उन्नाव रेप पीड़िता की हालत बिगड़ी, सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टरों ने वेंटिलेटर पर रखा - आख़िर कब ख़त्म होगा औरतों के प्रति यह घिनोने वारदात?...


user

Bharati

Advocate

1:03
Play

Likes  5  Dislikes    views  83
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Liyakat Ali Gazi

Motivational Speaker, Life Coach & Soft Skills Trainer 📲 9956269300

1:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब तक देश की कानून व्यवस्था में शक्ति नहीं आएगी और अपने शिकार व्यवस्था देश के अंदर जो कानून व्यवस्था है निर्णय लेने की क्षमता में अगर वृद्धि नहीं होगी तब तक जो है उसको शादी से सुनने को मिलते रहते हैं मिलते रहेंगे क्योंकि अक्सर हमने देखा है कि हमारे यहां के जो लड़के हैं जो इंसान है जो मर्द है जो पुरुष से उनकी सोच औरतों के प्रति बहुत ही ज्यादा गंदी घटिया किस्म की तुच्छ किस्म की सोच रखते हैं और साथ ही साथ में जैसे कोई 12 केस हो जाते हैं तो इसमें कानून व्यवस्था इतनी सख्त होनी चाहिए कि जो है आरोपियों को तुरंत ही सख्त से सख्त सजा देनी चाहिए ऐसी सजा दें जिससे कि कोई जो तूने उस सजा को उस काम को करने से पहले उसकी रूह कांपने लगे थर्रा उठे अर्थ के प्रति मान सम्मान की नजर से देखें लड़कियों के प्रति मान सम्मान की नजर से देखने लगे उनके अभी रह पाएंगे जब कोई कानून व्यवस्था में शक्ति आएगी और जो काम ऐसे आरोपी करती हमको जब सख्त सजा दी जाएगी जिससे कि दूसरे को अपनी मौत का भय होने लगे मरने का डर पैदा होने लगे लड़कों के बीच में तो जाहिर सी बात है यह खत्म हो जाएगा जैसा की थी हैदराबाद एनकाउंटर में हुआ है जो लड़के मारे गए बहुत सही हुआ ऐसा ही कानून व्यवस्था होनी चाहिए ऐसी ही सख्ती से कार्रवाई करनी चाहिए ताकि लड़कों के अंदर आवागढ़ आवारागर्दी करने वाले लुच्चे लफंगे के अंदर जो है मौत का डर भी पैदा हो और लड़कियां और 3 महिलाएं सब अपने आप को महफूज महसूस कर सकें तभी ऐसा संभव है

jab tak desh ki kanoon vyavastha mein shakti nahi aayegi aur apne shikaar vyavastha desh ke andar jo kanoon vyavastha hai nirnay lene ki kshamta mein agar vriddhi nahi hogi tab tak jo hai usko shadi se sunne ko milte rehte hain milte rahenge kyonki aksar humne dekha hai ki hamare yahan ke jo ladke hain jo insaan hai jo mard hai jo purush se unki soch auraton ke prati bahut hi zyada gandi ghatiya kism ki tucch kism ki soch rakhte hain aur saath hi saath mein jaise koi 12 case ho jaate hain toh isme kanoon vyavastha itni sakht honi chahiye ki jo hai aaropiyon ko turant hi sakht se sakht saza deni chahiye aisi saza de jisse ki koi jo tune us saza ko us kaam ko karne se pehle uski ruh kaapne lage tharra uthe arth ke prati maan sammaan ki nazar se dekhen ladkiyon ke prati maan sammaan ki nazar se dekhne lage unke abhi reh payenge jab koi kanoon vyavastha mein shakti aayegi aur jo kaam aise aaropi karti hamko jab sakht saza di jayegi jisse ki dusre ko apni maut ka bhay hone lage marne ka dar paida hone lage ladko ke beech mein toh jaahir si baat hai yah khatam ho jaega jaisa ki thi hyderabad encounter mein hua hai jo ladke maare gaye bahut sahi hua aisa hi kanoon vyavastha honi chahiye aisi hi sakhti se karyawahi karni chahiye taki ladko ke andar avagadh avaragardi karne waale luchche lafange ke andar jo hai maut ka dar bhi paida ho aur ladkiyan aur 3 mahilaye sab apne aap ko mahfuz mehsus kar sake tabhi aisa sambhav hai

जब तक देश की कानून व्यवस्था में शक्ति नहीं आएगी और अपने शिकार व्यवस्था देश के अंदर जो कानू

Romanized Version
Likes  81  Dislikes    views  1670
WhatsApp_icon
user

N. K. SINGH 'Nitesh'

Educator, Life Coach, Writer and Expert in British English Language, Author of Book/Fiction Lucky Girl (Love vs Marriage)

3:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी आपने पूछा है कि उन्नाव रेप पीड़िता की हालत बिगड़ी है और सफदरजंग अस्पताल में वेंटिलेटर पर है औरतों के खिलाफ होने वाला यह घिनौना वारदात कब खत्म होगा तो मैं आपको बता दूं कि जब तक समाज नहीं जागरूक होगा तब तक समाप्त नहीं होगा ज्यादा कठोर कानून बनाने से कोई फायदा नहीं होगा आप मान लीजिए कि बहुत ज्यादा कठोर कानून बना देते हैं लेकिन उस कानून का परिणाम यानी कि कोई अपराधी यदि अपराध करता है तो उसका दिया जाने वाला धन का समय इतना लंबा हो क्यों है नंद के इंतजार में बैठे हुए लोग यहां से प्रस्थान हैं तो इससे कोई फायदा नहीं होना है क्योंकि इतने दिनों का दुख तो झेल रहा है वह व्यक्ति आज निर्भया कांड को ही ले लीजिए आज 7 साल होने को है पर क्या हुआ तुम लोगों के सीने में जो दर्द है 7 सालों से जल्द है तो 4 साल उसके कहीं ना कहीं इसी चिंतन में लगे हुए हैं कि यह ठीक नहीं हो रहा है तो न्यायपालिका से उठता जा रहा है भरोसा कभी न कभी इस भीड़ को हिंसक बना ही देगा तो भीड़ को हिंसक होने से बचाने के लिए जरूरी है कि कानून बनाए भी जाए उनका पालन भी समय पर हो और इसके लिए जरूरी है कि सरकार पुलिसिया तंत्र को सही करें पुलिस बल की संख्या बढ़ाए लोगों तक पहुंच बढ़ाएं उनके कार्य करने का तरीका बदले और साथ ही न्यायिक तंत्र के भी कार्य करने का तरीका बढ़िया तरीके से न्याय मिलना चाहिए लोगों को न्याय में हो रही देरी एक तरह से संविधान का मजाक की है और नागरिक अधिकारों का उल्लंघन हो जाती है लोगों के सामने क्या सजा होगी कि नहीं इसकी कोई गारंटी नहीं यह सरकार को चाहिए बदलाव की जरूरत है और जिम्मेदारी बनती है कि वह अपने बच्चों के साथ बच्चों के साथ साथ बेटों को भी यह बताएं कि क्या गलत है और क्या सही है अक्सर हम देखते हैं कि हम अपनी बेटियों को तो बहुत सारे संस्कार के पाठ पढ़ाते हैं घरों में रखते हैं उनसे बताते हैं क्या सही है क्या गलत है ऐसा करना चाहिए वैसा नहीं करना चाहिए परंतु अपने बेटों के साथ काम नहीं करते चाहूंगा कि बेटियों को भी सोच सकते लेकिन दोनों में ऐसे संस्कार रखिए कि आपका बेटा भी ऐसा काम ना करें तो यहां पर औरतों की जिम्मेदारी आएगी क्योंकि औरतें घर का संभल होते हैं और वह सामने नहीं आएंगे तब तक कुछ भी नहीं हो सकता है तो लड़ना है यदि और इस तरह की वारदात वास्तव में कम करना है तो सरकार न्यायपालिका पुलिस बल समाज परिवार और मां-बाप सभी को मिलजुलकर के प्रयास करने होंगे वरना इस तरह की वारदात होते ही रहेंगे हम कितने ही कठोर कानून बनाने और जनता कितनी ही बार सड़कों पर उतर कर दें धन्यवाद

dekhi aapne poocha hai ki unnaav rape pidita ki halat bigadi hai aur safdarjung aspatal mein ventilator par hai auraton ke khilaf hone vala yah ghinauna vaardaat kab khatam hoga toh main aapko bata doon ki jab tak samaj nahi jagruk hoga tab tak samapt nahi hoga zyada kathor kanoon banane se koi fayda nahi hoga aap maan lijiye ki bahut zyada kathor kanoon bana dete hai lekin us kanoon ka parinam yani ki koi apradhi yadi apradh karta hai toh uska diya jaane vala dhan ka samay itna lamba ho kyon hai nand ke intejar mein baithe hue log yahan se prasthan hai toh isse koi fayda nahi hona hai kyonki itne dino ka dukh toh jhel raha hai vaah vyakti aaj Nirbhaya kaand ko hi le lijiye aaj 7 saal hone ko hai par kya hua tum logo ke seene mein jo dard hai 7 salon se jald hai toh 4 saal uske kahin na kahin isi chintan mein lage hue hai ki yah theek nahi ho raha hai toh nyaypalika se uthata ja raha hai bharosa kabhi na kabhi is bheed ko hinsak bana hi dega toh bheed ko hinsak hone se bachane ke liye zaroori hai ki kanoon banaye bhi jaaye unka palan bhi samay par ho aur iske liye zaroori hai ki sarkar pulisiya tantra ko sahi kare police bal ki sankhya badhae logo tak pohch badhaye unke karya karne ka tarika badle aur saath hi nyayik tantra ke bhi karya karne ka tarika badhiya tarike se nyay milna chahiye logo ko nyay mein ho rahi deri ek tarah se samvidhan ka mazak ki hai aur nagarik adhikaaro ka ullanghan ho jaati hai logo ke saamne kya saza hogi ki nahi iski koi guarantee nahi yah sarkar ko chahiye badlav ki zarurat hai aur jimmedari banti hai ki vaah apne baccho ke saath baccho ke saath saath beto ko bhi yah bataye ki kya galat hai aur kya sahi hai aksar hum dekhte hai ki hum apni betiyon ko toh bahut saare sanskar ke path padhate hai gharon mein rakhte hai unse batatey hai kya sahi hai kya galat hai aisa karna chahiye waisa nahi karna chahiye parantu apne beto ke saath kaam nahi karte chahunga ki betiyon ko bhi soch sakte lekin dono mein aise sanskar rakhiye ki aapka beta bhi aisa kaam na kare toh yahan par auraton ki jimmedari aayegi kyonki auraten ghar ka sambhal hote hai aur vaah saamne nahi aayenge tab tak kuch bhi nahi ho sakta hai toh ladna hai yadi aur is tarah ki vaardaat vaastav mein kam karna hai toh sarkar nyaypalika police bal samaj parivar aur maa baap sabhi ko miljulakar ke prayas karne honge varna is tarah ki vaardaat hote hi rahenge hum kitne hi kathor kanoon banane aur janta kitni hi baar sadkon par utar kar de dhanyavad

देखी आपने पूछा है कि उन्नाव रेप पीड़िता की हालत बिगड़ी है और सफदरजंग अस्पताल में वेंटिलेटर

Romanized Version
Likes  84  Dislikes    views  1712
WhatsApp_icon
play
user

K.L.Salvi Advocate (Ret.D,C,Mp)

Seva Nivrt.Deeputy,Collector

0:28

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उन्नाव रेप पीड़िता को न्याय मिल जाना चाहिए यदि वह मरणासन्न स्थिति में है वेंटिलेटर पर रखा जा रहा है उसके फाइनल बयान रिकॉर्ड करके कोर्ट को रख लेना चाहिए और डिसीजन में देरी हो रही है तो उसके बयान रिकॉर्ड कर लेना चाहिए ताकि उसकी मृत्यु भी हो जाए तो बयान उसका आखरी बयान माना जाएगा और शक्तिमान आ जाएगा उसमें भी पतिया में लेटलतीफी नहीं होना चाहिए

unnaav rape pidita ko nyay mil jana chahiye yadi vaah maranasann sthiti mein hai ventilator par rakha ja raha hai uske final bayan record karke court ko rakh lena chahiye aur decision mein deri ho rahi hai toh uske bayan record kar lena chahiye taki uski mrityu bhi ho jaaye toh bayan uska aakhri bayan mana jaega aur shaktiman aa jaega usme bhi patiya mein letalatifi nahi hona chahiye

उन्नाव रेप पीड़िता को न्याय मिल जाना चाहिए यदि वह मरणासन्न स्थिति में है वेंटिलेटर पर रखा

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  295
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

औरतों के प्रति जो वारदातें हो रही है वह तभी खत्म हो सकती है जब देश में कड़ा कड़ा कानून बने साथी यदि कोई अपराधी इस तरह की हरकत करता है तो उसे तत्काल दंड का प्रधान प्रधान या दंड उसे तत्काल दिया जाना चाहिए इसमें लेट ललिता नहीं होना चाहिए मेरा मानना तो यह है कि ऐसे अपराधी को कोर्ट द्वारा जब यह तय हो जाए कि या अपराधी है तो ऐसे अपराधी को उस जिस के साथ अपराध हुआ है उसके अभिभावकों को सुपुर्द कर देना चाहिए और वह अपनी मर्जी से उसे जो दंड देना चाहे वह दंड दे तो निश्चित रूप से इस में कुछ कमी आएगी ऐसा मेरा मानना है धन्यवाद

auraton ke prati jo vardatein ho rahi hai vaah tabhi khatam ho sakti hai jab desh mein kada kada kanoon bane sathi yadi koi apradhi is tarah ki harkat karta hai toh use tatkal dand ka pradhan pradhan ya dand use tatkal diya jana chahiye isme late lalita nahi hona chahiye mera manana toh yah hai ki aise apradhi ko court dwara jab yah tay ho jaaye ki ya apradhi hai toh aise apradhi ko us jis ke saath apradh hua hai uske abhibhavakon ko supurd kar dena chahiye aur vaah apni marji se use jo dand dena chahen vaah dand de toh nishchit roop se is mein kuch kami aayegi aisa mera manana hai dhanyavad

औरतों के प्रति जो वारदातें हो रही है वह तभी खत्म हो सकती है जब देश में कड़ा कड़ा कानून बने

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  271
WhatsApp_icon
user

Komal shukla

mechanical Engineer

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब तक कोई अच्छा विचार अच्छे नियम नहीं लागू के तत्व की चलता ही रहेगा कोई भी सरकार है और बीजेपी है कल कुछ और आएगा किसी पार्टी पर विरोध नहीं कर पाए पॉलिटिकल में नहीं जाना चाहते लेकिन फिर भी मुझे कहना पड़ता है क्योंकि पार्टी अपना अपना कर रही है लेकिन लड़कियों के बारे में भी सोचे उसके लिए भी नहीं हम हैं इतनी धारा क्यों लगाई गई हैं आज हुआ रेप कर छोड़ दिया गया यह क्या होता है प्लीज हमको यही एक दुख है कि लड़कियां आज बहुत ही खास होती जा रही है इसलिए कोई अपनी लड़की को आगे भेजता नहीं किसी भी क्षेत्र में किन प्ले सायटिक वैक्यूम कि आप लोग ध्यान दीजिए तो समाज को नियम फॉलो करिए जो बनाए जा रहे हैं जो बनाए जाएंगे और डॉक्टरों की भी मदद होनी चाहिए कि वह जल्दी से ही उसका उपचार करें क्योंकि आजकल सरकारी हॉस्पिटल में भी देखे गए तो बहुत कम माय एफएम होते हैं कि मेरे पास किए नहीं है मेरे पास मशीन नहीं है क्या जब वह मर जाएगा तब मशीन होगी और टिकट के समय व्यक्त कीजिए आवेदन नहीं चाहिए उनको आगे तक मुझे कोई संवेदना मत दो मुझे चाहत दीजिए कि मैं बहुत आगे तक जाऊं बस थैंक्स

jab tak koi accha vichar acche niyam nahi laagu ke tatva ki chalta hi rahega koi bhi sarkar hai aur bjp hai kal kuch aur aayega kisi party par virodh nahi kar paye political mein nahi jana chahte lekin phir bhi mujhe kehna padta hai kyonki party apna apna kar rahi hai lekin ladkiyon ke bare mein bhi soche uske liye bhi nahi hum hain itni dhara kyon lagayi gayi hain aaj hua rape kar chod diya gaya yah kya hota hai please hamko yahi ek dukh hai ki ladkiyan aaj bahut hi khaas hoti ja rahi hai isliye koi apni ladki ko aage bhejta nahi kisi bhi kshetra mein kin play saytik vacuum ki aap log dhyan dijiye toh samaj ko niyam follow kariye jo banaye ja rahe hain jo banaye jaenge aur doctoron ki bhi madad honi chahiye ki vaah jaldi se hi uska upchaar kare kyonki aajkal sarkari hospital mein bhi dekhe gaye toh bahut kam my FM hote hain ki mere paas kiye nahi hai mere paas machine nahi hai kya jab vaah mar jaega tab machine hogi aur ticket ke samay vyakt kijiye avedan nahi chahiye unko aage tak mujhe koi samvedana mat do mujhe chahat dijiye ki main bahut aage tak jaaun bus thanks

जब तक कोई अच्छा विचार अच्छे नियम नहीं लागू के तत्व की चलता ही रहेगा कोई भी सरकार है और बीज

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  173
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!