18 57 की क्रांति का प्रमुख कारण का वर्णन कीजिए इसका क्या प्रभाव पड़ा?...


user

Race academy maneesh

Competitive Exam Expert (Youtube- Race Academy Maneesh)https://www.youtube.com/channel/UCEwGqvTOdzZnbc70zgFiJYQ

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

18 57 की क्रांति का प्रमुख कारण का वर्णन कीजिए इसका क्या प्रभाव पड़ा पहले के कारण क्या था तो आपको पता होगा उठा शैतान की रैली हुई थी मेरठ से और मंगल पांडे जोधा सैनिक का तो उसमें एक खबर को भूल गई थी अफवाह उड़ गई थी कि जो कार्टून है उसमें जो गाय की चर्बी और सूअर की चर्बी से बने थे तो उसने सैनिकों में विद्रोह कर दिया कि हम जो हम हिंदू हैं तो हिंदू हैं हिंदू गाय को उसे नहीं लगाता है मुस्लिम सूअर को लगाता है उसे मंगल पांडे ने विद्रोह कर दिया था तो यही कारण था और आपको बता दें इसका प्रभाव पड़ा इसका प्रभाव पड़ा कि अंग्रेज हो गए इसके बाद पूरे पूरे इंडिया में फैली धीरे-धीरे तो अंग्रेजो को लगा कि आप हमारा पता यहां से गोल होने वाला है हम को भगाने वाले हैं सबकी अपनी टीम के पास आ गई है तो के बाद ही उन्होंने उठा शैतान के बाद तुरंत 58 के बाद शैतान के बाद उसने तुरंत अपना एक बार जरा नियुक्त किया उसके बाद से फिर से भारत पर और प्रेशर पर मौजूद थी उसने अपनी यह प्रभाव पड़ा

18 57 ki kranti ka pramukh karan ka varnan kijiye iska kya prabhav pada pehle ke karan kya tha toh aapko pata hoga utha shaitaan ki rally hui thi meerut se aur mangal pandey jodha sainik ka toh usme ek khabar ko bhool gayi thi afavah ud gayi thi ki jo cartoon hai usme jo gaay ki charbi aur suar ki charbi se bane the toh usne sainikon me vidroh kar diya ki hum jo hum hindu hain toh hindu hain hindu gaay ko use nahi lagaata hai muslim suar ko lagaata hai use mangal pandey ne vidroh kar diya tha toh yahi karan tha aur aapko bata de iska prabhav pada iska prabhav pada ki angrej ho gaye iske baad poore poore india me faili dhire dhire toh angrejo ko laga ki aap hamara pata yahan se gol hone vala hai hum ko bhagane waale hain sabki apni team ke paas aa gayi hai toh ke baad hi unhone utha shaitaan ke baad turant 58 ke baad shaitaan ke baad usne turant apna ek baar zara niyukt kiya uske baad se phir se bharat par aur pressure par maujud thi usne apni yah prabhav pada

18 57 की क्रांति का प्रमुख कारण का वर्णन कीजिए इसका क्या प्रभाव पड़ा पहले के कारण क्या था

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

18 सो 57 की क्रांति या प्रथम विश्वयुद्ध प्रथम महासंग्राम शुरू होने के बहुत सारे कारण से एक तो जो है जो मैं सिपाही उनको अपने दांत से जो है वह कारतूस खोलकर लगाना पड़ता था उसमें एक पत्र लिखिए जिसमें गाय और सुअर की चर्बी लगी हुई है अब गाय को हिंदू जो है वह जो है पवित्र मानते हैं और सूअर की चर्बी से जो मुसलमान उनको उसको अच्छा नहीं मानते हैं तो यह कारण था दूसरा कारण था कि जो जान डलहौजी जाता था तो फिर जो है उसको गोद लेने की प्रथा जो है वह हटा दीजिए एक पोखरण सा और तीसरा जो है विडो मैरिज एक्ट आसिफ चाचा जो है मिशनरी क्रिश्चियन मिशनरीज इन दोनों ने जो है बहुत ज्यादा सारे जो जो सैनिकों का असंतोष दूसरा लाइफ डिवाइन लाइफ स्किल पॉलिसी सो लेट्स की और जो है तीसरा वीडियो रीमैरिज और चौथा जो क्रिश्चियन चर्च है उनको तो है एक उनके लिए एक्ट बनाया गया और वह बड़े खुलेआम जो है वह धर्म परिवर्तन करने लगता मन का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम शुरू हुआ था

18 so 57 ki kranti ya pratham vishwayudh pratham mahasangram shuru hone ke bahut saare karan se ek toh jo hai jo main sipahi unko apne dant se jo hai vaah kartoos kholakar lagana padta tha usme ek patra likhiye jisme gaay aur suar ki charbi lagi hui hai ab gaay ko hindu jo hai vaah jo hai pavitra maante hain aur suar ki charbi se jo muslim unko usko accha nahi maante hain toh yah karan tha doosra karan tha ki jo jaan dalhousie jata tha toh phir jo hai usko god lene ki pratha jo hai vaah hata dijiye ek pokharan sa aur teesra jo hai widow marriage act asif chacha jo hai missionary Christian missionaries in dono ne jo hai bahut zyada saare jo jo sainikon ka asantosh doosra life divine life skill policy so lets ki aur jo hai teesra video rimairij aur chautha jo Christian church hai unko toh hai ek unke liye act banaya gaya aur vaah bade khuleaam jo hai vaah dharm parivartan karne lagta man ka pratham swatantrata sangram shuru hua tha

18 सो 57 की क्रांति या प्रथम विश्वयुद्ध प्रथम महासंग्राम शुरू होने के बहुत सारे कारण से

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  164
WhatsApp_icon
play
user
1:30

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

1015 का जो विद्रोह था जो क्रांति के प्रमुख कारण यह था कि अंग्रेजों के जो हम बीच-बीच में जो हिंदू और भारतीय सैनिक थे उनमें अफवाह फैल गई थी कि जो बंदूक के जो कस्तूर है जो मुंह से छीन ले जाते थे उस टाइम वह सूअर और गाय की चर्बी से बन रहे हो दोनों ही मुसलमान और हिंदू का धर्म भ्रष्ट तंत्र हिंदू मुस्लिम दोनों ही उन चीजों को नहीं छूना चाहते हैं और मुंह से लगाना चाहते हैं उनके बीच में पहले अंग्रेज अंग्रेज करना चाहते हैं उनको भी बनाना चाहते हैं इसलिए वह सब कर रहे हैं और इसके लिए सैनिकों ने मिलकर विद्रोह शुरू कर दिया था और विद्रोह शुरू कर दिया और अब गुस्सा हुए हैं और बहुत ज्यादा विद्रोह पड़ गया इन्होंने बहादुर शाह जफर जोते दिल्ली के मुगल बादशाह बहादुर शाह जफर से जो उनको उन्होंने अपने शासक के नेता बनाया था जो इस टाइम दिल्ली में थे और काफी बुजुर्ग उन्होंने उनका नेतृत्व किया था अरे अभी तो काफी लंबा चला था और इसका मुख्य कारण यही था और भी कारण निकले थे कारण यह भी निकले थे में जो हड्डियों का चूरा मिलाया जा रहा है और इस तरह के काफी अफवाह फैली थी लेकिन मुख्य कारण यही था कि जयपुर में लगाए जारी बंदूकों में जो सैनिक यूज करते हैं उस मुसलमान और हिंदू दोनों पर

1015 ka jo vidroh tha jo kranti ke pramukh karan yah tha ki angrejo ke jo hum beech beech mein jo hindu aur bharatiya sainik the unmen afavah fail gayi thi ki jo bandook ke jo kastur hai jo mooh se cheen le jaate the us time vaah suar aur gaay ki charbi se ban rahe ho dono hi musalman aur hindu ka dharm bhrasht tantra hindu muslim dono hi un chijon ko nahi chhuna chahte hain aur mooh se lagana chahte hain unke beech mein pehle angrej angrej karna chahte hain unko bhi banana chahte hain isliye vaah sab kar rahe hain aur iske liye sainikon ne milkar vidroh shuru kar diya tha aur vidroh shuru kar diya aur ab gussa hue hain aur bahut zyada vidroh pad gaya inhone bahadur shah jafar jote delhi ke mughal badshah bahadur shah jafar se jo unko unhone apne shasak ke neta banaya tha jo is time delhi mein the aur kaafi bujurg unhone unka netritva kiya tha are abhi toh kaafi lamba chala tha aur iska mukhya karan yahi tha aur bhi karan nikle the karan yah bhi nikle the mein jo haddiyon ka chura milaya ja raha hai aur is tarah ke kaafi afavah faili thi lekin mukhya karan yahi tha ki jaipur mein lagaye jaari bandukon mein jo sainik use karte hain us musalman aur hindu dono par

1015 का जो विद्रोह था जो क्रांति के प्रमुख कारण यह था कि अंग्रेजों के जो हम बीच-बीच में जो

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  160
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!