केंद्र की सरकार और राज्यों की सरकारें रोज़गार देने के बारे में क्यों नहीं सोचती है?...


user

Shyam Babu bairagi

Business Owner And Political Analyst.

2:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा नहीं है कि सरकारी रोजगार देने के बारे में नहीं सोचते सरकारी सोचती भी है सरकारी प्रयास भी करती है लेकिन बहुत सारी चीजें निकलकर आती बहुत सारी सरकार बोलती जरूर है लेकिन प्रयास मंच नहीं करती यह नंबर दो बात यह है कि यह देश विदेश आज विश्व की परिस्थितियों पर भी डिपेंड होता अगर मार्केट मार्केट की तबीयत ठीक नहीं है मार्केट अगर डाउन कंडीशन में जा रहा है तो रोजगार निर्मित नहीं होंगे लेकिन मार्केट की कंडीशन अच्छी है तो रोजगार जरूर लेंगे अगर मैं आपके प्रश्न का जातक जवाब दे पा रहे हो घर पर हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था को देखें तो भी हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था काफी स्लो मोशन में लेकिन हमारे देश की एक बड़ी विडंबना यह भी है कि आंखें पापुलेशन बहुत ज्यादा दिखे और उसमें से कम पढ़े लिखे लोगों की तादाद बहुत ज्यादा है तो कम पढ़े लिखे लोगों को रोजगार मुहैया करा और अच्छे अच्छे दामों पर मुहैया कराना सरकार के बस की बात नहीं है और पढ़ा लिखा हुआ है जो है वह जॉब तो हर व्यक्ति चाहता है लेकिन वह अपनी योग्यता के अनुसार सेटिस्फेक्शन उसको लाइए उसको जिसको योग्यता है उसको उससे भी बढ़कर चाहिए नंबर तीन बार हमारे देश में ऐसा है कि आपने सरकारी जॉब में ज्यादा लोग ब्लू करते हर व्यक्ति को सरकारी जॉब चाहिए या पर एमबीए करा हुआ व्यक्ति भी वह हिंदी अच्छा शुद्ध हिंदी में बात करो तो चपरासी की जॉब करने के लिए तैयार हो जाता है क्योंकि उसको भी अपलोड पर कॉन्फिडेंस से नहीं है या फिर लोग डरते हैं अपनी लाइफ को सिक्योर करना उसी पर गवर्नमेंट जॉब सही पसंद करते हैं और इसके एवज में मोटी मोटी राशि भी रिश्वत के तौर पर देना पसंद करते हैं तो जिस देश में ऐसे डरपोक लोग होते हैं जो ओन्ली फोर गवर्नमेंट जॉब कोई एक अपने जीवन की सफलता है आपका जीवन उसके उसके साथ आसानी से निकाल लेंगे तो मैं जिसको बिल्कुल भी सही नहीं मानता हूं वह बादली सरकारों के संसाधन मुहैया कराने की तो संसाधन सीमित हैं और सरकारी तो क्या है राजनीतिक सत्ता में आने के लिए वादे करती है लेकिन लोगों को समझना होगा सरकार को भी समझना होगी कुछ को सबसे पहले तो जनसंख्या पर ब्लैक करना चाहिए जनसंख्या नियंत्रण कानून जब तक नहीं आएगा जनसंख्या जब तक नहीं होगी जब तक रोजगार की समस्या चलती रहेगी

aisa nahi hai ki sarkari rojgar dene ke bare me nahi sochte sarkari sochti bhi hai sarkari prayas bhi karti hai lekin bahut saari cheezen nikalkar aati bahut saari sarkar bolti zaroor hai lekin prayas manch nahi karti yah number do baat yah hai ki yah desh videsh aaj vishwa ki paristhitiyon par bhi depend hota agar market market ki tabiyat theek nahi hai market agar down condition me ja raha hai toh rojgar nirmit nahi honge lekin market ki condition achi hai toh rojgar zaroor lenge agar main aapke prashna ka jatak jawab de paa rahe ho ghar par Hindustan ki arthavyavastha ko dekhen toh bhi Hindustan ki arthavyavastha kaafi slow motion me lekin hamare desh ki ek badi widambana yah bhi hai ki aankhen population bahut zyada dikhe aur usme se kam padhe likhe logo ki tadad bahut zyada hai toh kam padhe likhe logo ko rojgar muhaiya kara aur acche acche daamo par muhaiya krana sarkar ke bus ki baat nahi hai aur padha likha hua hai jo hai vaah job toh har vyakti chahta hai lekin vaah apni yogyata ke anusaar setisfekshan usko laiye usko jisko yogyata hai usko usse bhi badhkar chahiye number teen baar hamare desh me aisa hai ki aapne sarkari job me zyada log blue karte har vyakti ko sarkari job chahiye ya par mba kara hua vyakti bhi vaah hindi accha shudh hindi me baat karo toh chaprasi ki job karne ke liye taiyar ho jata hai kyonki usko bhi upload par confidence se nahi hai ya phir log darte hain apni life ko secure karna usi par government job sahi pasand karte hain aur iske evaj me moti moti rashi bhi rishwat ke taur par dena pasand karte hain toh jis desh me aise darpok log hote hain jo only four government job koi ek apne jeevan ki safalta hai aapka jeevan uske uske saath aasani se nikaal lenge toh main jisko bilkul bhi sahi nahi maanta hoon vaah baadali sarkaro ke sansadhan muhaiya karane ki toh sansadhan simit hain aur sarkari toh kya hai raajnitik satta me aane ke liye waade karti hai lekin logo ko samajhna hoga sarkar ko bhi samajhna hogi kuch ko sabse pehle toh jansankhya par black karna chahiye jansankhya niyantran kanoon jab tak nahi aayega jansankhya jab tak nahi hogi jab tak rojgar ki samasya chalti rahegi

ऐसा नहीं है कि सरकारी रोजगार देने के बारे में नहीं सोचते सरकारी सोचती भी है सरकारी प्रयास

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  61
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!