जमिया प्रोटेस्ट का वीडियो LIKE करने के बाद अक्षय कुमार को हुआ गलती का एहसास, आपकी राय?...


user

Rahul Shukla

Journalist

3:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जामिया में जिस तरीके से प्रोटेस्ट हुआ और उसके अक्षय कुमार लिखा जो लाइक और डिसलाइक का एक बड़ा तरीका जो हुआ जिसमें उन्होंने एसएसपी की अपनी गलती ब्यूरो ने जाहिर की लेकिन इसमें कई मतलब भी निकाले जा सकते हैं जो ट्रेडिंग हैं इसमें उन्होंने क्या खुद को एडवर्टाइजमेंट करने के लिए प्रचार प्रसार करने के लिए क्या क्या वह इस बात पर अपनी कुछ राय रखना चाहते थे जो कि वह खुद को बचाने के लिए ने अपनी राय फिर से हटा दी तो इस तरीके की कई मतलब निकाले जा सकते हैं और यह जो इंटरटेनमेंट मीडिया इंडस्ट्री है उसमें भी कई ऐसे दिग्गज कलाकार हैं जो अपनी राय रखने की कोशिश कर रहे हैं वह सामने से आप ही रहे हैं लेकिन अक्षय कुमार ने जो हिंसा को प्रमोट न करने के बाद कहीं वह अच्छी है लेकिन कहीं ना कहीं इसके अंदर जो हिंसा बढ़ाई जा रही है वह सोचने का विषय है जिसमें हमें फुटेज के दौरान में जो बच्चे पढ़ाई करते थे उनके ऊपर जो मारपीट हुई है और कथा कथित तौर पर पुलिस ओं के ऊपर भी जो पथराव हुए हैं दोनों ही गलत है दोनों अपने अपने तरीके से प्रोडक्ट शांतिपूर्वक भी हो सकती थी लेकिन उसके अंदर कुछ राजनीति हुई है जिसमें हिंसा रूप दिया गया है इसे भड़काया गया है नागरिक संशोधन जो बिल है वह उसे मनाने के लिए कई बार की ऐसे बिल है जिसे मनाने के लिए कई तरीके अपनाए गए हैं लेकिन इस तरीके से हिंसा को बढ़ाकर हम विदेशों को एक बुलावा सा दे रहे हैं और उनको एक तथाकथित तरीके से एक उनको हम समर्थन कर रहे हैं उनकी इच्छा हो जो थी वह पूरी करने की कोशिश कर रहे हैं और कहीं ना कहीं अपने देश को फिर से हम गुलाम कर रहे हैं क्योंकि हमारा देश से किसी एक धर्म को लेकर नहीं है सभी धर्म को ले जिसमें ने जितना ही हिंदू महत्वपूर्ण है उतना ही मुसलमान भी है उतना ही सीख है उतना ही सही है और अन्य धर्म भी लोग हैं सब समान तरीके से सब को देखना चाहिए और उनके अनुसार ही जो बिल संशोधन होते हैं उनको बनाना चाहिए अगर किसी धर्म को बढ़ाने के लिए अगर कोई बिल बनता है और उसको एक नया प्रपोज अंडा बनाने की कोशिश करती है तो वह भी एक गलत है तो कहीं न कहीं इस पूरे खेल में जिस तरीके से अक्षय कुमार ने अपनी गलती का एहसास किया है उस चीज को लाइक भी कर दिया था लेकिन कई लोग हैं अपने अपने तरीके से मतलब निकाल रहे हैं तो कहीं न कहीं से पूर्ण रुप से अक्षय कुमार को बताना चाहिए और सत्य बताना चाहिए या फिर उन्हें इस प्रकार की जो गलतियां थी अगर उन्हें एहसास भी हुआ है तू यह माफी के लायक नहीं है कि की हिंसा जो होती है आप उसे नहीं मान रहे हैं लेकिन आप किसी का राजनीतिक दल को समर्थन भी नहीं कर रहे क्योंकि हिंसा दोनों तरीके से बापू से पूर्ण तरीके से बताने की कोशिश करें और अपने ट्रेडिंग के लिए ऐसे 12 का इस्तेमाल ना करें तो ज्यादा बेहतर होगा धन्यवाद

jamia mein jis tarike se protest hua aur uske akshay kumar likha jo like aur dislike ka ek bada tarika jo hua jisme unhone SSP ki apni galti bureau ne jaahir ki lekin isme kai matlab bhi nikale ja sakte hain jo trading hain isme unhone kya khud ko advertisement karne ke liye prachar prasaar karne ke liye kya kya vaah is baat par apni kuch rai rakhna chahte the jo ki vaah khud ko bachane ke liye ne apni rai phir se hata di toh is tarike ki kai matlab nikale ja sakte hain aur yah jo entertainment media industry hai usme bhi kai aise diggaj kalakar hain jo apni rai rakhne ki koshish kar rahe hain vaah saamne se aap hi rahe hain lekin akshay kumar ne jo hinsa ko promote na karne ke baad kahin vaah achi hai lekin kahin na kahin iske andar jo hinsa badhai ja rahi hai vaah sochne ka vishay hai jisme hamein footage ke dauran mein jo bacche padhai karte the unke upar jo maar peet hui hai aur katha kathit taur par police on ke upar bhi jo pathrao hue hain dono hi galat hai dono apne apne tarike se product shantipurvak bhi ho sakti thi lekin uske andar kuch raajneeti hui hai jisme hinsa roop diya gaya hai ise bhadkaya gaya hai nagarik sanshodhan jo bill hai vaah use manane ke liye kai baar ki aise bill hai jise manane ke liye kai tarike apnaye gaye hain lekin is tarike se hinsa ko badhakar hum videshon ko ek bulava sa de rahe hain aur unko ek tathakathit tarike se ek unko hum samarthan kar rahe hain unki iccha ho jo thi vaah puri karne ki koshish kar rahe hain aur kahin na kahin apne desh ko phir se hum gulam kar rahe hain kyonki hamara desh se kisi ek dharm ko lekar nahi hai sabhi dharm ko le jisme ne jitna hi hindu mahatvapurna hai utana hi muslim bhi hai utana hi seekh hai utana hi sahi hai aur anya dharm bhi log hain sab saman tarike se sab ko dekhna chahiye aur unke anusaar hi jo bill sanshodhan hote hain unko banana chahiye agar kisi dharm ko badhane ke liye agar koi bill banta hai aur usko ek naya propose anda banane ki koshish karti hai toh vaah bhi ek galat hai toh kahin na kahin is poore khel mein jis tarike se akshay kumar ne apni galti ka ehsaas kiya hai us cheez ko like bhi kar diya tha lekin kai log hain apne apne tarike se matlab nikaal rahe hain toh kahin na kahin se purn roop se akshay kumar ko bataana chahiye aur satya bataana chahiye ya phir unhe is prakar ki jo galtiya thi agar unhe ehsaas bhi hua hai tu yah maafi ke layak nahi hai ki ki hinsa jo hoti hai aap use nahi maan rahe hain lekin aap kisi ka raajnitik dal ko samarthan bhi nahi kar rahe kyonki hinsa dono tarike se bapu se purn tarike se batane ki koshish kare aur apne trading ke liye aise 12 ka istemal na kare toh zyada behtar hoga dhanyavad

जामिया में जिस तरीके से प्रोटेस्ट हुआ और उसके अक्षय कुमार लिखा जो लाइक और डिसलाइक का एक बड

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  192
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!