न्यायिक पुनर्विलोकन का अधिकार किसे प्राप्त है?...


play
user

Anu

College Student

1:56

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

न्यायिक पुनर्विलोकन मींस न्यायिक पुनरीक्षण जी हां इसे न्यायिक पुनरीक्षण के नाम से भी जानते हैं तो इस शक्ति का प्रयोग हमारे देश के सर्वोच्च न्यायालय मीन सुप्रीम कोर्ट तथा राज्य के हाईकोर्ट उच्च न्यायालय करते हैं तूने अपने निरीक्षण है क्या इसके बारे में हम थोड़ा सा प्रकाश डाल लेंगे तो उन्हें प्रेडिक्शन के सिद्धांत से अभिप्राय यह है कि न्यायपालिका द्वारा कार्यपालिका के आदेशों और विधान पालिका के कानूनों की संवैधानिक कसौटी पर पर करना तथा यदि कोई आदेश अथवा कानून संविधान के किस अनुच्छेद तथा धारा के मृत्यु उसे असंवैधानिक घोषित करके रद्द करना जी हां यदि साफ शब्दों में हम कहें तो कार्यपालिका और विधान पालिका कोई अगर ऐसा कानून हो जो भारतीय संविधान की धारा यांश का उल्लंघन करता हो यह संवैधानिक कसौटी पर खरा नहीं होता रहा हो तो न्यायिक पुनरीक्षण की पावर के द्वारा जो हमारे उच्च न्यायालय तथा सर्वोच्च न्यायालय हैं वह उस कानून को असंवैधानिक करार दे सकते हैं वैसे तो भारतीय संविधान में ऐसा कोई भी अनुच्छेद नहीं है जो स्पष्ट रूप से नेट पर निरीक्षण शक्ति है सर्वोच्च न्यायालय को समर्पित करता हूं परंतु जो दोनों हमारे सर्वोच्च न्यायालय उच्च न्यायालय है दोनों इसका प्रयोग करते हैं

nyaayik punarvilokan means nyayik punrekshan ji haan ise nyayik punrekshan ke naam se bhi jante hai toh is shakti ka prayog hamare desh ke sarvoch nyayalaya meen supreme court tatha rajya ke highcourt ucch nyayalaya karte hai tune apne nirikshan hai kya iske BA re mein hum thoda sa prakash daal lenge toh unhe predikshan ke siddhant se abhipray yah hai ki nyaypalika dwara karyapalika ke aadesho aur vidhan palika ke kanuno ki samvaidhanik kasouti par par karna tatha yadi koi aadesh athva kanoon samvidhan ke kis anuched tatha dhara ke mrityu use asanvaidhanik ghoshit karke radd karna ji haan yadi saaf shabdon mein hum kahein toh karyapalika aur vidhan palika koi agar aisa kanoon ho jo bharatiya samvidhan ki dhara yansh ka ullanghan karta ho yah samvaidhanik kasouti par Khara nahi hota raha ho toh nyayik punrekshan ki power ke dwara jo hamare ucch nyayalaya tatha sarvoch nyayalaya hai vaah us kanoon ko asanvaidhanik karar de sakte hai waise toh bharatiya samvidhan mein aisa koi bhi anuched nahi hai jo spasht roop se net par nirikshan shakti hai sarvoch nyayalaya ko samarpit karta hoon parantu jo dono hamare sarvoch nyayalaya ucch nyayalaya hai dono iska prayog karte hain

न्यायिक पुनर्विलोकन मींस न्यायिक पुनरीक्षण जी हां इसे न्यायिक पुनरीक्षण के नाम से भी जानते

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  160
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
nyayik punaraavlokan ka adhikar kise prapt hai ; nyayik purvavlokan ka adhikar kise prapt hai ; lokan ka adhikar kise prapt hai ; nyayik punaraavlokan ; nyayik punarvilokan ka adhikar kis se prapt hai ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!