ka love hona shuru ho jata hai shuru se vivah ke baad phir lo aur bhi majboot ho jata hai dono paksh var vadhu samajhte ki jimmedari hamein li hai urdu ek bhav kanha ki picture shuru hogi toh kya hua kaisi hogi vaah sab jo bhaavnaye hoti hai vaah vyakti hain log kam hota hai love marriage mein lo pehle hota hai aur arrange marriage mein vivah pehle hota hai aur log baad mein hota hai isliye vivah ke pehle agar love karna hai toh arrange marriage mein bhi aap kar sakte hain thoda samay de dijiye ek dusre ko arrange marriage hui hai sagaai aur shadi ke beech mein aap toh do 4 mahine ka samay rakh lijiye train ka samay rakh lijiye aur usme love kar lijiye toh aapko bhi mansik shanti mil jayegi gayi love kabje mein kar raha hoon wahi ghar se mere se zyada behtar ho sakti hai dusro ki bhi galat alag ho sakte hain kyonki log love marriage ko bhi paper karte hain ki bina kisi ghar mein vijay kisi ladki ladka se hum kaise apni zindagi bita sakte hain zindagi hamari hai hamein apne badon ka kehna par kyon shadi kare vaah unki jagah sahi hai lekin jo bade hote hain vaah sab kuch dekhte hain vijay ladke ladkiyan sirf dekhte hain uske alava bhi jo bhi hamare bade Elder se mata pita hai vaah sakte hain

एक मनोवैज्ञानिक के रूप में आपके अनुसार लव मैरिज ज्यादा अच्छी चलती है या फिर अरेंज मैरिज म

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!