राजनीति में सबसे ज़्यादा राजनेता कहाँ के हैं?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

3:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहले यह राज नेता या तो बिहार से थे या उत्तर प्रदेश से हैं यह सफलता से पहले की बात है और वैसे भी भारत के अन्य स्टेशन से भी 1 लोगों को श्वेता होते थे लेकिन आज स्थिति यह है कि हमारे देश में साधारण जनता कम है और राजनेता देखें आप आशीर्वाद का करेंगे कि प्रत्येक व्यक्ति किसी न किसी भारत की पॉलीटिकल पार्टी से कनेक्ट है क्योंकि हर गिनती के कुशवाहा सोते हैं उन स्वार्थों की पूर्ति जिन पार्टियों के माध्यम से होती है उसी पार्टी से कनेक्ट हो जाता है और यह भारत में है आप साधारण इंसान कमी और भारत में कुकर मुद्दों की तरह नेता पैदा हो रहे हैं क्योंकि भारतीय राजनीति आजकल व्यवसाय बन चुकी है भारतीय राजनीति राजनीति को इन पॉलिटिकल भारत की पॉलीटिकल पार्टीज में एक व्यवसाय बना दिया है हर व्यक्ति सत्ता पार्ट्स ऑफ द पार्टी में घुसना चाहता है सत्ता के खिलाफ को लेना चाहता है सत्ता के लाभ के पदों को प्राप्त करने के लिए वह किसी भी स्तर तक नीचे जा सकता है यह आज के राजनेताओं में पाएंगे आप पर आज की भारतीय जनता में भी पाएंगे यही कारण है कि भारतीय संविधान में जो वोट देने का मूल अधिकार दिया है उसको भी हम लोग लोग लालच और स्वार्थ के कारण से कभी जातिवाद के नाम पर कभी धर्म के नाम पर क्षेत्रवाद के नाम पर कभी अपने व्यक्तिगत लाभ के लिए या कभी कुछ चंद रुपयों में कभी-कभी तो दारू जैसे एक वजह से उन्हें भी उसको बर्बाद कर देते हैं ऐसे अयोग्यता चेक कर लेते हैं जो चीज जाने के बाद कभी शक्ल नहीं दिखाता है परिणाम स्वरूप उसकी हालत कैसी बनी रहती हैं यह हम भारतीयों के लोग लालच स्वार्थ दर्जी की एक बहुत अच्छी पकड़ है आप इसको नेत्रो देखते हैं विद्रोही लोग आज भारत के चलाते रहते हैं कि हमारे यहां के जो लीडर से उन्होंने कोई भी कार्य नहीं कराया है सड़के नहीं है पानी नहीं है बिजली नहीं है आज भी इस बात को आप जान तक के बड़ा बहुत बड़ा दुख हुआ आपको कि भारत में ऐसे कई गांव है जहां पर पानी के कनेक्शन नहीं जहां पर बिजली की सुविधा नहीं है जबकि भारत आज तुम देखो उसका मेन कारण कारण यही है जो हम लोगों ने लोग लालच जातिवाद धर्म बातचीत के बाद यह अनिकेत लालच के आधार पर उन नेताओं को जीता दिया वह नेता कभी चित करके सुध नहीं लेते हैं यह हमारा बड़ा दुर्भाग्य है

pehle yah raj neta ya toh bihar se the ya uttar pradesh se hain yah safalta se pehle ki baat hai aur waise bhi bharat ke anya station se bhi 1 logo ko shweta hote the lekin aaj sthiti yah hai ki hamare desh me sadhaaran janta kam hai aur raajneta dekhen aap ashirvaad ka karenge ki pratyek vyakti kisi na kisi bharat ki political party se connect hai kyonki har ginti ke kushwaha sote hain un swarthon ki purti jin partiyon ke madhyam se hoti hai usi party se connect ho jata hai aur yah bharat me hai aap sadhaaran insaan kami aur bharat me cooker muddon ki tarah neta paida ho rahe hain kyonki bharatiya raajneeti aajkal vyavasaya ban chuki hai bharatiya raajneeti raajneeti ko in political bharat ki political parties me ek vyavasaya bana diya hai har vyakti satta parts of the party me ghusna chahta hai satta ke khilaf ko lena chahta hai satta ke labh ke padon ko prapt karne ke liye vaah kisi bhi sthar tak niche ja sakta hai yah aaj ke rajnetao me payenge aap par aaj ki bharatiya janta me bhi payenge yahi karan hai ki bharatiya samvidhan me jo vote dene ka mul adhikaar diya hai usko bhi hum log log lalach aur swarth ke karan se kabhi jaatiwad ke naam par kabhi dharm ke naam par kshetravad ke naam par kabhi apne vyaktigat labh ke liye ya kabhi kuch chand rupyon me kabhi kabhi toh daaru jaise ek wajah se unhe bhi usko barbad kar dete hain aise ayogyata check kar lete hain jo cheez jaane ke baad kabhi shakl nahi dikhaata hai parinam swaroop uski halat kaisi bani rehti hain yah hum bharatiyon ke log lalach swarth darji ki ek bahut achi pakad hai aap isko netro dekhte hain vidrohi log aaj bharat ke chalte rehte hain ki hamare yahan ke jo leader se unhone koi bhi karya nahi karaya hai sadake nahi hai paani nahi hai bijli nahi hai aaj bhi is baat ko aap jaan tak ke bada bahut bada dukh hua aapko ki bharat me aise kai gaon hai jaha par paani ke connection nahi jaha par bijli ki suvidha nahi hai jabki bharat aaj tum dekho uska main karan karan yahi hai jo hum logo ne log lalach jaatiwad dharm batchit ke baad yah aniket lalach ke aadhar par un netaon ko jita diya vaah neta kabhi chit karke sudh nahi lete hain yah hamara bada durbhagya hai

पहले यह राज नेता या तो बिहार से थे या उत्तर प्रदेश से हैं यह सफलता से पहले की बात है और वै

Romanized Version
Likes  503  Dislikes    views  5565
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!