बोलिविया वॉटर वॉर क्या था?...


play
user
2:09

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा कि आपने क्वेश्चन पूछा वह भी या वाटर वार क्या था तो मैं आपको बताना चाहूंगा इस कहानी की शुरुआत 1959 में हुई थी उन्होंने जल प्राणी को एक गूगल तुम्हारी नाम के कंपनी को बेच दिया जो कि स्थानीय अंतरराष्ट्रीय सहयोगी का एक्शन स्थानीयकरण से पहले तक कोच एवं बाद की 80% आबादी के पास खुद की स्थाई जल व्यवस्था थी जो कि एक स्थानीय संस्था द्वारा मुहैया कराई गई थी या संता लोगों के केवल बिजली का कुछ छोटे मोटे खर्चे लेकर उन्हें पर्याप्त थी मगर दूसरी ओर सरकार को बड़ी एजेंसी की नजरों में स्थानीय संस्थाएं किसी लुटेरे से कम नहीं थी ऐसे में जल प्राणी का निजीकरण होते ही इन सभी संस्थाओं की दुकानें मांग बंद पड़ गए कानूनी तौर पर कोचाधांबा की ओर से आने वाले पानी और यहां तक कि होने वाली बारिश के पानी पर भी एक बस दिल तुम्हारी कंपनी कहा था निजी करके कुछ समय बाद कंपनी ने घरेलू पानी में मिलो में भारी बढ़ोतरी कर दी उन्होंने आम लोगों के पानी की अधिक मांग को देखते हुए उनके समूह में कदम बढ़ाती ऐसे लोग बौखला गए उनके लिए इतनी ऊंची दरों पर पानी पीने का खरीद पाना मुमकिन नहीं था निजीकरण के कारण जल्द ही लोग पानी के लिए मोहताज होने लग गए विरोध की जंग में सबसे पहला संगठन आगे बढ़कर है उसका नाम था देवराया संगठन कोचाधांबा की फैक्ट्री कर्मचारियों का था उन्हें सरकार के फैसले का विरोध किया और निजी कंपनियों की मनमानी रोकने पर गुहार लगाई धीरे-धीरे स्थाई लोग एक संगठन के साथ मिलकर सरकार के सामने खड़े हो गए पानी की लड़ाई अब 1:00 बजे विद्रोह का रूप लेती जा रही थी लड़ाई में 22 विद्रोही व केंद्र बन गया अपने हक के लिए उपलब्ध कराए सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने लगे इस कदर खराब हो गई कि गोरिया सरकार ने पुलिस व सुरक्षा दस्तों को सड़कों पर तैनात करना पड़ा इसके बाद इस विद्रोह ने एक जन का रूप ले लिया लोगों को आगे बढ़ने के रोकने के लिए जगह-जगह पर बेरी गेस्ट लगाए गए थे इनके बावजूद भी बेकाबू भीड़ को रोक पाना मुश्किल हो गया था जिसके चलते आर्मी को सड़कों पर उतारा गया था पुलिस और विद्रोह के बीच अच्छी काफी बुलंद थे जिनमें सैकड़ों लोग घायल हुए साथी घायलों के पुलिसवाले भी शामिल थे धन्यवाद

jaisa ki aapne question poocha vaah bhi ya water war kya tha toh main aapko batana chahunga is kahani ki shuruat 1959 me hui thi unhone jal prani ko ek google tumhari naam ke company ko bech diya jo ki sthaniye antararashtriya sahyogi ka action sthaniykaran se pehle tak coach evam baad ki 80 aabadi ke paas khud ki sthai jal vyavastha thi jo ki ek sthaniye sanstha dwara muhaiya karai gayi thi ya santa logo ke keval bijli ka kuch chote mote kharche lekar unhe paryapt thi magar dusri aur sarkar ko badi agency ki nazro me sthaniye sansthayen kisi lutere se kam nahi thi aise me jal prani ka nijikaran hote hi in sabhi sasthaon ki dukanein maang band pad gaye kanooni taur par kochadhamba ki aur se aane waale paani aur yahan tak ki hone wali barish ke paani par bhi ek bus dil tumhari company kaha tha niji karke kuch samay baad company ne gharelu paani me milo me bhari badhotari kar di unhone aam logo ke paani ki adhik maang ko dekhte hue unke samuh me kadam badhati aise log baukhla gaye unke liye itni unchi daro par paani peene ka kharid paana mumkin nahi tha nijikaran ke karan jald hi log paani ke liye mohtaaz hone lag gaye virodh ki jung me sabse pehla sangathan aage badhkar hai uska naam tha devaraya sangathan kochadhamba ki factory karmachariyon ka tha unhe sarkar ke faisle ka virodh kiya aur niji companion ki manmani rokne par guhar lagayi dhire dhire sthai log ek sangathan ke saath milkar sarkar ke saamne khade ho gaye paani ki ladai ab 1 00 baje vidroh ka roop leti ja rahi thi ladai me 22 vidrohi va kendra ban gaya apne haq ke liye uplabdh karae sarkar ke khilaf narebaazi karne lage is kadar kharab ho gayi ki goriya sarkar ne police va suraksha daston ko sadkon par tainat karna pada iske baad is vidroh ne ek jan ka roop le liya logo ko aage badhne ke rokne ke liye jagah jagah par berry guest lagaye gaye the inke bawajud bhi bekabu bheed ko rok paana mushkil ho gaya tha jiske chalte army ko sadkon par utara gaya tha police aur vidroh ke beech achi kaafi buland the jinmein saikadon log ghayal hue sathi ghayalon ke pulisvale bhi shaamil the dhanyavad

जैसा कि आपने क्वेश्चन पूछा वह भी या वाटर वार क्या था तो मैं आपको बताना चाहूंगा इस कहानी की

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  1143
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
बोलीविया वाटर वॉर ; बोलीविया वाटर वॉर इन हिंदी ; bolivia water war in hindi ; बोलिविया वॉटर वर ; bolivia water war hindi ; बोलीविया waterwar ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!