मैं बिना कारण उदास रहता हूँ क्या करें?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिना कारण उदास रहता हूं क्या करूं खुद ही बता रहे क्यों उदास होते हैं और विभिन्न आकर क्योंकि कारण बिना तो कुछ होता नहीं है कुछ ना कुछ तो कारण होगा वह आपको ही मालूम होगा इस तरह से मिला कारणवश रहना अच्छी बात थी आप करके धारण कर लिए सुबह जल्दी उठें गाने चाहिए और बाहर की करिए थोड़ा तो देखेंगे कि कोई भी उदास नहीं कोई भी फ्री नहीं है यकीन करना बिना किया हुआ कोई नहीं पड़ता लेकिन कुछ ना कुछ कर रहा है कुछ आवाज कर रहा है कुछ अपना काम कर रहा है बिलारी पेड़ पर चल रही है खंजन पक्षी पहचान रहे हैं और उनकी दाना चुगने इधर से उधर कर रहे एक वस्तु चलायमान गतिशील है सब अपने लेवल पर प्रयास कर रहे हैं एक इंसानी जो होता है वह उदास होकर गंदगी नौकर अवस्था शांति से बैठा रहता है तो इज्जत से पक्षी में छोटे जी वह कभी इतना प्रयास कर सकते हैं तो हम तो बड़े हैं हमारे खुद को भगवान ने दिमाग दिया है तो हम क्यों बैठे हैं हमें भी कुछ ना कुछ करना चाहिए इसका ट्रक के अंदर गतिशील होंगे तो अपने आप परिभाषित कहां रहेगी हमें उसके बारे में सोचना कभी मौका नहीं मिलेगा और काम से उर्जा से भरपूर करेंगे कल मिलेंगे और हमारी एकता से दूर हो जाएगी धन्यवाद

bina karan udaas rehta hoon kya karu khud hi bata rahe kyon udaas hote hain aur vibhinn aakar kyonki karan bina toh kuch hota nahi hai kuch na kuch toh karan hoga vaah aapko hi maloom hoga is tarah se mila karanvash rehna achi baat thi aap karke dharan kar liye subah jaldi uthen gaane chahiye aur bahar ki kariye thoda toh dekhenge ki koi bhi udaas nahi koi bhi free nahi hai yakin karna bina kiya hua koi nahi padta lekin kuch na kuch kar raha hai kuch awaaz kar raha hai kuch apna kaam kar raha hai bilari ped par chal rahi hai khanjan pakshi pehchaan rahe hain aur unki dana chugne idhar se udhar kar rahe ek vastu chalayman gatisheel hai sab apne level par prayas kar rahe hain ek insani jo hota hai vaah udaas hokar gandagi naukar avastha shanti se baitha rehta hai toh izzat se pakshi mein chote ji vaah kabhi itna prayas kar sakte hain toh hum toh bade hain hamare khud ko bhagwan ne dimag diya hai toh hum kyon baithe hain hamein bhi kuch na kuch karna chahiye iska truck ke andar gatisheel honge toh apne aap paribhashit kahaan rahegi hamein uske bare mein sochna kabhi mauka nahi milega aur kaam se urja se bharpur karenge kal milenge aur hamari ekta se dur ho jayegi dhanyavad

बिना कारण उदास रहता हूं क्या करूं खुद ही बता रहे क्यों उदास होते हैं और विभिन्न आकर क्योंक

Romanized Version
Likes  68  Dislikes    views  1359
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!