गुर्जर प्रतिहार वंश के बारे में बताएं?...


play
user

Sunil

Teacher

0:38

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन जो गुर्जर प्रतिहार वंश की स्थापना नागभट्ट ने 1725 ईस्वी में की थी उनसे उनसे राम के भाई लक्ष्मण को अपना पूर्वज बताते हुए अपने वंश को सूर्यवंश की शाखा सिद्ध किया गुर्जर प्रतिहार सूर्यवंश का होना सिद्ध करते हैं तथा गुर्जर प्रतिहार ओं का शिलालेख पर अंकित सूर्यदेव की कलाकृति भी इनके सूर्यवंशी होने की पुष्टि करती है

lekin jo gurjar pratihar vansh ki sthapna nagabhatt ne 1725 isvi me ki thi unse unse ram ke bhai lakshman ko apna purvaj batatey hue apne vansh ko suryavansh ki shakha siddh kiya gurjar pratihar suryavansh ka hona siddh karte hain tatha gurjar pratihar on ka shilalekh par ankit suryadev ki kalakriti bhi inke suryavanshi hone ki pushti karti hai

लेकिन जो गुर्जर प्रतिहार वंश की स्थापना नागभट्ट ने 1725 ईस्वी में की थी उनसे उनसे राम के भ

Romanized Version
Likes  73  Dislikes    views  423
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सर आपका प्रकाश गुर्जर प्रतिहार वंश के बारे में बताइए सर मैं इसके बारे में आपको बता दूं कि मालवा का शासक नागभट्ट प्रथम गुर्जर प्रतिहार वंश का संस्थापक था और नागभट्ट द्वितीय को राष्ट्रकूट सम्राट गोविंद तृतीय ने हराया था और गुर्जर प्रतिहार वंश का सर्वाधिक शक्तिशाली एवं प्रतापी राजा मिहिर भोज था और इस वंश का अंतिम राजा यशपाल था और मिहिर भोज ने अपनी राजधानी कन्नौज में बनाई थी और दिल्ली नगर की स्थापना तोमर नरेश अनंगपाल ने 11वीं सदी के मध्य में इसी काल में की थी धन्यवाद सर

sir aapka prakash gurjar pratihar vansh ke bare me bataiye sir main iske bare me aapko bata doon ki malawa ka shasak nagabhatt pratham gurjar pratihar vansh ka sansthapak tha aur nagabhatt dwitiya ko raastrakut samrat govind tritiya ne haraya tha aur gurjar pratihar vansh ka sarvadhik shaktishali evam prataapee raja miheer bhoj tha aur is vansh ka antim raja yashpal tha aur miheer bhoj ne apni rajdhani kannauj me banai thi aur delhi nagar ki sthapna tomar naresh anangapal ne vi sadi ke madhya me isi kaal me ki thi dhanyavad sir

सर आपका प्रकाश गुर्जर प्रतिहार वंश के बारे में बताइए सर मैं इसके बारे में आपको बता दूं कि

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  317
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!