इंद्रधनुष का निर्माण किस कारण होता है?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंद्रधनुष का निकलना प्रिज्म के अंदर से निकलने वाले प्रकाश के जैसा होता है तो इधर भी प्रिज्म के जैसे ही काम करता है जब बारिश होती है तो इंद्रधनुष देखने को मिलता है इसकी वजह से है कि बारिश की बूंदे एक प्रिज्म का काम करते हैं बहुत सी बारिश की बूंदे आकाश में तैरती है जब सूर्य का प्रकाश आकर इन दोनों के अंदर प्रवेश करता है तो वह मोड़ जाता है और वापस निकलते वक्त में सात रंगों के अंदर दिखाई देता है ऐसा नहीं है कि उसके 1 बार इसके अंदर ही बनेगा अक्सर कई जगह जहां पर पानी के झरने वगैरा होते हैं वहां पर दूध दिखाई दे सकता है धन्यवाद

indradhanush ka nikalna prism ke andar se nikalne waale prakash ke jaisa hota hai toh idhar bhi prism ke jaise hi kaam karta hai jab barish hoti hai toh indradhanush dekhne ko milta hai iski wajah se hai ki barish ki bundein ek prism ka kaam karte hain bahut si barish ki bundein akash mein tairti hai jab surya ka prakash aakar in dono ke andar pravesh karta hai toh vaah mod jata hai aur wapas nikalte waqt mein saat rangon ke andar dikhai deta hai aisa nahi hai ki uske 1 baar iske andar hi banega aksar kai jagah jaha par paani ke jharane vagera hote hain wahan par doodh dikhai de sakta hai dhanyavad

इंद्रधनुष का निकलना प्रिज्म के अंदर से निकलने वाले प्रकाश के जैसा होता है तो इधर भी प्रिज्

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  491
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Manish Manchanda

Lecturer Chemistry Poet & Writer

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंद्रधनुष का निर्माण का कारण प्रकाश का अपवर्तन होता है प्रकाश की प्रक्रिया बारिश की कोई बूंद आवरण में लटकी रह जाती है तथा उसी समय धूप भी निकल रही होती है तो प्रकाश की किरण एक माध्यम से दूसरे माध्यम में जाती है इसकी वजह से वह उसका डिवीजन हो जाता है प्रकाश का विक्षेपण हो जाता है प्रकाश सात रंगों में बढ़ जाता है तथा इंद्रधनुष दिखाई देता है

indradhanush ka nirmaan ka karan prakash ka apvartan hota hai prakash ki prakriya barish ki koi boond aavaran mein lataki reh jaati hai tatha usi samay dhoop bhi nikal rahi hoti hai toh prakash ki kiran ek madhyam se dusre madhyam mein jaati hai iski wajah se vaah uska division ho jata hai prakash ka vikshepan ho jata hai prakash saat rangon mein badh jata hai tatha indradhanush dikhai deta hai

इंद्रधनुष का निर्माण का कारण प्रकाश का अपवर्तन होता है प्रकाश की प्रक्रिया बारिश की कोई बू

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  598
WhatsApp_icon
user

Dhiraj Kumar

Teacher & Advisor

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका पूछा गया प्रश्न है कि इंद्रधनुष का निर्माण किसके कारण होता है तो मैं बता दूं कि इंद्रधनुष का निर्माण होने का सबसे बड़ा कारण है कि जब बारिश होती है और जब हल्के हल्के बारिश के फुहारे पर्दे होते हैं उसमें प्रकाश की किरण जब उसे भेज दी हुई रिफ्लेक्ट करती है तब हमें सात रंगों का इन 1 वर्ड में दिखाई देता है जिसे इंद्रधनुष कहते हैं

aapka poocha gaya prashna hai ki indradhanush ka nirmaan kiske karan hota hai toh main bata doon ki indradhanush ka nirmaan hone ka sabse bada karan hai ki jab barish hoti hai aur jab halke halke barish ke fuhare parde hote hain usme prakash ki kiran jab use bhej di hui reflect karti hai tab hamein saat rangon ka in 1 word mein dikhai deta hai jise indradhanush kehte hain

आपका पूछा गया प्रश्न है कि इंद्रधनुष का निर्माण किसके कारण होता है तो मैं बता दूं कि इंद्र

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  1286
WhatsApp_icon
user
0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका पूछा क्या प्रश्न इंद्रधनुष का निर्माण किसके कारण होता है इसका उत्तर मैं आपको बता दूं इंद्रधनुष का निर्माण माध्यमिक इंद्रधनुष पानी की बूंदों के अंदर सूर्य के प्रकाश के दोहरे प्रतिबिंब के कारण होता है केवल सूर्य पर ही केंद्रित होता है

aapka poocha kya prashna indradhanush ka nirmaan kiske karan hota hai iska uttar main aapko bata doon indradhanush ka nirmaan madhyamik indradhanush paani ki boondon ke andar surya ke prakash ke dohre pratibimb ke karan hota hai keval surya par hi kendrit hota hai

आपका पूछा क्या प्रश्न इंद्रधनुष का निर्माण किसके कारण होता है इसका उत्तर मैं आपको बता दूं

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  867
WhatsApp_icon
user

SAPNA RANA

Teacher of Biology( Msc. Zoology .3time Ctet . 1time Htet Qualify)

0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फिर आपने कुछ पूछा कि इंद्रधनुष का निर्माण कैसे होता तो आपकी जानकारी के लिए बता दे जो इंद्रधनुष होता है इसका निर्माण किस का निर्माण होता है सेटेलाइट की वजह से सूर्य के प्रकाश की वजह से बारिश की बूंदे होती है वह अपनी जान की तरह इसके अंदर काम करती हैं और जब परिजन की तरह काम करती है तो उसके अंदर से क्या निकलती है उसका लड़की

phir aapne kuch poocha ki indradhanush ka nirmaan kaise hota toh aapki jaankari ke liye bata de jo indradhanush hota hai iska nirmaan kis ka nirmaan hota hai satellite ki wajah se surya ke prakash ki wajah se barish ki bundein hoti hai vaah apni jaan ki tarah iske andar kaam karti hain aur jab parijan ki tarah kaam karti hai toh uske andar se kya nikalti hai uska ladki

फिर आपने कुछ पूछा कि इंद्रधनुष का निर्माण कैसे होता तो आपकी जानकारी के लिए बता दे जो इंद्र

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  549
WhatsApp_icon
play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब बरसात के मौसम में थोड़े थोड़े आसमान से धीरे-धीरे पानी पढ़ते हैं तब सॉरी के जो प्रकाश उस पानी पर पढ़ते हैं तो इंद्रधनुष बनता है इंद्रधनुष में सात रंग होता है जो और सूर्य के प्रकाश में भी 7 रंग होते हैं वही सूर्य के प्रकाश का जो रंग है वही पानी निकल जाता है

jab barsat ke mausam mein thode thode aasman se dhire dhire paani padhte hain tab sorry ke jo prakash us paani par padhte hain toh indradhanush banta hai indradhanush mein saat rang hota hai jo aur surya ke prakash mein bhi 7 rang hote hain wahi surya ke prakash ka jo rang hai wahi paani nikal jata hai

जब बरसात के मौसम में थोड़े थोड़े आसमान से धीरे-धीरे पानी पढ़ते हैं तब सॉरी के जो प्रकाश उस

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  68
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!