Jharkhand Assembly Elections Results 2019: झारखंड में अलग धर्म की मांग क्यूँ कर रहे आदिवासी?...


user

Vimal Kumar Gour

General Physician

2:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो आप कहना है कि झारखंड में असेंबली झारखंड असेंबली इलेक्शन का रिजल्ट वैसे तो लोग मांग कर रहे थे धर्म की मांग वह तो ईसाई बंगाली बौद्ध धर्म के लोग हैं और झारखंड में कोई नहीं अभी शिवराज सिंह हरि सिंह हरि सिंह सोहन वहां के मुख्यमंत्री बन गए और उसमें राय धर्म की मांग कर रहे थे तो उसने आराम से इलेक्शन की मां और वे सब हो रहा था लेफ्ट हो गया अब कुछ नहीं हुआ सब कुछ सही हो गया यह सब हो रहा था सब इलेक्शन की वजह से मांग करते हो उसी की सब कहानी है और सब उसी की बुखार आया मैं कहना चाहूंगा कि लोग अपनी बुक करने के लिए शर्ते के फूलों को अहिंसा बड़े और धर्म धर्म क्या राष्ट्रवादी हिंदू धर्म राजधर्म लागू करने की भी चरण में है सारी बात तो करोगे ही नहीं तो समझ लूंगा

hello aap kehna hai ki jharkhand mein assembly jharkhand assembly election ka result waise toh log maang kar rahe the dharm ki maang vaah toh isai bengali Baudh dharm ke log hain aur jharkhand mein koi nahi abhi shivraj Singh hari Singh hari Singh sohan wahan ke mukhyamantri ban gaye aur usme rai dharm ki maang kar rahe the toh usne aaram se election ki maa aur ve sab ho raha tha left ho gaya ab kuch nahi hua sab kuch sahi ho gaya yah sab ho raha tha sab election ki wajah se maang karte ho usi ki sab kahani hai aur sab usi ki bukhar aaya main kehna chahunga ki log apni book karne ke liye sharte ke fulo ko ahinsa bade aur dharm dharam kya rashtrawadi hindu dharm rajdharm laagu karne ki bhi charan mein hai saree baat toh karoge hi nahi toh samajh lunga

हेलो आप कहना है कि झारखंड में असेंबली झारखंड असेंबली इलेक्शन का रिजल्ट वैसे तो लोग मांग कर

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  617
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Rajveer

Career Counselor

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक इमारत का झारखंड राज्य आदिवासी राज्य है जहां पर सबसे ज्यादा आदिवासी जनजाति रहती है 2019 के विधानसभा के चुनाव हुए जिसमें क्षेत्रीय पार्टियां बहुमत के रूप में उभर रही हैं भारतीय जनता पार्टी को वहां से निकाला गया है इसका मुख्य कारण यह है कि एक तो झारखंड राज्य भारत के विकास से नहीं जुड़ पाया दूसरा केंद्र से झारखंड का जितना विकास होना था उतना विकास नहीं हो पाया है आज भी वहां पर बेरोजगारी गरीबी अक्षता यह सब कम है इस कारण झारखंड में अलग धर्म की मांग उठ रही है

ek imarat ka jharkhand rajya adiwasi rajya hai jaha par sabse zyada adiwasi janjaati rehti hai 2019 ke vidhan sabha ke chunav hue jisme kshetriya partyian bahumat ke roop mein ubhar rahi hain bharatiya janta party ko wahan se nikaala gaya hai iska mukhya karan yah hai ki ek toh jharkhand rajya bharat ke vikas se nahi jud paya doosra kendra se jharkhand ka jitna vikas hona tha utana vikas nahi ho paya hai aaj bhi wahan par berojgari garibi akshata yah sab kam hai is karan jharkhand mein alag dharm ki maang uth rahi hai

एक इमारत का झारखंड राज्य आदिवासी राज्य है जहां पर सबसे ज्यादा आदिवासी जनजाति रहती है 2019

Romanized Version
Likes  121  Dislikes    views  1975
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है झारखंड में अलग धर्म की मांग क्यों कर रहे हैं आदिवासी तो आज इसका एक ही रीजन हो सकता है ओके हमेशा सही जो जंगल में रहने वाले लोग हैं आदिवासी उनको नीची जाति का समझा जाता है हमारे हिंदू धर्म शास्त्र के अनुसार यह हमारे हिंदू धर्म के अनुसार तो जिससे कर उनको एक नजरिया से यह के एक अलग ताई के नजरिए से देखा जाता है या फिर ऐसे देखा जा सकता है कि वह इस जगत के नहीं है या फिर वह कूड़े कचरे के समान है इस प्रकार से लोग जो है उनको देखते हैं और कई बार हम आपने जो न्यूज़ में या फिर अलग-अलग तरीके से हम सुनते भी हैं कि आदिवासियों के साथ अत्याचार कैसे हो रहे हैं जैसे मंदिर में नहीं घुसने दिया जाता या फिर उनको कई बार अलका रेप कर दे जाता है कोई इनके समक्ष में खून के आंसू मत में पक्ष में खड़ा नहीं होता है वैसे चीजों का जब उनके साथ में हो रहे थे इसलिए वह लोग अलग धर्म की मांग करें ताकि उस धर्म के अंदर उनको इज्जत मिल सके आज का इंसान जो है सबसे बड़ी जरूरत इंसान की इज्जत होती है वह चाहे किसी भी धर्म का हो किसी भी जाति का हो किसी भी पंथ का किसी भी चीज में हो वह अपनी इज्जत चाहता है और आज फर्स्ट सेंचुरी के अंदर भी कई जगह पर जो अंधविश्वास है वह फल फूल रहा है अब अगर अंधविश्वास फल-फूल रहा है और अंधविश्वास में को लोग फंसे हुए हैं उन लोगों को ताड़ना दी जा रहे हैं तो वह लोग जो है उस चीज के लिए मांग करने को मजबूर हो रहे हैं वह इसलिए नहीं कि उनकी जरूरत है वह इसलिए क्योंकि मजबूरी है एक अलग धर्म की मांग करने की

aapka sawaal hai jharkhand me alag dharm ki maang kyon kar rahe hain adiwasi toh aaj iska ek hi reason ho sakta hai ok hamesha sahi jo jungle me rehne waale log hain adiwasi unko nichi jati ka samjha jata hai hamare hindu dharm shastra ke anusaar yah hamare hindu dharm ke anusaar toh jisse kar unko ek najariya se yah ke ek alag taii ke nazariye se dekha jata hai ya phir aise dekha ja sakta hai ki vaah is jagat ke nahi hai ya phir vaah koode kachre ke saman hai is prakar se log jo hai unko dekhte hain aur kai baar hum aapne jo news me ya phir alag alag tarike se hum sunte bhi hain ki adivasiyon ke saath atyachar kaise ho rahe hain jaise mandir me nahi ghusne diya jata ya phir unko kai baar alka rape kar de jata hai koi inke samaksh me khoon ke aasu mat me paksh me khada nahi hota hai waise chijon ka jab unke saath me ho rahe the isliye vaah log alag dharm ki maang kare taki us dharm ke andar unko izzat mil sake aaj ka insaan jo hai sabse badi zarurat insaan ki izzat hoti hai vaah chahen kisi bhi dharm ka ho kisi bhi jati ka ho kisi bhi panth ka kisi bhi cheez me ho vaah apni izzat chahta hai aur aaj first century ke andar bhi kai jagah par jo andhavishvas hai vaah fal fool raha hai ab agar andhavishvas fal fool raha hai aur andhavishvas me ko log fanse hue hain un logo ko tadna di ja rahe hain toh vaah log jo hai us cheez ke liye maang karne ko majboor ho rahe hain vaah isliye nahi ki unki zarurat hai vaah isliye kyonki majburi hai ek alag dharm ki maang karne ki

आपका सवाल है झारखंड में अलग धर्म की मांग क्यों कर रहे हैं आदिवासी तो आज इसका एक ही रीजन ह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  105
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!