निर्भया केस का जूवनाइल की अर्ज़ी ख़ारिज कर दी गयी है। क्या आपको लगता है ये फ़ैसला लेने में बहुत देर कर दी गयी है?...


user

Abhay Pratap

Advocate | Social Welfare Activist

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां विधायिका पर थोड़ी सी दबाव महसूस किया जा सकता है फिर भी उनकी निर्भरता समाज पर कायम है

haan vidhayika par thodi si dabaav mahsus kiya ja sakta hai phir bhi unki nirbharta samaaj par kayam hai

हां विधायिका पर थोड़ी सी दबाव महसूस किया जा सकता है फिर भी उनकी निर्भरता समाज पर कायम है

Romanized Version
Likes  62  Dislikes    views  885
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा जीमेल चेंज कर दी क्या आपको लगता है फैसला लेने में बहुत देर कर दी गई है क्योंकि जुवेनाइल की अर्जी खारिज लिखी गई है उसके उम्र को देखकर नहीं लेकिन के जो गंभीर आरोप और जो साबित हुए हैं उसके गंभीरता को गुनाह की गंभीरता को देखते हुए उसके जुवेनाइल कोर्ट ने भी बर्खास्त कर दिया था और उसे एक करो जिसको कहते हैं कि 18 साल की बाली उमर के जो गुनहगार होते हैं उसी तरह ही चेक किया जाना वाला है और फैसला लेने में देरी तो हुई है लेकिन जो भी फैसला है वह अब सही है और अब फैसला आने ही वाला है बहुत देरी हुई है इतनी देरी नहीं होनी चाहिए कि आम जनता और जो निर्भया जी की मां है उन्होंने बहुत ही अफसोस जाहिर किया है लेकिन जो हमारी कानून प्रणाली है इतनी देरी कर देती है कि लोगों की धीरज की कसौटी हो जाती है लेकिन देर आए दुरुस्त आए अब उनको जो सजा होनी है वह तो पिन कोड

mera gmail change kar di kya aapko lagta hai faisla lene mein bahut der kar di gayi hai kyonki juvenail ki arji khareej likhi gayi hai uske umr ko dekhkar nahi lekin ke jo gambhir aarop aur jo saabit hue hain uske gambhirta ko gunah ki gambhirta ko dekhte hue uske juvenail court ne bhi barkhast kar diya tha aur use ek karo jisko kehte hain ki 18 saal ki baali umar ke jo gunahagar hote hain usi tarah hi check kiya jana vala hai aur faisla lene mein deri toh hui hai lekin jo bhi faisla hai vaah ab sahi hai aur ab faisla aane hi vala hai bahut deri hui hai itni deri nahi honi chahiye ki aam janta aur jo Nirbhaya ji ki maa hai unhone bahut hi afasos jaahir kiya hai lekin jo hamari kanoon pranali hai itni deri kar deti hai ki logon ki dheeraj ki kasouti ho jaati hai lekin der aaye durast aaye ab unko jo saza honi hai vaah toh pin code

मेरा जीमेल चेंज कर दी क्या आपको लगता है फैसला लेने में बहुत देर कर दी गई है क्योंकि जुवेन

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1338
WhatsApp_icon
user
1:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए निर्भया केस के एक आरोपी पवन गुप्ता ने दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में याचिका दायर की थी कि जब मैं भैया के साथ कुकर्म हुआ था तब उनसे आप गुनहगारों के साथ तो जरूर था लेकिन उस समय वह जूविनाइल था इन्हीं 10 साल से कम उम्र का था तो उसके लिए उसे कम से कम फांसी की सजा नहीं मिलनी चाहिए या फिर इतना कठोर दंड इसमें नहीं मिलना चाहिए या उसे छोड़ दिया जाना चाहिए लेकिन कोर्ट ने उसकी इस बात को नहीं माना कोर्ट ने कहा कि जांच में ऐसे कोई भी तथ्य नहीं पाए गए हैं अब जिससे यह साबित हो चुकी पवन गुप्ता जो है वह 17 साल या उससे कम की उम्र का था और पवन गुप्ता के वकील एपी सिंह को इस मामले में कड़ी फटकार का सामना जो है वह कोर्ट से करना पड़ा तो उसने कहा कि उसके ऊपर भी जो है बराबर कार्रवाई एक प्रकार से होगी वही ए पी सिंह को भी इस मामले में मैं उनके ऊपर कार्रवाई भी की थी उस दिन वह पर्सेंट नहीं थे लेकिन पवन गुप्ता की याचिका भी खारिज कर दी गई या नहीं इन तीनों आरोपियों के साथ उसे भी बराबर इस केस में एक प्रकार से सजा मिलेगी जहां तक निर्णय में देरी की बात है मैं एक लूंगा कि जब अभियुक्त ने इस मामले में जो याचिका थी वह बहुत देर बाद दायर की तो कोर्ट को भी उसके हिसाब से जो है एक प्रकार से अपने आपको अपनी अपनी कार्रवाई करनी पड़ती है तो जिस प्रकार से उसने याचिका दायर की थी कोर्ट ने भी उसी हिसाब से अपना निर्णय लिया है और बहुत जल्दी इसमें अंतिम निर्णय लेगा जब 7 तारीख को डेथ वारंट पर फैसला आगे किसी चारों के चारों आरोपियों की जो मस्जिद किसने माताजी का जो पुनर्विचार याचिका है वह हावी हो चुकी है

dekhiye Nirbhaya case ke ek aaropi pawan gupta ne delhi ki patiala house court mein yachika dayar ki thi ki jab main bhaiya ke saath kukarm hua tha tab unse aap gunahgaro ke saath toh zaroor tha lekin us samay vaah juvinail tha inhin 10 saal se kam umr ka tha toh uske liye use kam se kam fansi ki saza nahi milani chahiye ya phir itna kathor dand isme nahi milna chahiye ya use chhod diya jana chahiye lekin court ne uski is baat ko nahi mana court ne kaha ki jaanch mein aise koi bhi tathya nahi paye gaye hain ab jisse yah saabit ho chuki pawan gupta jo hai vaah 17 saal ya usse kam ki umr ka tha aur pawan gupta ke vakil AP Singh ko is mamle mein kadi fatkar ka samana jo hai vaah court se karna pada toh usne kaha ki uske upar bhi jo hai barabar karyawahi ek prakar se hogi wahi a p Singh ko bhi is mamle mein main unke upar karyawahi bhi ki thi us din vaah percent nahi the lekin pawan gupta ki yachika bhi khareej kar di gayi ya nahi in teenon aaropiyon ke saath use bhi barabar is case mein ek prakar se saza milegi jahan tak nirnay mein deri ki baat hai main ek lunga ki jab abhiyukt ne is mamle mein jo yachika thi vaah bahut der baad dayar ki toh court ko bhi uske hisab se jo hai ek prakar se apne aapko apni apni karyawahi karni padti hai toh jis prakar se usne yachika dayar ki thi court ne bhi usi hisab se apna nirnay liya hai aur bahut jaldi isme antim nirnay lega jab 7 tarikh ko death warrant par faisla aage kisi charo ke charo aaropiyon ki jo masjid kisne mataji ka jo punarvichar yachika hai vaah haavi ho chuki hai

देखिए निर्भया केस के एक आरोपी पवन गुप्ता ने दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में याचिका दायर क

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  680
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!