आजकल लोग दूसरों की मदद क्यों नहीं करते हैं?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

3:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विश्व में यह अंतिम तक केवल सर्वाधिक भारत में पाते हैं जो कि भारत में बारे में लोग लालची स्वार्थी खुदगर्ज लोगों का समूह है और विशेष तो सिर्फ ऊट में पड़ी हुई है राजनीति में क्योंकि अब धर्म और जातियों की कम देता है और धर्म और जातियों की भिन्नता की खाई को यह राजनीतिक लोग यह पॉलीटिकल पार्टीज वाले लोग तो हैं बढ़ाते हैं क्योंकि इनकी फोटो की राजनीति इसी पर चलती नहीं चलती है इसलिए तुम देखते हो जाती वाले जाति वालों को ही तो साथ देते हैं वही धर्मेंद्र का धर्म का हाल है अब तुम देख रहे हो कि कोरोनावायरस पूरे देश के लिए हानिकारक है सरकार इसके संक्रमण को रोकने का भरसक प्रयास कर रही है और कुछ लोग गैर जिम्मेदार बनते हुए इसे बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं उनका उद्देश्य खेलना चाहिए अब इसको आप क्या कहेंगे जब किस हर शब्द सादगी जानता है कि कम से कम में इसको रोकने का प्रयास करूंगा इस शब्द में रोकने का प्रयास करें क्योंकि वो कोरोनावायरस ना तब देखता है तो जाती देखता है ना यह देश को देखकर यह तो यह देखता है तो उसके संक्रमण में आ गया 150 और ले जाता है कम से कम क्योंकि हमारे यहां गंदी राजनीति में इतना गंदा कर दिया माहौल कभी-कभी तो बड़ा दुख होता है तो वास्तव में हमारा भारत की ताजी संसार के अन्य देशों में देखी आप कितनी आपस में एक दूसरे में रहे हैं क्योंकि वह धर्मों की भिन्नता नहीं है क्योंकि वहां पर जातियों की भिन्नता नहीं एक नागरिक दूसरे नागरिक के लिए जान देता है यह संभावनाएं हैं हमारे यहां भी यह सारे धर्मों को बंद कर दिया जाए जातियों को बंद कर दिया जाए संवैधानिक सुधार किया जाए हमारा संसदीय कर सकते हैं कि संसद में ही सारी देश की सर्वोच्च शक्तियां निहित होती है तो धर्म जातियों को बंद करके एक दिन सब धर्म का पालन किया जाए समस्त मानव आपस में प्रेम भाईचारे के साथ मिलकर के दिए एक दूसरे की सेवा करें सहायता करें यही मानता का तकाजा है और यही मानता का कर्तव्य होना चाहिए और यही है देश का सबसे जोड़ने वाला देश 11 निवासी को दूसरे डिवाइस से एक नागरिक को दूसरे नाम से जोड़ने का सबसे अच्छा तरीका हो सकता है

vishwa me yah antim tak keval sarvadhik bharat me paate hain jo ki bharat me bare me log lalchi swaarthi khudagarj logo ka samuh hai aur vishesh toh sirf ut me padi hui hai raajneeti me kyonki ab dharm aur jaatiyo ki kam deta hai aur dharm aur jaatiyo ki bhinnata ki khai ko yah raajnitik log yah political parties waale log toh hain badhate hain kyonki inki photo ki raajneeti isi par chalti nahi chalti hai isliye tum dekhte ho jaati waale jati walon ko hi toh saath dete hain wahi dharmendra ka dharm ka haal hai ab tum dekh rahe ho ki coronavirus poore desh ke liye haanikarak hai sarkar iske sankraman ko rokne ka bharasak prayas kar rahi hai aur kuch log gair zimmedar bante hue ise banane me koi kesar nahi chhod rahe hain unka uddeshya khelna chahiye ab isko aap kya kahenge jab kis har shabd saadgi jaanta hai ki kam se kam me isko rokne ka prayas karunga is shabd me rokne ka prayas kare kyonki vo coronavirus na tab dekhta hai toh jaati dekhta hai na yah desh ko dekhkar yah toh yah dekhta hai toh uske sankraman me aa gaya 150 aur le jata hai kam se kam kyonki hamare yahan gandi raajneeti me itna ganda kar diya maahaul kabhi kabhi toh bada dukh hota hai toh vaastav me hamara bharat ki taazi sansar ke anya deshon me dekhi aap kitni aapas me ek dusre me rahe hain kyonki vaah dharmon ki bhinnata nahi hai kyonki wahan par jaatiyo ki bhinnata nahi ek nagarik dusre nagarik ke liye jaan deta hai yah sambhavnayen hain hamare yahan bhi yah saare dharmon ko band kar diya jaaye jaatiyo ko band kar diya jaaye samvaidhanik sudhaar kiya jaaye hamara sansadiya kar sakte hain ki sansad me hi saari desh ki sarvoch shaktiyan nihit hoti hai toh dharm jaatiyo ko band karke ek din sab dharm ka palan kiya jaaye samast manav aapas me prem bhaichare ke saath milkar ke diye ek dusre ki seva kare sahayta kare yahi maanta ka takaja hai aur yahi maanta ka kartavya hona chahiye aur yahi hai desh ka sabse jodne vala desh 11 niwasi ko dusre device se ek nagarik ko dusre naam se jodne ka sabse accha tarika ho sakta hai

विश्व में यह अंतिम तक केवल सर्वाधिक भारत में पाते हैं जो कि भारत में बारे में लोग लालची स्

Romanized Version
Likes  388  Dislikes    views  6209
KooApp_icon
WhatsApp_icon
12 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!