मोहनलाल के बारे में बताये?...


user

Faiz

Software Tester at Cognizant Technology Solutions.

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोहनलाल के बारे में बताएं जो मोहनलाल जिनका पूरा नाम मोहनलाल विश्वनाथन है मैं आपको बता चुका इंडियन एक्टर ऑडिशन है प्लेबैक सिंगर डिस्ट्रीब्यूटर है जिन्होंने बहुत सारी मलयालम सिनेमा मूवी शो पिक्चरों में काम किया है तो इनको पिछले चार विकेट से बहुत फेमस माना जा रहा है बहुत फेमस है पिछले 4 डिग्री से जिन्होंने आज तक 3:30 सौ से ज्यादा फिल्मों में काम किया है इनका जन्म 21 मई 1960 में हुआ था lm4 में और इनकी अपकमिंग जो मूवी है वह आदमी है मत करना था मरक्कर सॉरी मरक्कर इनकी जो है वह आप कमिंग मूवी आ रही है और एक अवार्ड मिले उसमें पद्म भूषण अवार्ड इंक्लूडर नेशनल फिल्म अवॉर्ड्स इंक्लूडिंग

mohanlal ke bare mein bataye jo mohanlal jinka pura naam mohanlal vishwanath hai aapko bata chuka indian actor audition hai playback singer distributor hai jinhone bahut saree malayalam cinema movie show pikcharon mein kaam kiya hai toh inko pichle char wicket se bahut famous mana ja raha hai bahut famous hai pichle 4 degree se jinhone aaj tak 3 30 sau se zyada filmo mein kaam kiya hai inka janam 21 may 1960 mein hua tha lm4 mein aur inki upcoming jo movie hai vaah aadmi hai mat karna tha marakkar sorry marakkar inki jo hai vaah aap coming movie aa rahi hai aur ek award mile usme padma bhushan award inkludar national film awards inkluding

मोहनलाल के बारे में बताएं जो मोहनलाल जिनका पूरा नाम मोहनलाल विश्वनाथन है मैं आपको बता चुका

Romanized Version
Likes  664  Dislikes    views  26568
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Deepak thakur

Indian post office

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोहनलाल जो है वह समाज के बहुत ही सभ्य व्यक्ति हैं उनके विचार उनके विमर्श जो है वह समाज के लिए काफी लाभदायक और फायदेमंद है उन्होंने कई कल्याणकारी कार्य भी किए हैं और लोगों की सेवा करने में हमेशा आगे रहते हैं और कई बार नेतृत्व की बात आई है तो उन्होंने शारीरिक और भौतिक रूप से आर्थिक व्यवस्था जो है उनको भी कमजोर थी उस दौरान जो है खुद आर्थिक धन से सहायता करके लोगों का काम किया है

mohanlal jo hai vaah samaj ke bahut hi sabhya vyakti hain unke vichar unke vimarsh jo hai vaah samaj ke liye kaafi labhdayak aur faydemand hai unhone kai kalyaankari karya bhi kiye hain aur logo ki seva karne mein hamesha aage rehte hain aur kai baar netritva ki baat I hai toh unhone sharirik aur bhautik roop se aarthik vyavastha jo hai unko bhi kamjor thi us dauran jo hai khud aarthik dhan se sahayta karke logo ka kaam kiya hai

मोहनलाल जो है वह समाज के बहुत ही सभ्य व्यक्ति हैं उनके विचार उनके विमर्श जो है वह समाज के

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  94
WhatsApp_icon
user

1CMQ3LMVT05Ruhi

Teacher-Hindi

2:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोहनलाल सुखाडिया भारत के एक राजनेता थे मोहनलाल सिखा दिया का जन्म 31 जुलाई 1916 को राजस्थान के झालावाड़ में हुआ था एक जैन परिवार से संबंध थे उनके पिता का नाम पुरुषोत्तम लाल सुखा दिया था जो मुंबई रानी आधुनिक मुंबई और सौराष्ट्र के अच्छे क्रिकेटर में गिने जाते थे मोहनलाल सुखाड़िया राजस्थान के प्रसिद्ध राजनीति जो में से एक थे उन्हें आधुनिक राजस्थान का निर्माता ही कहा जाता है मोहनलाल सुखाडिया सबसे लंबे समय तक राजस्थान के मुख्यमंत्री रहे थे राजस्थान से नाथद्वारा और उदयपुर में प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के बाद मोहनलाल सुखाडिया बीजेपीआरई वीरमाता जीजाबाई टेक्नोलॉजिकल इंस्टीट्यूट से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा के लिए मुंबई के लिए चले गए वहां छात्र संगठन के महासचिव चुने गए कॉलेज में मोहनलाल सुखाड़िया देश के प्रमुख राष्ट्रीय नेताओं जैसे सुभाष चंद्र बोस सरदार वल्लभभाई पटेल युसूफ मेहर अली तथा अशोक मेहता के संपर्क में आ गए सैया जी निरंतर कांग्रेस कार्यकर्ताओं की मीटिंग आदि में उपस्थित रहते थे जब मोहनलाल सुखाडिया वापस नाथद्वारा राजस्थान आ गए तब उन्होंने एक छोटी सैनिक दुकान से व्यावसायिक जीवन शुरू किया इस दुकान में ही वे और उनके साथी ब्रिटिश साम्राज्य के कुशासन और सामाजिक आर्थिक सुधारों के लिए योजनाएं आधी बनाया करते थे मेवाड़ में प्रजामंडल की राजनीतिक गतिविधियों से अपनी अग्रणी स्थिति बनाने से पहले मोहनलाल सुखाडिया ने इंदुबाला सुखा दिया के साथ अंतरजातीय विवाह कर लिया ब्यावर के शिक्षित एवं प्रगतिशील समाज के लोगों ने आर्य समाज के वैदिक रीति से यहां विवाह 1 जून 1938 को संपन्न करवाया इस प्रकार 75 और छुआछूत जैसी बुराइयों के प्रबल विरोधी मोहनलाल सुखाड़िया सामाजिक प्रगति व परिवर्तन के ऐसे पुरोधा थे जिन्होंने न केवल गतिशीलता के लिए समाज में जागरूकता पैदा की अपितु समाज व परिवार के घोर विरोध के बावजूद अपने स्वयं के जीवन को जात-पात के बंधनों से मुक्त कर आदर्श प्राप्त किया मोहनलाल सुखाडिया को आधुनिक राजस्थान का निर्माता कहा जाता है इन्होंने सर्वाधिक समय लगभग 17 वर्ष तक राजस्थान के मुख्यमंत्री पद पर कार्य 1954 से 1971 तक राजस्थान के मुख्यमंत्री रहे बाद में कर्नाटक आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु के राज्यपाल भी रहे मोहनलाल सुखाडिया जी का निधन 2 फरवरी 1982 को बीकानेर में हुआ

mohanlal sukhadiya bharat ke ek raajneta the mohanlal sikha diya ka janam 31 july 1916 ko rajasthan ke jhalawad mein hua tha ek jain parivar se sambandh the unke pita ka naam purushottam laal sukha diya tha jo mumbai rani aadhunik mumbai aur Saurashtra ke acche cricketer mein gine jaate the mohanlal sukhadiya rajasthan ke prasiddh raajneeti jo mein se ek the unhe aadhunik rajasthan ka nirmaata hi kaha jata hai mohanlal sukhadiya sabse lambe samay tak rajasthan ke mukhyamantri rahe the rajasthan se nathadwara aur udaipur mein prathmik shiksha puri karne ke baad mohanlal sukhadiya BJPRE virmata jijabai technological institute se electrical Engineering mein diploma ke liye mumbai ke liye chale gaye wahan chatra sangathan ke mahasachiv chune gaye college mein mohanlal sukhadiya desh ke pramukh rashtriya netaon jaise subhash chandra bose sardar vallabhbhai patel yusuf mehar ali tatha ashok mehta ke sampark mein aa gaye saiya ji nirantar congress karyakartaon ki meeting aadi mein upasthit rehte the jab mohanlal sukhadiya wapas nathadwara rajasthan aa gaye tab unhone ek choti sainik dukaan se vyavasayik jeevan shuru kiya is dukaan mein hi ve aur unke sathi british samrajya ke kushasan aur samajik aarthik sudharo ke liye yojanaye aadhi banaya karte the mewad mein prajamandal ki raajnitik gatividhiyon se apni agranee sthiti banane se pehle mohanlal sukhadiya ne indubala sukha diya ke saath antarjaatiye vivah kar liya byavar ke shikshit evam pragatisheel samaj ke logo ne arya samaj ke vaidik riti se yahan vivah 1 june 1938 ko sampann karvaya is prakar 75 aur chuachut jaisi buraiyon ke prabal virodhi mohanlal sukhadiya samajik pragati va parivartan ke aise purodha the jinhone na keval gatisheelta ke liye samaj mein jagrukta paida ki apitu samaj va parivar ke ghor virodh ke bawajud apne swayam ke jeevan ko jaat pat ke bandhanon se mukt kar adarsh prapt kiya mohanlal sukhadiya ko aadhunik rajasthan ka nirmaata kaha jata hai inhone sarvadhik samay lagbhag 17 varsh tak rajasthan ke mukhyamantri pad par karya 1954 se 1971 tak rajasthan ke mukhyamantri rahe baad mein karnataka andhra pradesh aur tamil nadu ke rajyapal bhi rahe mohanlal sukhadiya ji ka nidhan 2 february 1982 ko bikaner mein hua

मोहनलाल सुखाडिया भारत के एक राजनेता थे मोहनलाल सिखा दिया का जन्म 31 जुलाई 1916 को राजस्थान

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!