यह गलत जवाब है एक मुसलमान मरे हुए आदमी का फोटो नहीं रखता है खाली हिंदू रखता है आप गलत जवाब दिए?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या गलत जवाब है मुसलमान मरे हुए आदमी का फोटो नहीं रख सकते लोग मुस्लिम संप्रदाय के जो है जो इंसान मर जाता है उसका इंतकाल हो जाता है तो उसकी दूसरी चीजें उसके साथ उसकी कब्र में रख देते हैं और उनके दो प्रिय वस्तु होती है उसका भी इंतजाम करके उसमें लगते हैं यहां तक कि भोजन वगैरह सब कुछ तो रखते हैं और उसको जब दफनाते हैं तो सब लोग जो उनके रिश्तेदार होते हैं वह मिट्टी देते हैं मिट्टी मतलब उनकी कब्र पर दफनाने की विधि में मिट्टी अर्पण करते हैं इस तरह से कब को दफनाते हैं कब जाती है हर महीने जिस दिन वह एक्सपायर हुए थे वहां पर जाकर वह अगरबत्ती करते हैं और उनके पास जाकर और अपनी नजदीकी महसूस करते हैं क्योंकि इंसान को मरने के बाद जहां दफनाया गया है तो वह हर महीने उस तिथि को जाकर वहां पर हो अगरबत्ती धूप लोबान मथुरा सब कुछ करते हैं और सानिध्य में उनके समय बिताते और उनकी याद हो उस समय करते हैं और संप्रदाय के लोग अपनी जो मरे हुए अपने हैं जान करते बाकी जो छवि रखने की बात है कि मरे हुए लोगों की फोटो तो कुछ लोग लगते हैं ऐसा नहीं है कि वह लोग नहीं रखते क्योंकि जैसे मुगल वंश के जितने दो राजा हुए हैं उनकी छवि हम आज भी देखते उनके जो मरे हुए लोग हैं जो राजा हो गए तो कुछ लोग रखते हैं और कुछ लोग नहीं रखी हिंदू लोग वह सभी रखते हैं या गिरी के रूप में आपको सिंह चार पीढ़ियों तक के पास तेरे बच्चे जो मरे हुए लोग हैं उनकी फोटो मिल जाएगी और वह चंदन का जो हाल होता है वह पहना कर रखते मरे हुए लोग को मरे हुए लोगों की छवि को फूल ताजे फूल की माला लोग नहीं चढ़ाते हिंदू में इस तरह का प्रभाव रहता है इसलिए याद रखने के बाद से मुस्लिम हिंदू हमारे पूर्वज है जिनकी बदौलत हम इस पृथ्वी पर आए और उन्हें हमें याद रखना है तो किस तरह से याद रखना है वह हम खुद तय कर सकते हैं चाहे मुस्लिम अपने पूर्वजों की फोटो रखे या ना रखे उनका खुद का सोचने का नजरिया होता है और इसी तरह हिंदू का भी यही है कि अपने पूर्वजों की फोटो नहीं रखना है या नहीं रखना है तो उनका खुद का नजरिया हो सकता है धन्यवाद

kya galat jawab hai musalman mare hue aadmi ka photo nahi rakh sakte log muslim sampraday ke jo hai jo insaan mar jata hai uska intakal ho jata hai toh uski dusri cheezen uske saath uski kabr mein rakh dete hai aur unke do priya vastu hoti hai uska bhi intajam karke usme lagte hai yahan tak ki bhojan vagera sab kuch toh rakhte hai aur usko jab dafnaate hai toh sab log jo unke rishtedar hote hai vaah mitti dete hai mitti matlab unki kabr par dafnane ki vidhi mein mitti arpan karte hai is tarah se kab ko dafnaate hai kab jaati hai har mahine jis din vaah expire hue the wahan par jaakar vaah agarbatti karte hai aur unke paas jaakar aur apni najdiki mehsus karte hai kyonki insaan ko marne ke baad jaha dafnaya gaya hai toh vaah har mahine us tithi ko jaakar wahan par ho agarbatti dhoop loban mathura sab kuch karte hai aur sanidhya mein unke samay Bitate aur unki yaad ho us samay karte hai aur sampraday ke log apni jo mare hue apne hai jaan karte baki jo chhavi rakhne ki baat hai ki mare hue logo ki photo toh kuch log lagte hai aisa nahi hai ki vaah log nahi rakhte kyonki jaise mughal vansh ke jitne do raja hue hai unki chhavi hum aaj bhi dekhte unke jo mare hue log hai jo raja ho gaye toh kuch log rakhte hai aur kuch log nahi rakhi hindu log vaah sabhi rakhte hai ya giri ke roop mein aapko Singh char peedhiyon tak ke paas tere bacche jo mare hue log hai unki photo mil jayegi aur vaah chandan ka jo haal hota hai vaah pehna kar rakhte mare hue log ko mare hue logo ki chhavi ko fool taje fool ki mala log nahi chadhate hindu mein is tarah ka prabhav rehta hai isliye yaad rakhne ke baad se muslim hindu hamare purvaj hai jinki badaulat hum is prithvi par aaye aur unhe hamein yaad rakhna hai toh kis tarah se yaad rakhna hai vaah hum khud tay kar sakte hai chahen muslim apne purvajon ki photo rakhe ya na rakhe unka khud ka sochne ka najariya hota hai aur isi tarah hindu ka bhi yahi hai ki apne purvajon ki photo nahi rakhna hai ya nahi rakhna hai toh unka khud ka najariya ho sakta hai dhanyavad

क्या गलत जवाब है मुसलमान मरे हुए आदमी का फोटो नहीं रख सकते लोग मुस्लिम संप्रदाय के जो है ज

Romanized Version
Likes  67  Dislikes    views  1346
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!