भारतेंदु युग का नाटक कौन-कौन से हैं?...


user

S P

Teacher

2:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है भारतेंदु युग के नाटक कौन कौन से भारतीय विवेक का समय सन 18 सो 57 से सन उन्नीस सौ तक माना जाता है इस युग में नाटकों ने अपनी विकास यात्रा शुरू की दो प्रकाश नाटक मिलते हैं एक अनुचित दूसरे मौलिक मौलिक नाटकों में भारतेंदु जी का वैदिक हिंसा हिंसा न भवति विशिष्ट मौसम चंद्रावली भारत दुर्दशा अंधेर नगरी सर्वश्रेष्ठ नाटक कहे जा सकते हैं अनुज नाटकों में रत्नावली पाखंड विडंबन मुद्राराक्षस आदि प्रमुख हैं इसके साथ ही उस युग के प्रमुख नाटककार बालकृष्ण भट्ट राधाचरण गोस्वामी राधा किशन दास लाला श्रीनिवास दास बद्रीनाथ आदि के नाम लिए जा सकते हैं जिन्होंने बालकृष्ण भट्ट ने दमयंती सुंबर वेणीसंहार जैसे पुराने नाटकों की रचना की साथ ही नई रोशनी का विष उनका सामाजिक नाटक है ऐसी श्रीनिवास ना श्रीनिवास दास जी ने रणधीर प्रेम मोहिनी इसको हम हिंदी का पहला दुखांत नाटक भी कहते हैं उन प्रह्लाद कृत जैसे प्रसिद्ध नाटकों की रचना की राधा कृष्ण दास जी ने महाराणा प्रताप महारानी पद्मावती आदि के आदि की रचना की इस युग के जो नाटक है प्रताप नारायण मिश्र जी भारत दुर्दशा देवकीनंदन त्रिपाठी का भारत बहुत ही प्रसिद्ध नाटक कहे जाते हैं इस प्रकार भारतेंदु युग में नाटकों का एक विशाल भंडार मिलता है जो बहुत ही अद्वितीय है बहुत ही रोचक

aapka prashna hai bharatendu yug ke natak kaun kaun se bharatiya vivek ka samay san 18 so 57 se san unnis sau tak mana jata hai is yug me natakon ne apni vikas yatra shuru ki do prakash natak milte hain ek anuchit dusre maulik maulik natakon me bharatendu ji ka vaidik hinsa hinsa na bhavati vishisht mausam chandrawali bharat durdasha andher nagari sarvashreshtha natak kahe ja sakte hain anuj natakon me ratnavali pakhand vidamban mudrarakshas aadi pramukh hain iske saath hi us yug ke pramukh natakakar balkrishna bhatt radhacharan goswami radha kishan das lala srinivas das badrinath aadi ke naam liye ja sakte hain jinhone balkrishna bhatt ne damayanti sumbar venisanhar jaise purane natakon ki rachna ki saath hi nayi roshni ka vish unka samajik natak hai aisi srinivas na srinivas das ji ne randhir prem mahina isko hum hindi ka pehla dukhant natak bhi kehte hain un prahlad krit jaise prasiddh natakon ki rachna ki radha krishna das ji ne maharana pratap maharani padmavati aadi ke aadi ki rachna ki is yug ke jo natak hai pratap narayan mishra ji bharat durdasha devakinandan tripathi ka bharat bahut hi prasiddh natak kahe jaate hain is prakar bharatendu yug me natakon ka ek vishal bhandar milta hai jo bahut hi adwitiya hai bahut hi rochak

आपका प्रश्न है भारतेंदु युग के नाटक कौन कौन से भारतीय विवेक का समय सन 18 सो 57 से सन उन्न

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  229
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!