एक विचार जो टीवी के लिए अच्छा है और एक विचार जो एक उपन्यास के लिए अच्छा है - इन के बीच अंतर क्या है?...


user

Neeraj Pandey

Indian screenwriter and lyricist

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

निकले तो कुछ भी अच्छा नहीं है क्योंकि वह लोग कचरा पर तू नहीं बोल रही थी यही लिखना है घर पर और आइडिया की बात करूं तो पन्या सेपट पन्या सेपट लग्जरी और वहां खड़े कर सकते हो आपका आईडिया ऐसा है जिसे हम 2 घंटे में कह सकते हो तो फिर समझ में आएगा कि इसका या तो बन सकता है

nikle toh kuch bhi accha nahi hai kyonki vaah log kachra par tu nahi bol rahi thi yahi likhna hai ghar par aur idea ki baat karun toh panya sepat panya sepat luxury aur wahan khade kar sakte ho aapka idea aisa hai jise hum 2 ghante mein keh sakte ho toh phir samajh mein aayega ki iska ya toh ban sakta hai

निकले तो कुछ भी अच्छा नहीं है क्योंकि वह लोग कचरा पर तू नहीं बोल रही थी यही लिखना है घर पर

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  117
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!