क्या कम पैसे में भी IAS की तैयारी की जा सकती है?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. [email protected]

2:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या कम पैसे में भी आईएस की तैयारी की जा सकती है बिल्कुल की जा सकती है अगर आप सेल्फ स्टडी करें और समाचार पत्रों से आप अपने नोट्स बनाएं प्लस लाइब्रेरी में जाकर आप पत्रिकाओं की हेल्प से नोट बनाएं आप किसी सहयोगी बच्चों के एनसीईआरटी की किताब में 9 से लेकर 12 तक उनसे नोट्स बनाएं और उन्हें स्टडी करें तो आप की बिल्डिंग में और मेंस गिरे विष्णुपुर देवी सिंह की जो पुस्तकें आपके पास मौजूद है उनमें से आप कैरी करें तो निश्चित रूप से बहुत कम पैसे में और बहुत अधिक तबीयत अच्छी तरीके से आपकी प्यारी हो सकती है किसी भी कंपटीशन को विश करने के लिए पैसा प्रमुख नहीं होता पैसा सहयोगी होत बहुत चिंतन पैसों को तरजीह देते हैं और काबिलियत को छोड़ बैठते हैं क्योंकि आप किसलिए आईएस करना चाहिए पिक्चर चाहिए करेंगे तो आपको पैसा मिलेगा पैसा मिलेगा तो आपका परिवार का संचालन होगा और देश की सेवा करेंगे देश की सेवा करने के लिए क्या पैसा नहीं चाहिए मैं इंसान की प्रवृत्ति है उसकी जरूरत है कि से खर्च किए बिना संभव नहीं कि आप की कोई जरूरत पूरी हो प्रश्न कि पैसा आएगा के पैसे का सही प्रयोग पैसे से ही होता है क्योंकि पैसे से पैसा आता है पैसा मनुष्य की देन है बाकी सब प्राकृतिक देन इंसान का चुनाव इंसान की आदित्य इंसान का आचरण की सब प्रकृति में नहीं रखा है लेकिन पैसा प्रकृति ने ने चाहिए भौतिकवाद है अब भौतिकवाद का काम भौतिकवादी संभव हो सकता है मानवी काम मानवी प्रवचनों से संभव होता है

kya kam paise mein bhi ias ki taiyari ki ja sakti hai bilkul ki ja sakti hai agar aap self study kare aur samachar patron se aap apne notes banaye plus library mein jaakar aap patrikaon ki help se note banaye aap kisi sahyogi baccho ke ncert ki kitab mein 9 se lekar 12 tak unse notes banaye aur unhe study kare toh aap ki building mein aur mens gire vishnupur devi Singh ki jo pustakein aapke paas maujud hai unmen se aap carry kare toh nishchit roop se bahut kam paise mein aur bahut adhik tabiyat achi tarike se aapki pyaari ho sakti hai kisi bhi competition ko wish karne ke liye paisa pramukh nahi hota paisa sahyogi hot bahut chintan paison ko tarajih dete hai aur kabiliyat ko chod baithate hai kyonki aap kisliye ias karna chahiye picture chahiye karenge toh aapko paisa milega paisa milega toh aapka parivar ka sanchalan hoga aur desh ki seva karenge desh ki seva karne ke liye kya paisa nahi chahiye main insaan ki pravritti hai uski zarurat hai ki se kharch kiye bina sambhav nahi ki aap ki koi zarurat puri ho prashna ki paisa aayega ke paise ka sahi prayog paise se hi hota hai kyonki paise se paisa aata hai paisa manushya ki then hai baki sab prakirtik then insaan ka chunav insaan ki aditya insaan ka aacharan ki sab prakriti mein nahi rakha hai lekin paisa prakriti ne ne chahiye bhautikvad hai ab bhautikvad ka kaam bhautikvadi sambhav ho sakta hai manvi kaam manvi pravachanon se sambhav hota hai

क्या कम पैसे में भी आईएस की तैयारी की जा सकती है बिल्कुल की जा सकती है अगर आप सेल्फ स्टडी

Romanized Version
Likes  73  Dislikes    views  1439
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!