कानून किसे कहते हैं?...


play
user

1CMQ3LMVT05Ruhi

Teacher-Hindi

2:44

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कानून या विधि किसी नियम समहिता को कहते हैं विधि प्रायम भलीभांति लिखी हुई सन सूची को यानी इंस्ट्रक्शन के रूप में होती है समाज को सम्यक ढंग से चलाने के लिए विधि या कानून अत्यंत आवश्यक है विधि मनुष्य का आचरण के वर्तमान नियम होते हैं जो राज्य द्वारा स्वीकृत तथा लागू किए जाते हैं जिनका पालन अनिवार्य होता है पालन ना करने पर न्यायपालिका दंड देती है कानूनी प्रणाली कई तरह के अधिकारों और जिम्मेदारियों को विस्तार से बताती है कानून या विधि का मतलब है मनुष्य के व्यवहार को नियंत्रित और संचालित करने वाले नियमों हिदायत व बंदियों और हकों की संगीता लेकिन यहां भूमिका तो नैतिक धार्मिक और अन्य सामाजिक संस्थाओं की भी होती है कानून सरकार द्वारा बनाया जाता है और समाज में उसे सभी के ऊपर समान रूप से लागू किया जाता है कानून अनिवार्य होता है अर्थात पालन ना करने वाले के लिए कानून में दंड की व्यवस्था होती है अधिकार एवं दायित्वों के लिए स्पष्ट व्याख्या करना भी है साथ ही समाज में हो रहे अनेक अधिकारी या लोक नीति के विरुद्ध होने वाले कार्यों को अपराध घोषित करके अपराधियों से भय पैदा करना भी अपराध विधि का उद्देश्य है संयुक्त राष्ट्र संघ 1945 से लेकर आज तक अपने चार्टर के माध्यम से या अपने विभिन्न अनुषांगिक संगठनों के माध्यम से दुनिया के राज्यों को व नागरिकों को यह बताने का प्रयास किया कि बिना शांति के समाज का विकास संभव नहीं है परंतु शांति के लिए सह अस्तित्व एवं न्यायपूर्ण दृष्टिकोण ही नहीं आचरण को जिंदा करना भी जरूरी है न्यायपूर्ण समाज में ही शांति सद्भाव मैत्री सह अस्तित्व कायम हो पाता है

kanoon ya vidhi kisi niyam samhita ko kehte hain vidhi prayam bhalibhanti likhi hui san suchi ko yani instruction ke roop mein hoti hai samaj ko samyak dhang se chalane ke liye vidhi ya kanoon atyant aavashyak hai vidhi manushya ka aacharan ke vartaman niyam hote hain jo rajya dwara sawikrit tatha laagu kiye jaate hain jinka palan anivarya hota hai palan na karne par nyaypalika dand deti hai kanooni pranali kai tarah ke adhikaaro aur jimmedariyon ko vistaar se batati hai kanoon ya vidhi ka matlab hai manushya ke vyavhar ko niyantrit aur sanchalit karne waale niyamon hidayat va bandiyon aur hakon ki sangeeta lekin yahan bhumika toh naitik dharmik aur anya samajik sasthaon ki bhi hoti hai kanoon sarkar dwara banaya jata hai aur samaj mein use sabhi ke upar saman roop se laagu kiya jata hai kanoon anivarya hota hai arthat palan na karne waale ke liye kanoon mein dand ki vyavastha hoti hai adhikaar evam dayitvo ke liye spasht vyakhya karna bhi hai saath hi samaj mein ho rahe anek adhikari ya lok niti ke viruddh hone waale karyo ko apradh ghoshit karke apradhiyon se bhay paida karna bhi apradh vidhi ka uddeshya hai sanyukt rashtra sangh 1945 se lekar aaj tak apne charter ke madhyam se ya apne vibhinn anushangik sangathano ke madhyam se duniya ke rajyo ko va nagriko ko yah batane ka prayas kiya ki bina shanti ke samaj ka vikas sambhav nahi hai parantu shanti ke liye sah astitva evam nyaypurn drishtikon hi nahi aacharan ko zinda karna bhi zaroori hai nyaypurn samaj mein hi shanti sadbhav maitri sah astitva kayam ho pata hai

कानून या विधि किसी नियम समहिता को कहते हैं विधि प्रायम भलीभांति लिखी हुई सन सूची को यानी इ

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  166
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!