क्या आपने कभी किसी ऐसे व्यक्ति की मदद की जो आर्थिक रूप से कमज़ोर था?...


user

junaid saifi

Career Counsellor, Blogger

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यूपी के मेरठ जिले से हूं जिसमें छोटा सा गांव कसेरू अक्षर आता है उसी में ही हम पास के आरोपियों में रहने वाले बच्चों को निशुल्क शिक्षा देने का प्रयास कर रहे हैं वहीं हमने में जितने भी गरीब परिवार के बच्चे हैं पास के जोगी जो पैसा लगा उनको भी हम शिक्षा देने का प्रयास कर रहे हैं और लगातार हम उनको शिक्षा दे रहे हैं बिल्कुल निशुल्क कोई चार्ज नहीं लिया जाता किसी भी तरह का कोई वर्णन नहीं है उनके ऊपर हम उनको बिल्कुल निशुल्क बुलाते हैं खाने-पीने का भी हम उनके लिए इंतजाम कर आते हैं हर दूसरे तीसरे दिन हम उनको खाना भी देते हैं बाकी जितने भी हमसे हो पाता है उनके लिए करते हैं और करते रहेंगे आगे भी और इसी तरीके से हमने उनके लिए 45 कंप्यूटर की लैब किताब नगरिया जिसमें हम उनको टेक्नोलॉजी से भी जोड़ने का प्रयास करते हैं बच्चे जिस बैकग्राउंड चाहते हो ना बच्चों की कुछ में स्थिति बताना चाहूंगा कुछ ऐसे भी है जो पन्नी सकते हैं कुछ बच्चे ऐसे भी है जो भीख मांगते हैं उनको हम लग और जबरन हम उनको शिक्षा देने का प्रयास कर रहे हैं और हम इसी तरीके से इस पर मेहनत करते रहेंगे धन्यवाद

up ke meerut jile se hoon jisme chota sa gaon kaseru akshar aata hai usi me hi hum paas ke aaropiyon me rehne waale baccho ko nishulk shiksha dene ka prayas kar rahe hain wahi humne me jitne bhi garib parivar ke bacche hain paas ke jogi jo paisa laga unko bhi hum shiksha dene ka prayas kar rahe hain aur lagatar hum unko shiksha de rahe hain bilkul nishulk koi charge nahi liya jata kisi bhi tarah ka koi varnan nahi hai unke upar hum unko bilkul nishulk bulate hain khane peene ka bhi hum unke liye intajam kar aate hain har dusre teesre din hum unko khana bhi dete hain baki jitne bhi humse ho pata hai unke liye karte hain aur karte rahenge aage bhi aur isi tarike se humne unke liye 45 computer ki lab kitab nagaria jisme hum unko technology se bhi jodne ka prayas karte hain bacche jis background chahte ho na baccho ki kuch me sthiti batana chahunga kuch aise bhi hai jo panni sakte hain kuch bacche aise bhi hai jo bhik mangate hain unko hum lag aur jabran hum unko shiksha dene ka prayas kar rahe hain aur hum isi tarike se is par mehnat karte rahenge dhanyavad

यूपी के मेरठ जिले से हूं जिसमें छोटा सा गांव कसेरू अक्षर आता है उसी में ही हम पास के आरोपि

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  90
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!