इंसान जीवन भर सुख ढूंढता रहता है, मगर फिर भी दुख आ ही जाता है, ऐसा क्यों है?...


user

Shipra Ranjan

Life Coach

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल एक इंसान जीवन पर सब ढूंढता रहता है मगर फिर भी धोखा जाता है ऐसा क्यों है तो आपको बता दें कि अगर इंसान किसी गलत जगह पर अपने सुख को ढूंढा जाएगा तो उसे क्या मिलेगा कुछ भी नहीं मिलेगा दुख ही मिलेगा ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हम अपने आसपास की खुशियों को अपने सुख के पलों को देखना नहीं चाहते हैं क्योंकि उनको जीने में इतना ज्यादा बिजी हो जाते हैं कि हम फील करते ही नहीं हो कि हम इस समय कितना खुश है हम कितना लकी है कितने दादा लकी हैं कि हमारे पास यह सब चीजें हैं हम सिचुएशन में जी रहे हैं मार पसारे रिश्ते हैं सब कुछ है ऐसी चीज सोचने के लिए खुल टाइम किसी के पास में आता ही नहीं है कोई किसी के दिमाग उस तरफ से जाता ही नहीं है क्योंकि सब उस पल को जीने में इतना तो बिजी होते हैं लेकिन जनता परेशान होंगे दुखी होंगे या कठिन परिस्थितियों में घिरे होंगे तो बिल्कुल दिमाग में यही रहती है कि हमारे साथ ही ऐसा क्यों हुआ है हमको जीने की जगह हम उसमें से भागने की कोशिश करते हैं जबकि कोई भी ऐसे पलों से भाग नहीं पाया है अगर आपने सुख को इंजॉय किया है तो आपको दुख को पूरी तरीके से जीना ही पड़ेगा दुखी होकर के शोक मना करके ऐसे पलों को जीने देगा तब भी तरह की सकारात्मक सोच के साथ में उस सिचुएशन से निकलने की कोशिश करें और जितनी जल्दी आप एक पोस्टर सोच के साथ में सिचुएशन से निकालने के लिए कोशिश करेंगे पावर को ऑन करें जल्दी अपने दुख के समय से बाहर आ जाएंगे आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद

aapka sawaal ek insaan jeevan par sab dhundhta rehta hai magar phir bhi dhokha jata hai aisa kyon hai toh aapko bata de ki agar insaan kisi galat jagah par apne sukh ko dhundha jaega toh use kya milega kuch bhi nahi milega dukh hi milega aisa isliye hota hai kyonki hum apne aaspass ki khushiyon ko apne sukh ke palon ko dekhna nahi chahte hain kyonki unko jeene mein itna zyada busy ho jaate hain ki hum feel karte hi nahi ho ki hum is samay kitna khush hai hum kitna lucky hai kitne dada lucky hain ki hamare paas yah sab cheezen hain hum situation mein ji rahe hain maar pasare rishte hain sab kuch hai aisi cheez sochne ke liye khul time kisi ke paas mein aata hi nahi hai koi kisi ke dimag us taraf se jata hi nahi hai kyonki sab us pal ko jeene mein itna toh busy hote hain lekin janta pareshan honge dukhi honge ya kathin paristhitiyon mein ghire honge toh bilkul dimag mein yahi rehti hai ki hamare saath hi aisa kyon hua hai hamko jeene ki jagah hum usme se bhagne ki koshish karte hain jabki koi bhi aise palon se bhag nahi paya hai agar aapne sukh ko enjoy kiya hai toh aapko dukh ko puri tarike se jeena hi padega dukhi hokar ke shok mana karke aise palon ko jeene dega tab bhi tarah ki sakaratmak soch ke saath mein us situation se nikalne ki koshish kare aur jitni jaldi aap ek poster soch ke saath mein situation se nikalne ke liye koshish karenge power ko on kare jaldi apne dukh ke samay se bahar aa jaenge aapka din shubha rahe dhanyavad

आपका सवाल एक इंसान जीवन पर सब ढूंढता रहता है मगर फिर भी धोखा जाता है ऐसा क्यों है तो आपको

Romanized Version
Likes  210  Dislikes    views  3017
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!