हैदराबाद एनकाउंटर पर क्यूँ उठ रहे हैं सवाल? ...


play
user

Liyakat Ali Gazi

Motivational Speaker, Life Coach & Soft Skills Trainer 📲 9956269300

2:18

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हैदराबाद इन काउंटर पर जो सवाल उठ रहे थे कि जनता का काम है लोगों का काम है लाजिमी शिवा थे के सवाल उठाना लेकिन अगर मानवता इंसानियत और सच्चाई की तहकीकात से उसको देखा जाए तो जो हैदराबाद में यह चार शैतानों दान वो राक्षसों का एनकाउंटर किया गया है यह मानवता इंसानियत की भावनाओं के प्रति सहानुभूति दिखाते हुए दया दिखाते हुए बहुत ही आवश्यक था और सही किया गया है बात सवालों की आती है तो जनता के मन में यह सवाल आते हैं चाहे कोई अच्छा काम हो या बुरा काम हो सवाल तो जनता का काम सवाल उठाना लोगों का काम है सवाल उठाना लेकिन जैसी करनी वैसी भरनी वाला जो कहावत है उसके तर्ज पर एनकाउंटर बहुत ही सही किया गया है क्योंकि इससे जो लिखकर टाइप के जो गलत आरोपी हैं यह जो गलत सोच की प्रवृति के आदमी हैं उनके मन में मौत का खौफ का डर पैदा होगा जब डर पैदा होगा जब किसी चीज का भी डर पैदा होता है इंसान के दिल और दिमाग में तभी इंसान उस काम को करने से बचता है खुद को रोकता है जाहिर सी बात है इससे एक ऐसा माहौल तैयार होगा समाज में कि पूरे देश में इसके महिलाएं अपने आप को सुरक्षित समझेंगे औरतें लड़कियां अपने आप को सुरक्षित समझेंगे और साथ ही साथ में वह जो है उनके अंदर हिम्मत आएगी कि हां हमें भी न्याय दिलाने वाला कोई है मेरे साथ जो अन्याय होता है वह अब नहीं होगा वह बाहर मार्केट में ऑफिस में समाज में घर परिवार में आने जाने में अपने आप को महफूज महसूस करेंगी हम 22:00 बजे के डर पैदा हुआ था वह खत्म होगा

hyderabad in counter par jo sawaal uth rahe the ki janta ka kaam hai logo ka kaam hai lazmi shiva the ke sawaal uthana lekin agar manavta insaniyat aur sacchai ki tahkikat se usko dekha jaaye toh jo hyderabad mein yah char shaitanon daan vo rakshason ka encounter kiya gaya hai yah manavta insaniyat ki bhavnao ke prati sahanubhuti dikhate hue daya dikhate hue bahut hi aavashyak tha aur sahi kiya gaya hai baat sawalon ki aati hai toh janta ke man mein yah sawaal aate hain chahen koi accha kaam ho ya bura kaam ho sawaal toh janta ka kaam sawaal uthana logo ka kaam hai sawaal uthana lekin jaisi karni vaisi bharani vala jo kahaavat hai uske tarj par encounter bahut hi sahi kiya gaya hai kyonki isse jo likhkar type ke jo galat aaropi hain yah jo galat soch ki pravirti ke aadmi hain unke man mein maut ka khauf ka dar paida hoga jab dar paida hoga jab kisi cheez ka bhi dar paida hota hai insaan ke dil aur dimag mein tabhi insaan us kaam ko karne se bachta hai khud ko rokta hai jaahir si baat hai isse ek aisa maahaul taiyar hoga samaj mein ki poore desh mein iske mahilaye apne aap ko surakshit samjhenge auraten ladkiyan apne aap ko surakshit samjhenge aur saath hi saath mein vaah jo hai unke andar himmat aayegi ki haan hamein bhi nyay dilaane vala koi hai mere saath jo anyay hota hai vaah ab nahi hoga vaah bahar market mein office mein samaj mein ghar parivar mein aane jaane mein apne aap ko mahfuz mehsus karengi hum 22 00 baje ke dar paida hua tha vaah khatam hoga

हैदराबाद इन काउंटर पर जो सवाल उठ रहे थे कि जनता का काम है लोगों का काम है लाजिमी शिवा थे क

Romanized Version
Likes  96  Dislikes    views  1991
WhatsApp_icon
14 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

K.L.Salvi Advocate (Ret.D,C,Mp)

Seva Nivrt.Deeputy,Collector

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हैदराबाद इंक्वायरी काउंटर जन भावना के अनुरूप हुआ है इसके सवाल उठना लाजमी है कि यह कानूनन थोड़ा ठीक नहीं है वैसे यह एनकाउंटर की परिभाषा में नहीं आता है मुलजिम जो थे पुलिस कस्टडी में थे और यह लोगों को जम नहीं रहा है कि वह पुलिस वालों का सामना करके उसे हथियार लेकर के भागना की कोशिश की या हत्या लेकर सामना किया यह थोड़ा जचता नहीं है और स्टोरी बनाओ की लगती है इसलिए इस पर सवाल उठ रहे हैं उनको वैसे भी कानूनी क्लास से भी फांसी के फंदे तक पहुंचाया जा सकता था लेकिन यह भावना के अनुरूप काउंटर एनकाउंटर हुआ है ठीक हुआ है आज इस पर सवाल तो उठेंगे ही

hyderabad enquiry counter jan bhavna ke anurup hua hai iske sawaal uthna lajmi hai ki yah kanunan thoda theek nahi hai waise yah encounter ki paribhasha mein nahi aata hai mulzim jo the police custody mein the aur yah logo ko jam nahi raha hai ki vaah police walon ka samana karke use hathiyar lekar ke bhaagna ki koshish ki ya hatya lekar samana kiya yah thoda jachata nahi hai aur story banao ki lagti hai isliye is par sawaal uth rahe hai unko waise bhi kanooni class se bhi fansi ke fande tak pahunchaya ja sakta tha lekin yah bhavna ke anurup counter encounter hua hai theek hua hai aaj is par sawaal toh uthenge hi

हैदराबाद इंक्वायरी काउंटर जन भावना के अनुरूप हुआ है इसके सवाल उठना लाजमी है कि यह कानूनन थ

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  412
WhatsApp_icon
user

Ruchi Garg

Counsellor and Psychologist(Gold MEDALIST)

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हैदराबाद एनकाउंटर पर सवाल क्यों पूछ रहे हैं कि बहुत सारे कारण हैं इसके पीछे सबसे बड़ा कारण जो और मुझे लगता है वह यह है कि उन्होंने भागने की कोशिश करी तो वह एनकाउंटर हुआ अगर वह भागने की कोशिश नहीं करते तो क्या जस्टिस मेरे पापा जस्टिस ऐसा हो कि सबके लिए हो सिर्फ एक के लिए नहीं हमें यह बिल्कुल खुशी है कि कहीं ना कहीं से जो जस्टिस मिला है भूख बहुत मुश्किल से देखने को मिलता है भारत में लेकिन बहुत जरूरत है कि लोगों की सोच को बदला जाए औरतों को सम्मान नहीं देते हैं और वह किस सोच से यह ऐसे कार्य करते हैं उस सोच को बदला जाना जो है वह ज्यादा जरूर ज्यादा बेसिक है और जिस चीज ऐसी हूं जो सबको मिले जो आज भी मुस्लिम ऐसे हैं जो इन पर कोई एक्शन नहीं लिया गया है या वह जेल में है और उनके ऊपर कोई कड़ा कदम नहीं उठाया गया है तुम उस सब तू उन पर जस्टिस होना चाहिए

hyderabad encounter par sawaal kyon puch rahe hain ki bahut saare karan hain iske peeche sabse bada karan jo aur mujhe lagta hai vaah yah hai ki unhone bhagne ki koshish kari toh vaah encounter hua agar vaah bhagne ki koshish nahi karte toh kya justice mere papa justice aisa ho ki sabke liye ho sirf ek ke liye nahi hamein yah bilkul khushi hai ki kahin na kahin se jo justice mila hai bhukh bahut mushkil se dekhne ko milta hai bharat mein lekin bahut zarurat hai ki logo ki soch ko badla jaaye auraton ko sammaan nahi dete hain aur vaah kis soch se yah aise karya karte hain us soch ko badla jana jo hai vaah zyada zaroor zyada basic hai aur jis cheez aisi hoon jo sabko mile jo aaj bhi muslim aise hain jo in par koi action nahi liya gaya hai ya vaah jail mein hai aur unke upar koi kada kadam nahi uthaya gaya hai tum us sab tu un par justice hona chahiye

हैदराबाद एनकाउंटर पर सवाल क्यों पूछ रहे हैं कि बहुत सारे कारण हैं इसके पीछे सबसे बड़ा कारण

Romanized Version
Likes  577  Dislikes    views  10487
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हैदराबाद में जो वेटरनरी डॉक्टर के साथ दुष्कर्म की घटना दिन चार आरोपियों की थी पुलिस ने एनकाउंटर में उन्हें मार गिराया वैसे ऐसे दरिंदों का हर्ष होना तो यही चाहिए लेकिन एनकाउंटर पर सवाल उठ रहे हैं देखिए हमारा संविधान है लचीला संविधान है संविधान में इसकी व्याख्या की गई है कि यदि न्याय के संबंध में जो माना जाता है कि अगर बेगुनाह अगर साक्ष्य के अभाव में बज गया है तो कोई बात नहीं लेकिन मैं किसी बेगुनाह को सजा नहीं मिलनी चाहिए अब इसमें सवाल यह है कि चारों आरोपियों से गलती हुई बेगुनाह तो नहीं था जो हमारे संविधान के अनुरूप दुनिया में जो बातें हैं उसका की चार में से कोई भी गुना मारा गया हो एक ही बात हो सकती है और जो आज की घटनाएं जो बढ़ रही है कि कहीं न कहीं न्याय में देरी के कारण बन गई है और आज देश की जनता का जो मौत हुई है कि ऐसे दरिंदों को थोड़ी सजा मिलना चाहिए इसीलिए जो आम जनता है जो पस्त है इस प्रकार की दुष्कर्म की घटनाओं को लेकर जो * * कब्ज वृद्धि हो रही है उसको लेकर जो आंखों से उनका मानना अपनी जगह सही है कि इसे दुष्कर्मी को गोली मार देना और जैसा पुलिस ने बताया कि भागने की कोशिश कर रहे थे और हथियार छीनने पुलिस से और पुलिस ने जवाबी कार्रवाई में इंसान को ढेर कर दिया अगर थोड़ी तक ना आए हो ऐसे मामलों में जो मानव हित से जुड़े हुए हैं जो हमारी नारी से जुड़े हुए हैं अगर वितरित न्याय के साथ में सार्वजनिक रूप से उनका अनुसरण करके सविधान इस्लामिक देशों के जो सजाएं हैं वह सजा ऊपर हमारे संविधान में भी अनुसरण करना चाहिए देश की सरकार को सोचना चाहिए कि देश का मूल क्या है और थोड़ी सजा जिससे कि अपराधियों में प्राणियों के प्रति खौफ पैदा हो लेकिन एनकाउंटर विजय सवाल उठ रहे हैं वह मात्र कारण यही है कि देरी से न्याय के कारण जो आज हालात बन रहे हैं इससे देश की जनता दुखी

hyderabad mein jo veterinary doctor ke saath dushkarm ki ghatna din char aaropiyon ki thi police ne encounter mein unhe maar giraya waise aise darindo ka harsh hona toh yahi chahiye lekin encounter par sawaal uth rahe hain dekhiye hamara samvidhan hai lachila samvidhan hai samvidhan mein iski vyakhya ki gayi hai ki yadi nyay ke sambandh mein jo mana jata hai ki agar begunah agar sakshya ke abhaav mein baj gaya hai toh koi baat nahi lekin main kisi begunah ko saza nahi milani chahiye ab isme sawaal yah hai ki charo aaropiyon se galti hui begunah toh nahi tha jo hamare samvidhan ke anurup duniya mein jo batein hain uska ki char mein se koi bhi guna mara gaya ho ek hi baat ho sakti hai aur jo aaj ki ghatnaye jo badh rahi hai ki kahin na kahin nyay mein deri ke karan ban gayi hai aur aaj desh ki janta ka jo maut hui hai ki aise darindo ko thodi saza milna chahiye isliye jo aam janta hai jo past hai is prakar ki dushkarm ki ghatnaon ko lekar jo kabz vriddhi ho rahi hai usko lekar jo aankho se unka manana apni jagah sahi hai ki ise dushkarmee ko goli maar dena aur jaisa police ne bataya ki bhagne ki koshish kar rahe the aur hathiyar chhinne police se aur police ne javaabi karyawahi mein insaan ko dher kar diya agar thodi tak na aaye ho aise mamlon mein jo manav hit se jude hue hain jo hamari nari se jude hue hain agar vitrit nyay ke saath mein sarvajanik roop se unka anusaran karke samvidhan islamic deshon ke jo sajayen hain vaah saza upar hamare samvidhan mein bhi anusaran karna chahiye desh ki sarkar ko sochna chahiye ki desh ka mul kya hai aur thodi saza jisse ki apradhiyon mein praniyo ke prati khauf paida ho lekin encounter vijay sawaal uth rahe hain vaah matra karan yahi hai ki deri se nyay ke karan jo aaj haalaat ban rahe hain isse desh ki janta dukhi

हैदराबाद में जो वेटरनरी डॉक्टर के साथ दुष्कर्म की घटना दिन चार आरोपियों की थी पुलिस ने एन

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  1085
WhatsApp_icon
user

Vikas Goswami

Private Tutor

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो गुड मॉर्निंग जो सवाल पूछा है वह हैदराबाद इन काउंटर पर क्यों हो रहे हैं सवाल तो सबसे पहले मैं आपको बात बताऊं कि जो सवाल उठ रहे हैं जो पुलिस ने तेलंगाना की तेलंगाना हैदराबाद में जो केस हुआ था उसका मतलब सुबह 5:45 पर उनको इंटर कर दिया गया वह बिना किसी प्रो के तो ऐसा लगता है कि यह समझ लो कि हमारे देश में जो जस्टिस से जुड़े सही है उसे होना ही नहीं चाहिए यदि अगर पुलिस न्याय कर पाती तो न्यायालय नहीं बनना चाहिए तो आपको एक चीज समझ ही पड़ेगी कि अगर मानचित्र लोहार जो रिक्वेस्ट है अगर उसको गोली मार दिया फांसी दे दी है पब्लिक के समक्ष कर दिया जाए तो इससे देश में ज्यादा नपुंसकता पैदा होगी गंभीरता इस बात की है कि पुलिस को इसके लिए अगर वही फास्टट्रैक का अगर किस होना चाहिए इसके लिए कमेटी बनानी चाहिए कमेटी बनाने के बाद में इस पर 5 दिन के अंदर सुनवाई होनी चाहिए तो यह नहीं हुई और उसके बाद आपको बता दो अगर गोली मारनी चाहिए तो शुरू हो चुकी है कि जैसे कि आसाराम बापू के राम रहीम के और तुम्हारा चिन्मयानंद के और आपका कुलदीप सेंगर के जो विधायक थे उनको उनको गोली मार देनी चाहिए आपको यह सोचना पड़ेगा कि पुलिस को इस तरह की घटना नहीं करनी चाहिए और आपको बता दूं 2007 से लेकर 2070 तक भी 790 फेक एनकाउंटर हो चुकी हैं और इस तरह के आपको यह घटना नहीं होनी चाहिए पुलिस का काम है प्रूफ लेकर आना अदालत में पेश करना प्लीज करने के बाद में को एविडेंस एविडेंस के बाद में उनको जूस क्लास नहीं गई है सुप्रीम कोर्ट के द्वारा वह समाज के करती है तो थैंक्स क्वेश्चन को पूछने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद

hello good morning jo sawaal poocha hai vaah hyderabad in counter par kyon ho rahe hai sawaal toh sabse pehle main aapko baat bataun ki jo sawaal uth rahe hai jo police ne telangana ki telangana hyderabad mein jo case hua tha uska matlab subah 5 45 par unko inter kar diya gaya vaah bina kisi pro ke toh aisa lagta hai ki yah samajh lo ki hamare desh mein jo justice se jude sahi hai use hona hi nahi chahiye yadi agar police nyay kar pati toh nyayalaya nahi banna chahiye toh aapko ek cheez samajh hi padegi ki agar manchitra lohar jo request hai agar usko goli maar diya fansi de di hai public ke samaksh kar diya jaaye toh isse desh mein zyada napunsakta paida hogi gambhirta is baat ki hai ki police ko iske liye agar wahi fastatraik ka agar kis hona chahiye iske liye committee banani chahiye committee banane ke baad mein is par 5 din ke andar sunvai honi chahiye toh yah nahi hui aur uske baad aapko bata do agar goli marni chahiye toh shuru ho chuki hai ki jaise ki asharam bapu ke ram rahim ke aur tumhara chinmayaanand ke aur aapka kuldeep sengar ke jo vidhayak the unko unko goli maar deni chahiye aapko yah sochna padega ki police ko is tarah ki ghatna nahi karni chahiye aur aapko bata doon 2007 se lekar 2070 tak bhi 790 fake encounter ho chuki hai aur is tarah ke aapko yah ghatna nahi honi chahiye police ka kaam hai proof lekar aana adalat mein pesh karna please karne ke baad mein ko evidence evidence ke baad mein unko juice class nahi gayi hai supreme court ke dwara vaah samaj ke karti hai toh thanks question ko poochne ke liye bahut bahut dhanyavad

हेलो गुड मॉर्निंग जो सवाल पूछा है वह हैदराबाद इन काउंटर पर क्यों हो रहे हैं सवाल तो सबसे प

Romanized Version
Likes  49  Dislikes    views  789
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हैदराबाद काउंटर पर जो सवाल पर भी लोग उठा रहे हैं जो देश उनके दिमाग में नहीं है जो जनसेवा के भावों से विपरीत हैं जो निजी स्वार्थों से भरे हुए हैं जो दिल की राजनीति शुरू हो चुकी है जो अपने स्तर से गिरे हुए हैं वे लोग ही राष्ट्रीयता की भावना से रहित होकर के हैदराबाद काउंटर पर या अन्य देश स्थित कारी जगदीश की युति को व्यक्त करने वाली देश की शक्ति को विकसित करने वाली जो गतिविधियां होती हैं उन पर सवाल क्वेश्चन खिड़की जाके सर्जिकल और मनु जैसी घटनाओं पर ऐसे लीडरों ने प्रश्न खड़े किए जिन लोगों की अपनी कोई राजनीतिक व्यक्तित्व जिम की जनता कुछ नहीं मानती है क्योंकि जनता नहीं अभी उनको कभी तवज्जो दी होती तो मैं आज शासन में होते और जनता ने ऐसे लोगों की आवाजों को लेट कर दिया आपने देखा कि 2019 के चुनाव में एमपी के चुनाव में जनता ने इन समस्त राजनीतिक दल निकालते का उखाड़ फेंका और एकमात्र बीच एकमात्र मोदी पर बिलीव करते हुए मोदी को जन शासन चलाने के लिए नियुक्त किया उन प्रधानमंत्री बनवाया बनाया यह उनकी लोकप्रियता और उनके अच्छे कार्यों का परिणाम है मैं बीजेपी को तीन पॉलिसी नहीं देता बीजेपी आगे बीजेपी आज जनपदों से बढ़ती जा रही है अब यह बीजेपी बोगन वो सोच लेना नहीं है जो आर्य सत्य जनसंघ के आधार पर बनी हुई थी आज की जो बीजेपी है वह तो गणपत लोगों से बढ़ती जा रही है क्रिस्टल मोदी जैसे निष्ठावान समर्पित देश अधिकारी देश विकास को चाहने वाले आज राजनेता बहुत कम है ऐसे राजनेता कभी भी ऐसे प्रश्नों को नहीं उठाते हैं जो देश के हित के विपरीत हूं जो राष्ट्रीयता का बॉस MP3 सॉन्ग

hyderabad counter par jo sawaal par bhi log utha rahe hain jo desh unke dimag mein nahi hai jo jansewa ke bhavon se viprit hain jo niji swarthon se bhare hue hain jo dil ki raajneeti shuru ho chuki hai jo apne sthar se gire hue hain ve log hi rastriyata ki bhavna se rahit hokar ke hyderabad counter par ya anya desh sthit kaari jagdish ki yuti ko vyakt karne wali desh ki shakti ko viksit karne wali jo gatividhiyan hoti hain un par sawaal question khidki jake surgical aur manu jaisi ghatnaon par aise lidaron ne prashna khade kiye jin logo ki apni koi raajnitik vyaktitva gym ki janta kuch nahi maanati hai kyonki janta nahi abhi unko kabhi tavajjo di hoti toh main aaj shasan mein hote aur janta ne aise logo ki avajon ko late kar diya aapne dekha ki 2019 ke chunav mein mp ke chunav mein janta ne in samast raajnitik dal nikalate ka ukhad fenkaa aur ekmatra beech ekmatra modi par believe karte hue modi ko jan shasan chalane ke liye niyukt kiya un pradhanmantri banwaya banaya yah unki lokpriyata aur unke acche karyo ka parinam hai bjp ko teen policy nahi deta bjp aage bjp aaj janpado se badhti ja rahi hai ab yah bjp bogan vo soch lena nahi hai jo arya satya jansandh ke aadhaar par bani hui thi aaj ki jo bjp hai vaah toh ganpat logo se badhti ja rahi hai crystal modi jaise nisthawan samarpit desh adhikari desh vikas ko chahne waale aaj raajneta bahut kam hai aise raajneta kabhi bhi aise prashnon ko nahi uthate hain jo desh ke hit ke viprit hoon jo rastriyata ka boss MP3 song

हैदराबाद काउंटर पर जो सवाल पर भी लोग उठा रहे हैं जो देश उनके दिमाग में नहीं है जो जनसेवा क

Romanized Version
Likes  90  Dislikes    views  1866
WhatsApp_icon
user

Sulekha yoga

Yoga Teacher & health beauty expert

2:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हैदराबाद एनकाउंटर पर

hyderabad encounter par

हैदराबाद एनकाउंटर पर

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  530
WhatsApp_icon
user

Mehnaz Amjad

Certified Life Coach

3:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हैदराबाद एनकाउंटर पर क्यों उठ रहे हैं सवाल है इसमें कई चीजें शामिल है पहले यह के बहुत से लोगों का यह मानना है कि जो प्रियंका रेड्डी मुझे डॉक्टर के उनके साथ जो हुआ वह उसने हैदराबाद के सोसाइटी को हिला कर रख दिया निर्भया केस भी ऐसा ही था लेकिन यह बढ़ती रेप केस इसके चलते लोगों की भावनाएं इतनी ज्यादा स्ट्रांग हो गई के कुछ कहीं ना कहीं एक प्रेशर बन रहा था आप कमेंट पर बड़े-बड़े जो पुलिस प्रोटेक्शन है लोग सवाल खड़े कर रहे थे कि कहीं भी औरतें सुरक्षित नहीं है और अगर औरत को इस लोगों में इसके दायरे इतनी जरूरत है कि वह एक रेप विक्टिम को फिर इस पूरी तरीके से जलाकर जो है मार भी सकते हैं इसी कारण पुलिस ने जो भी एक्शन लिया इस पर लोगों की याद राय यह है कि हम आदी नहीं है इतने जल्दी और सही फैसलों के लोग आदि हैं कि पीरियड डिले होंगी कोर्ट में जाएंगे सवाल उठेंगे नाइंसाफी पर ज्यादा आलू का झुकाव है इंसाफ होगा नहीं होगा कोई नहीं जानता और जुडिशरी का प्रोसेस इतना ज्यादा लंबा है कि बहुत से लोगों को इस बात पर हैरत हुई और शब्दों को लगाकर पुलिस ने जिसे आम इंसान अपने आप में खनन ले लेता है तो पुलिस ने अपने फोर्स मदद में उसकी कवच में आकर एनकाउंटर कर दिया ताकि कहीं ना कहीं उन्हें उस लड़की को इंसाफ दिला सके हो सकता उनकी भावनाएं विवो भी काफी भावुक हो गए तो ऐसा जो इमेज एट्रिया शनाया मतलब 10 दिन के अंदर वह चार पकड़े गए फिर उनका एनकाउंटर भी हो गया तो इस कारण क्योंकि ऐसा हम इतने फ्रॉम नहीं है आदत नहीं है हिंदुस्तान को इतनी भीषण थी कि इतनी प्रॉब्लम इसकी इंजस्टिस की तो शायद इस वजह से इस एनकाउंटर पर सवाल उठाए गए क्योंकि लोग यह समझ रहे हैं लगे कि यह एक तरह का पुलिस का अपना पर्सनल इसमें उनकी अपनी भावनाएं शामिल है कैसा नहीं होना चाहिए बल्कि उनको निष्पक्ष होकर आ जुडिशरी के हाथ उनको वह शाम देते हो चारों को फिर उन पर केस होता फिर उनका फैसला होता तो क्योंकि इसमें बहुत ज्यादा जल्दी हुई साथ में आप एकदम एक्शन में आ गई हर चीज और फैसला हो गया तो शायद क्योंकि हम इस चीज के आदी नहीं है यही कारण रहा है कि आलोक विश्वास कम करके डाउट ज्यादा कर रहे हैं और सब के मन में है क्या यह सही था क्या वह लोग सही थे जो पकड़े गए पुलिस ने क्यों किया

hyderabad encounter par kyon uth rahe hain sawaal hai isme kai cheezen shaamil hai pehle yah ke bahut se logo ka yah manana hai ki jo priyanka reddy mujhe doctor ke unke saath jo hua vaah usne hyderabad ke society ko hila kar rakh diya Nirbhaya case bhi aisa hi tha lekin yah badhti rape case iske chalte logo ki bhaavnaye itni zyada strong ho gayi ke kuch kahin na kahin ek pressure ban raha tha aap comment par bade bade jo police protection hai log sawaal khade kar rahe the ki kahin bhi auraten surakshit nahi hai aur agar aurat ko is logo mein iske daayre itni zarurat hai ki vaah ek rape victim ko phir is puri tarike se jalakar jo hai maar bhi sakte hain isi karan police ne jo bhi action liya is par logo ki yaad rai yah hai ki hum adi nahi hai itne jaldi aur sahi faisalon ke log aadi hain ki period delay hongi court mein jaenge sawaal uthenge nainsafi par zyada aalu ka jhukaav hai insaaf hoga nahi hoga koi nahi jaanta aur judiciary ka process itna zyada lamba hai ki bahut se logo ko is baat par hairat hui aur shabdon ko lagakar police ne jise aam insaan apne aap mein khanan le leta hai toh police ne apne force madad mein uski kavach mein aakar encounter kar diya taki kahin na kahin unhe us ladki ko insaaf dila sake ho sakta unki bhaavnaye vivo bhi kaafi bhavuk ho gaye toh aisa jo image etriya shanaya matlab 10 din ke andar vaah char pakde gaye phir unka encounter bhi ho gaya toh is karan kyonki aisa hum itne from nahi hai aadat nahi hai Hindustan ko itni bhishan thi ki itni problem iski injustice ki toh shayad is wajah se is encounter par sawaal uthye gaye kyonki log yah samajh rahe hain lage ki yah ek tarah ka police ka apna personal isme unki apni bhaavnaye shaamil hai kaisa nahi hona chahiye balki unko nishpaksh hokar aa judiciary ke hath unko vaah shaam dete ho charo ko phir un par case hota phir unka faisla hota toh kyonki isme bahut zyada jaldi hui saath mein aap ekdam action mein aa gayi har cheez aur faisla ho gaya toh shayad kyonki hum is cheez ke adi nahi hai yahi karan raha hai ki alok vishwas kam karke doubt zyada kar rahe hain aur sab ke man mein hai kya yah sahi tha kya vaah log sahi the jo pakde gaye police ne kyon kiya

हैदराबाद एनकाउंटर पर क्यों उठ रहे हैं सवाल है इसमें कई चीजें शामिल है पहले यह के बहुत से ल

Romanized Version
Likes  351  Dislikes    views  4397
WhatsApp_icon
user

Vedachary Pathak Singrauli

सनातन सुरक्षा परिषद् संस्थापक

4:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार देखी आप का सवाल है कि दराबाद इन काउंटर पर क्यों उठ रहे हैं सवाल देखिए आप भी सोच रहे होंगे कि आखिर में उस बेटी के साथ जिस प्रकार से रेप कर निर्मम हत्या की गई और उस समय पर पूरा देश गुस्से से उबल रहा था मांग कर रहा था कि उन अपराधियों को पब्लिक के बीच में दीजिए और जब पुलिस के द्वारा मुठभेड़ में पथराव के साथ बंदूक चुना छुट्टी हुई और भागने का जब अपराधी प्रयत्न करते हैं तो पुलिस उनका एनकाउंटर करती है देश के कई हिस्सों में लोग खुशियां भी मनाए लेकिन कुछ सत्ता के विपक्षी दल डा विपक्षी दल के समर्थक लो या कुछ और समाज के बुद्धिजीवी वर्ग भी आप कह सकते हैं इस पर उन्होंने सवाल उठाना प्रारंभ किया कारण क्या है देखी समस्या यह नहीं है कि गोली से मारा जाना अपराधी जो इस प्रकार से जिंदा एक हैवान की तरह एक बेटी को जला दिया उसको कर बोली से मारा जाए कि गलत है लेकिन थोड़ा इसमें जो सवाल उठने का सिचुएशन और क्यों सवाल उठता है कि क्यों ऐसा हुआ और यह गलत हुआ जो लोग बोलते हैं उसका कारण यह है कि हमारे देश में न्यायपालिका है अगर आपको गोली ही मारना था तो आप अगर ऐसे अपराधियों को सजा के पात्र कर समझा गया तो बुराई बिल्कुल नहीं है बशर्ते वह फैसला कोर्ट के द्वारा होना चाहिए वह फैसला न्यायालय के द्वारा होना चाहिए ताकि हमारे ज्यूडिशरी सिस्टम पर न्यायपालिका पर न्याय प्रणाली पर सवाल नाव क्योंकि ऐसा लोग बोल सकते हैं कि हो सकता है कि इसमें कुछ प्लानिंग रही हो किसी पार्टी दल या नेता के दबाव में सरकार से किया गया हो इसलिए भविष्य में ऐसा सामान ना खड़ा हूं इसलिए लोग सवाल उठा रहे हैं फांसी के फंदे पर सूली की नोक पर क्यों न व्यक्ति को चढ़ाया जाए ऐसे अपराधों में लेकिन वह सजा वह फैसला न्यायालय का होना चाहिए नहीं तो इस प्रकार से लोगों के मन में डर भी किनके यहां आता है कि अगर इस प्रकार से अगर पुलिस सूट करने लगेगी तो कल किसी नेता किसी पार्टी किसी दल के दबाव में आकर किसी को भी कर सकती है इसलिए पुलिस कोई छूट नहीं मिलनी चाहिए इस प्रकार से अपने काम को यथावत करें हां अगर आप को गोली मारना है या कड़े से कड़े कानून या सजा देना है तो विधिवत वह उसको कानून में सामग्री पहले और जुडिशरी सिस्टम को 2357 इतने दिन के अंदर ही उसका फैसला हो जाना चाहिए और फिर आप उस व्यक्ति को फांसी के फंदे पर लटका ही है या सूली पर लटकाया या गोली मारिए आम जनमानस में आक्रोश या किसी भी प्रकार से सवाल खड़े नहीं होंगे

namaskar dekhi aap ka sawaal hai ki darabad in counter par kyon uth rahe hain sawaal dekhiye aap bhi soch rahe honge ki aakhir mein us beti ke saath jis prakar se rape kar nirmam hatya ki gayi aur us samay par pura desh gusse se ubal raha tha maang kar raha tha ki un apradhiyon ko public ke beech mein dijiye aur jab police ke dwara muthbhed mein pathrao ke saath bandook chuna chhutti hui aur bhagne ka jab apradhi prayatn karte hain toh police unka encounter karti hai desh ke kai hisson mein log khushiya bhi manaye lekin kuch satta ke vipakshi dal da vipakshi dal ke samarthak lo ya kuch aur samaj ke buddhijeevi varg bhi aap keh sakte hain is par unhone sawaal uthana prarambh kiya karan kya hai dekhi samasya yah nahi hai ki goli se mara jana apradhi jo is prakar se zinda ek haivan ki tarah ek beti ko jala diya usko kar boli se mara jaaye ki galat hai lekin thoda isme jo sawaal uthane ka situation aur kyon sawaal uthata hai ki kyon aisa hua aur yah galat hua jo log bolte hain uska karan yah hai ki hamare desh mein nyaypalika hai agar aapko goli hi marna tha toh aap agar aise apradhiyon ko saza ke patra kar samjha gaya toh burayi bilkul nahi hai basharte vaah faisla court ke dwara hona chahiye vaah faisla nyayalaya ke dwara hona chahiye taki hamare jyudishari system par nyaypalika par nyay pranali par sawaal nav kyonki aisa log bol sakte hain ki ho sakta hai ki isme kuch planning rahi ho kisi party dal ya neta ke dabaav mein sarkar se kiya gaya ho isliye bhavishya mein aisa saamaan na khada hoon isliye log sawaal utha rahe hain fansi ke fande par suli ki nok par kyon na vyakti ko chadaya jaaye aise apradho mein lekin vaah saza vaah faisla nyayalaya ka hona chahiye nahi toh is prakar se logo ke man mein dar bhi kinke yahan aata hai ki agar is prakar se agar police suit karne lagegi toh kal kisi neta kisi party kisi dal ke dabaav mein aakar kisi ko bhi kar sakti hai isliye police koi chhut nahi milani chahiye is prakar se apne kaam ko yathavat kare haan agar aap ko goli marna hai ya kade se kade kanoon ya saza dena hai toh vidhivat vaah usko kanoon mein samagri pehle aur judiciary system ko 2357 itne din ke andar hi uska faisla ho jana chahiye aur phir aap us vyakti ko fansi ke fande par Latka hi hai ya suli par latkaaya ya goli mariye aam janmanas mein aakrosh ya kisi bhi prakar se sawaal khade nahi honge

नमस्कार देखी आप का सवाल है कि दराबाद इन काउंटर पर क्यों उठ रहे हैं सवाल देखिए आप भी सोच र

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  617
WhatsApp_icon
user

Dr Manoj Kumar Bhambu

Doctorate of Philosophy

3:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कहते हैं भीड़ का कोई कैरेक्टर नहीं होता और हैदराबाद एनकाउंटर के बाद जो भीड़ का रिस्पांस है उसकी वजह से ही एनकाउंटर सवाल होते हैं वह भी 1 दिन पहले पुलिस को गालियां निकाल रही थी कैंडल मार्च कर रही थी दूसरे ही दिन एनकाउंटर होने के बाद में पुलिस कमाल है पर इतना रही है उनकी जय-जयकार करें इसी वजह से यह संदेश गया कि लोगों के डिमांड की वजह से पुलिस ने फर्जी एनकाउंटर किया है जबकि पुलिस के हिसाब से जो अपराधी थे उन्होंने पुलिस के साथ हाथापाई की उनके हथियार चीन से भागने की कोशिश की और इसी वजह से पुलिस को उन पर गोलियां चलानी पड़ी और बदले में उन्होंने भी पुलिस पर गोलियां चलाई हैं और पुलिस के सिपाहियों के सभी क्योंकि मैं यह बात दूसरी है तुम हैदराबाद एनकाउंटर पर ज्यादा सवाल उठने का कारण पब्लिक का रिस्पॉन्स है पब्लिक को दोनों ही स्थिति में संयम बरतने की कोशिश करनी चाहिए करना चाहिए क्योंकि आज हम अपने घरों में सुरक्षित बैठे हैं तो वह हमारी फौज और पुलिस की वजह से की खोज बॉर्डर पर हमारी सुरक्षा करती है और प्राकृतिक आपदाओं में भी हमारी दलाल भी सुरक्षा करती है इसी तरह से पुलिस हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में कैसे कंट्रोल के लिए चोरी चकारी से हमें बचाने के लिए और छोटे-मोटे अपराधों के समय हमारी मदद भी करती है और उन अपराधों से हमें बचाती है तो हमें पुलिस का मनोबल नहीं रहना चाहिए उनका मनोबल बढ़ाना चाहिए वह भी हमारे समाज का हिस्सा है पुलिस को अपनी जिम्मेदारी अच्छे से निभानी चाहिए बिना किसी भेदभाव के सभी लोगों का विश्वास प्लस का होगा और तभी पुलिस को देखकर डरेंगे नहीं सुरक्षित महसूस करें थैंक यू

kehte hain bheed ka koi character nahi hota aur hyderabad encounter ke baad jo bheed ka response hai uski wajah se hi encounter sawaal hote hain vaah bhi 1 din pehle police ko galiya nikaal rahi thi Candle march kar rahi thi dusre hi din encounter hone ke baad mein police kamaal hai par itna rahi hai unki jai jaikar kare isi wajah se yah sandesh gaya ki logo ke demand ki wajah se police ne farji encounter kiya hai jabki police ke hisab se jo apradhi the unhone police ke saath hathapai ki unke hathiyar china se bhagne ki koshish ki aur isi wajah se police ko un par goliya chalani padi aur badle mein unhone bhi police par goliya chalai hain aur police ke sipaahiyon ke sabhi kyonki main yah baat dusri hai tum hyderabad encounter par zyada sawaal uthane ka karan public ka rispans hai public ko dono hi sthiti mein sanyam bartane ki koshish karni chahiye karna chahiye kyonki aaj hum apne gharon mein surakshit baithe hain toh vaah hamari fauj aur police ki wajah se ki khoj border par hamari suraksha karti hai aur prakirtik apadao mein bhi hamari dalaal bhi suraksha karti hai isi tarah se police hamari rozmarra ki zindagi mein kaise control ke liye chori chakari se hamein bachane ke liye aur chhote mote apradho ke samay hamari madad bhi karti hai aur un apradho se hamein bachati hai toh hamein police ka manobal nahi rehna chahiye unka manobal badhana chahiye vaah bhi hamare samaj ka hissa hai police ko apni jimmedari acche se nibhaanee chahiye bina kisi bhedbhav ke sabhi logo ka vishwas plus ka hoga aur tabhi police ko dekhkar darenge nahi surakshit mehsus kare thank you

कहते हैं भीड़ का कोई कैरेक्टर नहीं होता और हैदराबाद एनकाउंटर के बाद जो भीड़ का रिस्पांस है

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  174
WhatsApp_icon
user
1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हनुमान स्वामी घोषित किया हैदराबाद रिंगटोन पर क्यों उठ गए हैं सवाल तो फ्रेंड जो हैदराबाद में जो घटनाएं हुए हैं और और रेप के आरोपियों का इंक्वायरी किया गया है जो एनकाउंटर किया गया वह तो सही है लेकिन फ्रेंड्स यह इतनी जल्दी इंक्वायरी इन काउंटर कैसे हो गया तो फ्रेंड से सोचने वाली बात है कि अन्य घटना में तो ऐसे कदम नहीं उठाए जाते हैं लेकिन हैदराबाद की जो घटना हुई है डॉ प्रियंका के साथ उन्हीं में ऐसे कदम के उठाए उठाए हैं उनका इंक्वायरी पर इतनी जल्दी कैसे किया गया तो फिर चाहिए इस बात से सवाल उठना अच्छी बात है लेकिन जो पुलिस ने किया वह तो प्रियंका के डेट आफ्टर थे उनके परिजनों परिजनों को परिजनों को न्याय तो मिल गया समय भी अधिक नहीं लगा लेकिन फिर यह कानून की निगाह में सोचने वाली बात है कि पुलिस ने उनका इनकाउंटर इस प्रकार से किया इसलिए उस पर सवाल उठ रहे हैं तो और भी रेपिस्ट है जैसे कि आसाराम राम रहीम अभी रेपिस्ट है जो जेल में बंद है तो उन पर एक्शन क्यों नहीं दिए जा रहे हैं तो इसलिए हैदराबाद का जो इनकाउंटर है उस पर सवाल उठ रहे हैं

hanuman swami ghoshit kiya hyderabad ringtone par kyon uth gaye hai sawaal toh friend jo hyderabad mein jo ghatnaye hue hai aur aur rape ke aaropiyon ka enquiry kiya gaya hai jo encounter kiya gaya vaah toh sahi hai lekin friends yah itni jaldi enquiry in counter kaise ho gaya toh friend se sochne wali baat hai ki anya ghatna mein toh aise kadam nahi uthye jaate hai lekin hyderabad ki jo ghatna hui hai Dr. priyanka ke saath unhi mein aise kadam ke uthye uthye hai unka enquiry par itni jaldi kaise kiya gaya toh phir chahiye is baat se sawaal uthna achi baat hai lekin jo police ne kiya vaah toh priyanka ke date after the unke parijanon parijanon ko parijanon ko nyay toh mil gaya samay bhi adhik nahi laga lekin phir yah kanoon ki nigah mein sochne wali baat hai ki police ne unka inakauntar is prakar se kiya isliye us par sawaal uth rahe hai toh aur bhi rapist hai jaise ki asharam ram rahim abhi rapist hai jo jail mein band hai toh un par action kyon nahi diye ja rahe hai toh isliye hyderabad ka jo inakauntar hai us par sawaal uth rahe hain

हनुमान स्वामी घोषित किया हैदराबाद रिंगटोन पर क्यों उठ गए हैं सवाल तो फ्रेंड जो हैदराबाद मे

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  709
WhatsApp_icon
user

Purushottam Choudhary

ब्राह्मण Next IAS institute गार्ड

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हैदराबाद एनकाउंटर पर इसलिए सवाल उठ रहे हैं क्योंकि वह एक विशेष जाति वर्ग से आते हैं और विशेष जाति वर्ग एक वोट बैंक के हैं और वोट बैंक की राजनीति करने वाले ही ऐसे सवाल उठाते हैं जो शख्स दूसरे की आबरू को लूट कर जिंदा जला दे ऐसे शख्स को 24 घंटा जिंदा रहने का अधिकार नहीं है ऐसा कानून भी होना चाहिए तभी देश में भय का माहौल होगा और गलत काम करने वाले सुधरेंगे धन्यवाद

hyderabad encounter par isliye sawaal uth rahe hain kyonki vaah ek vishesh jati varg se aate hain aur vishesh jati varg ek vote bank ke hain aur vote bank ki raajneeti karne waale hi aise sawaal uthate hain jo sakhs dusre ki abaru ko loot kar zinda jala de aise sakhs ko 24 ghanta zinda rehne ka adhikaar nahi hai aisa kanoon bhi hona chahiye tabhi desh mein bhay ka maahaul hoga aur galat kaam karne waale sudhrenge dhanyavad

हैदराबाद एनकाउंटर पर इसलिए सवाल उठ रहे हैं क्योंकि वह एक विशेष जाति वर्ग से आते हैं और विश

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  295
WhatsApp_icon
user

Pratayksh Mishra

Writer , Journalist, Aggregate Blogger

2:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हैदराबाद एनकाउंटर पर सवाल इसलिए उठ रहे हैं ताकि जो पुलिस है उसमें जन अभाव और जन भाग के पक्ष में काम किया है इस प्रकार लोग सोच रहे हैं और संदेह पैदा हो रहा है क्योंकि जोश में जनसैलाब था उस डॉक्टर के पक्ष में इतना ज्यादा

hyderabad encounter par sawaal isliye uth rahe hain taki jo police hai usme jan abhaav aur jan bhag ke paksh mein kaam kiya hai is prakar log soch rahe hain aur sandeh paida ho raha hai kyonki josh mein janasailab tha us doctor ke paksh mein itna zyada

हैदराबाद एनकाउंटर पर सवाल इसलिए उठ रहे हैं ताकि जो पुलिस है उसमें जन अभाव और जन भाग के पक्

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  284
WhatsApp_icon
user

Raghuveer Singh

👤Teacher & Advisor🙏

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हैदराबाद एनकाउंटर पर क्यों उठ रही हैं सवाल तो इसके बहुत सारे कारण हो सकते हैं सबसे पहला कारण यह है कि 4 आरोपी थे और उनमें से हैं अगर वह दौड़े तो जब एक को गोली लगी तो वह दिन रुके क्यों नहीं प्रश्न यह भी उठता है कि जब दौड़ते हैं तो खासतौर से पेड़ पर गोली मारते हैं लेकिन उन्होंने सीधा ऐसी घातक जगह पर ही क्यों मारा उनको गोली इंजन की डेथ हो गई और एक को गोली मारी 2 कुमारी चारों के चारों को गोली किस प्रकार से मारेंगे और चारों को चारों में एक दम से है वहीं पर डेथ होगी तो इसमें कुछ न कुछ रीजन तो है तो इसलिए हैं पुलिस के ऊपर सस्पेंस है उनके ऊपर है उंगली उठ रही है हो सकता है किसी बड़े राजनेता काश में हाथ हो

hyderabad encounter par kyon uth rahi hai sawaal toh iske bahut saare karan ho sakte hai sabse pehla karan yah hai ki 4 aaropi the aur unmen se hai agar vaah daude toh jab ek ko goli lagi toh vaah din ruke kyon nahi prashna yah bhi uthata hai ki jab daudte hai toh khaasataur se ped par goli marte hai lekin unhone seedha aisi ghatak jagah par hi kyon mara unko goli engine ki death ho gayi aur ek ko goli mari 2 kumari charo ke charo ko goli kis prakar se marenge aur charo ko charo mein ek dum se hai wahi par death hogi toh isme kuch na kuch reason toh hai toh isliye hai police ke upar suspense hai unke upar hai ungli uth rahi hai ho sakta hai kisi bade raajneta kash mein hath ho

हैदराबाद एनकाउंटर पर क्यों उठ रही हैं सवाल तो इसके बहुत सारे कारण हो सकते हैं सबसे पहला का

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  268
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
sawal ta bade ne par puchne mp3 ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!