Solar Eclipse 2019: सूर्य ग्रहण से जुड़ी कुछ अंधविश्वासी बातें क्या हैं?...


play
user

Megh Achaarya

vastu Expert,Motivational Speaker Meditation Studio.

2:20

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सूर्य ग्रहण से जुड़े कुछ अंधविश्वासी बातें तो कुछ ज्यादा खास नहीं है लेकिन हां मैं आपको एक जानकारी जरूर देना चाहूंगा कि कि वह जो जानकारी है वह सूर्य ग्रहण से ही जुड़ी हुई हैं देखें तो हमारा जीवन है हमको जो जीवन मिला है जो पृथ्वी पर जीवन संभव हुआ है जब उसमें सूर्य चंद्र दोनों का बहुत बड़ा हाथ है अगर सूर्य और चंद्र नहीं होते तो हमारा जीवन इस पृथ्वी पर संभव नहीं होता इसलिए यह दोनों पूजनीय है क्योंकि इनकी वजह से ही आज हमें जीवन मिला है तो बस आप इनकी पूछा मत कीजिए लेकिन बस इनको थोड़ा सम्मान दीजिए इसलिए सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण से जुड़ी हुई बहुत सारी बातों को अंधविश्वासी माना जाता है लेकिन कहीं ना कहीं उम्र में थोड़ी बहुत सच्चाई है क्योंकि इन्हीं से हमारा जीवन संभव हुआ तो बहुत सारी चीजें हम जो हमारा आज का विज्ञान है विज्ञान के बारे में भी मैं एक बात कहना चाहूंगा कि हम जो हमारे शास्त्रों में लिखा है उसको विज्ञान नहीं मानते उसको अंधविश्वास मानते लेकिन धीरे-धीरे जो नशा अगर उसको सर्टिफाइड कर कर दे तो हम उसे माने ले जाते हैं तो हम देख रहे हैं कि ना सब बहुत सारी ऐसी चीजों को सर्टिफाइड करते चले जा रहे हैं जिसको हमारे शास्त्रों में 15000 साल पहले लिख दिया गया था तो अच्छी बात है आप सर्टिफिकेट के हिसाब से चली है और कुछ लोग ऐसे हैं जो शास्त्रों के हिसाब से चलते हैं इसलिए बहुत सारी चीजें जैसे के पेड़ों में जान होती है पेड़ एक दूसरे को मैसेज भेज सकते हैं अगर नया 2 किलोमीटर दूर एक पेड़ है उसको नमी की जरूरत है तो 2 किलोमीटर 10 किलोमीटर मतलब काफी दूर से भी पेट उसका नाम भेज सकते हैं यह साइंस में प्रूफ किया है लेकिन हमारे शास्त्रों में तो हम पीपल की पहले से ही पूजा करते आ रहे हैं पेपर की पूजा इसलिए की जाती है क्योंकि वह 480 जन्म देता है और बरगद का पेड़ भी तो बेशक विचारधारा अलग अलग है लेकिन अगर साइंटिफिक तरीके से देखा जाए तो इनमें काफी सच्चाई है शायद हम उसको बाद में फॉलो करना शुरू करेंगे क्योंकि जब हमें सर्टिफिकेट मिल जाएगा वह भी नासा से बहुत-बहुत शुभकामनाएं मेरी आपके साथ हैं बहुत-बहुत धन्यवाद

surya grahan se jude kuch andhavishvasi batein toh kuch zyada khaas nahi hai lekin haan main aapko ek jaankari zaroor dena chahunga ki ki vaah jo jaankari hai vaah surya grahan se hi judi hui hain dekhen toh hamara jeevan hai hamko jo jeevan mila hai jo prithvi par jeevan sambhav hua hai jab usme surya chandra dono ka bahut bada hath hai agar surya aur chandra nahi hote toh hamara jeevan is prithvi par sambhav nahi hota isliye yah dono pujaniya hai kyonki inki wajah se hi aaj hamein jeevan mila hai toh bus aap inki poocha mat kijiye lekin bus inko thoda sammaan dijiye isliye surya grahan aur chandra grahan se judi hui bahut saree baaton ko andhavishvasi mana jata hai lekin kahin na kahin umr mein thodi bahut sacchai hai kyonki inhin se hamara jeevan sambhav hua toh bahut saree cheezen hum jo hamara aaj ka vigyan hai vigyan ke bare mein bhi main ek baat kehna chahunga ki hum jo hamare shastron mein likha hai usko vigyan nahi maante usko andhavishvas maante lekin dhire dhire jo nasha agar usko Certified kar kar de toh hum use maane le jaate hain toh hum dekh rahe hain ki na sab bahut saree aisi chijon ko Certified karte chale ja rahe hain jisko hamare shastron mein 15000 saal pehle likh diya gaya tha toh achi baat hai aap certificate ke hisab se chali hai aur kuch log aise hain jo shastron ke hisab se chalte hain isliye bahut saree cheezen jaise ke pedon mein jaan hoti hai ped ek dusre ko massage bhej sakte hain agar naya 2 kilometre dur ek ped hai usko nami ki zarurat hai toh 2 kilometre 10 kilometre matlab kaafi dur se bhi pet uska naam bhej sakte hain yah science mein proof kiya hai lekin hamare shastron mein toh hum pipal ki pehle se hi puja karte aa rahe hain paper ki puja isliye ki jaati hai kyonki vaah 480 janam deta hai aur bargad ka ped bhi toh beshak vichardhara alag alag hai lekin agar scientific tarike se dekha jaaye toh inme kaafi sacchai hai shayad hum usko baad mein follow karna shuru karenge kyonki jab hamein certificate mil jaega vaah bhi NASA se bahut bahut subhkamnaayain meri aapke saath hain bahut bahut dhanyavad

सूर्य ग्रहण से जुड़े कुछ अंधविश्वासी बातें तो कुछ ज्यादा खास नहीं है लेकिन हां मैं आपको एक

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  411
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

मुरारी स्वामी, छपरा बिहार

सन्त समाजसेवी सह Journalist

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय श्री कृष्ण सूरज गरहन से दूरी अंधविश्वासी बातें क्या है यह आपका प्रश्न है बहुत सारे अंधविश्वास की जकड़ हम से जुड़े हुए हैं उन जैसे कहा जाता है कि महिलाएं हो जाती है तो बच्चे पैदा होते हैं महिला यदि सब्जी काटती है तो उसके बच्चे विकलांग होते हैं उनमें जुड़ी हुई बातें हैं यह सब विज्ञान इन सब बातों को नहीं मानती है परंतु बहुत सारी बातें हैं और विज्ञान आज हवन का कार्यक्रम की अध्यक्षता से हजारों वर्ष पहले संसद की

jai shri krishna suraj garhan se doori andhavishvasi batein kya hai yah aapka prashna hai bahut saare andhavishvas ki jakad hum se jude hue hain un jaise kaha jata hai ki mahilaye ho jaati hai toh bacche paida hote hain mahila yadi sabzi katatee hai toh uske bacche viklaang hote hain unmen judi hui batein hain yah sab vigyan in sab baaton ko nahi maanati hai parantu bahut saree batein hain aur vigyan aaj hawan ka karyakram ki adhyakshata se hazaro varsh pehle sansad ki

जय श्री कृष्ण सूरज गरहन से दूरी अंधविश्वासी बातें क्या है यह आपका प्रश्न है बहुत सारे अंधव

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  136
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

4:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सूर्य ग्रहण से जुड़ी कुछ अंधविश्वासी बातें क्या है अंधविश्वास हमारे भारत देश में बोतल से चला रहा है जो पहले लोग मानते थे ऐसा साइंटिफिक रीजन उसे सपोर्ट नहीं करता है इसलिए लोगों ने वह सब अंधविश्वासी बातों को मानना बंद कर दिया अब इसमें सबसे पहला है कि पृथ्वी पर कोई पत्थर गिरेगा हमें बाहर नहीं निकलना चाहिए हमारे ऊपर पत्थर गिर जाएगा या फिर से में भूकंप आएगा या बहुत सारा असर करेगा कि हमारी जाना नहीं हो सकती है सब बातें अंधविश्वासी लोग और करते भी पैसा नहीं है अपने घर का जो पानी होता है उसे गिराने के ताले में पानी भरा जाता था और गढ़ के पानी को गिरा करते थे यह भी एक तरफ से अंधविश्वास साबित हुआ और लोग तर्क देने लगे कि यदि हम अपने पानी गिरा देंगे लेकिन इस जहां से भरेंगे हमारा हमारे ऊपर की टंकी है हो सकता है उसने पर पानी पड़ा है तेरा रोके बाजार अगर हमने भर लिया जाए तो वही पानी हम फिर भरेंगे तो पानी है सो जाता है यह बात कलेक्टर को गलत अंधविश्वास लोग मानने लगे इसके अलावा जो पुस्तक लगता है यह अभी भी लोग विश्वास करते हैं कि जब ग्रहण शुरू होता है और पूरा होता है तब तक मंदिर के कपाट बंद रखे जाते हैं और हम किसी भी तरह का पूजा है या सेवा भगवान की नहीं करते तो इसे अभी भी बंटी में रखा गया है लेकिन लोग सवाल तो जरूर मन करते हैं कि भाई भगवान की सेवा पूजा करने में क्या अंतर है क्या हो सकती क्योंकि यह एक गोली घटना जो समय-समय पर होती है अब भगवान की सेवा पूजा से क्या संबंध है क्योंकि भगवान के मंदिर को तो अपनी जगह है भगवान अपनी जगह बैठे हैं विराजमान है हमारी श्रद्धा और भक्ति भगवान के प्रति हमारी खुद की अपनी बातों पर भी गौर कर रहे हो सकता है कि आने वाले समय में इस पर विचार विमर्श हो और कोई तर्क को स्वीकार किया जाए और बहुत सी भ्रांतियां फैली हुई है पहले तो लोगों को इस तरह की गूगली घटना को देखने से भी कतराते थे और पानी भर के थाली में उसकी परछाई देखकर से आंख से भी नहीं देखते थे जो कि सच साबित हुई है क्योंकि उसमें कॉस्मिक किरणें इस दरमियान निकलती है और उससे आप पर बहुत असर पड़ सकता है आप लोग अन्नापारा कि उसका सामना कर सकते हैं इसलिए वेल्डिंग ग्लास और बहुत ही काले चश्मे से इस पूरी घटना का सुंदर नजारा इस तरह से समय-समय पर ऐसी बातें जो होती थी उसमें से कुछ शब्द गलत सभी सही और कुछ सही है जैसे की गांड को हमें कोई आप से मतलब ऐसे ही नहीं देखना चाहिए बाकी सब बातें हैं वह चलती रहती है और आने वाले समय में हो सकता है इसमें और भी जाकर हो और हम सभी भक्तों को समझ सके धन्यवाद

surya grahan se judi kuch andhavishvasi batein kya hai andhavishvas hamare bharat desh mein bottle se chala raha hai jo pehle log maante the aisa scientific reason use support nahi karta hai isliye logo ne vaah sab andhavishvasi baaton ko manana band kar diya ab isme sabse pehla hai ki prithvi par koi patthar girega hamein bahar nahi nikalna chahiye hamare upar patthar gir jaega ya phir se mein bhukamp aayega ya bahut saara asar karega ki hamari jana nahi ho sakti hai sab batein andhavishvasi log aur karte bhi paisa nahi hai apne ghar ka jo paani hota hai use girane ke tale mein paani bhara jata tha aur garh ke paani ko gira karte the yah bhi ek taraf se andhavishvas saabit hua aur log tark dene lage ki yadi hum apne paani gira denge lekin is jaha se bharenge hamara hamare upar ki tanki hai ho sakta hai usne par paani pada hai tera roke bazaar agar humne bhar liya jaaye toh wahi paani hum phir bharenge toh paani hai so jata hai yah baat collector ko galat andhavishvas log manne lage iske alava jo pustak lagta hai yah abhi bhi log vishwas karte hai ki jab grahan shuru hota hai aur pura hota hai tab tak mandir ke kapaat band rakhe jaate hai aur hum kisi bhi tarah ka puja hai ya seva bhagwan ki nahi karte toh ise abhi bhi bunty mein rakha gaya hai lekin log sawaal toh zaroor man karte hai ki bhai bhagwan ki seva puja karne mein kya antar hai kya ho sakti kyonki yah ek goli ghatna jo samay samay par hoti hai ab bhagwan ki seva puja se kya sambandh hai kyonki bhagwan ke mandir ko toh apni jagah hai bhagwan apni jagah baithe hai viraajamaan hai hamari shraddha aur bhakti bhagwan ke prati hamari khud ki apni baaton par bhi gaur kar rahe ho sakta hai ki aane waale samay mein is par vichar vimarsh ho aur koi tark ko sweekar kiya jaaye aur bahut si bhrantiyan faili hui hai pehle toh logo ko is tarah ki google ghatna ko dekhne se bhi katrate the aur paani bhar ke thali mein uski parchai dekhkar se aankh se bhi nahi dekhte the jo ki sach saabit hui hai kyonki usme Cosmic kirne is darmiyaan nikalti hai aur usse aap par bahut asar pad sakta hai aap log annapara ki uska samana kar sakte hai isliye Welding glass aur bahut hi kaale chashme se is puri ghatna ka sundar najara is tarah se samay samay par aisi batein jo hoti thi usme se kuch shabd galat sabhi sahi aur kuch sahi hai jaise ki gaand ko hamein koi aap se matlab aise hi nahi dekhna chahiye baki sab batein hai vaah chalti rehti hai aur aane waale samay mein ho sakta hai isme aur bhi jaakar ho aur hum sabhi bhakton ko samajh sake dhanyavad

सूर्य ग्रहण से जुड़ी कुछ अंधविश्वासी बातें क्या है अंधविश्वास हमारे भारत देश में बोतल से च

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  311
WhatsApp_icon
user

Suraj Shaw

Entrepreneur, Career Counsellor

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पद किस और सूर्य ग्रहण से जुड़ी कुछ जो अंधविश्वासी बातें हैं उनमें से कुछ यह है कि लोग ऐसा सोचते हैं कि उस दौरान का मतलब अब कोई काम नहीं करना चाहिए या फिर खाने आग जो कमरा तू है उसमें तुलसी पत्ता डालना चाहिए आप जो भी फूड आइटम सोच में तुमसे बता डाला से बाहर नहीं निकलना चाहिए लेकिन के पीछे साइंस है जरा बाहर निकलते हैं और गलती से आपकी नजर अगर सूरज की तरफ पड़ जाती है तो ब्लाइंड हो सकते हैं ऐसे लोग क्या करते रहते हो जो तुलसी पत्ता डालने का रीजन है वह यह है कि अगर कोई फूड उस टाइम पर जब सोलर एक्लिप्स हो रखा है उस टाइम से अगर कोई सूट पर संकर्षण की रेस पड़ती है तो उस टाइम पर जो बैक्टीरिया की ग्रोथ होती हो फास्ट हो जाती है जिससे हमारा फूट जाए उस पोलो कि कैसे ले उसको तुमसे बता डाला जाता है इसको लोग जो है वह गलत कंसेप्ट में लेते हैं और अलग-अलग तरह मतलब निकाल

pad kis aur surya grahan se judi kuch jo andhavishvasi batein hain unmen se kuch yah hai ki log aisa sochte hain ki us dauran ka matlab ab koi kaam nahi karna chahiye ya phir khane aag jo kamra tu hai usme tulsi patta dalna chahiye aap jo bhi food item soch mein tumse bata dala se bahar nahi nikalna chahiye lekin ke peeche science hai zara bahar nikalte hain aur galti se aapki nazar agar suraj ki taraf pad jaati hai toh blind ho sakte hain aise log kya karte rehte ho jo tulsi patta dalne ka reason hai vaah yah hai ki agar koi food us time par jab solar eclipse ho rakha hai us time se agar koi suit par sankarshan ki race padti hai toh us time par jo bacteria ki growth hoti ho fast ho jaati hai jisse hamara feet jaaye us polo ki kaise le usko tumse bata dala jata hai isko log jo hai vaah galat concept mein lete hain aur alag alag tarah matlab nikaal

पद किस और सूर्य ग्रहण से जुड़ी कुछ जो अंधविश्वासी बातें हैं उनमें से कुछ यह है कि लोग ऐसा

Romanized Version
Likes  127  Dislikes    views  1413
WhatsApp_icon
user

Rihan

Youtuber

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सूर्य ग्रहण से जुड़ी कुछ अंधविश्वासी बातें कहना जहां तक मुझे याद है उनमें से एक अंधविश्वासी है कि सूर्य ग्रहण में राहु केतु सूर्य को निगल जाते हैं बात पूरी तरीके से झूठ और एक अंधविश्वास है आजकल के वैज्ञानिक दौर में पूरी तरह से साबित हो चुका है कि सूर्य ग्रहण में सूर्य और पृथ्वी के बीच में जाना जाता है पर चांद का वह परछाई पड़ती है या कहीं सूरज का प्रकाश धरती तक पहुंच नहीं पाता है तो उस समय सूर्य ग्रहण होता ना कि कोई राहु केतु सूरज निकल जाते हैं यह बात पूरी तरह से

surya grahan se judi kuch andhavishvasi batein kehna jaha tak mujhe yaad hai unmen se ek andhavishvasi hai ki surya grahan me rahu Ketu surya ko nigal jaate hain baat puri tarike se jhuth aur ek andhavishvas hai aajkal ke vaigyanik daur me puri tarah se saabit ho chuka hai ki surya grahan me surya aur prithvi ke beech me jana jata hai par chand ka vaah parchai padti hai ya kahin suraj ka prakash dharti tak pohch nahi pata hai toh us samay surya grahan hota na ki koi rahu Ketu suraj nikal jaate hain yah baat puri tarah se

सूर्य ग्रहण से जुड़ी कुछ अंधविश्वासी बातें कहना जहां तक मुझे याद है उनमें से एक अंधविश्वास

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  121
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!