आदमी फिल्म क्यों देखता है?...


user

DR. MANISH

MULTI TASKER & DR.M.D (A.M.), B-PHARMA, PGDM-M

2:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भी तुम्हारा सोने की आदमी फिल्म क्यों देखता है इसने बहुत सारी चीजें आधी फिल्म क्यों देखता है सबसे पहली बात ही है आगे फिल्म इश्क देखता है कि जो फिर अंदर हीरो हीरोइन है उनको रोटी रोजगार मिले उनको अच्छे कपड़े मिले अच्छा मेकअप कर सके जो तुम जैसे लोग पिक्चर देखेंगे तो 285 की टिकट खरीदेंगे और कई बार तो ब्लैक में भी दोगे तो ब्लैक में खरीदोगे तो दुबला किए हैं उनके घर का राशन चलेगा उनके घर की रोटी चलेगी उनको दारु मिलेगी पीने के लिए पव्वा मिलेगा पीने के लिए तो इसलिए लोग देखते हैं कि दया कर देंगे जैसे क्या होता किसी से दो प्यारे मीठे बोल बोल दोगे तो सभी खून बढ़ जाएगा तो यह भी एक रक्तदान है ऐसे ही तुमने तो तय है किसी को तो डायरेक्ट और इनडायरेक्ट डायरेक्ट के अंदर तो क्या होता है कि तूने पिक्चर में पैसा दिया और पिक्चर देखी घर आ गए हैं टिकट किसको मिला पैसा पिक्चर उनके मालिक लेकिन ऐसा नहीं है कि नाइट में क्या हुआ अभी पिक्चर फुल के मालिक ने दिया फिल्म डिस्ट्रीब्यूटर को अपना मार्जिन रखकर फिल्म डिस्ट्रीब्यूटर ने डायरेक्टर को दिया राइट न हीरो हीरोइन को दिया जो उसमें पास ट्रैक्टर से विलन है और छोटे-मोटे रोल करने वाले लोगों को पैसा दिया उनको भी आकर देख नीचे गिर दान का रूप है क्योंकि तुम्हारे दूरी उन लोगों की रोजी-रोटी चल रही है इसके अलावा दे फिर हम क्यों देखता है देखो फिल्म देखने का क्या होता है आदमी सुमित घंटे बाद अगर देखे आधुनिक युग में टेंशन में जी रहा है पति-पत्नी के बीच में टेंशन है मां-बाप के बीच में टेंशन है भाई भाई के बीच में टेंशन है भाई बहन के बीच में टेंशन है जीजा साली के बीच में टेंशन प्रेमिका प्रेमी के वीडियो टेंशन है टेंशन ही टेंशन बॉस की और उसके बीच होटल चलें सप्लायर कर दुकानदार के बीच में फैक्ट्री मालिक और नौकर के बीच में टेंशन है तो टेंशन तो है ही ना टेंशन को दूर करने के लिए आदमी 3 घंटे के लिए जो पैसा देता है वहां पर जाकर अपना दुख भूल जाता है और उसमें पैसा देता है तो उसका मनोरंजन का टाइम पास हो जाता है और उसके दिमाग से जो बुरी यादें अपने परिवार की अपने दोस्तों की अपने दुख कि उसे भूल जाता है उस वक्त पर वह तो दिमाग उस टाइम पर बड़ी एनर्जी के अंदर होता है पॉजिटिव वाइब्स उसके चार करवा देती है जिसकी वजह से उसके दिमाग से नकारात्मक ऊर्जा खत्म हो जाती है पॉजिटिव एनर्जी आती इसलिए को पैसा खर्च करता है उसका टाइम काम करता हूं धन्यवाद जय हिंद जय भारत आप के बीच आपका भाई मनीष दिल्ली से

bhi tumhara sone ki aadmi film kyon dekhta hai isne bahut saari cheezen aadhi film kyon dekhta hai sabse pehli baat hi hai aage film ishq dekhta hai ki jo phir andar hero heroine hai unko roti rojgar mile unko acche kapde mile accha makeup kar sake jo tum jaise log picture dekhenge toh 285 ki ticket khareedenge aur kai baar toh black me bhi doge toh black me kharidoge toh dubla kiye hain unke ghar ka raashan chalega unke ghar ki roti chalegi unko daaru milegi peene ke liye pavwa milega peene ke liye toh isliye log dekhte hain ki daya kar denge jaise kya hota kisi se do pyare meethe bol bol doge toh sabhi khoon badh jaega toh yah bhi ek raktadan hai aise hi tumne toh tay hai kisi ko toh direct aur indirect direct ke andar toh kya hota hai ki tune picture me paisa diya aur picture dekhi ghar aa gaye hain ticket kisko mila paisa picture unke malik lekin aisa nahi hai ki night me kya hua abhi picture full ke malik ne diya film distributor ko apna margin rakhakar film distributor ne director ko diya right na hero heroine ko diya jo usme paas tractor se vilen hai aur chote mote roll karne waale logo ko paisa diya unko bhi aakar dekh niche gir daan ka roop hai kyonki tumhare doori un logo ki rozi roti chal rahi hai iske alava de phir hum kyon dekhta hai dekho film dekhne ka kya hota hai aadmi sumit ghante baad agar dekhe aadhunik yug me tension me ji raha hai pati patni ke beech me tension hai maa baap ke beech me tension hai bhai bhai ke beech me tension hai bhai behen ke beech me tension hai jija saali ke beech me tension premika premi ke video tension hai tension hi tension boss ki aur uske beech hotel chalen supplier kar dukaandar ke beech me factory malik aur naukar ke beech me tension hai toh tension toh hai hi na tension ko dur karne ke liye aadmi 3 ghante ke liye jo paisa deta hai wahan par jaakar apna dukh bhool jata hai aur usme paisa deta hai toh uska manoranjan ka time paas ho jata hai aur uske dimag se jo buri yaadain apne parivar ki apne doston ki apne dukh ki use bhool jata hai us waqt par vaah toh dimag us time par badi energy ke andar hota hai positive vibes uske char karva deti hai jiski wajah se uske dimag se nakaratmak urja khatam ho jaati hai positive energy aati isliye ko paisa kharch karta hai uska time kaam karta hoon dhanyavad jai hind jai bharat aap ke beech aapka bhai manish delhi se

भी तुम्हारा सोने की आदमी फिल्म क्यों देखता है इसने बहुत सारी चीजें आधी फिल्म क्यों देखता ह

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  133
KooApp_icon
WhatsApp_icon
21 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!