1857 की क्रांति का प्रमुख कारण का वर्णन कीजिए इसका क्या प्रभाव पड़ा?...


play
user
0:53

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

18 सो 57 का भारतीय विद्रोह जिसने प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम गुर्जर विद्रोह और भारतीय विद्रोह के भी नाम से जाना जाता है और इतिहास की पुस्तकें की क्रांति की शुरुआत 10 मई 18 सो 57 की संध्या को मेरठ में हुई थी इसको समस्त भारतवासी 10 मई को इसके प्रत्येक वर्ष क्रांति दिवस के रूप में मनाते हैं क्रांति के शुरुआत में जो है मेरठ में भी विद्रोही सैनिक और पुलिस फोर्स में अंग्रेजों के विरुद्ध साझा मोर्चा गठित किया और क्रांतिकारी घटनाओं को अंजाम दिया इससे इन क्षेत्रों में तो कुछ तो स्थानीय राजाओं को जो है लौटा दिए गए जबकि कई कलयुग का बैटिस्ता द्वारा जप्त कर लिया गया था

18 so 57 ka bharatiya vidroh jisne pratham bharatiya swatantrata sangram gurjar vidroh aur bharatiya vidroh ke bhi naam se jana jata hai aur itihas ki pustakein ki kranti ki shuruat 10 may 18 so 57 ki sandhya ko meerut mein hui thi isko samast bharatvasi 10 may ko iske pratyek varsh kranti divas ke roop mein manate hain kranti ke shuruat mein jo hai meerut mein bhi vidrohi sainik aur police force mein angrejo ke viruddh sajha morcha gathit kiya aur krantikari ghatnaon ko anjaam diya isse in kshetro mein toh kuch toh sthaniye rajaon ko jo hai lauta diye gaye jabki kai kalyug ka baitista dwara japt kar liya gaya tha

18 सो 57 का भारतीय विद्रोह जिसने प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम गुर्जर विद्रोह और भारतीय

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  12
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

rashmi sharma

House wife

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अट्ठारह सौ सत्तावन ईसवी के विद्रोह को प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की संज्ञा भी दी जाती है 29 मार्च 1857 को चर्बी वाले कारतूस के मुद्दे पर 34 वी नेटिव इन्फेंट्री बैरकपुर छावनी में मंगल पांडे ने में विद्रोह आरंभ किया 10 मई 18 सो 57 के दिन मेरठ की पैदल टोकरी के दिल्ली पहुंचते ही इस क्रांति की शुरुआत हुई इस क्रांति के समय ब्रिटिश प्रधानमंत्री 5 टन था विद्रोह के समकालीन पत्रकार w.h. रसेल थे इसका प्रमुख कारण यह था चर्बी वाले कारतूस

attharah sau sattawan isvi ke vidroh ko pratham swatantrata sangram ki sangya bhi di jaati hai 29 march 1857 ko charbi waale kartoos ke mudde par 34 v native infentri bairakapur chavani me mangal pandey ne me vidroh aarambh kiya 10 may 18 so 57 ke din meerut ki paidal tokri ke delhi pahunchate hi is kranti ki shuruat hui is kranti ke samay british pradhanmantri 5 ton tha vidroh ke samkalin patrakar w h Russell the iska pramukh karan yah tha charbi waale kartoos

अट्ठारह सौ सत्तावन ईसवी के विद्रोह को प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की संज्ञा भी दी जाती है 29

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  344
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
18 so 57 ke swatantrata sangram ke karan ka varnan karen ; 18 so 57 ke swatantrata sangram ke karan ka varnan kijiye ; 18 so 57 ki kranti ke kinhi char prabhav ko likhiye ; 18 so 57 ki kranti ke kinhi char prabhav ko likhe ; 18 57 ke swatantrata sangram ke karan ka varnan kijiye ; 18 57 ke swatantrata sangram ke karan ka varnan karen ; 1857 ke swatantrata sangram ke karan ka varnan karen ; 18 so 57 ke swatantrata sangram ke karan ka varnan ; 1857 ki kranti ke kinhi char prabhav ko likhiye ; 18 so 57 ki kranti kya hai ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!