इंदिरा गांधी ने पूर्वी पाकिस्तान को एक अलग देश जिसे हम बांग्लादेश के नाम से जानते है कैसे बनाया?...


user

Mr. Mukesh Kumar

Youtuber, https://youtu.be/lxwi7CXLHSQ

2:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारा देश भारत 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ भारत की आजादी तुरंत भारत का विखंडन हो गया विखंडन के उपरांत भारत के पश्चिमी छोर पर पश्चिमी पाकिस्तान और पूर्वी छोर जिसे हम बांग्लादेश कहते हैं उसे फर्स्ट का पूर्वी बंगाल का नाम दिया गया परंतु दो राज्य थे मतलब पाकिस्तान के दोनों अंग थे परंतु दोनों में बहुत ही विभिन्न ता पाई जाती थी पूर्वी पाकिस्तान में संपदा बहुत ज्यादा से प्राकृतिक संपदा और पाकिस्तान में राजनीतिक बहुत हावी था जिसमें पाकिस्तान के जो सैनिक थे चाहे जो भी राजनीति करते थे वह पूर्वी पाकिस्तान के लोगों पर बहुत अत्याचार करते थे विशेषकर महिलाओं और कन्याओं पर उनका शोषण करते थे वहां की क्षमता को लेकर अपने पश्चिमी पाकिस्तान में भेजते थे ऐसा करने से पश्चिमी पाकिस्तान के जो लोग से धीरे-धीरे और पूर्वी पाकिस्तान पर हावी होने लगे इसका प्रभाव यह हुआ कि पूर्वी पाकिस्तान के लोग काफी दुखी होने लगी अपने शोषण को देखकर विभिन्न तरह के अत्याचारों देखकर अब वह चाह नहीं पाए तो उन्होंने भारत सरकार से आग्रह किया उस वक्त इंदिरा गांधी हमारे देश के प्रधानमंत्री थे तो उन्होंने 19 युद्ध छेड़ा जो कि 25 जनवरी 25 मार्च 1971 से लेकर 16 दिसंबर 1971 तक बहुत लंबे समय तक चला जिसमें भारत की विजय हुई और पाकिस्तान के लगभग 93000 सैनिकों ने अपना घुटना टेक दिया था उसके बाद पाकिस्तान जो पूरी पाकिस्तान ने उसका नाम बांग्लादेश पड़ गया और एक वह स्वतंत्र देश के रूप में घोषित किया गया और पश्चिमी पाकिस्तान पहले की तरफ पाकिस्तान का रूप दे दिया गया तो इस तरह इंदिरा गांधी ने पूर्वी पाकिस्तान को अलग देश ने बनाया और जिसे हम आज बांग्लादेश के नाम से जानते हैं

hamara desh bharat 15 august 1947 ko azad hua bharat ki azadi turant bharat ka vikhandan ho gaya vikhandan ke uprant bharat ke pashchimi chhor par pashchimi pakistan aur purvi chhor jise hum bangladesh kehte hain use first ka purvi bengal ka naam diya gaya parantu do rajya the matlab pakistan ke dono ang the parantu dono mein bahut hi vibhinn ta payi jaati thi purvi pakistan mein sampada bahut zyada se prakirtik sampada aur pakistan mein raajnitik bahut haavi tha jisme pakistan ke jo sainik the chahen jo bhi raajneeti karte the vaah purvi pakistan ke logo par bahut atyachar karte the visheshkar mahilaon aur kanyaon par unka shoshan karte the wahan ki kshamta ko lekar apne pashchimi pakistan mein bhejate the aisa karne se pashchimi pakistan ke jo log se dhire dhire aur purvi pakistan par haavi hone lage iska prabhav yah hua ki purvi pakistan ke log kaafi dukhi hone lagi apne shoshan ko dekhkar vibhinn tarah ke atyacharo dekhkar ab vaah chah nahi paye toh unhone bharat sarkar se agrah kiya us waqt indira gandhi hamare desh ke pradhanmantri the toh unhone 19 yudh cheda jo ki 25 january 25 march 1971 se lekar 16 december 1971 tak bahut lambe samay tak chala jisme bharat ki vijay hui aur pakistan ke lagbhag 93000 sainikon ne apna ghutna take diya tha uske baad pakistan jo puri pakistan ne uska naam bangladesh pad gaya aur ek vaah swatantra desh ke roop mein ghoshit kiya gaya aur pashchimi pakistan pehle ki taraf pakistan ka roop de diya gaya toh is tarah indira gandhi ne purvi pakistan ko alag desh ne banaya aur jise hum aaj bangladesh ke naam se jante hain

हमारा देश भारत 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ भारत की आजादी तुरंत भारत का विखंडन हो गया विखंडन

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  533
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!