रात को पढ़ने में नींद क्यों आती है?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि रात को पढ़ने में नींद क्यों आती है वास्तव में रात विश्राम का समय है रात में प्राया थकान इंसान के शरीर के साथ-साथ मन मस्तिष्क पर भी चढ़ जाती है और जब थकान इंसान की मस्जिद को शहीद के साथ-साथ हमारे विचारों को भी लेती है मस्जिद को खेल लेती है तो थकान के कारण आंखें भोजन हो जाती हैं और वह विश्राम की इच्छा जाहिर करती हैं और वह इच्छा हमारी पलकों के झुकने में या आंखों के बंद होने से जो है चमन रखी है इसीलिए कहा जाता है कि भोजन मंडोता है वह हमेशा थकान का प्रतीक होता है और इसलिए मैं रात को नींद आती है हम क्योंकि पूरे दिन काम करते रहे थे काम करने के दौरान जहां थकान महसूस करते हैं तो उठा कान की जो खुराक है वह नींद पता चली फिर से तरोताजा हो जाता है जैसे ही नींद पूरी हो जाती है

aapka prashna hai ki raat ko padhne mein neend kyon aati hai vaastav mein raat vishram ka samay hai raat mein praya thakan insaan ke sharir ke saath saath man mastishk par bhi chad jaati hai aur jab thakan insaan ki masjid ko shaheed ke saath saath hamare vicharon ko bhi leti hai masjid ko khel leti hai toh thakan ke karan aankhen bhojan ho jaati hai aur vaah vishram ki iccha jaahir karti hai aur vaah iccha hamari palakon ke jhukane mein ya aankho ke band hone se jo hai chaman rakhi hai isliye kaha jata hai ki bhojan mandota hai vaah hamesha thakan ka prateek hota hai aur isliye main raat ko neend aati hai hum kyonki poore din kaam karte rahe the kaam karne ke dauran jaha thakan mehsus karte hai toh utha kaan ki jo khurak hai vaah neend pata chali phir se tarotaja ho jata hai jaise hi neend puri ho jaati hai

आपका प्रश्न है कि रात को पढ़ने में नींद क्यों आती है वास्तव में रात विश्राम का समय है रात

Romanized Version
Likes  72  Dislikes    views  1440
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!