एससी एसटी एक्ट 1989 के बारे में बताइए?...


user
1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एससी एसटी एक्ट 1989 के बारे में बताना चाहिए किया जो अधिनियम है 11 सितंबर 1989 में भारतीय संसद में पारित किया गया था और इसको 30 जनवरी 1990 से पूरे देश में लागू कर दिया गया इस अधिनियम में है कि जो लोग हैं उनके ऊपर कुछ भी अगर किसी भी प्रकार का उनके ऊपर अपराध होता है या उनके खिलाफ उनके विरुद्ध जो कोई भी व्यक्ति अगर कुछ वैसा उनके साथ गलत करते हैं तो उनका उनके लिए दंड का इसमें व्यवधान है जिससे उनको सुरक्षा मिल सके एससी एसटी के जो लोग हैं और मुख्य रूप से उनको बचाने के लिए और उनके लिए ही है एक्ट बनाया गया है जो भी sc-st अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के जो लोग हैं ठीक है

SC ST act 1989 ke bare mein batana chahiye kiya jo adhiniyam hai 11 september 1989 mein bharatiya sansad mein paarit kiya gaya tha aur isko 30 january 1990 se poore desh mein laagu kar diya gaya is adhiniyam mein hai ki jo log hain unke upar kuch bhi agar kisi bhi prakar ka unke upar apradh hota hai ya unke khilaf unke viruddh jo koi bhi vyakti agar kuch waisa unke saath galat karte hain toh unka unke liye dand ka isme vyavdhan hai jisse unko suraksha mil sake SC ST ke jo log hain aur mukhya roop se unko bachane ke liye aur unke liye hi hai act banaya gaya hai jo bhi sc st anusuchit jati evam anusuchit janjaati ke jo log hain theek hai

एससी एसटी एक्ट 1989 के बारे में बताना चाहिए किया जो अधिनियम है 11 सितंबर 1989 में भारतीय स

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  182
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user
3:31

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तों हाउ आर यू लिखे जो प्रश्न आया मेरे सामने की प्रिवेंशन ऑफ एससी एसटी फ्रॉम एट्रोसिटी एक्ट 1989 के बारे में तू इस एक्ट के अंतर्गत अनुसूचित जातियों और जनजातियों की सुरक्षा से संबंधित क्या प्रावधान किए गए थे उसके संदर्भ में बताना है तो 1989 में सरकार के द्वारा इस ऐसे कानून की आवश्यकता पड़ी जिससे समाज की जो कमजोर वर्क फैशन कमजोर वर्ग के जो जिसमें अनुसूचित जाति और जनजाति के लोग थे जिनको किसी भी प्रकार की सामाजिक आर्थिक और जातिगत दुर्भावना के अंतर्गत किसी भी प्रकार की हिंसा अगर उनके खिलाफ होती है तो उन्हें इस कानून के द्वारा संरक्षण प्रदान किया जाएगा देखिए इस अदा कानून एक्ट की पृष्ठभूमि में जाए तो हम देखते हैं कि हमारे समाज में जातिगत रूप से अभी भी काफी भेदभाव विद्यमान है 1989 में जब भारत सरकार ने यह कानून लेकर आई थी उस समय तक यह बात महसूस की गई कि ऐसी जातियों को जो अभी समाज की मुख्यधारा से दूर है या जिनको जाति आधार पर जिनके खिलाफ भेदभाव किया जाता है उन जातियों को कानूनी रूप से संरक्षण प्रदान किया जाए जिससे कि भारतीय संविधान का जो मूल भावना है जिसके अंतर्गत अनुच्छेद 14 15 और इसके अलावा अनुच्छेद 17 इसके अंतर्गत उनको समता का अधिकार प्रदान किया गया है समस्त देश के नागरिकों को उसका लक्ष्य पूरा हो सके तो एक्सेप्ट का के बारे में जो प्रमुख प्रावधान थे कि इस एक्ट के अंतर्गत कोई भी अनुसूचित जाति या जनजाति के सदस्य को अगर सारी मानसिक या फिर भौतिक रूप से प्रताड़ित करता है तो उसको एससी एसटी एक्ट के अंतर्गत 2 वर्ष का कारावास प्रदान किया जाएगा इसके अलावा अगर कोई शाब्दिक रूप से भी इन जातियों को केवल जातिगत आधार पर ही उनकी जाति को आधार बनाकर अगर हिंसा करता है या फिर जाति के आधार पर उनको गलत शब्द का इस्तेमाल करता है तब भी उनको 1 वर्ष का न्यूनतम कारावास प्रदान किया जाएगा इसके अलावा यह एक्ट अनुसूचित जातियों और जनजातियों को उनके आर्थिक संसाधन जैसे की बलात श्रम या फिर उनको उनकी जमीन से बेदखल ई या फिर ऐसी ऐसी जातियों के ऊपर किसी अन्य प्रकार से जो है दबाव डालने का प्रयास या फिर उनकी प्रॉपर्टी को हथियाने का प्रयास किया फिर ऐसे लोगों के खिलाफ किसी भी प्रकार का हिंसात्मक व्यवहार जिसके अंतर्गत इन ऐसे कृत्यों को कानूनी रूप से दंडनीय बनाया गया और उन सभी प्रथाओं को जो हमारे देश के नागरिकों को प्रताड़ित करने का कार्य करते हैं उनको इसके अंतर्गत दंडनीय अपराध की श्रेणी में शामिल किया गया बताइए एक्ट जो है जातिगत आधार पर अनुसूचित जातियों और जनजातियों को सुरक्षा प्रदान करता है

hello doston how R you likhe jo prashna aaya mere saamne ki prevention of SC ST from etrositi act 1989 ke bare mein tu is act ke antargat anusuchit jaatiyo aur janjatiyon ki suraksha se sambandhit kya pravadhan kiye gaye the uske sandarbh mein bataana hai toh 1989 mein sarkar ke dwara is aise kanoon ki avashyakta padi jisse samaj ki jo kamjor work fashion kamjor varg ke jo jisme anusuchit jati aur janjaati ke log the jinako kisi bhi prakar ki samajik aarthik aur jaatigat durbhavana ke antargat kisi bhi prakar ki hinsa agar unke khilaf hoti hai toh unhe is kanoon ke dwara sanrakshan pradan kiya jaega dekhiye is ada kanoon act ki prishthbhumi mein jaaye toh hum dekhte hain ki hamare samaj mein jaatigat roop se abhi bhi kaafi bhedbhav vidyaman hai 1989 mein jab bharat sarkar ne yah kanoon lekar I thi us samay tak yah baat mehsus ki gayi ki aisi jaatiyo ko jo abhi samaj ki mukhyadhara se dur hai ya jinako jati aadhar par jinke khilaf bhedbhav kiya jata hai un jaatiyo ko kanooni roop se sanrakshan pradan kiya jaaye jisse ki bharatiya samvidhan ka jo mul bhavna hai jiske antargat anuched 14 15 aur iske alava anuched 17 iske antargat unko samata ka adhikaar pradan kiya gaya hai samast desh ke nagriko ko uska lakshya pura ho sake toh except ka ke bare mein jo pramukh pravadhan the ki is act ke antargat koi bhi anusuchit jati ya janjaati ke sadasya ko agar saree mansik ya phir bhautik roop se pratarit karta hai toh usko SC ST act ke antargat 2 varsh ka karavas pradan kiya jaega iske alava agar koi shabdik roop se bhi in jaatiyo ko keval jaatigat aadhar par hi unki jati ko aadhar banakar agar hinsa karta hai ya phir jati ke aadhar par unko galat shabd ka istemal karta hai tab bhi unko 1 varsh ka ninuntam karavas pradan kiya jaega iske alava yah act anusuchit jaatiyo aur janjatiyon ko unke aarthik sansadhan jaise ki balat shram ya phir unko unki jameen se bedakhal ee ya phir aisi aisi jaatiyo ke upar kisi anya prakar se jo hai dabaav dalne ka prayas ya phir unki property ko hathiyane ka prayas kiya phir aise logo ke khilaf kisi bhi prakar ka hinsatmak vyavhar jiske antargat in aise krityon ko kanooni roop se dandniya banaya gaya aur un sabhi prathaon ko jo hamare desh ke nagriko ko pratarit karne ka karya karte hain unko iske antargat dandniya apradh ki shreni mein shaamil kiya gaya bataye act jo hai jaatigat aadhar par anusuchit jaatiyo aur janjatiyon ko suraksha pradan karta hai

हेलो दोस्तों हाउ आर यू लिखे जो प्रश्न आया मेरे सामने की प्रिवेंशन ऑफ एससी एसटी फ्रॉम एट्रो

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  181
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!