मैं हमेशा दुखी रहता हूँ क्या करूँ?...


play
user

Amit Chowdhry

Operational Head

6:43

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका यह कहना कि मैं हमेशा दुखी रहता हूं क्या करूं किसी चीज को दुखी रहने का कारण क्या हो सकता है खास तो पता नहीं है कि अभी आप किन किन परिस्थितियों से झुंझुनू मुख्य कारण हो सकते हैं वह तीन हो सकते हैं क्योंकि मेरी समझते हैं एक आउटर रिंग जा रहा कारण भारी प्रभाव के कारण होता है एक यतो वाक्य ही दुखी हैं और दुख और परेशानियों से घिरे हुए दूसरा है ठीक हो सकता है कि आपका नेचर गया था है नीचे कैसा है यह आपको शब्द सुनकर बड़ा अटपटा सा लग रहा होगा बड़ा गंभीरता को जाइएगा क्या कभी आपको ऐसा लगता है कि आप विषम परिस्थितियों में भी चाहते हैं तो तो विषम ही ही पटा सुख में भी जाते हैं तो आप दुख तलाश करने लगते हो और यह नेगेटिविटी देते हो कि यह खराब हो जाएगा या वह खराब हो जाएगा यहां खराबी आ जाएगी बात यह नहीं है कि कहां पर और क्या शुद्ध बात यह है कि सोच एटीट्यूड से बनती है और वह ग्रिटीट्यूड हमारा नेगेटिव है तो वह हमें चारों ओर एक नेगेटिव वातावरण क्रिएट कर देगी अपनी पहली समस्या पर आता हूं वहां कारणों से अगर आप दुखी रहते हो तो सारी समस्याएं पूर्ण तरीके से आपके हाथ में नहीं है आप निरंतर प्रयास करें याद करने के उपरांत आपको सफलता अवश्य मिलेगी हो सकता है धीरे-धीरे करके अपने आप खुद ही खत्म होते चले जा और अगर कोई आप बात ही दुखी हो इंटरनल दुखी हो कुछ अनकहा कारण है जिसके कारण आप दुखी हो तो उसका निवारण करना पड़ा अवश्य क्योंकि जब तक आप कौन कारणों का निवारण नहीं करेंगे आपको खुशी में भी दुखी नजर आएगा और आप दुखी ही रहोगे क्योंकि उसके एग्जाम पर समझाता हूं कि अगर आपका हाथ में चोट आई हो या आपका हाथ फैक्चर हो गया हो पा दूसरे की मदद के लिए नहीं जाओगे सबसे पहले आप अपनी मदद करोगे क्या आप ही का हाथ फैक्चर है उसको हम कैसे ठीक करें तो सबसे पहले अपनी को ठीक करना बहुत जरूरी है उन दुखों से पार पाना बहुत जरूरी है फिर उसके बाद आगे बढ़ना चाहिए और सब पर जो तीसरा कारण है जो सबसे प्रमुख है और मेरी नजरों में जो सबसे ज्यादा मेजर कारण है जिसमें सबसे ज्यादा कि हमारा एटीट्यूड नेगेटिव एटीट्यूड क्या होता है वह दूसरे की खुशी में भी दुख देता है अपने सुखी के खुशी में भी दुख देखता है उसको रिलेटिविटी निकालने की एक आदत वो हर किसी को ज्यादा आता है और दिखाता है कि मैं दुखी दुख उसके मन में कंकड़ में फंस चुका होता है ऐसा एटीट्यूड होता है जो कि आपको नकारात्मक उर्जा ओं का एक प्रतिबिंब बना देता है एक नकारात्मक ऊर्जा हो का एकदम बना देना और आप उसमें खुद भी दुखी रहोगे आपके पास जितने लोग जुड़े हैं वह भी दुखी रहेंगे और वह चारों ओर आप के आस पास जितना भी वातावरण है वह भी नेगेटिव होता चला जाएगा मुख्य कारण को निकलने के लिए आपको अपनी दिनचर्या को ही चेंज कर देना चाहिए दिनचर्या से समझ रहा हूं के सुबह का उतना रात का जागना नहीं मेरा मतलब यह है आप जब सुबह उठते होंगे तो दोस्तों के हाथ में यह करने जा रहा करो कि आपकी करने की इच्छा है जिससे आपको लगे कि इसको करूंगा तो मजा आ जाएगा बस वह मुझे एक मात्र का होगा 2 मिनट का ही होगा लेकिन बस मजा आना चाहिए कोटेशंस में कई बार मंदिर जाने से भी पोस्ट बनर्जी होती है और माइंड चेंज हो जाता है कई बार आदमी कुछ ऐसा करता है कुछ ऐसा एडवेंचर करता है जो उसके मन में होता है और उसको मजा आ जाता है कुछ ऐसा करिए जिससे हम को मजा आए अपने एटीट्यूड को चेंज करने के लिए 1 दिन में यह एटीट्यूड चेंज नहीं हो सकता है आपको धीरे-धीरे कई सारे प्रयासों पर काम करना पड़ेगा फिटकरी के धीरे-धीरे एक गोल छोटी छोटी चीजों को बनाई है कि आज से मेरे को रिलेटिविटी को अपने पास से हटाना है के लिए क्या-क्या करना पड़ेगा लिफ्ट का जो कारण है मैं इस पर इतना ज्यादा सर्कस इसलिए कर रहा हूं एक मुख्य कारण यही होता और आपके मानसिक रूप से आपको इतना बीमार कर देता है कि आपको खुद ही दुखी अपने आप में लगने लगेगा आप बीमार हो गई मार हो रहे हो अपने आप को चेंज करने के लिए अपने एटीट्यूड को चेंज करने के लिए छोटे छोटे गोल सुनाइए याद में दिन में दो काम करूंगा जिससे मेरे को 3 घंटे में किसी के बारे में अच्छी चीजों के बारे में सोचो मेरे साथ अच्छी हुई थी और मेरे को अच्छा लगा दो धीरे धीरे पर केस की तरह धीरे धीरे चेंज आपने जैसे जैसे आता जाएगा आपके पास आने वाले लोग और आपके पास रहने वाले लोग खुद आपको बताएंगे कि आप मुझे कुछ चेंज जा रहे हैं जो कि बहुत बहुत तेज और अब आप पहले से अच्छा और बुरा लगने लगे आप खुद में भी अपने आप को अच्छा फील करोगे और भी कई कारण हो सकते हैं क्या आप धीरे-धीरे जो मैं बता रहा हूं खुशी के बजाय आप किसी और भी जगह जा सकते हो सकता किसी बच्चे को खिलाने मैं आपको कुछ कर लेगा अपने प्रयासों को करते रहिए अच्छा लगेगा खुशी मिलेगी और सफलता कदम चूमेगी

aapka yeh kehna ki main hamesha dukhi rehta hoon kya karu kisi cheez ko dukhi rehne ka kaaran kya ho sakta hai khaas toh pata nahi hai ki abhi aap kin kin paristhitiyon se jhunjhunu mukhya kaaran ho sakte hai wah teen ho sakte hai kyonki meri samajhte hai ek outer ring ja raha kaaran bhari prabhav ke kaaran hota hai ek yato vakya hi dukhi hai aur dukh aur pareshaniyo se gheere hue doosra hai theek ho sakta hai ki aapka nature gaya tha hai niche kaisa hai yeh aapko shabd sunkar bada atpataa sa lag raha hoga bada gambhirta ko jayega kya kabhi aapko aisa lagta hai ki aap visham paristhitiyon mein bhi chahte hai toh toh visham hi hi pata sukh mein bhi jaate hai toh aap dukh talash karne lagte ho aur yeh negativity dete ho ki yeh kharab ho jayega ya wah kharab ho jayega yahan kharabi aa jayegi baat yeh nahi hai ki kahaan par aur kya shudh baat yeh hai ki soch attitude se banti hai aur wah gritityud hamara Negative hai toh wah humein charo aur ek Negative vatavaran create kar degi apni pehli samasya par aata hoon wahan karanon se agar aap dukhi rehte ho toh saree samasyaen poorn tarike se aapke hath mein nahi hai aap nirantar prayas karein yaad karne ke uprant aapko safalta avashya milegi ho sakta hai dhire dhire karke apne aap khud hi khatam hote chale ja aur agar koi aap baat hi dukhi ho internal dukhi ho kuch annkaha kaaran hai jiske kaaran aap dukhi ho toh uska nivaran karna pada avashya kyonki jab tak aap kaun karanon ka nivaran nahi karenge aapko khushi mein bhi dukhi nazar aaega aur aap dukhi hi rahoge kyonki uske exam par samajhaata hoon ki agar aapka hath mein chot I ho ya aapka hath facture ho gaya ho pa dusre ki madad ke liye nahi jaoge sabse pehle aap apni madad karoge kya aap hi ka hath facture hai usko hum kaise theek karein toh sabse pehle apni ko theek karna bahut zaroori hai un dukhon se par pana bahut zaroori hai phir uske baad aage badhana chahiye aur sab par jo teesra kaaran hai jo sabse pramukh hai aur meri nazro mein jo sabse zyada major kaaran hai jisme sabse zyada ki hamara attitude Negative attitude kya hota hai wah dusre ki khushi mein bhi dukh deta hai apne sukhi ke khushi mein bhi dukh dekhta hai usko relativity nikalne ki ek aadat vo har kisi ko zyada aata hai aur dikhaata hai ki main dukhi dukh uske man mein kankad mein phans chuka hota hai aisa attitude hota hai jo ki aapko nakaratmak urja yuvaon ka ek pratibimb bana deta hai ek nakaratmak urja ho ka ekdam bana dena aur aap usme khud bhi dukhi rahoge aapke paas jitne log jude hai wah bhi dukhi rahenge aur wah charo aur aap ke aas paas jitna bhi vatavaran hai wah bhi Negative hota chala jayega mukhya kaaran ko nikalne ke liye aapko apni dincharya ko hi change kar dena chahiye dincharya se samajh raha hoon ke subah ka utana raat ka jagana nahi mera matlab yeh hai aap jab subah uthte honge toh doston ke hath mein yeh karne ja raha karo ki aapki karne ki iccha hai jisse aapko lage ki isko karunga toh maza aa jayega bus wah mujhe ek matra ka hoga 2 minute ka hi hoga lekin bus maza aana chahiye koteshans mein kai baar mandir jaane se bhi post banerjee hoti hai aur mind change ho jata hai kai baar aadmi kuch aisa karta hai kuch aisa adventure karta hai jo uske man mein hota hai aur usko maza aa jata hai kuch aisa kariye jisse hum ko maza aaye apne attitude ko change karne ke liye 1 din mein yeh attitude change nahi ho sakta hai aapko dhire dhire kai saare prayaso par kaam karna padega fitkari ke dhire dhire ek gol choti choti chijon ko banai hai ki aaj se mere ko relativity ko apne paas se hatana hai ke liye kya kya karna padega lift ka jo kaaran hai is par itna zyada circus isliye kar raha hoon ek mukhya kaaran yahi hota aur aapke mansik roop se aapko itna bimar kar deta hai ki aapko khud hi dukhi apne aap mein lagne lagega aap bimar ho gayi maar ho rahe ho apne aap ko change karne ke liye apne attitude ko change karne ke liye chote chhote gol suniye yaad mein din mein do kaam karunga jisse mere ko 3 ghante mein kisi ke bare mein acchi chijon ke bare mein socho mere saath acchi hui thi aur mere ko accha laga do dhire dhire par case ki tarah dhire dhire change aapne jaise jaise aata jayega aapke paas aane wale log aur aapke paas rehne wale log khud aapko batayenge ki aap mujhe kuch change ja rahe hai jo ki bahut bahut tez aur ab aap pehle se accha aur bura lagne lage aap khud mein bhi apne aap ko accha feel karoge aur bhi kai kaaran ho sakte hai kya aap dhire dhire jo main bata raha hoon khushi ke bajay aap kisi aur bhi jagah ja sakte ho sakta kisi bacche ko khilane main aapko kuch kar lega apne prayaso ko karte rahiye accha lagega khushi milegi aur safalta kadam chumegi

आपका यह कहना कि मैं हमेशा दुखी रहता हूं क्या करूं किसी चीज को दुखी रहने का कारण क्या हो स

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  1071
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
kuch bhi nahi rehta ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!