आप लगभग 11 सालों से एक रेडीओ जॉकी हैं, कैसा रहा ये सफ़र अभी तक का और आपने क्या क्या अनुभव किया?...


user

Dinesh Mishra

Theosophists | Accountant

7:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए रेडियो जॉकी एक सुनहरा रोजगार व्यवसाय के रूप में उभर रहा है और यद्यपि इसका जो प्रशिक्षण है इसकी जो ट्रेनिंग है वह महंगी हुआ करती है उसमें धन अधिक में होता है यह आवाज की दुनिया का जादू है जो लोग इस क्षेत्र में रुचि रखा रख करते हैं उन्हें आवाज कैसे मधुर बनाई है कैसी बेहतर बनाई जाए और जिसे सुनकर के लोग झूमे यह सिखाने की प्रयास की जाते हैं और इस क्षेत्र में रोजगार में धनी अधिक मिला करता है इस मुख्य रोजगार के लिए उसमें उच्चारण की शुद्धता हो उसमें उच्चारण में दोष ना हो आपकी आवाज खनकती हुई आवाज़ हूं और जिस भी भाषा का क्या जो भी भाषा आपको आती है संभव है आपको दो या तीन भाषाएं आती हो तो इसमें यह सुनिश्चित करना होता है कि जब भी आप बोले अपनी आवाज में तो उसी भाषा का प्रयोग हो दूसरी भाषा इसमें सम्मिलित नहीं होनी चाहिए और संकेत भी आपके उसी भाषा की हो आपकी जो डॉन है वह इसमें साफ हो इसका भी बहुत ध्यान देना होता है इसमें गला आपका बेहतर हो आवाज को इसमें अच्छा बनाया जाता है यह जब भी जो व्यक्ति की आवाज होती है वह प्राकृतिक नेचुरल होती है लेकिन इस आवाज की दुनिया में और इस को बेहतर बनाने के लिए आकर्षित करने के लिए रेडियो जॉकी रोजगार के अवसर और अधिक होने लगे और लोग ऐसे संस्थानों में प्रशिक्षण प्राप्त करके अपने जीवन स्तर को ऊंचा बना रहे हैं इसमें यह भी देखा जाता है कि जितना आपका गला बेहतर रहेगा संक्रमित नहीं होगा उतना ही आप इस व्यवसाय में इस रोजगार में आपकी सफलता बेहतर होगी और गले को साफ सुथरा रखने के लिए तेल मिर्च खट्टी चीजें का लिखित रहता है और सर्दी जुखाम कम हो या ना और इसमें गले को बेहतर बनाने के लिए गरारी आदि का बयान कराया जाता है कहने का तात्पर्य यह है कि रेडियो जॉकी एक रोजगार के रूप में बेहतर रोजगार के रूप में लोगों के सामने आ रहा है लोग इस में प्रशिक्षण हासिल करके अपना रोजगार मुहैया करा रहे हैं और कंपनियां मैं इनको बेहतर रोजगार उपलब्ध होती है और इस रोजगार में जिस रोजगार में संस्थान में आप इस प्रशिक्षण को रेडियो जॉकी प्राप्त करने के बाद में जाना चाहते हैं तो यह भी सुनिश्चित करना होगा उस संस्थान में उस कंपनी में कि आपको जानकारी उनके प्राप्त करनी होगी जिससे कि आप अपने कला कौशल को जो आपने सीखा है रेडियो जॉकी के रूप में उसको बेहतर तरीके से दुनिया के सामने अपनी आवाज का प्रदर्शन कर सकें जिससे कि लोग आपकी आवाज को सुनकर के मंत्रमुग्ध हो जाएं और आनंद प्राप्त करें धन्यवाद

dekhiye radio jockey ek sunehra rojgar vyavasaya ke roop mein ubhar raha hai aur yadyapi iska jo prashikshan hai iski jo training hai vaah mehengi hua karti hai usme dhan adhik mein hota hai yah awaaz ki duniya ka jadu hai jo log is kshetra mein ruchi rakha rakh karte hai unhe awaaz kaise madhur banai hai kaisi behtar banai jaaye aur jise sunkar ke log jhoome yah sikhane ki prayas ki jaate hai aur is kshetra mein rojgar mein dhani adhik mila karta hai is mukhya rojgar ke liye usme ucharan ki shuddhta ho usme ucharan mein dosh na ho aapki awaaz khankati hui awaz hoon aur jis bhi bhasha ka kya jo bhi bhasha aapko aati hai sambhav hai aapko do ya teen bhashayen aati ho toh isme yah sunishchit karna hota hai ki jab bhi aap bole apni awaaz mein toh usi bhasha ka prayog ho dusri bhasha isme sammilit nahi honi chahiye aur sanket bhi aapke usi bhasha ki ho aapki jo don hai vaah isme saaf ho iska bhi bahut dhyan dena hota hai isme gala aapka behtar ho awaaz ko isme accha banaya jata hai yah jab bhi jo vyakti ki awaaz hoti hai vaah prakirtik natural hoti hai lekin is awaaz ki duniya mein aur is ko behtar banne liye aakarshit karne ke liye radio jockey rojgar ke avsar aur adhik hone lage aur log aise sansthano mein prashikshan prapt karke apne jeevan sthar ko uncha bana rahe hai isme yah bhi dekha jata hai ki jitna aapka gala behtar rahega sankrameet nahi hoga utana hi aap is vyavasaya mein is rojgar mein aapki safalta behtar hogi aur gale ko saaf suthara rakhne ke liye tel mirch khatti cheezen ka likhit rehta hai aur sardi jukham kam ho ya na aur isme gale ko behtar banne liye garari aadi ka bayan raya jata hai kehne ka tatparya yah hai ki radio jockey ek rojgar ke roop mein behtar rojgar ke roop mein logo ke saamne aa raha hai log is mein prashikshan hasil karke apna rojgar muhaiya kara rahe hai aur companiya main inko behtar rojgar uplabdh hoti hai aur is rojgar mein jis rojgar mein sansthan mein aap is prashikshan ko radio jockey prapt karne ke baad mein jana chahte hai toh yah bhi sunishchit karna hoga us sansthan mein us company mein ki aapko jaankari unke prapt karni hogi jisse ki aap apne kala kaushal ko jo aapne seekha hai radio jockey ke roop mein usko behtar tarike se duniya ke saamne apni awaaz ka pradarshan kar sake jisse ki log aapki awaaz ko sunkar ke mantramugdh ho jaye aur anand prapt kare dhanyavad

देखिए रेडियो जॉकी एक सुनहरा रोजगार व्यवसाय के रूप में उभर रहा है और यद्यपि इसका जो प्रशिक्

Romanized Version
Likes  126  Dislikes    views  766
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Rj Umang

Award winning Radio Jockey

0:35

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप इस कंपनी में काम करो या उस कंपनी में काम करो मकसद यह होता है कि आप जो काम कर रहे हो आप उसमें मजा आना चाहिए अगर आप इंजॉय नहीं कर रहे हैं तो आप किसी और को भी हम जो दुनिया में हैं तकनीकी दुनिया अगर आप खुश नहीं है तो किसी को खुश नहीं रख सकते यह लिखा जाता है आप तो किसी भी कंपनी में हो अगर आपको आपका काम पसंद आ रहा है मजा आ रहा है क्या

aap is company mein kaam karo ya us company mein kaam karo maksad yah hota hai ki aap jo kaam kar rahe ho aap usme maza aana chahiye agar aap enjoy nahi kar rahe hain toh aap kisi aur ko bhi hum jo duniya mein hain takniki duniya agar aap khush nahi hai toh kisi ko khush nahi rakh sakte yah likha jata hai aap toh kisi bhi company mein ho agar aapko aapka kaam pasand aa raha hai maza aa raha hai kya

आप इस कंपनी में काम करो या उस कंपनी में काम करो मकसद यह होता है कि आप जो काम कर रहे हो आप

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  377
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!