जीवन में संतुष्ट कैसे रहे?...


user

Kankan Sarmah

Psychologist

2:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन में संतुष्ट कैसे रहना है तो कुछ चीजें हैं जो आप को ध्यान में रखना जरूरी है पहला हाय एक्सपेक्टेशन ज्यादा उम्मीदें मत रखिए जो भी काम करेंगे जैसे जैसे लोगों के साथ आप रहेंगे जैसे सबसे आप अपना यह जो एनर्जी है चेंज करेंगे तो ज्यादा एक्सपेक्टशंस मत रखिए कि इन रिटर्न आपको भी उतना ही मिलेगा कभी कबार ऐसा होता है कि हम तो कहते हैं कि एग्जाम की जो इम्तिहान के पेपर से हमने सब कुछ करके आए हैं मुझे 80 या 90 मार्क्स मिलेगा ही मिलेगा लेकिन बाद में जब रिजल्ट आता है तो हमें पता चलता है कि हमें सेकेंडरी स्कूल किया है वह इसलिए होता है क्योंकि जिस हिसाब से हमने प्रिपरेशन किया है और जिस हिसाब से हमने एग्जाम पर लिखकर आए हैं शायद कुछ ज्यादा यानी कि हम लोगों प्रिपरेशन सही नहीं था तो इसीलिए हम लोग को है एक्सपेक्टेशन करना भी जरूरी नहीं है तो एक्सपेक्टेशन मत रखिए सेकंड लालची मत बनिए थर्ड ओवरथिंकिंग मत कीजिए ओल्ड सबसे इंपोर्टेंट ने अपना स्वभाव जिस हिसाब से आप बातें करते हो जैसे सबसे आप एक रिलेशन यानी के संबंध बनाते हो जिस हिसाब से आप दूसरों को देखते हो बहुत इंपॉर्टेंट है लोगों को रिस्पेक्ट करना सीखिए फिर देखिएगा धीरे-धीरे अब जिस हिसाब से आगे बढ़ेंगे लाइव बहुत सिंपल होते होते जाएगा इतना कॉन्प्लिकेटेड भी नहीं होगा और अब हमेशा संतुष्ट रहेंगे ठीक है तो ज्यादा लाल से ओवरथिंकिंग एक्सपेक्टेशन इतना मत बनिए अपने एटीट्यूड से ही रखी है अपनी सोच बदले अपने स्किल डेवलप कीजिए और आपका यह जो ज्ञान का जो पधारे उस बंदर को और बढ़ाइए ठीक है धन्यवाद

jeevan mein santusht kaise rehna hai toh kuch cheezen hain jo aap ko dhyan mein rakhna zaroori hai pehla hi expectation zyada ummeeden mat rakhiye jo bhi kaam karenge jaise jaise logo ke saath aap rahenge jaise sabse aap apna yah jo energy hai change karenge toh zyada eksapektashans mat rakhiye ki in return aapko bhi utana hi milega kabhi kabar aisa hota hai ki hum toh kehte hain ki exam ki jo imtihan ke paper se humne sab kuch karke aaye hain mujhe 80 ya 90 marks milega hi milega lekin baad mein jab result aata hai toh hamein pata chalta hai ki hamein secondary school kiya hai vaah isliye hota hai kyonki jis hisab se humne preparation kiya hai aur jis hisab se humne exam par likhkar aaye hain shayad kuch zyada yani ki hum logo preparation sahi nahi tha toh isliye hum log ko hai expectation karna bhi zaroori nahi hai toh expectation mat rakhiye second lalchi mat baniye third overthinking mat kijiye old sabse important ne apna swabhav jis hisab se aap batein karte ho jaise sabse aap ek relation yani ke sambandh banate ho jis hisab se aap dusro ko dekhte ho bahut important hai logo ko respect karna sikhiye phir dekhiega dhire dhire ab jis hisab se aage badhenge live bahut simple hote hote jaega itna kanpliketed bhi nahi hoga aur ab hamesha santusht rahenge theek hai toh zyada laal se overthinking expectation itna mat baniye apne attitude se hi rakhi hai apni soch badle apne skill develop kijiye aur aapka yah jo gyaan ka jo padhare us bandar ko aur badhaiye theek hai dhanyavad

जीवन में संतुष्ट कैसे रहना है तो कुछ चीजें हैं जो आप को ध्यान में रखना जरूरी है पहला हाय ए

Romanized Version
Likes  186  Dislikes    views  2323
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!