मैं जो भी सोचता हूँ, वह इतने ऊंचे क्यों होते हैं?...


user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गाना पर्सनल में जो भी सोचता हूं इतने उनसे क्यों होते हैं तो ऊंचा सोचने में कोई बुराई नहीं है ऊंचा सोचे लेकिन फिर आप अपना यह देखें आप में किस टाइप की क्वालिफिकेशन है किस बात की काबिलियत है आप उसे धीरे-धीरे एक कलाकार नहीं हो जाता है और सफलता जो जो फिर वह धीरे धीरे काफी बड़े स्तर तक इसमें अपनी जड़ें मजबूत रखना करें और कर्म करते ही रहे आपका दिन शुभ हो धन्यवाद

gaana personal me jo bhi sochta hoon itne unse kyon hote hain toh uncha sochne me koi burayi nahi hai uncha soche lekin phir aap apna yah dekhen aap me kis type ki qualification hai kis baat ki kabiliyat hai aap use dhire dhire ek kalakar nahi ho jata hai aur safalta jo jo phir vaah dhire dhire kaafi bade sthar tak isme apni jaden majboot rakhna kare aur karm karte hi rahe aapka din shubha ho dhanyavad

गाना पर्सनल में जो भी सोचता हूं इतने उनसे क्यों होते हैं तो ऊंचा सोचने में कोई बुराई नहीं

Romanized Version
Likes  481  Dislikes    views  4808
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!