देश में जो भी राजनीतिक पार्टियां हैं, क्या उन सभी में देशहित की भावना है? आपको क्या लगता है?...


user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वर्तमान समय में हमारे देश में ज्यादातर जो राजनीतिक पार्टियां हैं उन्हें देश हित से कोई लेना देना नहीं है और उन्हें बस सत्ता का लालच रहता है कि किस प्रकार उनकी पार्टी सत्ता में आ जाए और शासन व्यवस्था अपने हाथों में ले ले बहुत सारी राजनीतिक पार्टियों में इस तरह के आपराधिक छवि वाले लोग हैं जिन्हें जनता की भलाई से कोई मतलब नहीं रहता है और वह बस मंत्री बनना चाहते हैं विधायक बनना चाहते हैं ताकि जितने भी फंड आते हैं सरकार की तरफ से उन्हें वह घोटाला कर सके अपने बैंक बैलेंस को बना सके अपने परिवार वालों के लिए ज्यादा से ज्यादा प्रॉपर्टी इकट्ठा कर पाए जो भी सांसद विधायक बनते हैं उनमें से अधिकांश ऐसे ही होते हैं जो अपने पद का गलत इस्तेमाल करते हैं और उन्हें देश की भलाई करने में कोई भी इंटरेस्ट नहीं रहता है इसलिए मुझे लगता है कि ज्यादातर जो राजनीतिक पार्टियां है वर्तमान समय में हमारे देश में वह करप्ट हो चुकी उन्हें देश हित से कोई लेना देना नहीं है लेकिन अगर इसी तरह से हमारे देश में राजनैतिक पार्टियां काम करते रहेंगे तो मुझे लगता है हमारा देश आने वाले समय में इतनी प्रगति नहीं कर पाएगा जितना कि उन्हें करना चाहिए क्योंकि जो नेता होते हैं वही जनप्रतिनिधि होते हैं और उनके वजह से ही हमारा देश आगे बढ़ता है तो सभी राजनीतिक पार्टियों को यह सोचना चाहिए कि किस प्रकार से देश हित के कार्य किए जाएं ना कि खुद के हित के बारे में

vartmaan samay mein hamare desh mein jyadatar jo raajnitik partyian hain unhe desh hit se koi lena dena nahi hai aur unhe bus satta ka lalach rehta hai ki kis prakar unki party satta mein aa jaaye aur shasan vyavastha apne hathon mein le le bahut saree raajnitik partiyon mein is tarah ke apradhik chhavi waale log hain jinhen janta ki bhalai se koi matlab nahi rehta hai aur vaah bus mantri banna chahte hain vidhayak banna chahte hain taki jitne bhi fund aate hain sarkar ki taraf se unhe vaah ghotala kar sake apne bank balance ko bana sake apne parivar walon ke liye zyada se zyada property ikattha kar paye jo bhi saansad vidhayak bante hain unmen se adhikaansh aise hi hote hain jo apne pad ka galat istemal karte hain aur unhe desh ki bhalai karne mein koi bhi interest nahi rehta hai isliye mujhe lagta hai ki jyadatar jo raajnitik partyian hai vartaman samay mein hamare desh mein vaah corrupt ho chuki unhe desh hit se koi lena dena nahi hai lekin agar isi tarah se hamare desh mein rajnaitik partyian kaam karte rahenge toh mujhe lagta hai hamara desh aane waale samay mein itni pragati nahi kar payega jitna ki unhe karna chahiye kyonki jo neta hote hain wahi janapratinidhi hote hain aur unke wajah se hi hamara desh aage badhta hai toh sabhi raajnitik partiyon ko yah sochna chahiye ki kis prakar se desh hit ke karya kiye jayen na ki khud ke hit ke bare mein

वर्तमान समय में हमारे देश में ज्यादातर जो राजनीतिक पार्टियां हैं उन्हें देश हित से कोई लेन

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  139
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!