हिंदी भाषा का महत्व देते हैं ज़्यादा?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

3:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदी भाषा का महत्व देते हैं दादा हिंदी भारत वासियों के लिए उनकी मातृभाषा है उनकी राष्ट्रभाषा है हिंदी के माध्यम से हम अपने भावों को विचारों को अधिकांश लोगों के सामने रख सकते हैं जिसमें किसी प्रकार की कोई बनावटी या आर्टिफिशियल पंजा दिखावा नहीं है हिंदी भाषा हिंदी भाषियों के लिए मन की भाषाएं भाषा दो तरह की होती है एक मन की भाषा होती है और एक मस्जिद की भाषा होती है मन की भाषा से सीधे-सीधे बोल उसी जैसे संवादों से और मस्तिष्क की भाषा से इंसान सोच समझ कर बोलता है चाहे वह जर्मनी हो इंग्लिश टो फ्रेंच हो या कोई अन्य भाषाओं क्योंकि वहां भावों का स्थान कम और विचारों का और जो और तारीख ताका जिसको पा मिल पाऊंगा उसका उपयोग ज्यादा होता है इसलिए हम भारतीयों के लिए हिंदी भाषा एक तरफ से बहुत महत्वपूर्ण है इसके लिए मैं आपको कभी जी का एक बहुत बड़ा जो भावों को कहना चाहिए कैसे स्टार्ट समुद्र की मसि करूं लेखनी करूं वनराई चमक धरती कागज करूं लेखनी करूं मनु राय सात समुद्र की मसि करूं पृथ्वी गुण लिखा न जाए कभी कहां गुरु गुरु को पृथ्वी को गुरु माना है कबीर ने यह कहा था गुरु गुण लिखा न जो पृथ्वी हमें जीवन देती है जो पृथ्वी हमें ज्ञान देती है हमारा भरण पोषण करती है हमारा पालन-पोषण करती है तो वो पृथ्वी और वह भाषा पृथ्वी ने हमें जन्म दिया और भाषा ने पालन पोषण किया इसलिए प्रति और भाषा दोनों को ही हमने भाषा को गुरु और पृथ्वी को जननी इसका स्थान दिया है तो कभी नहीं बात कही थी कि सारी धरती को कागज बना लूं और सारी ड्रेस की जंगलों विश्व के जंगलों को मैं क्रम बनाना और विश्व में सात समुंद्र उनके पानी को जल को मिठाई बना लो फिर भी मैं ग्रुप में उनको लिख नहीं सकता इतना विशाल उनका जीवन का परिचय तो भाषा हमारी गुरु समक्ष है यह बात मैं इसी रूप में मानता हूं शिकार करता हूं

hindi bhasha ka mahatva dete hain dada hindi bharat vasiyo ke liye unki matrubhasha hai unki rashtrabhasha hai hindi ke madhyam se hum apne bhavon ko vicharon ko adhikaansh logo ke saamne rakh sakte hain jisme kisi prakar ki koi banavati ya artificial panja dikhawa nahi hai hindi bhasha hindi bhashiyon ke liye man ki bhashayen bhasha do tarah ki hoti hai ek man ki bhasha hoti hai aur ek masjid ki bhasha hoti hai man ki bhasha se seedhe seedhe bol usi jaise sanvadon se aur mastishk ki bhasha se insaan soch samajh kar bolta hai chahen vaah germany ho english toe french ho ya koi anya bhashaon kyonki wahan bhavon ka sthan kam aur vicharon ka aur jo aur tarikh taka jisko paa mil paunga uska upyog zyada hota hai isliye hum bharatiyon ke liye hindi bhasha ek taraf se bahut mahatvapurna hai iske liye main aapko kabhi ji ka ek bahut bada jo bhavon ko kehna chahiye kaise start samudra ki masi karu lakhni karu vanrai chamak dharti kagaz karu lakhni karu manu rai saat samudra ki masi karu prithvi gun likha na jaaye kabhi kahaan guru guru ko prithvi ko guru mana hai kabir ne yah kaha tha guru gun likha na jo prithvi hamein jeevan deti hai jo prithvi hamein gyaan deti hai hamara bharan poshan karti hai hamara palan poshan karti hai toh vo prithvi aur vaah bhasha prithvi ne hamein janam diya aur bhasha ne palan poshan kiya isliye prati aur bhasha dono ko hi humne bhasha ko guru aur prithvi ko janani iska sthan diya hai toh kabhi nahi baat kahi thi ki saree dharti ko kagaz bana loon aur saree dress ki jungalon vishwa ke jungalon ko main kram banana aur vishwa mein saat samundra unke paani ko jal ko mithai bana lo phir bhi main group mein unko likh nahi sakta itna vishal unka jeevan ka parichay toh bhasha hamari guru samaksh hai yah baat main isi roop mein manata hoon shikaar karta hoon

हिंदी भाषा का महत्व देते हैं दादा हिंदी भारत वासियों के लिए उनकी मातृभाषा है उनकी राष्ट्रभ

Romanized Version
Likes  52  Dislikes    views  1606
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!