सभी विपक्षी दलों का एक पार्टी के खिलाफ़ गठबंधन करना क्या देश के साथ न्याय है?...


play
user
0:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नई देश की राजधानी में आया कि नहीं है कि जितने नेता लोग अपने ही लिए सोच रहे हैं ना कि देश के लिए देश के प्रति कोई भी दल नहीं सोचा था जिसके

nayi desh ki rajdhani mein aaya ki nahi hai ki jitne neta log apne hi liye soch rahe hain na ki desh ke liye desh ke prati koi bhi dal nahi socha tha jiske

नई देश की राजधानी में आया कि नहीं है कि जितने नेता लोग अपने ही लिए सोच रहे हैं ना कि देश क

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  541
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Rajesh Kumar

Worker at Bahujan Mukti Party

0:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तो पब्लिक को बेवकूफ बनाओ सम्मेलन में मायावती सिर्फ खाली जैसा अगर यह गठबंधन पार्टी ज्यादा कामयाब नहीं होता जीतने के बाद

yah toh public ko bewakoof banao sammelan mein mayawati sirf khaali jaisa agar yah gathbandhan party zyada kamyab nahi hota jitne ke baad

यह तो पब्लिक को बेवकूफ बनाओ सम्मेलन में मायावती सिर्फ खाली जैसा अगर यह गठबंधन पार्टी ज्याद

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  246
WhatsApp_icon
user

Priyank Chauhan

Jack of all trades

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए कल सारे विपक्षी दल मिलकर एक गठबंधन बनाते हैं तो यह गठबंधन के स्वरूप का होगा इसके क्या वर्क हरे पक्ष पक्ष के क्या विचार होंगे इस तरह की कोई बात नहीं शादी जा सकती है यह गठबंधन लॉजिकल ही कोई सेंस नहीं मनाता है क्योंकि जो बहुत सारे विपक्षी दल हैं उनमें आपस में ही इतने सारे परस्पर झगड़े हैं कि ऐसा कट बंधन तैयार होना अगर हो भी जाता है तो बहुत ही जल्दी बिखर जाएगा तो ऐसे गठबंधन होने का न्याय न्याय की बात तो नहीं आती है पहले तो बनना ही निश्चित नहीं है अब बन भी जाए तो उसके बाद निश्चित है कि किसने किस समय तकिए ठिकाना पाएगा

dekhiye kal saare vipakshi dal milkar ek gathbandhan banate hain toh yah gathbandhan ke swaroop ka hoga iske kya work hare paksh paksh ke kya vichar honge is tarah ki koi baat nahi shadi ja sakti hai yah gathbandhan logical hi koi sense nahi manata hai kyonki jo bahut saare vipakshi dal hain unmen aapas mein hi itne saare paraspar jhagde hain ki aisa cut bandhan taiyar hona agar ho bhi jata hai toh bahut hi jaldi bikhar jaega toh aise gathbandhan hone ka nyay nyay ki baat toh nahi aati hai pehle toh banna hi nishchit nahi hai ab ban bhi jaaye toh uske baad nishchit hai ki kisne kis samay takiye thikana payega

देखिए कल सारे विपक्षी दल मिलकर एक गठबंधन बनाते हैं तो यह गठबंधन के स्वरूप का होगा इसके क्य

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  146
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यही हमारे देश की विडंबना है कि बेईमानी अजब होती है करप्शन जब होता है लूटपाट तब होती है तब कोई एक साथ खड़ा होकर उनका विरोध नहीं करता है लेकिन आज वर्तमान में जब एक ईमानदार प्रधानमंत्री ने हमारे देश की बागडोर संभाली है और इमानदारी से वो अपने काम कर रहे हैं तो देश की बाकी सारी पार्टियां एकजुट होकर उनका विरोध करना चाहती है क्यों क्योंकि उनकी बेईमानी या नहीं हो पा रही है वह भ्रष्टाचार नहीं कर पा रहे हैं वह पैसा नहीं कमा पा रही है कहीं ना कहीं उनकी जीवनशैली में बदलाव आ रहा है वह परेशान है कि वह किस तरह से पैसा कमाए इसलिए वह एक पार्टी के विरुद्ध होकर एकजुट होना चाहते हैं और उसका विरोध करना चाहते हैं क्योंकि सच्चाई को दबाना चाहते हैं सच्चाई को आगे नहीं आने देना चाहते इमानदारी से किसी व्यक्ति को काम नहीं करने देना चाहते और हमारे देश की सबसे बड़ी कमी भी रही है कि उन लोगों का साथ देते हैं जो इमानदारी के विरुद्ध खड़े होते हैं अगर यही भी रहो यही एकजुटता हमने उस समय दिखाई होती जब भ्रष्टाचारी ज्यादा बढ़ रही थी जब बेईमानी ज्यादा बढ़ रही थी जब घोटाले ज्यादा हो रहे थे और तब बाकी सारी पार्टियों ने मिलकर किसी एक पार्टी का साथ देकर उस सब का विरोध किया होता तो आज हमारे देश की यह हालत नहीं होती हमारा देश अलग ऊंचाइयों पर पहुंचा होता आज हमारी देश की न्यू खोकली हो गई है भ्रष्टाचार से भ्रष्टाचारियों से घोटालों से जहां विकास बढ़ता है वही इन सब चीजों से फिर देश दो कदम पीछे हो जाता है इसलिए यह देश के साथ न्याय नहीं है और देश की जनता उसके बारे में सोचना चाहिए कि वह ऐसी चीजों का विरोध करें और ऐसे लोगों का डटकर

yahi hamare desh ki widambana hai ki baimani ajab hoti hai corruption jab hota hai lutpat tab hoti hai tab koi ek saath khada hokar unka virodh nahi karta hai lekin aaj vartaman mein jab ek imaandaar pradhanmantri ne hamare desh ki baghdor sambhali hai aur imaandari se vo apne kaam kar rahe hain toh desh ki baki saree partyian ekjut hokar unka virodh karna chahti hai kyon kyonki unki baimani ya nahi ho paa rahi hai vaah bhrashtachar nahi kar paa rahe hain vaah paisa nahi kama paa rahi hai kahin na kahin unki jeevan shaili mein badlav aa raha hai vaah pareshan hai ki vaah kis tarah se paisa kamaye isliye vaah ek party ke viruddh hokar ekjut hona chahte hain aur uska virodh karna chahte hain kyonki sacchai ko dabana chahte hain sacchai ko aage nahi aane dena chahte imaandari se kisi vyakti ko kaam nahi karne dena chahte aur hamare desh ki sabse badi kami bhi rahi hai ki un logo ka saath dete hain jo imaandari ke viruddh khade hote hain agar yahi bhi raho yahi ekjutata humne us samay dikhai hoti jab bhrashtachaari zyada badh rahi thi jab baimani zyada badh rahi thi jab ghotale zyada ho rahe the aur tab baki saree partiyon ne milkar kisi ek party ka saath dekar us sab ka virodh kiya hota toh aaj hamare desh ki yah halat nahi hoti hamara desh alag unchaiyon par pohcha hota aaj hamari desh ki new khokli ho gayi hai bhrashtachar se bharashtachariyo se ghotalo se jaha vikas badhta hai wahi in sab chijon se phir desh do kadam peeche ho jata hai isliye yah desh ke saath nyay nahi hai aur desh ki janta uske bare mein sochna chahiye ki vaah aisi chijon ka virodh kare aur aise logo ka dantkar

यही हमारे देश की विडंबना है कि बेईमानी अजब होती है करप्शन जब होता है लूटपाट तब होती है तब

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  149
WhatsApp_icon
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुसाई विपक्षी दलों का एक पार्टी खिलाफ गठबंधन करना ऑफिस में कोई बुराई नहीं है राजनीति हमेशा सच है कि जिनके पास है वह गठबंधन की सरकार बना सकते हैं तो ऐसे कुछ इसमें बुराई नहीं है लोग अगर साथ में मिलकर आज उनको लोग चाहते हैं और साथ में मिलकर काम करना चाहते हैं साथ मिलकर काम करें अल्टीमेटली हमें देश का उन्नति चाहिए देश का विकास है यह तो कोई भी पार्टी गठन करके भी सरकार बनाती है कि देश के लिए काम करती है तो उसमें कोई बुराई नहीं है

gusai vipakshi dalon ka ek party khilaf gathbandhan karna office mein koi burayi nahi hai raajneeti hamesha sach hai ki jinke paas hai vaah gathbandhan ki sarkar bana sakte hain toh aise kuch isme burayi nahi hai log agar saath mein milkar aaj unko log chahte hain aur saath mein milkar kaam karna chahte hain saath milkar kaam kare altimetli hamein desh ka unnati chahiye desh ka vikas hai yah toh koi bhi party gathan karke bhi sarkar banati hai ki desh ke liye kaam karti hai toh usme koi burayi nahi hai

गुसाई विपक्षी दलों का एक पार्टी खिलाफ गठबंधन करना ऑफिस में कोई बुराई नहीं है राजनीति हमेशा

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  178
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
1ql1 ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!