सपना चौधरी जो कर रही है वो मनोरंजन है या अश्लीलता? क्या हमारे देश में लड़कियों को मनोरंजन का साधन बनाया जा रहा है? इस पर आपका क्या विचार है?...


play
user

Shreekant

Startups

1:11

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भी अश्लीलता कोई मनोरंजन है वह अश्लीलता कब बन जाए मतलब को एक हर हर व्यक्ति पर निर्भर करता है तो हर व्यक्ति का एक अलग अलग का मतलब किसी को भी लगेगा कि इससे ज्यादा हो गया तो हां भी अश्लील हो गया यह व्यक्ति का अलग अलग है जो मतलब कुछ लोग को देखना पसंद है सुनना पसंद है तो मतलब ठीक है उनको पसंद है किसी को तो ठीक है बट अगर लोगों को आपत्ति हो रही है इससे लोगों को इसी से आपत्ति है तो बिल्कुल भी नहीं तो मैं उनसे लोगों के सामने नहीं करना चाहिए बट वह लोग को भी यह समझना चाहिए कि हां शाहदरा से कुछ लोग हैं जिनको यह पसंद है तो उनको देखने की इजाजत है अलग से दे सकते हैं और जैसे इसमें थोड़ा सा अश्लील हो सकता है बच्चों के लिए सही जगह नहीं है तो इस स्कूल में या स्कूल के आस-पास अब नहीं करेंगे तो आप जगह भी हंसी ढूंढ लेंगे जहां पर लोग ऐसे ही आएंगे जिनको के लिए देखने में जो है उनके लिए मनोरंजन का तरीका मनोरंजन का साधन है मनोरंजन के साथ में बहुत है खेलकूद है मूवीस देखना है बुक्स पढ़ना है तो बिल्कुल भी इससे सहमत नहीं है कि लड़कियां ही मनोरंजन का साधन

bhi ashlilata koi manoranjan hai vaah ashlilata kab ban jaaye matlab ko ek har har vyakti par nirbhar karta hai toh har vyakti ka ek alag alag ka matlab kisi ko bhi lagega ki isse zyada ho gaya toh haan bhi ashleel ho gaya yah vyakti ka alag alag hai jo matlab kuch log ko dekhna pasand hai sunana pasand hai toh matlab theek hai unko pasand hai kisi ko toh theek hai but agar logo ko apatti ho rahi hai isse logo ko isi se apatti hai toh bilkul bhi nahi toh main unse logo ke saamne nahi karna chahiye but vaah log ko bhi yah samajhna chahiye ki haan shahdara se kuch log hain jinako yah pasand hai toh unko dekhne ki ijajat hai alag se de sakte hain aur jaise isme thoda sa ashleel ho sakta hai baccho ke liye sahi jagah nahi hai toh is school mein ya school ke aas paas ab nahi karenge toh aap jagah bhi hansi dhundh lenge jaha par log aise hi aayenge jinako ke liye dekhne mein jo hai unke liye manoranjan ka tarika manoranjan ka sadhan hai manoranjan ke saath mein bahut hai khelkud hai Movies dekhna hai books padhna hai toh bilkul bhi isse sahmat nahi hai ki ladkiyan hi manoranjan ka sadhan

भी अश्लीलता कोई मनोरंजन है वह अश्लीलता कब बन जाए मतलब को एक हर हर व्यक्ति पर निर्भर करता ह

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  200
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
अश्लीलता क्या है ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!