हड़प्पा सभ्यता के नगर निर्माण की विशेषताएं का वर्णन करें?...


play
user
1:48

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हड़प्पा सभ्यता में नगर निर्माण की विशेषताएं इस प्रकार हैं कि हड़प्पा सभ्यता में जो भी नगर होते थे जैसा कि हमारा लो मोहनजोदड़ो और आपका कालीबंगा धोलावीरा अग्निवीर वाला इस प्रकार के नगर हड़प्पा सभ्यता में पाए जाते थे और उनके होती थी उनका आएंगे जो है वह डिग्री के एंगल पर करके बनाई जाती थी मतलब वृत्ताकार रूप से मोड़ हो आप घूम जाओ ऐसा कोई मोल नहीं होता वहां पर सीधे 90 डिग्री का एंगल को सरकर बनी होती थी और बताया जाता है कि जब उसको ऊपर से देख कर के जैसे कि मोहनजोदड़ो मोहनजोदड़ो के बारे में बताते हैं कि मोहनजोदड़ो अगर कभी ऊपर से देखा गया होगा तो वह नगर इस प्रकार बनाए जाते थे कि वहां से मोहनजोदड़ो लिखा हुआ दिखाई पड़ता था कि मोहनजोदड़ो है इस प्रकार से बनाए जाता था वहां पर मोहनजोदड़ो लिखा हुआ था और वह चढ़कर 90 डिग्री एंगल पर रखने का कारण यह था कि हवा एक दूसरे से एक दूसरे रास्ते से पास हो सके ठीक है इसलिए वहां पर हवा है इस तरीके से पास होती है और कहीं पर यह भी लेट मिलता है कि हमारे जो बाहर वर्तमान में चंडीगढ़ नामक नगर है वह नगर मोहनजोदड़ो की सभ्यता के हिसाब से ही बनाया गया है वहां पर एक सड़क नहीं की डिग्री के एंगल पर की गई

hadappa sabhyata mein nagar nirmaan ki visheshtayen is prakar hain ki hadappa sabhyata mein jo bhi nagar hote the jaisa ki hamara lo mohenjodaro aur aapka kalibanga dholavira agnivir vala is prakar ke nagar hadappa sabhyata mein paye jaate the aur unke hoti thi unka aayenge jo hai vaah degree ke Angle par karke banai jaati thi matlab vritakaar roop se mod ho aap ghum jao aisa koi mole nahi hota wahan par sidhe 90 degree ka Angle ko sarkaar bani hoti thi aur bataya jata hai ki jab usko upar se dekh kar ke jaise ki mohenjodaro mohenjodaro ke bare mein batatey hain ki mohenjodaro agar kabhi upar se dekha gaya hoga toh vaah nagar is prakar banaye jaate the ki wahan se mohenjodaro likha hua dikhai padta tha ki mohenjodaro hai is prakar se banaye jata tha wahan par mohenjodaro likha hua tha aur vaah chadhakar 90 degree Angle par rakhne ka karan yah tha ki hawa ek dusre se ek dusre raste se paas ho sake theek hai isliye wahan par hawa hai is tarike se paas hoti hai aur kahin par yah bhi late milta hai ki hamare jo bahar vartaman mein chandigarh namak nagar hai vaah nagar mohenjodaro ki sabhyata ke hisab se hi banaya gaya hai wahan par ek sadak nahi ki degree ke Angle par ki gayi

हड़प्पा सभ्यता में नगर निर्माण की विशेषताएं इस प्रकार हैं कि हड़प्पा सभ्यता में जो भी नगर

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  146
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!