समाज को बर्बाद करने में मीडिया का इतना बड़ा हाथ क्यों है?...


user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह समाज को बर्बाद करने मुझे का हाथ नहीं है लेकिन आप खुद समझदार हैं कोई भी आपको बहका नहीं सकता है आप खुद न्यूज़ देखकर यह डिसाइड कर सकते हैं आपके अंदर वह कैपेबिलिटी है कि क्या चीज सही है और क्या चीज गलत है लेकिन हां जो भी चीज दिखाया जाता है मसाला के साथ दिखाया जाए जरूर जाता है लेकिन न्यूज़ तो दिखाई जाती है तो उसमें न्यूज़ क्या था वह बताया जाता है उसको देख कर आपको डिसाइड कर सकते कि क्या सही है और क्या गलत है और खुद डिसीजन ले सकते हैं तो वह मुझे नहीं लगता कि समाज को आवाज करने मैया कहां थे और अभी देखें जो रेप केस सरकी जो एक्सीडेंट हुआ है बिल्कुल मेरी और से कवरेज किया है इसी कारण जो है इतना UK से था सन सिटी हो गया और गवर्नमेंट भी खुद इन वॉल हुई थी कि सीबीआई जांच में बहुत सारे ऐसे कैसे सोते हैं जगह मीडिया एवं नहीं होता तू चीज बड़ी रह जाती पुलिस स्टेशन में तो कोई उस को न्याय नहीं मिलता यह तो कल का ही है काफी हद तक को सपोर्ट करती है मीडिया मेरे ख्याल से समाज में जो बुराई हो रही है उसको दूर करने के लिए

yah samaj ko barbad karne mujhe ka hath nahi hai lekin aap khud samajhdar hain koi bhi aapko bahaka nahi sakta hai aap khud news dekhkar yah decide kar sakte hain aapke andar vaah capability hai ki kya cheez sahi hai aur kya cheez galat hai lekin haan jo bhi cheez dikhaya jata hai masala ke saath dikhaya jaaye zaroor jata hai lekin news toh dikhai jaati hai toh usme news kya tha vaah bataya jata hai usko dekh kar aapko decide kar sakte ki kya sahi hai aur kya galat hai aur khud decision le sakte hain toh vaah mujhe nahi lagta ki samaj ko awaaz karne maiya kahaan the aur abhi dekhen jo rape case sarki jo accident hua hai bilkul meri aur se coverage kiya hai isi karan jo hai itna UK se tha san city ho gaya aur government bhi khud in wall hui thi ki cbi jaanch mein bahut saare aise kaise sote hain jagah media evam nahi hota tu cheez badi reh jaati police station mein toh koi us ko nyay nahi milta yah toh kal ka hi hai kaafi had tak ko support karti hai media mere khayal se samaj mein jo burayi ho rahi hai usko dur karne ke liye

यह समाज को बर्बाद करने मुझे का हाथ नहीं है लेकिन आप खुद समझदार हैं कोई भी आपको बहका नहीं स

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  167
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!