पुलिस को क्या क्या अधिकार है कानूनी में?...


user

Yogender Dhillon

Law Educator , Advocate,RTI Activist , Motivational Coach

2:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

को सबसे पहले पुलिस के अधिकार की बात यदि आती है तो उसके इंडिविजुअल की बात कर रहे हो या आप पर ऐसे ऑफिसर के रूप में बात कर रहे हो उनके पावर की बात कर रहे हो आप मैं अधिकारी पुलिस ऑफिसर एक अलग बात होती है और उसके पावर से गलत बात होती है अगर अधिकार की बात करें तो जब वह अपने ड्यूटी कर रहा है और कोई आदमी उसकी ड्यूटी में अर्चना डा रहा है यह न्यू टेक्शन कर रहा है तू साथ मेरे खिलाफ कार्यवाही कर सकता है दूसरी बात यह भी वह किसने उसको बुलाया है किसी आदमी को और नहीं आता है तो उसके खिलाफ कार्यवाही कर सकता है अच्छा जी अगर डिपार्टमेंटल किसी तरह की बात हो जाती है तो परमिशन लेनी पड़ती है तब उसके खिलाफ कोई कार्यवाही की जा सकती है अदर वाइज सरकारी अधिकारी है पब्लिक सर्वेंट है उसके खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की जा सकती है पावस की पावन अगर हम सीआरपीसी में बात करें तो उसको बिना वारंट है रेस्ट करने का अधिकार है कुछ सिचुएशन है 12 13 जिनमें बिना वारंट हो किसी को अरेस्ट कर सकता है फिर उसके बाद वह बिना वारंट ट्रस्ट कर उसकी कुछ सिचुएशन होते हैं यह भी कोई भी कॉग्निजेबल ऑफेंस अगर किसी ने कर दिया है कोई अपराधी भाग गया है यदि किसी को सस्पेंस से अगर पकड़ लिया है और सस्पेंस अपना आईडेंटी नहीं बताता है नाम एड्रेस अगर नहीं बताता है तो जब तक हटाने की नहीं हो जाती तब तक हो उसको अपने पास रखता है कई बार क्या होती है कि सोसाइटी में किसी चीज को प्रोटेक्ट करने के लिए हम काम करते हैं और प्रोडक्शन के टाइम पर उन्हें किसी को रेस्ट करना पड़ता है तो यह 107 में मजिस्ट्रेट आदेश करता है जुपिटर मजिस्ट्रेट और उससे 151 है उसको अर्थ करके लेकर जाता है अब बात आती है उसके पास जब कोई आदमी है जो कंप्लेंट लेकर जाता है तो वह कॉग्निजेबल ऑफेंस एएफआईआर रोज कर सकता है अगर उसे लगता है कि कॉग्निजेबल ऑफेंस नहीं है तू प्यार कर दे का रिपोर्ट कर देगा जिसके पास भेज देगा अगर वह हर रोज करता है तो बिना मजिस्ट्रेट की परमिशन के वह आदमी इन्वेस्टिगेशन करता है और उसे को बिना कोर्ट की परमिशन के रेस्ट भी कर सकता है जो कमेंट के लिए कहीं जा सकता है और अगर वह एनसीआर दर्ज करता है तो एनसीआर में उसे परमिशन लेनी पड़ती है और फिर दोनों कंधों से मिलते हैं उनको प्रेस कर देता है चालान के रूप में 173 में अगर नहीं मिलता है सफेद शेर तो 160 रिपोर्ट दे देता है वह फिर अपनी एक डायरी भी बनाता है कहां से गया कि हमसे मिला क्या स्टेटमेंट तो डायल उसका अपना अधिकार होता है वह कैसे को दिखाएगा नहीं ले सकता है वह भी सजेशन के लिए देखने के लिए कि क्या का गया कहां का गाया क्या-क्या सोच है वैसे ही केस की हेल्प के लिए इसी पुलिस के पास बहुत सारे पावर सोते हैं और जो ऐडमिशन सिस्टम को मेंटेन करके रखता है

ko sabse pehle police ke adhikaar ki baat yadi aati hai toh uske individual ki baat kar rahe ho ya aap par aise officer ke roop me baat kar rahe ho unke power ki baat kar rahe ho aap main adhikari police officer ek alag baat hoti hai aur uske power se galat baat hoti hai agar adhikaar ki baat kare toh jab vaah apne duty kar raha hai aur koi aadmi uski duty me archna da raha hai yah new tekshan kar raha hai tu saath mere khilaf karyavahi kar sakta hai dusri baat yah bhi vaah kisne usko bulaya hai kisi aadmi ko aur nahi aata hai toh uske khilaf karyavahi kar sakta hai accha ji agar departmental kisi tarah ki baat ho jaati hai toh permission leni padti hai tab uske khilaf koi karyavahi ki ja sakti hai other wise sarkari adhikari hai public servant hai uske khilaf koi karyavahi nahi ki ja sakti hai pavasa ki paavan agar hum crpc me baat kare toh usko bina warrant hai rest karne ka adhikaar hai kuch situation hai 12 13 jinmein bina warrant ho kisi ko arrest kar sakta hai phir uske baad vaah bina warrant trust kar uski kuch situation hote hain yah bhi koi bhi kagnijebal offense agar kisi ne kar diya hai koi apradhi bhag gaya hai yadi kisi ko suspense se agar pakad liya hai aur suspense apna aidenti nahi batata hai naam address agar nahi batata hai toh jab tak hatane ki nahi ho jaati tab tak ho usko apne paas rakhta hai kai baar kya hoti hai ki society me kisi cheez ko protect karne ke liye hum kaam karte hain aur production ke time par unhe kisi ko rest karna padta hai toh yah 107 me magistrate aadesh karta hai Jupiter magistrate aur usse 151 hai usko arth karke lekar jata hai ab baat aati hai uske paas jab koi aadmi hai jo complaint lekar jata hai toh vaah kagnijebal offense AFIR roj kar sakta hai agar use lagta hai ki kagnijebal offense nahi hai tu pyar kar de ka report kar dega jiske paas bhej dega agar vaah har roj karta hai toh bina magistrate ki permission ke vaah aadmi investigation karta hai aur use ko bina court ki permission ke rest bhi kar sakta hai jo comment ke liye kahin ja sakta hai aur agar vaah NCR darj karta hai toh NCR me use permission leni padti hai aur phir dono kandhon se milte hain unko press kar deta hai chalan ke roop me 173 me agar nahi milta hai safed sher toh 160 report de deta hai vaah phir apni ek diary bhi banata hai kaha se gaya ki humse mila kya statement toh dial uska apna adhikaar hota hai vaah kaise ko dikhaega nahi le sakta hai vaah bhi suggestion ke liye dekhne ke liye ki kya ka gaya kaha ka gaaya kya kya soch hai waise hi case ki help ke liye isi police ke paas bahut saare power sote hain aur jo admission system ko maintain karke rakhta hai

को सबसे पहले पुलिस के अधिकार की बात यदि आती है तो उसके इंडिविजुअल की बात कर रहे हो या आप प

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  196
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!