आप किस बारे में खुश हैं और आपका पछतावा क्या है?...


user

Aditya Somkuwar

Deputy Financial Advisor and Chief Accounts Officer, East Central Railway

0:39
Play

Likes  15  Dislikes    views  227
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Chetan Sharma

Assistant Commissioner of Income Tax (IRS IT)

0:57
Play

Likes  14  Dislikes    views  146
WhatsApp_icon
user

Utsah Chaudhary

I.A.S | Rajasthan | 2018

1:28
Play

Likes  4  Dislikes    views  56
WhatsApp_icon
user

Akanksha Tiwari

Chief Executive Officer

0:30
Play

Likes  9  Dislikes    views  279
WhatsApp_icon
user

Ashok Kumar

Authorgovtjob

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम इस बारे में घुसने की हमें जो छोड़ दी है वह भी आपसे हमको से जो हम आज इस पद पर हैं जिन पर उससे हम बहुत खुश हैं पता वह इस बात का है कि हम किसी अपना समय अपने वादिया उसे अच्छा हम कर सकते थे खुलेआम जो अपने समय था उसको अपने गवा दिया उसके लिए हमें पता है कि आप मुझसे आगे बढ़ सकते थे हमने अपने अथक प्रयास में कमी थोड़ी उसके लिए भी पछतावा

hum is bare mein ghusne ki hamein jo chod di hai vaah bhi aapse hamko se jo hum aaj is pad par hain jin par usse hum bahut khush hain pata vaah is baat ka hai ki hum kisi apna samay apne vadiya use accha hum kar sakte the khuleaam jo apne samay tha usko apne gawa diya uske liye hamein pata hai ki aap mujhse aage badh sakte the humne apne athak prayas mein kami thodi uske liye bhi pachtava

हम इस बारे में घुसने की हमें जो छोड़ दी है वह भी आपसे हमको से जो हम आज इस पद पर हैं जिन पर

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
user

Dharmendra Kumar

chutki Mathematics _ Maths For All Competitive Exam. Sampatchak Patna

3:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप किस बारे में खुश हैं और आपका पछतावा क्या है मैं आपको बता दूं कि मैं खुश इसलिए हूं कि जो मैं बनना चाहता था बचपन से वही बन पाया मैंने बनने के लिए अपनी जिंदगी में बहुत सारी कठिनाइयों को सा बहुत ऐसे ही समय है जिसमें मेरे पास खाने के लाले थी एक-एक पैसे का मैं मोहताज था फिर भी मैंने कभी अपना हौसला नहीं हारा अर्जुन मुझे हासिल करना था मैंने हासिल कर लिया था मुझे शिक्षक बनने का शौक था बचपन से मेरे दादाजी भी शिक्षक थे लेकिन वह बहुत कम उम्र में उनकी देहांत हो गई थी इसलिए मैंने अपने दादाजी को देखा तक नहीं था मैं उन्हीं के आदर्श चलना चाहता था इसलिए मुझे बचपन से शौक था कि मैं शिक्षक बनवार शिक्षक बन गया लेकिन शिक्षक बनने का एक पछतावा मुझे यह होती है जब मैं देखता हूं कि शिक्षक लोग शिक्षक बनने के बाद भी अपने कर्तव्य का पालन ठीक से नहीं करते हैं बच्चों को ठीक से नहीं पढ़ाते हैं तो मुझे पछतावा होता है कि सागर में फंस गया क्या यही हमारी जिंदगी है लेकिन फिर भी मैं लोगों के काम पर विशेष ध्यान नहीं देता हूं अपने कर्म पर भरोसा रखता हूं और अपने काम को ही करने का कोशिश करता हूं भूख कभी-कभी होती है क्योंकि एक मछली पूरे तालाब को गंदा कर देता है लेकिन मेरे अंदर भी मैं वैसी प्रवृत्ति कभी-कभी जागरण लगती है जलन होती है कि आप काम नहीं करते मैं जो काम करो इस बात का मुझे बहुत ज्यादा पछतावा होता है लेकिन मुझे इस प्रस्ताव से ज्यादा खुशी है कि मैं एक शिक्षक बना और मैं सरकारी शिक्षक बंद करके उन गरीब बच्चों को शिक्षा देता हूं जिनके पेरेंट्स के पास अपने बच्चे को पढ़ाने के लिए पैसे नहीं है विभिन्न खिलाने के लिए भी पैसे नहीं है कपड़े लेने के लिए पैसे नहीं है क्या फिर मैं उनको बच्चों को अपने बच्चों की तरह ही पड़ा था और हमेशा अपनी कहानी उसे सुनाता हूं कि मैंने किस तरह से स्ट्रगल करके जो भी हासिल किया है किस तरह से मेहनत करके अच्छा कल करके परिश्रम करके जो हासिल किया है इन बच्चों के साथ शेयर करता हूं मन में शेर की 10 परसेंट बच्चे भी मेरे बात को समझते हैं और मेरे आदर्शों का पालन करते हैं तो मेरा जीवन धन्य हो जाएगा और इस बात की खुशी मुझे जीवन भर रहेगी चाहे मुझे लोग याद करें या ना करें मैं अपना काम अपनी खुशी के लिए करता हूं किसी को खुश करने की जरूरत मुझे नहीं है मैं जो भी काम करता हूं अपनी खुशी के लिए करता हूं इसलिए हमेशा मैं ध्यान देता हूं कि मैं अपने काम को निष्ठा पूर्वक करो

aap kis bare mein khush hain aur aapka pachtava kya hai aapko bata doon ki main khush isliye hoon ki jo main bana chahta tha bachpan se wahi ban paya maine banne ke liye apni zindagi mein bahut saree kathinaiyon ko sa bahut aise hi samay hai jisme mere paas khane ke lale thi ek ek paise ka main mohtaaz tha phir bhi maine kabhi apna hausla nahi hara arjun mujhe hasil karna tha maine hasil kar liya tha mujhe shikshak banne ka shauk tha bachpan se mere dadaji bhi shikshak the lekin vaah bahut kam umr mein unki dehant ho gayi thi isliye maine apne dadaji ko dekha tak nahi tha main unhi ke adarsh chalna chahta tha isliye mujhe bachpan se shauk tha ki main shikshak banvar shikshak ban gaya lekin shikshak banne ka ek pachtava mujhe yah hoti hai jab main dekhta hoon ki shikshak log shikshak banne ke baad bhi apne kartavya ka palan theek se nahi karte hain baccho ko theek se nahi padhate hain toh mujhe pachtava hota hai ki sagar mein fans gaya kya yahi hamari zindagi hai lekin phir bhi main logo ke kaam par vishesh dhyan nahi deta hoon apne karm par bharosa rakhta hoon aur apne kaam ko hi karne ka koshish karta hoon bhukh kabhi kabhi hoti hai kyonki ek machli poore taalab ko ganda kar deta hai lekin mere andar bhi main vaisi pravritti kabhi kabhi jagran lagti hai jalan hoti hai ki aap kaam nahi karte main jo kaam karo is baat ka mujhe bahut zyada pachtava hota hai lekin mujhe is prastaav se zyada khushi hai ki main ek shikshak bana aur main sarkari shikshak band karke un garib baccho ko shiksha deta hoon jinke parents ke paas apne bacche ko padhane ke liye paise nahi hai vibhinn khilane ke liye bhi paise nahi hai kapde lene ke liye paise nahi hai kya phir main unko baccho ko apne baccho ki tarah hi pada tha aur hamesha apni kahani use sunata hoon ki maine kis tarah se struggle karke jo bhi hasil kiya hai kis tarah se mehnat karke accha kal karke parishram karke jo hasil kiya hai in baccho ke saath share karta hoon man mein sher ki 10 percent bacche bhi mere baat ko samajhte hain aur mere aadarshon ka palan karte hain toh mera jeevan dhanya ho jaega aur is baat ki khushi mujhe jeevan bhar rahegi chahen mujhe log yaad kare ya na kare main apna kaam apni khushi ke liye karta hoon kisi ko khush karne ki zarurat mujhe nahi hai jo bhi kaam karta hoon apni khushi ke liye karta hoon isliye hamesha main dhyan deta hoon ki main apne kaam ko nishtha purvak karo

आप किस बारे में खुश हैं और आपका पछतावा क्या है मैं आपको बता दूं कि मैं खुश इसलिए हूं कि जो

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  165
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!