हमारी देश की सरकार और नेताओं में क्या-क्या चीज़ की कमी आप लोगों को दिखती है?...


user
1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देसी हमारे देश की सरकार और नेताओं में हमें कई चीजें देखने को मिलती हैं जैसे सरकार पहले अपना फायदा करती है बाद में जनता का फायदा तो मैं बता दूंगा आपको सरकार सरकार ऐसा क्यों करती है देखिए जनता को सरकार पैसे का लालच जब देती है तो जनता उसे लेती है जनता यह नहीं सोचती कि यह सरकार हमारे लिए काम करेगी या नहीं करेगी और उसका विरोध भी नहीं करती है यानी कोई सरकार पैसा बांट रहे तो उसे उस जनता को लेना ही नहीं चाहिए ताकि वह पैसा सरकार के पास बचा रहे जिससे सरकार सोचने पर मजबूर हो जाए कि यह जनता जनता का हमें कुछ भला करना चाहिए क्योंकि यह चलता जनता ने हमें इतना सहयोग दिया है हमारा पैसा चुनाव में जो खर्च होना चाहिए वह खर्च भी नहीं हुआ तो इस तरह से हम सरकार से के द्वारा सही कार्य को कर सकते हैं और अपने अंदर भी बदलाव ला सकते हैं

desi hamare desh ki sarkar aur netaon me hamein kai cheezen dekhne ko milti hain jaise sarkar pehle apna fayda karti hai baad me janta ka fayda toh main bata dunga aapko sarkar sarkar aisa kyon karti hai dekhiye janta ko sarkar paise ka lalach jab deti hai toh janta use leti hai janta yah nahi sochti ki yah sarkar hamare liye kaam karegi ya nahi karegi aur uska virodh bhi nahi karti hai yani koi sarkar paisa baant rahe toh use us janta ko lena hi nahi chahiye taki vaah paisa sarkar ke paas bacha rahe jisse sarkar sochne par majboor ho jaaye ki yah janta janta ka hamein kuch bhala karna chahiye kyonki yah chalta janta ne hamein itna sahyog diya hai hamara paisa chunav me jo kharch hona chahiye vaah kharch bhi nahi hua toh is tarah se hum sarkar se ke dwara sahi karya ko kar sakte hain aur apne andar bhi badlav la sakte hain

देसी हमारे देश की सरकार और नेताओं में हमें कई चीजें देखने को मिलती हैं जैसे सरकार पहले अपन

Romanized Version
Likes  176  Dislikes    views  1481
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सेवा भाव की कमी दिखती है पारदर्शिता की कमी दिखती है और कुछ नया कर पाने की इच्छा शक्ति की कमी दिखती है परिवर्तन की सोच बिल्कुल भी नहीं दिखती और पता नहीं नेता नेता ही बने रहना चाहते हैं नेता से बेहतर बनने की प्रवृत्ति बहुत कम दिखने लगी है

seva bhav ki kami dikhti hai pardarshita ki kami dikhti hai aur kuch naya kar paane ki iccha shakti ki kami dikhti hai parivartan ki soch bilkul bhi nahi dikhti aur pata nahi neta neta hi bane rehna chahte hain neta se behtar banne ki pravritti bahut kam dikhne lagi hai

सेवा भाव की कमी दिखती है पारदर्शिता की कमी दिखती है और कुछ नया कर पाने की इच्छा शक्ति की क

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  307
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

4:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश की सरकार नेताओं में क्या-क्या चीज की कमी को देखते हुए सरकार में बैठे जिम्मेदार पदों पर है और हम कमी निकाल सकते हैं लेकिन जब अगर हम उनकी जगह हो तो हम कैसे दिया करेंगे कैसे उस कार्य को करेंगे यह सोचना भी एक अपने आप में बड़ी बात होती है क्योंकि दूसरों की धूल निकालना आसान होता है लेकिन करके दिखाना बहुत कठिन होता है हम नरेंद्र मोदी जी की बहुत सारी बोले निकाले लेकिन जब नरेंद्र मोदी जी की जगह खुद के कितने कीमती होती है और कितनी कितनी जिम्मेदारियां करते हैं वह कैसे सो सकते होंगे उन्हीं को फिर भी नेताओं में आजकल देश की सरकार और नेताओं में क्या-क्या चीज की कमी दिखती है तो एजुकेशन की कविताओं में बहुत कम पढ़े लिखे लोग भी संसद सदस्य बन गए हैं और मैं सिर्फ नेता बनने के गुण संधि नहीं जानते लेकिन वह एजुकेशन के मामले में थोड़े से पीछे लगते हैं इसके अलावा जो हमारे नेता जो मंदिर मस्जिद और लोगों को जातियों में बांटने और यह धर्म में बांटना यह सब जो करते हैं वह हमें पसंद नहीं आता इसके अलावा सबसे मेन बहन कीजिए कि वह अपने फंड दोस्त अपनी उनकी सैलरी मेघराज अंगरक्षक को यह सब इतना खर्च करते हैं कि बहुत ही बड़ा ट्रेक्टर कौन सा है सरकार का उसमें जाता है विदेश यात्राएं हद से ज्यादा करते हैं इसलिए वह कैसे खो गए हम हमारी सरकार लोकेट करें विकास के काम में तो हमें विदेशी लोन लेनी पड़े घर पर जैसे हम बजट बनाते हैं तो सो निर्भर होने की बात करते हैं महात्मा गांधी जी महात्मा गांधी का नाम जरूर लेते हैं आत्मा गांधी जी की तस्वीर सेट करना और निर्भर करना और अपने आपको इतना शक्तिशाली बनाना देश को की शक्ति महाशक्ति आप तो हमारे नेता दिखाते हैं लेकिन बनने की जरूरत से प्यार करना चाहिए वह सब रिश्ते हमें सही नहीं देखते हैं सिर्फ उद्योग बाहर से ले आना बाहर से पैसा ले आना वह पर्याप्त नहीं है बाहर से पैसा जो हमारे देश में बाहर से अनुपात में बहुत पैसा है लेकिन उन पैसों का सदुपयोग जो होना चाहिए वह नहीं हो पा रहा और बाहर से पैसा कल आने के पीछे कहां तक भाग नाम अंकित है यह सरकारी बता सकती इस तरह से जो आमदनी अठन्नी खर्चा रुपइया जज्बात जो सरकार करती है तो वह मैं ठीक नहीं लगती क्योंकि देश को कर्जे की घटना में नहीं डालना चाहिए फिजिकल डेट शीट बिल्कुल घटा देनी चाहिए चाहे वह टेक्स्ट नहीं बनना चाहिए लेकिन खर्चे विश्व सरकार कर रही को टैक्स बढ़ाती जा रही है और अपने खर्चे भी बढ़ाती जा रही है दोनों ही जगह तक होती है खर्चा कम करना चाहिए और आमदनी जो है वह बहुत ही पर्याप्त है टैक्स इनकम होता है एक लाख करोड़ से ज्यादा जीएसटी कम है और इसके अलावा भी डायरेक्ट ओर इनडायरेक्ट टैक्सेस के माध्यम से सरकार काफी पैसा इकट्ठा करती है लेकिन उसका चेक हो कि पैसा कमाने का सरकार का जादू है यह देश को आगे शंकर उनको बताना पड़ सकता है क्योंकि कल ट्रैक्टर झुंझुनू सब खर्चों का हिसाब देखते हैं और अपना जो टिप्पणी लिखें

hamare desh ki sarkar netaon mein kya kya cheez ki kami ko dekhte hue sarkar mein BA ithe zimmedar padon par hai aur hum kami nikaal sakte hai lekin jab agar hum unki jagah ho toh hum kaise diya karenge kaise us karya ko karenge yah sochna bhi ek apne aap mein BA di BA at hoti hai kyonki dusro ki dhul nikalna aasaan hota hai lekin karke dikhana BA hut kathin hota hai hum narendra modi ji ki BA hut saree bole nikale lekin jab narendra modi ji ki jagah khud ke kitne kimti hoti hai aur kitni kitni zimmedariyan karte hai vaah kaise so sakte honge unhi ko phir bhi netaon mein aajkal desh ki sarkar aur netaon mein kya kya cheez ki kami dikhti hai toh education ki kavitao mein BA hut kam padhe likhe log bhi sansad sadasya BA n gaye hai aur main sirf neta BA nne ke gun sandhi nahi jante lekin vaah education ke mamle mein thode se peeche lagte hai iske alava jo hamare neta jo mandir masjid aur logo ko jaatiyo mein BA ntane aur yah dharm mein BA ntana yah sab jo karte hai vaah hamein pasand nahi aata iske alava sabse main behen kijiye ki vaah apne fund dost apni unki salary meghraj angarakshak ko yah sab itna kharch karte hai ki BA hut hi BA da tractor kaun sa hai sarkar ka usme jata hai videsh yatraen had se zyada karte hai isliye vaah kaise kho gaye hum hamari sarkar locate kare vikas ke kaam mein toh hamein videshi loan leni pade ghar par jaise hum budget BA nate hai toh so nirbhar hone ki BA at karte hai mahatma gandhi ji mahatma gandhi ka naam zaroor lete hai aatma gandhi ji ki tasveer set karna aur nirbhar karna aur apne aapko itna shaktishali BA nana desh ko ki shakti mahashakti aap toh hamare neta dikhate hai lekin BA nne ki zarurat se pyar karna chahiye vaah sab rishte hamein sahi nahi dekhte hai sirf udyog BA har se le aana BA har se paisa le aana vaah paryapt nahi hai BA har se paisa jo hamare desh mein BA har se anupat mein BA hut paisa hai lekin un paison ka sadupyog jo hona chahiye vaah nahi ho paa raha aur BA har se paisa kal aane ke peeche kahaan tak bhag naam ankit hai yah sarkari BA ta sakti is tarah se jo aamdani athanni kharcha rupaiya jazbaat jo sarkar karti hai toh vaah main theek nahi lagti kyonki desh ko karje ki ghatna mein nahi dalna chahiye physical date sheet bilkul ghata deni chahiye chahen vaah text nahi BA nna chahiye lekin kharche vishwa sarkar kar rahi ko tax BA dhati ja rahi hai aur apne kharche bhi BA dhati ja rahi hai dono hi jagah tak hoti hai kharcha kam karna chahiye aur aamdani jo hai vaah BA hut hi paryapt hai tax income hota hai ek lakh crore se zyada gst kam hai aur iske alava bhi direct aur indirect taxes ke madhyam se sarkar kaafi paisa ikattha karti hai lekin uska check ho ki paisa kamane ka sarkar ka jadu hai yah desh ko aage shankar unko BA taana pad sakta hai kyonki kal tractor jhunjhunu sab kharchon ka hisab dekhte hai aur apna jo tippani likhen

हमारे देश की सरकार नेताओं में क्या-क्या चीज की कमी को देखते हुए सरकार में बैठे जिम्मेदार प

Romanized Version
Likes  53  Dislikes    views  1060
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!