गुरु नानक देव जी के बारे में बताये?...


user

Sandeep Saini

Spiritual Guide | Journalist

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

काशीपुर सतनाम प्राप्ति के लिए दूसरा राष्ट्रीय भगवान विष्णु का

kashipur satanam prapti ke liye doosra rashtriya bhagwan vishnu ka

काशीपुर सतनाम प्राप्ति के लिए दूसरा राष्ट्रीय भगवान विष्णु का

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  181
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Rajesh

Teacher

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुरु नानक देव जी का जन्म 1469 इसी में राय भाई की तलवंडी में हुआ इनके पिता जी का नाम मेहता कालू और माताजी का नाम तृप्ता देवी था वह इनकी बहन का नाम बेबे नानकी था टिकट रामदेव जी ने छोटी सी उमर में सच्चा सौदा किया टिकट गाना देव जी ने चार उदासियां स्थापित की नानक देव जी ने मक्कामदेना यहां तक कि भारत के कोने कोने तक यात्राएं की और अपने धर्म का प्रचार किया नानक देव जी हिंदू लोग नाना देव जी को रे गुरु कहकर पुकारते थे और मुसलमान दोनों रामदेव जी पीर कहकर पुकारते थे उन्हें अपना अंतिम समय करतारपुर में बसाया और अपने और अपनी गद्दी भाई लेना कूदी और इनका नाम बदलकर गुरु अंगद देव जी रख दिया गया धन्यवाद

guru nanak dev ji ka janam 1469 isi mein rai bhai ki talwandi mein hua inke pita ji ka naam mehta kalu aur mataji ka naam tripta devi tha vaah inki behen ka naam bebe nanki tha ticket ramdev ji ne choti si umar mein saccha sauda kiya ticket gaana dev ji ne char udasiyan sthapit ki nanak dev ji ne makkamadena yahan tak ki bharat ke kone kone tak yatraen ki aur apne dharm ka prachar kiya nanak dev ji hindu log nana dev ji ko ray guru kehkar pukarte the aur muslim dono ramdev ji pir kehkar pukarte the unhe apna antim samay kartarpur mein basaya aur apne aur apni gaddi bhai lena kudi aur inka naam badalkar guru angad dev ji rakh diya gaya dhanyavad

गुरु नानक देव जी का जन्म 1469 इसी में राय भाई की तलवंडी में हुआ इनके पिता जी का नाम मेहता

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  163
WhatsApp_icon
user

Suman Saurav

Government Teacher & Carrear Counsultent

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुरु नानक देव जी ने सिखों के प्रथम गुरु थे इनका जन्म 1469 में ननकाना साहिब पाकिस्तान में हुआ था एवं इन्होंने सिख संप्रदाय और सिख पंथ की स्थापना की थी

guru nanak dev ji ne Sikhon ke pratham guru the inka janam 1469 mein nankana sahib pakistan mein hua tha evam inhone sikh sampraday aur sikh panth ki sthapna ki thi

गुरु नानक देव जी ने सिखों के प्रथम गुरु थे इनका जन्म 1469 में ननकाना साहिब पाकिस्तान में ह

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  167
WhatsApp_icon
user
0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुरु नानक देव सिखों के प्रथम गुरु रहे हैं यह समाज सुधारक रहे हैं यह कभी भी है थे इसके साथ ही साथ उन्होंने कई सारे ऐसे समाज सुधारक कार्य किए हैं जिनके कारण इनको गुरु नानक देव की उपाधि दी गई है

guru nanak dev Sikhon ke pratham guru rahe hain yah samaj sudharak rahe hain yah kabhi bhi hai the iske saath hi saath unhone kai saare aise samaj sudharak karya kiye hain jinke karan inko guru nanak dev ki upadhi di gayi hai

गुरु नानक देव सिखों के प्रथम गुरु रहे हैं यह समाज सुधारक रहे हैं यह कभी भी है थे इसके साथ

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  175
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!