इंसान मरने के बाद कहाँ जाता है और क्यों जाता है क्या कारण है?...


user

Vedachary Pathak Singrauli

सनातन सुरक्षा परिषद् संस्थापक

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंसान मरने के बाद कहां जाता है और क्यों जाता है क्या करें इंसान मरने के बाद कहीं नहीं जाता दोस्त इंसान का अस्तित्व समाप्त हो जाता है फिर वो इंसान कल आने योग्य नहीं होता है इंसान रही नहीं जाता है तो इंसान जाएगा कहां इंसान मरने के बाद इंसान का जो एक ग्रुप था दे वह मिट्टी में मिल जाता है अर्थात छित जल पावक गगन समीरा पंच तत्वों से मिलकर बनी है उन्हीं पंचतत्व में विलीन हो जाती है

insaan marne ke baad kahaan jata hai aur kyon jata hai kya kare insaan marne ke baad kahin nahi jata dost insaan ka astitva samapt ho jata hai phir vo insaan kal aane yogya nahi hota hai insaan rahi nahi jata hai toh insaan jaega kahaan insaan marne ke baad insaan ka jo ek group tha de vaah mitti mein mil jata hai arthat chheet jal pawak gagan samira punch tatvon se milkar bani hai unhi panchatatwa mein vileen ho jaati hai

इंसान मरने के बाद कहां जाता है और क्यों जाता है क्या करें इंसान मरने के बाद कहीं नहीं जाता

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  615
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Kishore Kapoor

Business Coach, Leadership Coach, Life Coach BE(Hons), MBA , Certified Leadership Coach (ICF), Master SPIRIT LIFE Coach (CCA), Certified Business Innovation Facilitator

2:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन और मृत्यु एक जीवन का अंतिम पड़ाव के बतिया जवाब दे दा होते हैं कभी गतिविधियां करते हैं और मृत्यु की तरफ चले जाते हैं तो उसके बाद आप फिर से कहीं और कुछ समय बाद जन्म देते हैं इस तरह अनवरत किधर चलती रहती है जब तक कि आप अपने डेस्टिनेशन पर सनलाइट एंड मीट कहते हैं या समाहित हो जाना कहते हैं बड़ी शक्ति में परिक्रमा नहीं चलता रहता है जिस तरह हम अपने वस्त्र बदलते हैं उसी तरह आत्मा अपने शरीर को बदलती रहती है श्रीमती को इतना इंपोर्टेंट देने की आवश्यकता नहीं आवश्यकता यह है कि आप जब तक जीवित हैं तब तक तू शायर परपस किस बड़ी बात किस मिशन के लिए काम कर रहे हो कैसे आप अपनी अविनाश को बढ़ा रहे हैं अपने ज्ञान को बढ़ा रहे हैं अपनी शक्ति को बढ़ा रहे हैं जैसे कि जब यह जीवन खत्म होगा तो आप एक हायर स्टेट के साथ नेक्स्ट इंकारनेशन में पुनर्जन्म में आए जहां तक मरने के बाद इंसान कहां जाता है शाम का शरीर पांच तत्वों से बनाएं यह तो मिट्टी में मिल जाते हैं और आत्मा दूसरा शरीर धारण करके के राजा थे इसलिए बच्चों को इंपॉर्टेंट देने की आवश्यकता नहीं है और यह नहीं कि हम जीवन में क्या धन्यवाद

jeevan aur mrityu ek jeevan ka antim padav ke batiya jawab de the hote hain kabhi gatividhiyan karte hain aur mrityu ki taraf chale jaate hain toh uske baad aap phir se kahin aur kuch samay baad janam dete hain is tarah anvarat kidhar chalti rehti hai jab tak ki aap apne destination par sunlight and meat kehte hain ya samahit ho jana kehte hain badi shakti mein parikrama nahi chalta rehta hai jis tarah hum apne vastra badalte hain usi tarah aatma apne sharir ko badalti rehti hai shrimati ko itna important dene ki avashyakta nahi avashyakta yah hai ki aap jab tak jeevit hain tab tak tu shayar parpas kis badi baat kis mission ke liye kaam kar rahe ho kaise aap apni avinash ko badha rahe hain apne gyaan ko badha rahe hain apni shakti ko badha rahe hain jaise ki jab yah jeevan khatam hoga toh aap ek hire state ke saath next inkaraneshan mein punarjanm mein aaye jaha tak marne ke baad insaan kahaan jata hai shaam ka sharir paanch tatvon se banaye yah toh mitti mein mil jaate hain aur aatma doosra sharir dharan karke ke raja the isliye baccho ko important dene ki avashyakta nahi hai aur yah nahi ki hum jeevan mein kya dhanyavad

जीवन और मृत्यु एक जीवन का अंतिम पड़ाव के बतिया जवाब दे दा होते हैं कभी गतिविधियां करते हैं

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  189
WhatsApp_icon
user

Chandrakant Shrivastav

Educationist N Counsellor. PD Trainer. Motivator

2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मरने के बाद कुछ 10 12 दिनों तक इंसान की आत्मा इस अवकाश में भ्रमण करती है आत्मा तो सर्व अज्ञानी है सब देखता है उस समय उसके बाद उस आत्मा के साथ जो कर्मों जुड़े हैं उसके आधार पर उसको वैसा शरीर व स्थान प्राप्त होता है छात्र वर्णन है और यदि कोई महा पापी है कोई मरने की कोई महा पापी है इसे बहुत ज्यादा जून किए हैं उसका पुनर्जन्म अरे कुछ नहीं उसको नर्क में पारुल शरीर मिलता है जहां आत्महत्या कर सकते हैं ना कुछ कर सकते हैं 10000 साल कम से कम उस नर्क में उसको बिताना पड़ता है कोई माने ना माने मरने के बाद तो मानना ही पड़ेगा अभी से 20 मर्डर की उसको भी फांसी है तो फिर हिसाब है उसकी पोस्टिंग हो जाती है नर्क पुल में नर्क में और वहां उसको वो तमाम प्रायश्चित तमाम क्या बोलते हैं उसको तकलीफ सहन करनी पड़ती उनकी खासियत है वहां आत्महत्या कर ही नहीं सकते करने चकत्ते नष्ट होना एक वरना मरक्यूरी कैसे होता है 10000 साल

marne ke baad kuch 10 12 dino tak insaan ki aatma is avkash me bhraman karti hai aatma toh surv agyani hai sab dekhta hai us samay uske baad us aatma ke saath jo karmon jude hain uske aadhar par usko waisa sharir va sthan prapt hota hai chatra varnan hai aur yadi koi maha papi hai koi marne ki koi maha papi hai ise bahut zyada june kiye hain uska punarjanm are kuch nahi usko nark me parula sharir milta hai jaha atmahatya kar sakte hain na kuch kar sakte hain 10000 saal kam se kam us nark me usko bitana padta hai koi maane na maane marne ke baad toh manana hi padega abhi se 20 murder ki usko bhi fansi hai toh phir hisab hai uski posting ho jaati hai nark pool me nark me aur wahan usko vo tamaam prayashchit tamaam kya bolte hain usko takleef sahan karni padti unki khasiyat hai wahan atmahatya kar hi nahi sakte karne chakatte nasht hona ek varna marakyuri kaise hota hai 10000 saal

मरने के बाद कुछ 10 12 दिनों तक इंसान की आत्मा इस अवकाश में भ्रमण करती है आत्मा तो सर्व अज्

Romanized Version
Likes  78  Dislikes    views  1214
WhatsApp_icon
user
1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इंसान मरने के बाद सबको पता है स्वर्ग या नरक में जाता जहां तक हम लोग बचपन से सुनते आ रहे हैं इसको भागवत गीता में भी पढ़ सकते हैं और देख सकें साथ साथ दिखाया गया है किन्नर कैसा है सर कैसा है अच्छे कर्म करने वाले अक्सर में जाते हैं नरक में जाने वाले बुरे कर्म करने वालों को नरक में जाते हैं और जो भक्ति करते हैं और शादीशुदा नहीं होते ब्राह्मण होते हैं अच्छे लोग होते हैं एक ऐसा धाम जहां से लोग वापस नहीं आता स्वर्ग में जाने के बाद भी वापस आना पड़ता है और नर्क में जाने के बाद भी लोगों को वापस आना पड़ता है वापस जन्म लेना पड़ता ने पापा का कर्म भुगतने के बाद वापस आना पड़ता है लेकिन अगर आप भक्ति करते हैं आपको दोबारा इस रूपा ब्लॉक में कलयुग में नहाना पड़े

insaan marne ke baad sabko pata hai swarg ya narak mein jata jaha tak hum log bachpan se sunte aa rahe hain isko bhagwat geeta mein bhi padh sakte hain aur dekh sake saath saath dikhaya gaya hai kinnar kaisa hai sir kaisa hai acche karm karne waale aksar mein jaate hain narak mein jaane waale bure karm karne walon ko narak mein jaate hain aur jo bhakti karte hain aur shaadishuda nahi hote brahman hote hain acche log hote hain ek aisa dhaam jaha se log wapas nahi aata swarg mein jaane ke baad bhi wapas aana padta hai aur nark mein jaane ke baad bhi logo ko wapas aana padta hai wapas janam lena padta ne papa ka karm bhugatane ke baad wapas aana padta hai lekin agar aap bhakti karte hain aapko dobara is rupa block mein kalyug mein nahaana pade

इंसान मरने के बाद सबको पता है स्वर्ग या नरक में जाता जहां तक हम लोग बचपन से सुनते आ रहे है

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  121
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!