ठोस कचरे को अलग नहीं कर पाने के कारण नष्ट हो रही हिमालय की पारिस्थिति। इस को कैसे क़ाबू कर सकते हैं?...


user

Rajveer

Career Counselor

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले तो हमें पर्यटन विभाग को सूचित करना होगा ताकि जो भी हिमालय पर पर्यटक जाएं वह सामान सम्मेलन दूसरा जितने प्लास्टिक के समान है बंद करना चाहिए जैसे कागज का सामान का ज्यादा उपयोग करें क्योंकि ठोस कचरा सबसे ज्यादा प्लास्टिक को देखने को मिला है जो वहां पर जलने में भी स्पष्ट होने में भी समय ले रहा है प्लास्टिक के नियंत्रण रखना होगा दूसरा जितना कचरा वहां से निकलता है उसका पुनर्चक्रण किया जाना चाहिए ताकि हिमालय की प्रस्तुति को नष्ट होने से हम बचाएगा

sabse pehle toh hamein paryatan vibhag ko suchit karna hoga taki jo bhi himalaya par paryatak jayen vaah saamaan sammelan doosra jitne plastic ke saman hai band karna chahiye jaise kagaz ka saamaan ka zyada upyog kare kyonki thos kachra sabse zyada plastic ko dekhne ko mila hai jo wahan par jalne mein bhi spasht hone mein bhi samay le raha hai plastic ke niyantran rakhna hoga doosra jitna kachra wahan se nikalta hai uska punarchakran kiya jana chahiye taki himalaya ki prastuti ko nasht hone se hum bachega

सबसे पहले तो हमें पर्यटन विभाग को सूचित करना होगा ताकि जो भी हिमालय पर पर्यटक जाएं वह सामा

Romanized Version
Likes  171  Dislikes    views  2380
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Megh Achaarya

vastu Expert,Motivational Speaker Meditation Studio.

1:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ठोस कचरे से आपका मतलब प्लास्टिक से ही है क्योंकि बाकी सभी तरीके के जो पदार्थ हैं उन को नष्ट किया जा सकता है लेकिन प्लास्टिक एक के बाद एक ऐसा पदार्थ है जिसको नष्ट नहीं किया था हां यह चाइनीस से जो हमारे पड़ोसी देश हैं चाइना की तरफ से दिया गया तोहफा है हमारे लिए प्लास्टिक के कि हम सभी चीजें प्लास्टिक योनि से इस्तेमाल कर रहे हैं खैर अनिवेश अगर इस को नष्ट किया तो नहीं किया जा सकता लेकिन इसके उपाय हैं जैसे कि रोड बनाने के लिए रोड की तरह और भी बहुत सारी चीजें ऐसी हैं टैटू बनाने के लिए बाहर आप रोड पर या जिस तरह से बड़े-बड़े स्टेचू बना जाते हैं उसको आप प्लास्टिक को वर्कर जस्ट करके प्लास्टिक को प्रेस करके एक आप हो 15 फीट का 50 फीट का 500 फीट का या 5000 फीट का एक बना दीजिए एक का स्टेचू बना दीजिए जो कि प्लास्टिक हमेशा के लिए फिक्स हो जाएगा हां इसको रोड पर बनाने के लिए प्लास्टिक का इस्तेमाल किया जा सकता है अगर तारकोल के साथ प्लास्टिक एस्से आइकिया गायक तो रोड नाचो ना केवल मजबूत बनेगी बल्कि मजबूती के साथ साथ पार्टी के उपाय करने के साथ ही वह प्लास्टिक का इस्तेमाल भी उसमें हो जाएगा तो अगर इस तरीके के दिशा निर्देश रोड बनाने वाले कॉन्टैक्टर्स को दिया जाए तो हमारे देश में से अगर एक अनुमान लगाया तब 80% से ज्यादा प्लास्टिक कैसे इस्तेमाल में लाया जा सकता है ना लेकिन सरकार किसके लिए है चेता वस्था में आना होगा उम्मीद है मेरा यह सुझाव आपको अच्छा लगा हो बहुत-बहुत धन्यवाद मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं

thos kachre se aapka matlab plastic se hi hai kyonki baki sabhi tarike ke jo padarth hain un ko nasht kiya ja sakta hai lekin plastic ek ke baad ek aisa padarth hai jisko nasht nahi kiya tha haan yah Chinese se jo hamare padosi desh hain china ki taraf se diya gaya tohfa hai hamare liye plastic ke ki hum sabhi cheezen plastic yoni se istemal kar rahe hain khair anivesh agar is ko nasht kiya toh nahi kiya ja sakta lekin iske upay hain jaise ki road banane ke liye road ki tarah aur bhi bahut saree cheezen aisi hain tattoo banane ke liye bahar aap road par ya jis tarah se bade bade statue bana jaate hain usko aap plastic ko worker just karke plastic ko press karke ek aap ho 15 feet ka 50 feet ka 500 feet ka ya 5000 feet ka ek bana dijiye ek ka statue bana dijiye jo ki plastic hamesha ke liye fix ho jaega haan isko road par banane ke liye plastic ka istemal kiya ja sakta hai agar tarkol ke saath plastic essay aikiya gayak toh road nacho na keval majboot banegi balki majbuti ke saath saath party ke upay karne ke saath hi vaah plastic ka istemal bhi usme ho jaega toh agar is tarike ke disha nirdesh road banane waale kantaiktars ko diya jaaye toh hamare desh mein se agar ek anumaan lagaya tab 80 se zyada plastic kaise istemal mein laya ja sakta hai na lekin sarkar kiske liye hai cheta vastha mein aana hoga ummid hai mera yah sujhaav aapko accha laga ho bahut bahut dhanyavad meri subhkamnaayain aapke saath hain

ठोस कचरे से आपका मतलब प्लास्टिक से ही है क्योंकि बाकी सभी तरीके के जो पदार्थ हैं उन को नष्

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  360
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फॉक्सकैचर अलग नहीं कर पाने के कारण नष्ट हो रही है मालिक चेक पोस्ट अप्लाई घनकचरा है वह अलग है और जैविक कचरा है वह भी अलग है और लिक्विड सैनिक पिक्चर इसलिए जो कचरा कलेक्शन करने वाली गाड़ियां आती वह अलग-अलग तरह के कचरे को लोग जागृत ना हो लेकिन कचरा एकत्र करने आने वाले लोग जागृत होते हैं और उसी हिसाब से जय रूल्स एंड रेगुलेशंस फॉलो करते हुए राज्य सरकार के मुख्य केंद्र सरकार पुरस्कृत पुरस्कृत यह सब योजनाएं अलग-अलग राज्यों में होती हैं और उनका व्यास का दर्द कम होता है इसलिए नीचे के स्तर में बिस्तर में वहां पर देखी जा रही है अध्ययन के अनुसार उन पर भूकंप आने की संभावना पार्टी में हो सकती इसलिए जो भविष्य के लिए जाना चाहिए और छोटे भाई के साथ से मिल कर डाला प्रदूषण की मात्रा हमारे देश में हमारे शहर में हम हो सके और जो इंसान तो बाकी के नागरिक है जो शहर में रहे हैं उनको कोई बीमारी असली गंभीर बीमारी का सामना न करना पड़े कैंसर जैसी बीमारियों का है चाहे जैसी बीमारियों का मानव शक्ति का हाथ होता है यानी कि जो जवान मौतें होती हैं तो पोटेंशियल बहुत होते हैं वह लोग लेकिन उनको समय में यहां से एग्जिट करते इसलिए हिमालय की पर्ची से जो है उसे हमें बताना होगा और लखनऊ का हमारे देश में इस तरह की जलवायु परिवर्तन हो रहा है वह सब पेड़ लगाने हैं जंगल नहीं कटने है नदी नाले पर्वत और समुद्र को हमें कचरे से मिटाना है चाहे वो जैविक कचरा चाहे प्लास्टिक का कचरा हूं ताकि सब्जी सस्ती से सस्ती और मैंने किसी का यहां पर ले सके और सुंदर तरीके से जी धन्यवाद

faksakaichar alag nahi kar paane ke karan nasht ho rahi hai malik check post apply ghanakachara hai vaah alag hai aur Jaivik kachra hai vaah bhi alag hai aur liquid sainik picture isliye jo kachra collection karne wali gadiyan aati vaah alag alag tarah ke kachre ko log jagrit na ho lekin kachra ekatarr karne aane waale log jagrit hote hain aur usi hisab se jai rules and reguleshans follow karte hue rajya sarkar ke mukhya kendra sarkar puraskrit puraskrit yah sab yojanaye alag alag rajyo mein hoti hain aur unka vyas ka dard kam hota hai isliye niche ke sthar mein bistar mein wahan par dekhi ja rahi hai adhyayan ke anusaar un par bhukamp aane ki sambhavna party mein ho sakti isliye jo bhavishya ke liye jana chahiye aur chote bhai ke saath se mil kar dala pradushan ki matra hamare desh mein hamare shehar mein hum ho sake aur jo insaan toh baki ke nagarik hai jo shehar mein rahe hain unko koi bimari asli gambhir bimari ka samana na karna pade cancer jaisi bimariyon ka hai chahen jaisi bimariyon ka manav shakti ka hath hota hai yani ki jo jawaan mautain hoti hain toh potential bahut hote hain vaah log lekin unko samay mein yahan se exit karte isliye himalaya ki parchi se jo hai use hamein bataana hoga aur lucknow ka hamare desh mein is tarah ki jalvayu parivartan ho raha hai vaah sab ped lagane hain jungle nahi katane hai nadi naale parvat aur samudra ko hamein kachre se mitana hai chahen vo Jaivik kachra chahen plastic ka kachra hoon taki sabzi sasti se sasti aur maine kisi ka yahan par le sake aur sundar tarike se ji dhanyavad

फॉक्सकैचर अलग नहीं कर पाने के कारण नष्ट हो रही है मालिक चेक पोस्ट अप्लाई घनकचरा है वह अलग

Romanized Version
Likes  74  Dislikes    views  1632
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!