इलेक्टोरल बॉन्ड क्या पारदर्शिता के खिलाफ नहीं है? आपकी क्या राय है?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:32

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इलेक्ट्रोल बांड के पार्टी के खिलाफ नहीं आपकी क्या गए थे वह पारदर्शिता के लिए ही किया था ₹2000 कैश तक कोई भी पार्टी चंदा ले सकती है बाकी वह इलेक्ट्रोल बांड के रूप में ले कोई भी पार्टी को बीजेपी और कांग्रेस पार्टी के पास जो फंड आता है जो दान चंदा जो धर्मादाय यह सब जो आता है वह वाइट का हो गया और सब ब्लैक मनी के रूप में चुनाव लड़े जाते थे लोग इस्तेमाल ज्यादा करते चंदे में कैसी देते थे और उसे कहीं अपनी बुक्स में उसके एंट्री नहीं करते थे इसलिए इलेक्ट्रोल बने थे एक तरफ से चुनाव में पारदर्शिता आई है क्योंकि हर एक पार्टी अगर इलेक्टरल बॉन्ड उसके लिए जाते हैं तो फिर बाद में उनको बुक्स डालनी पड़ती है इसलिए पारदर्शिता बरती है पारदर्शिता के खिलाफ नहीं जाता और ₹20000 या ₹40000 इस तरह से बोर्ड और चंदा के रूप में जमा करते हैं धन्यवाद

ilektrol bond ke party ke khilaf nahi aapki kya gaye the vaah pardarshita ke liye hi kiya tha Rs cash tak koi bhi party chanda le sakti hai baki vaah ilektrol bond ke roop mein le koi bhi party ko bjp aur congress party ke paas jo fund aata hai jo daan chanda jo dharmaday yah sab jo aata hai vaah white ka ho gaya aur sab black money ke roop mein chunav lade jaate the log istemal zyada karte chande mein kaisi dete the aur use kahin apni books mein uske entry nahi karte the isliye ilektrol bane the ek taraf se chunav mein pardarshita I hai kyonki har ek party agar electoral Bond uske liye jaate hain toh phir baad mein unko books daalni padti hai isliye pardarshita barti hai pardarshita ke khilaf nahi jata aur Rs ya Rs is tarah se board aur chanda ke roop mein jama karte hain dhanyavad

इलेक्ट्रोल बांड के पार्टी के खिलाफ नहीं आपकी क्या गए थे वह पारदर्शिता के लिए ही किया था ₹

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  1343
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!