नाइट्रोजन की इलेक्ट्रॉन बंधुता कार्बन से कम होती है क्यों?...


user

Sonu Yogi

Student

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कार्बन के अंदर चार एडमिट इलेक्ट्रॉन पाए जाते हैं अर्थात इसमें से इसकी सही जूते चार होती है जबकि नाइट्रोजन की संयोजकता कितनी होती है नाइट्रोजन के अंदर एक लॉन्ग पर पाया जाता है आते युग में इलेक्ट्रॉन पाए जाते हैं कार्बन के अंदर चार हाइड्रोजन परमाणुओं से बंद नाली प्रवृत्ति जैविक कार्बन के अंदर जतिन नाइट्रोजन के अंदर तीन हाइड्रोजन परमाणु संबंध बनाने की प्रवृत्ति पाई जाती है

carbon ke andar char admit electron paye jaate hain arthat isme se iski sahi joote char hoti hai jabki nitrogen ki sanyojakta kitni hoti hai nitrogen ke andar ek long par paya jata hai aate yug me electron paye jaate hain carbon ke andar char hydrogen parmanuo se band nali pravritti Jaivik carbon ke andar jatin nitrogen ke andar teen hydrogen parmanu sambandh banane ki pravritti payi jaati hai

कार्बन के अंदर चार एडमिट इलेक्ट्रॉन पाए जाते हैं अर्थात इसमें से इसकी सही जूते चार होती है

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  95
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नाइट्रोजन की इलेक्ट्रॉन बंधुता कार्बन से कम होती है क्योंकि नाइट्रोजन का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास जब हम लिखते हैं तो उसमें उपलब्धि कक्षा कार्य पूर्ण हो रहे होते हैं जबकि कार्बन में ऐसा नहीं होता है कार्बन में उपस्थित पी कक्षक पूर्ण रूप से भरे नहीं होते हैं नई औरत पूर्ण रूप से भरे होते हैं क्योंकि नाइट्रोजन में अपनी कक्षा का पूर्ण रूप से गोरे होते हैं तो उसकी सफाई हो जाती है और वह रिटर्न को ग्रांड नहीं करता है जिससे उसकी लेकिन बदलता कम से कम हो जाती है

nitrogen ki electron bandhuta carbon se kam hoti hai kyonki nitrogen ka electronic vinyas jab hum likhte hain toh usme upalabdhi kaksha karya purn ho rahe hote hain jabki carbon mein aisa nahi hota hai carbon mein upasthit p kakshak purn roop se bhare nahi hote hain nayi aurat purn roop se bhare hote hain kyonki nitrogen mein apni kaksha ka purn roop se gore hote hain toh uski safaai ho jaati hai aur vaah return ko grand nahi karta hai jisse uski lekin badalta kam se kam ho jaati hai

नाइट्रोजन की इलेक्ट्रॉन बंधुता कार्बन से कम होती है क्योंकि नाइट्रोजन का इलेक्ट्रॉनिक विन्

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
user
0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसी आवर्त में बाएं से दाएं जाने पर उस तत्व की इलेक्ट्रॉन लब्धि एंथैल्पी या इलेक्शन बंद रखती है इसी कारण कार्बन की इलेक्ट्रॉन बंधुता का मान नाइट्रोजेनसे कब होता है

kisi avart mein baen se dayen jaane par us tatva ki electron labdhi enthailpi ya election band rakhti hai isi karan carbon ki electron bandhuta ka maan naitrojense kab hota hai

किसी आवर्त में बाएं से दाएं जाने पर उस तत्व की इलेक्ट्रॉन लब्धि एंथैल्पी या इलेक्शन बंद रख

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  190
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
नाइट्रोजन की इलेक्ट्रॉन बंधुता कार्बन से कम होती है क्यों ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!