एक के बाद एक गैंगरेप होने की ख़बरें आ रही है, क्या अब भी सरकार इसके ख़िलाफ़ कोई सख़्त क़दम नहीं उठाएगी?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

4:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपनी गाय एक के बाद एक गैंग रेप होने की खबरें आ रही है क्या अब भी सरकार के खिलाफ कोई सख्त कदम नहीं उठाए सरकार तो तब सख्त कदम उठाना जब सरकार इससे प्रवृत्ति से कोसों दूर तक सरकार सरकार के मंत्री और सरकार के सदस्य स्वयं उसके भागीदारों सरकार क्या कदम उठाए थे खेत की बाड़ को खाने लगे टूट में खेत की सुरक्षा और कैसी हो आप के मान के चलिए रक्षक भक्षक बन जाए तो किस से रक्षा की उम्मीद कर रहे हैं दिन प्रतिदिन हर दिन कविता का कवि नर्स का कभी इंस्टिट्यूट का कभी टीचर का कवि किसी भी रूप में महिलाओं के साथ यह अत्याचार दिन दुगना रात चौगुना बढ़े लेकिन सरकार सोई पड़ी है सरकार तो विदेश की मंजूरी पांडे है विदेश की यात्राओं में मशगूल है इस सरकार के पास जनता के लिए कुछ भी नहीं है तुमने हमको चुन कर भेज दिया हम सब बोलेंगे तुम तो घूम हो इसलिए तो सुना था कहीं सुरक्षा शांति सुकून इस चिंता को नहीं मिलना पिछले 5 साल कैसे कटे यह जनता की आत्मा जानती है लेकिन अगले 5 तारीख की शुरुआती 6 महीने में जनता की हत्याओं का जनता की मंसूबों का प्रिंटर जनार्दन की मतदाताओं की इच्छाओं की और उनकी मान्यताओं की मर्यादाओं की सरेआम हत्या हो रही है कुछ उपाय थोड़ी जा सकता है अगर सरकार की इच्छा होती तो मैं कहता हूं जो सरकार अगर डिमोटिवेशन कर सकती है जो सरकार 370 हटा सकती है अपनी ताकत दिखाने के लिए राज्य सरकार ने चुनिया क्यों पहन रखी है गैंगरेप उठाएं उनकी हत्या करवा दें कि उनके खानदान को मरवा देती है फिर आप किस उम्मीद कर रहे हैं आप उठा कर देख लिए यूपी का जम्मू का एग्जांपल कहां गए बोलो अब जनता को ही इस विरोध में एक बार फिर से सड़क पर उतरना पड़ेगा और इतना कठोर रूप में उतरना पड़ेगा कि जनता को इन नेताओं को साथ वही रवैया अपनाना पड़ेगा तो यहां से लोग अत्याचारी लोग यह बालिकाओं के महिलाओं के साथ करते हैं यह जनता को इन नेताओं के साथ करना हो तब पता लगेगा की पीड़ा क्या होती है आज महाराष्ट्र सरकार बदल गई तो अपने सगे निकिता की 35 साल संबंध थे उनको देश का नेता ही कहता है भैया आपस में मिल गए छूट भेजिए आपस में मिलकर देश को लूटने वाले आपस में मिल गए जो कल तक इनके स्टार्ट थे वह इमानदार थे जागो मतदाता जागो और कहीं भी कोई भी गलत कदम देखो का फर्क विरोध करो डटकर विरोध करो अन्य कहूंगा जहां मां बहन बेटी की इज्जत के ऊपर प्रश्न उठाए आए उस सरकार को जड़ से जमीन में दफना

apni gaay ek ke baad ek gang rape hone ki khabren aa rahi hai kya ab bhi sarkar ke khilaf koi sakht kadam nahi uthye sarkar toh tab sakht kadam uthana jab sarkar isse pravritti se koson dur tak sarkar sarkar ke mantri aur sarkar ke sadasya swayam uske bhagidaron sarkar kya kadam uthye the khet ki baad ko khane lage toot mein khet ki suraksha aur kaisi ho aap ke maan ke chaliye rakshak bakshak ban jaaye toh kis se raksha ki ummid kar rahe hain din pratidin har din kavita ka kabhi nurse ka kabhi institute ka kabhi teacher ka kabhi kisi bhi roop mein mahilaon ke saath yah atyachar din dugna raat chauguna badhe lekin sarkar soi padi hai sarkar toh videsh ki manjuri pandey hai videsh ki yatraon mein mashagul hai is sarkar ke paas janta ke liye kuch bhi nahi hai tumne hamko chun kar bhej diya hum sab bolenge tum toh ghum ho isliye toh suna tha kahin suraksha shanti sukoon is chinta ko nahi milna pichle 5 saal kaise kate yah janta ki aatma jaanti hai lekin agle 5 tarikh ki shuruati 6 mahine mein janta ki hatyaaon ka janta ki mansubon ka printer Janardan ki matdataon ki ikchao ki aur unki manyataon ki maryadaon ki sareaam hatya ho rahi hai kuch upay thodi ja sakta hai agar sarkar ki iccha hoti toh main kahata hoon jo sarkar agar demotivation kar sakti hai jo sarkar 370 hata sakti hai apni takat dikhane ke liye rajya sarkar ne chuniya kyon pahan rakhi hai gangrape uthaye unki hatya karva de ki unke khandan ko marava deti hai phir aap kis ummid kar rahe hain aap utha kar dekh liye up ka jammu ka example kahaan gaye bolo ab janta ko hi is virodh mein ek baar phir se sadak par utarna padega aur itna kathor roop mein utarna padega ki janta ko in netaon ko saath wahi ravaiya apnana padega toh yahan se log atyachari log yah balikaon ke mahilaon ke saath karte hain yah janta ko in netaon ke saath karna ho tab pata lagega ki peeda kya hoti hai aaj maharashtra sarkar badal gayi toh apne sage nikita ki 35 saal sambandh the unko desh ka neta hi kahata hai bhaiya aapas mein mil gaye chhut bhejiye aapas mein milkar desh ko lutane waale aapas mein mil gaye jo kal tak inke start the vaah imaandaar the jaago matdata jaago aur kahin bhi koi bhi galat kadam dekho ka fark virodh karo dantkar virodh karo anya kahunga jaha maa behen beti ki izzat ke upar prashna uthye aaye us sarkar ko jad se jameen mein dafana

अपनी गाय एक के बाद एक गैंग रेप होने की खबरें आ रही है क्या अब भी सरकार के खिलाफ कोई सख्त क

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  1025
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Rahul Agrawal

Career Counsellor

3:11

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए एक के बाद एक गैंगरेप और 2012 में जब दिल्ली में निर्भया दर्दनाक रेप कांड हुआ तब ऐसा लगा था जिस तरीके का आक्रोश देश में था जिस तरीके से देश वालों ने ना देशवासियों ने जो गुस्सा दिखाया तो ऐसा लगा कि शायद शायद सरकार जागेगी और शायद कुछ ऐसा भयंकर कानून बनेगा जोकिंग रेपिस्ट को हिला के रख देगा लेकिन अभी 2019 खत्म होने आ गया 2020 आ जाएगा महीने भर बाद कुछ भी नहीं हुआ कुछ भी नहीं हुआ अगर इतना कड़ा कोई कानून बना होता ना तो इन चार दरिंदों की हिम्मत नहीं होती कि वह प्रियंका रेड्डी को रेप करके जला डाले इससे साबित होता है कि देश में जो क्रिमिनल ने जो रेपिस्ट हैं उन्हें सरकार का कोई धर्म है यही नहीं उन्हें किसी भी कानून का कोई डर नहीं है उन्हें डर ही नहीं है इतनी लचर कानून व्यवस्था है हमारी इतना सब कुछ हल्के में लिया जाता है कि मतलब क्या बताऊं मैं भी देश की बच्चियों की देश की माताओं बहनों की बेटियों की सुरक्षा सबसे पहला होना चाहिए मेरा तो इतना खून खोला सुन के मैं सोचता हूं कि क्या सरकार का खून नहीं खोलता क्या नरेंद्र मोदी का खून नहीं खोला होगा भैया जब यह घटना सामने आई ना सबसे पहले नरेंद्र मोदी को बोलना चाहिए था कि सारे काम बंद कर दो कुछ नहीं होगा सबसे पहले रेप का कानून बनेगा उसके बाद कोई दूसरी चीज होगी देश में जब तक जब तक देश की महिलाओं को सुरक्षा नहीं मिलेगी देश में कोई दूसरा काम नहीं होगा क्या वाहवाही मिलती यार और वाहवाही की बात नहीं है बात है हैवानियत को रोकना हर एक सरकार का धर्म होता है आज आदमी अपनी बहन को मेरी बहन कोलकाता में बढ़ती है मैं दिल्ली दिल्ली डरता हूं दिल्ली तो आज अगर एक भाई अपनी बहन को एक बाप अपनी बेटी को बाहर भेजने से डर रहा है तू ही डर कौन खत्म करेगा मैं अपने ही देश में अपनी बहन को भेजने से डर तो फिर विदेशों की तो बात ही क्या करें हम अब देखते हैं भाई सरकार क्या कदम उठाएगी क्या नहीं उठाएगी बातें तो बहुत हो चुकी बहुत सारे हैशटैग ट्रेंडिंग हो चुके ट्विटर में बहुत अल्लाह हो चुका फेसबुक इंस्टाग्राम में बहुत सारा कुछ हो चुका शेयर और रिट्वीट और राठौर लाइक्स और सब कुछ हो चुके लेकिन असल कानून कब बनेगा जब चौराहे पर रेप हो सकता है तो चौराहे पर फांसी क्यों नहीं दी जा सकती क्यों हंसी नहीं दी जा सकती 9457 लोगों को लटका दो यार गंदे तरीके से लटका उस सालों को अपने आप अपने आप एक डर फैल जाएगा और आगे कोई भी इस तरीके का काम करने से पहले 4 बार सोचेगा कि मेरे साथ भी यही होगा तीन चार लोगों को लटका हो तो कम से कम एक एग्जांपल तो सेट करो

dekhiye ek ke baad ek gangrape aur 2012 mein jab delhi mein Nirbhaya dardanak rape kaand hua tab aisa laga tha jis tarike ka aakrosh desh mein tha jis tarike se desh walon ne na deshvasiyon ne jo gussa dikhaya toh aisa laga ki shayad shayad sarkar jagegi aur shayad kuch aisa bhayankar kanoon banega joking rapist ko hila ke rakh dega lekin abhi 2019 khatam hone aa gaya 2020 aa jaega mahine bhar baad kuch bhi nahi hua kuch bhi nahi hua agar itna kada koi kanoon bana hota na toh in char darindo ki himmat nahi hoti ki vaah priyanka reddy ko rape karke jala dale isse saabit hota hai ki desh mein jo criminal ne jo rapist hain unhe sarkar ka koi dharm hai yahi nahi unhe kisi bhi kanoon ka koi dar nahi hai unhe dar hi nahi hai itni lachar kanoon vyavastha hai hamari itna sab kuch halke mein liya jata hai ki matlab kya bataun main bhi desh ki bachiyo ki desh ki mataon bahnon ki betiyon ki suraksha sabse pehla hona chahiye mera toh itna khoon khola sun ke main sochta hoon ki kya sarkar ka khoon nahi kholta kya narendra modi ka khoon nahi khola hoga bhaiya jab yah ghatna saamne I na sabse pehle narendra modi ko bolna chahiye tha ki saare kaam band kar do kuch nahi hoga sabse pehle rape ka kanoon banega uske baad koi dusri cheez hogi desh mein jab tak jab tak desh ki mahilaon ko suraksha nahi milegi desh mein koi doosra kaam nahi hoga kya vahvahi milti yaar aur vahvahi ki baat nahi hai baat hai haivaniyat ko rokna har ek sarkar ka dharm hota hai aaj aadmi apni behen ko meri behen kolkata mein badhti hai delhi delhi darta hoon delhi toh aaj agar ek bhai apni behen ko ek baap apni beti ko bahar bhejne se dar raha hai tu hi dar kaun khatam karega main apne hi desh mein apni behen ko bhejne se dar toh phir videshon ki toh baat hi kya kare hum ab dekhte hain bhai sarkar kya kadam uthayegee kya nahi uthayegee batein toh bahut ho chuki bahut saare Hashtag trading ho chuke twitter mein bahut allah ho chuka facebook instagram mein bahut saara kuch ho chuka share aur ritwit aur rathore likes aur sab kuch ho chuke lekin asal kanoon kab banega jab chauraahe par rape ho sakta hai toh chauraahe par fansi kyon nahi di ja sakti kyon hansi nahi di ja sakti 9457 logo ko Latka do yaar gande tarike se Latka us salon ko apne aap apne aap ek dar fail jaega aur aage koi bhi is tarike ka kaam karne se pehle 4 baar sochega ki mere saath bhi yahi hoga teen char logo ko Latka ho toh kam se kam ek example toh set karo

देखिए एक के बाद एक गैंगरेप और 2012 में जब दिल्ली में निर्भया दर्दनाक रेप कांड हुआ तब ऐसा ल

Romanized Version
Likes  51  Dislikes    views  708
WhatsApp_icon
user

Rahul Bharat

राजनैतिक विश्लेषक

10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक के बाद एक गैंग रेप होने की खबरें आ रहे हैं अभी हम लोगों ने हैदराबाद में एक महिला चिकित्सक की घटना को सुना इस तरीके से उसके साथ दरिंदगी की गई और धर्म की करने के बाद पेट्रोल डाल के उसके आग लगा दिया जाए जनता जली होगी तड़पी हो गई छुट्टियों के चिल्लाई होगी उसको भी कुछ समय बीता नहीं तब तक तब देश के संबलपुर में घटना हुई थी जिसमें उसने दम तोड़ दिया है स्पिटल में वह 8 दिनों से संघर्ष कर रही थी उसके पड़ोसी ने उसके साथ रेप किया था रेप करने के बाद केरोसिन तेल छिड़ककर उसके अलावा 7 से 8 दिन तक हॉस्पिटल में संघर्ष करने के बाद एक्सपायर कर गए और ना जाने ऐसे कितने कांड हुए हैं निर्भया कांड कट पर जान निसार एकांत कितने कांडों का नाम लिया जाए कम पड़ रहा है जमाने कम पड़ रहे हैं आंखों की पानी कम पड़ रहे हैं पूरा शरीर से जोड़ा जा रहा है कि हमारा समाज कहां जा रहा है आज हमारे समाज में बेटियों की सुरक्षा कब हो पाएगी लोग दिल दिल मार रहे हैं और इंसानियत से भरोसा उठता जा रहा है किस तरह वास्तव में लोग सहायता के बहाने भ्रम फैलाकर महिलाओं की इज्जत से खेल रहे हैं बच्चों के जब से खेल रहे हैं अपनी हैवानियत दरिंदगी दिखा रहे हैं आखिर कब तक इस तरह की चीजें चलेंगे सरकारों का इसमें कुछ स्पष्ट मतलब नहीं आ रहा है क्या करने जा रही है अचानक कब रुकेगी इस तरह की घटना है जो हमारे मानवता को शर्मसार किए जा रहे हैं इसको रोकने के लिए सरकार को कोई न कोई कदम उठाने पड़ेंगे अगर इसके खिलाफ सरकार कोई कदम नहीं उठाते हैं तो इस तरह की घटनाओं को रोकना निश्चित रूप से एक टेढ़ी खीर होगा जहां तक हमें लगता है सरकार को इसमें आगे आना होगा और कोई सख्त कदम उठाने होंगे ताकि इस तरह के दर्द की फैलाने वाले लोगों के मन में दहशत आवे और इस तरह का कृत्य करने से पहले हजार बार सोचे तुझसे नाराज नहीं हुआ सरकार को सख्त कदम नहीं उठाती है तो समाज में जिस बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ की हम लोग चर्चा कर रहे हैं वॉच मिशन अभियान अधूरा है एक तरफ हमारी सरकारें बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ के अभियान में लगी हुई और दूसरी तरफ उनके साथ इस तरह की घटना हो रही है तो एक दूसरे को हमारा अभियान मुझसे आ रहा है वैसे बाबा जिनके घर में लड़कियां हैं वह घटना से काफी डरे हुए हैं सामने हुए हैं या फिर मैं उनकी बेटियां भी है उनके साथ कल कोई ऐसी घटना ना करते हैं वह काफी डरे हुए सरकार को इस मामले में सोचना पड़ेगा सख्त कदम उठाना पड़ेगा और इसमें का सरकार देखती है तो निश्चित रूप से सरकार की एक बात बड़ी फूलों की सरकार को इसमें गोरखपुर सख्त कदम उठाने होंगे ऐसे लोगों को जैसे कई देशों में इस तरह का कृत्य करने वाले अपराधियों के प्रति सरकार बिल्कुल ही माफी का या किसी तरीके से दया का भाव में दिखाना चाहते हैं सऊदी अरब जैसा देश है जहां पर राष्ट्र के प्रति करने वाले को चौराहे पर फांसी दे दी जाती अरे सऊदी अरब नहीं बस ऐसे कंट्री देश है जहां पर पोलैंड में ऐसा कृत्य करने वाले अपराधियों के दिन काटे जाते हैं तो कई ऐसे देश हैं जहां बात कार के लिए बड़े-बड़े और सख्त कानून बनाया गया है ना जैसे देशों में भी इसके खिलाफ सख्त कानून बनाया गया है तो कहीं न कहीं सरकार को इसमें कदम उठाने होंगे मेरे सरकार इस मामले में बिल्कुल हेलो टीवी देख रही हूं और यह घटना है नित्य प्रतिदिन बढ़ती जा रही है एक चीज दूसरे की ये घटनाएं कितनी संख्या में होगी और कितनी संख्या में यह सामने आ रही है कितनी मीडिया तक पहुंच रही है आप जनमानस तक पहुंच रही हैं और उसके बावजूद भी पुलिस प्रशासन इस में सक्रियता नहीं दिखा रहे हैं उनकी सक्रियता अगर होती तो अभी जो डॉक्टर प्रियंका रेड्डी के साथ हुआ अगर पुलिस समय से चेक बजाती उन घटनाओं को गंभीरता से लेती और एक्शन लेती रबड़ एक्शन लेती तो शायद प्रियंका रेड्डी के साथ ऐसा नहीं हुआ होता या कम से कम उसकी जान बच जाती है ऐसा उसके परिवार वालों का कहना है कि पुलिस अगर समय पर साथ देते तो शायद प्रियंका की जान बच जाती पुलिस पूजा की सूचना दी गई पुलिस ने आम आदमी ढंग से उसकी बहन के साथ बात किया कि आप की बीएफ प्रियंका रंडी इसी के साथ भाग गई इस तरह के स्टेटमेंट जब तक पुलिस वाले देखते रहेंगे तो लोगों का नया पर प्रशासन पर भरोसा नहीं बन पाएगा क्योंकि कई घटनाएं ऐसी होती हैं इसमें महिलाएं बालिका नरेश फायदा उठा लेती है ना और हर समाज में हर जगह ऐसा होता है कि कोई भी कानून बनता है तो उसके 275 हैं कुछ लोग उसकी आड़ में अपना उल्लू सीधा करते हैं जबकि कुछ लोग के लिए वह सब बन जाता है तो सरकार कोई भी देश छठ कानून बनाने से पहले सख्त कदम उठाने से पहले इस बात को अवश्य ध्यान में देता है कि कहीं कोई बेकसूर व्यक्ति ने कानून लेकिन अब इस सोच के साथ आगे बढ़ना होगा सरकारों को बेकसूर बता ना पाए तो कोई कसूर छुटना कसूरवार जो है वह छूटने ना पाए क्योंकि हमारे संविधान में लचीला कारण बनाया गया है कि कई बार अपराधी उस लचीले कानून का फायदा उठाकर साफ-साफ बजाते हैं तो उसी को देखकर अन्य अपराधी में प्रेरित होते हैं और कोई लगता है कि अगर मैं भी कृत्य करता हूं अपराध करता है इस तरीके से मैं भी बस सकता हूं तो उनके मन में कानून का जो फॉक्स होना चाहिए वह को अपने रह गया इस तरीके से वह अपराध को या समान व्यक्तियों को करते हैं और उनकी जो सोच है जो हैवानियत है

ek ke baad ek gang rape hone ki khabren aa rahe hain abhi hum logo ne hyderabad mein ek mahila chikitsak ki ghatna ko suna is tarike se uske saath darindagi ki gayi aur dharm ki karne ke baad petrol daal ke uske aag laga diya jaaye janta jali hogi tadapi ho gayi chhuttiyon ke chillai hogi usko bhi kuch samay bita nahi tab tak tab desh ke sambalpur mein ghatna hui thi jisme usne dum tod diya hai spital mein vaah 8 dino se sangharsh kar rahi thi uske padosi ne uske saath rape kiya tha rape karne ke baad kerosene tel chidakakar uske alava 7 se 8 din tak hospital mein sangharsh karne ke baad expire kar gaye aur na jaane aise kitne kaand hue hain Nirbhaya kaand cut par jaan nissar ekant kitne kandon ka naam liya jaaye kam pad raha hai jamane kam pad rahe hain aankho ki paani kam pad rahe hain pura sharir se joda ja raha hai ki hamara samaj kahaan ja raha hai aaj hamare samaj mein betiyon ki suraksha kab ho payegi log dil dil maar rahe hain aur insaniyat se bharosa uthata ja raha hai kis tarah vaastav mein log sahayta ke bahaane bharam failaakar mahilaon ki izzat se khel rahe hain baccho ke jab se khel rahe hain apni haivaniyat darindagi dikha rahe hain aakhir kab tak is tarah ki cheezen chalenge sarkaro ka isme kuch spasht matlab nahi aa raha hai kya karne ja rahi hai achanak kab rukegi is tarah ki ghatna hai jo hamare manavta ko sharmasar kiye ja rahe hain isko rokne ke liye sarkar ko koi na koi kadam uthane padenge agar iske khilaf sarkar koi kadam nahi uthate hain toh is tarah ki ghatnaon ko rokna nishchit roop se ek tedhi kheer hoga jaha tak hamein lagta hai sarkar ko isme aage aana hoga aur koi sakht kadam uthane honge taki is tarah ke dard ki felane waale logo ke man mein dahashat aawe aur is tarah ka kritya karne se pehle hazaar baar soche tujhse naaraj nahi hua sarkar ko sakht kadam nahi uthaati hai toh samaj mein jis beti padhao beti bachao ki hum log charcha kar rahe hain watch mission abhiyan adhura hai ek taraf hamari sarkaren beti padhao beti bachao ke abhiyan mein lagi hui aur dusri taraf unke saath is tarah ki ghatna ho rahi hai toh ek dusre ko hamara abhiyan mujhse aa raha hai waise baba jinke ghar mein ladkiyan hain vaah ghatna se kaafi dare hue hain saamne hue hain ya phir main unki betiyan bhi hai unke saath kal koi aisi ghatna na karte hain vaah kaafi dare hue sarkar ko is mamle mein sochna padega sakht kadam uthana padega aur isme ka sarkar dekhti hai toh nishchit roop se sarkar ki ek baat badi fulo ki sarkar ko isme gorakhpur sakht kadam uthane honge aise logo ko jaise kai deshon mein is tarah ka kritya karne waale apradhiyon ke prati sarkar bilkul hi maafi ka ya kisi tarike se daya ka bhav mein dikhana chahte hain saudi arab jaisa desh hai jaha par rashtra ke prati karne waale ko chauraahe par fansi de di jaati are saudi arab nahi bus aise country desh hai jaha par Poland mein aisa kritya karne waale apradhiyon ke din kaate jaate hain toh kai aise desh hain jaha baat car ke liye bade bade aur sakht kanoon banaya gaya hai na jaise deshon mein bhi iske khilaf sakht kanoon banaya gaya hai toh kahin na kahin sarkar ko isme kadam uthane honge mere sarkar is mamle mein bilkul hello TV dekh rahi hoon aur yah ghatna hai nitya pratidin badhti ja rahi hai ek cheez dusre ki ye ghatnaye kitni sankhya mein hogi aur kitni sankhya mein yah saamne aa rahi hai kitni media tak pohch rahi hai aap janmanas tak pohch rahi hain aur uske bawajud bhi police prashasan is mein sakriyata nahi dikha rahe hain unki sakriyata agar hoti toh abhi jo doctor priyanka reddy ke saath hua agar police samay se check bajati un ghatnaon ko gambhirta se leti aur action leti rubber action leti toh shayad priyanka reddy ke saath aisa nahi hua hota ya kam se kam uski jaan bach jaati hai aisa uske parivar walon ka kehna hai ki police agar samay par saath dete toh shayad priyanka ki jaan bach jaati police puja ki soochna di gayi police ne aam aadmi dhang se uski behen ke saath baat kiya ki aap ki bf priyanka randi isi ke saath bhag gayi is tarah ke statement jab tak police waale dekhte rahenge toh logo ka naya par prashasan par bharosa nahi ban payega kyonki kai ghatnaye aisi hoti hain isme mahilaye balika naresh fayda utha leti hai na aur har samaj mein har jagah aisa hota hai ki koi bhi kanoon baata hai toh uske 275 hain kuch log uski aad mein apna ullu seedha karte hain jabki kuch log ke liye vaah sab ban jata hai toh sarkar koi bhi desh chhath kanoon banane se pehle sakht kadam uthane se pehle is baat ko avashya dhyan mein deta hai ki kahin koi bekasur vyakti ne kanoon lekin ab is soch ke saath aage badhana hoga sarkaro ko bekasur bata na paye toh koi kasoor chutna kasurvar jo hai vaah chutney na paye kyonki hamare samvidhan mein lachila karan banaya gaya hai ki kai baar apradhi us lachile kanoon ka fayda uthaakar saaf saaf bajaate hain toh usi ko dekhkar anya apradhi mein prerit hote hain aur koi lagta hai ki agar main bhi kritya karta hoon apradh karta hai is tarike se main bhi bus sakta hoon toh unke man mein kanoon ka jo Fox hona chahiye vaah ko apne reh gaya is tarike se vaah apradh ko ya saman vyaktiyon ko karte hain aur unki jo soch hai jo haivaniyat hai

एक के बाद एक गैंग रेप होने की खबरें आ रहे हैं अभी हम लोगों ने हैदराबाद में एक महिला चिकित

Romanized Version
Likes  117  Dislikes    views  1570
WhatsApp_icon
user

N. K. SINGH 'Nitesh'

Educator, Life Coach, Writer and Expert in British English Language, Author of Book/Fiction Lucky Girl (Love vs Marriage)

6:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह निश्चित रूप से सोचने वाली बात है कि एक के बाद एक गैंग रेप हो रहे हैं और सरकारी अभी तक सोती रही है 2012 में निर्भया केस हुआ था तो उस समय निर्भया फंड का भी बात आई थी निवेश फंड की बात आई थी और दिल्ली में जब कांड हुआ तो तुम मुझे लगता है शायद 319 करो या इस तरह से यह फंडा स्थापित किया गया था और राज्यों में बहुत सारे जो फंड आवंटित किए गए थे यार बहुत दुख होता है कि राज्यों में भी उन पन्नों का इस्तेमाल सही ढंग से नहीं हुआ मान लीजिए किसी किसी स्टेट में बस इतना ही उस फंड का उपयोग हो पाया है आज 12 2012 की बात है और 2900 गया 2019 खत्म होने की दीवार पर ही इतने वर्षों में सरकारें चेत नहीं पाई और मुझे लगता है कि सरकारों के साथ-साथ पब्लिक में भी संवेदना समाप्त हो गया क्योंकि हम अपने बच्चों को संस्कार नहीं दे पा रहे हैं और संस्कार देवी कहते संस्कार देवी के संस्कारों के कम होने के ऊपर ऐसे में हम लड़कियों को दबाकर रखना चाहते हैं लेकिन लड़कों को संस्कार देना पूरे देश में पुलिस बल की संख्या में जो कमी है और उस कमी की भरपाई नहीं हो पा रही है और जो पुलिस बल है अभी उसमें से लगभग 30% वीआईपी लोगों की सुरक्षा में लगे हुए हैं आम जनता के हिस्से कितनी पुलिस आती है आप देख सकते हैं पुलिस समय पर न पहुंचती है की मदद कर सकती है और जो लोग गुनाहगार भी हैं उनके भी हम बात करें तो फास्ट ट्रैक और पुराने गाने डालते हैं जो दुनिया भर की बनाई गई हैं उन्होंने क्या होता है अभी तक रिकॉर्ड है कि फास्ट ट्रैक कोर्ट के सिर्फ 30 परसेंट मुकदमों का ही निपटारा हो पाता है तो आप इस से अंदाजा लगा कि सरकारी नहीं सरकारी नहीं सीख पाए लेकिन अपराधियों ने अपराध के लिए सिर्फ कानून को कठोर बना देने से नहीं होगा कानून कठोर बनाया जाएगा गैंग रेप के बाद हत्या कर दी जाएगी ताकि मालूम न चल पाए तो कठोर कानून बनाए जाने के साथ-साथ अमल में लाया जाना चाहिए अभी भी निर्णय के कुछ गुनाहगार घूम रहे हैं घूमने से मेरा मतलब है बाहर है ने फांसी नहीं हो पाई मुझे लगता है कि ऐसे कैसे मैं सब कुछ बोल कर क्यों नहीं जानी चाहिए और जब तक इसके लिए विशेष अदालतें एक समय सीमा के अंदर काम नहीं करती हैं अब तक मुझे लगता है इनके अंदर अपराधियों के मन के अंदर नहीं पैदा होगा और दूसरा कहीं न कहीं हमारे समाज में बर्बरता और सभ्यता बढ़ती जा रही क्योंकि निर्भया कांड के बाद कठोर कानून बनाए जाने के बाद मुझे लगता है कि लगभग 40% बलात्कार के मुकदमे नहीं पा रहे हैं या पहचान करके भी चुप हो पा रहे हैं तो सरकार के साथ-साथ समाज की भी जिम्मेदारी बनती है और सरकार को यह समझना चाहिए कि यदि अपने कदम को सही समय पर शक नहीं बनाया क्या और सख्त बनाने के सांसद उसे अमल में नहीं लाया गया तो यह समाज एक दिन हिंसक हो जाएगा और यह जो बीच मोब लिंचिंग जैसी बातें हो रही थी मीडिया में यह मॉब लिंचिंग सब हर जगह देखने को मिलेगा क्योंकि समाज दिन उठ कर खड़ा होगा उस दिन दुनिया की कोई भी सरकार और पुलिस इस समाज को नहीं रोक सकती है इसलिए यदि यह कानून की रक्षा करना चाहते हैं संविधान की रक्षा करना चाहते हैं कि जरूरी होगा कि कानून के रखवाले हैं यह कहा जाता है जो कानून के रखवाले हैं वास्तव में रखवाले बनकर उभरे और कूट की भी जिम्मेदारी है इस सही समय पर निर्णय करें देर से किया गया निर्णय अपराधियों को और बनाती है भी बहुत सारी चीजें हैं और तुम मुझे समझ में नहीं आता कहा भी नहीं जा सकता सरकार क्या कदम उठाएगी क्योंकि ऐसा लगता है कि सरकारी स्कूल सरकारी और हम संसद के बाहर सुख संवेदना शोक सभा करें मोहन रहें इस समस्या का निराकरण होने वाला नहीं इस समस्या का निराकरण करने के लिए निश्चित रूप से एक बोल्ड स्टेप करने की जरूरत है सिर्फ फंड की स्थापना कर देने से नहीं होगा बल्कि हम जो स्टेप ले उसको हम भी बहुत सारी चीजें हैं बहुत सारी बातें हैं जिस को कितना भी कहा गया तो कम ही होगा और यह शर्मनाक घटनाएं देश में रुक नहीं रही है उस सरकारों को सीखना चाहिए सरकार संवेदनहीन होती जा रही है

yah nishchit roop se sochne wali baat hai ki ek ke baad ek gang rape ho rahe hain aur sarkari abhi tak soti rahi hai 2012 mein Nirbhaya case hua tha toh us samay Nirbhaya fund ka bhi baat I thi nivesh fund ki baat I thi aur delhi mein jab kaand hua toh tum mujhe lagta hai shayad 319 karo ya is tarah se yah fanda sthapit kiya gaya tha aur rajyo mein bahut saare jo fund avantit kiye gaye the yaar bahut dukh hota hai ki rajyo mein bhi un pannon ka istemal sahi dhang se nahi hua maan lijiye kisi kisi state mein bus itna hi us fund ka upyog ho paya hai aaj 12 2012 ki baat hai aur 2900 gaya 2019 khatam hone ki deewaar par hi itne varshon mein sarkaren chet nahi payi aur mujhe lagta hai ki sarkaro ke saath saath public mein bhi samvedana samapt ho gaya kyonki hum apne baccho ko sanskar nahi de paa rahe hain aur sanskar devi kehte sanskar devi ke sanskaron ke kam hone ke upar aise mein hum ladkiyon ko dabakar rakhna chahte hain lekin ladko ko sanskar dena poore desh mein police bal ki sankhya mein jo kami hai aur us kami ki bharpai nahi ho paa rahi hai aur jo police bal hai abhi usme se lagbhag 30 VIP logo ki suraksha mein lage hue hain aam janta ke hisse kitni police aati hai aap dekh sakte hain police samay par na pohchti hai ki madad kar sakti hai aur jo log gunahgar bhi hain unke bhi hum baat kare toh fast track aur purane gaane daalte hain jo duniya bhar ki banai gayi hain unhone kya hota hai abhi tak record hai ki fast track court ke sirf 30 percent mukadamon ka hi niptara ho pata hai toh aap is se andaja laga ki sarkari nahi sarkari nahi seekh paye lekin apradhiyon ne apradh ke liye sirf kanoon ko kathor bana dene se nahi hoga kanoon kathor banaya jaega gang rape ke baad hatya kar di jayegi taki maloom na chal paye toh kathor kanoon banaye jaane ke saath saath amal mein laya jana chahiye abhi bhi nirnay ke kuch gunahgar ghum rahe hain ghoomne se mera matlab hai bahar hai ne fansi nahi ho payi mujhe lagta hai ki aise kaise main sab kuch bol kar kyon nahi jani chahiye aur jab tak iske liye vishesh adalaten ek samay seema ke andar kaam nahi karti hain ab tak mujhe lagta hai inke andar apradhiyon ke man ke andar nahi paida hoga aur doosra kahin na kahin hamare samaj mein barbarta aur sabhyata badhti ja rahi kyonki Nirbhaya kaand ke baad kathor kanoon banaye jaane ke baad mujhe lagta hai ki lagbhag 40 balatkar ke mukadme nahi paa rahe hain ya pehchaan karke bhi chup ho paa rahe hain toh sarkar ke saath saath samaj ki bhi jimmedari banti hai aur sarkar ko yah samajhna chahiye ki yadi apne kadam ko sahi samay par shak nahi banaya kya aur sakht banne saansad use amal mein nahi laya gaya toh yah samaj ek din hinsak ho jaega aur yah jo beech mob lynching jaisi batein ho rahi thi media mein yah mob lynching sab har jagah dekhne ko milega kyonki samaj din uth kar khada hoga us din duniya ki koi bhi sarkar aur police is samaj ko nahi rok sakti hai isliye yadi yah kanoon ki raksha karna chahte hain samvidhan ki raksha karna chahte hain ki zaroori hoga ki kanoon ke rakhwale hain yah kaha jata hai jo kanoon ke rakhwale hain vaastav mein rakhwale bankar ubhre aur kut ki bhi jimmedari hai is sahi samay par nirnay kare der se kiya gaya nirnay apradhiyon ko aur banati hai bhi bahut saree cheezen hain aur tum mujhe samajh mein nahi aata kaha bhi nahi ja sakta sarkar kya kadam uthayegee kyonki aisa lagta hai ki sarkari school sarkari aur hum sansad ke bahar sukh samvedana shok sabha kare mohan rahein is samasya ka nirakaran hone vala nahi is samasya ka nirakaran karne ke liye nishchit roop se ek bold step karne ki zarurat hai sirf fund ki sthapna kar dene se nahi hoga balki hum jo step le usko hum bhi bahut saree cheezen hain bahut saree batein hain jis ko kitna bhi kaha gaya toh kam hi hoga aur yah sharmnaak ghatnaye desh mein ruk nahi rahi hai us sarkaro ko sikhna chahiye sarkar samvedanhin hoti ja rahi hai

यह निश्चित रूप से सोचने वाली बात है कि एक के बाद एक गैंग रेप हो रहे हैं और सरकारी अभी तक स

Romanized Version
Likes  92  Dislikes    views  1824
WhatsApp_icon
user

pervs

Tutor

2:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो आप गुड मॉर्निंग एवरीवन आज एक निंदा करने वाला एक क्वेश्चन जो किया है आपने एक के बाद एक गैंग रेप होने की खबर आ रही हूं क्या अभी सरकार इसके खिलाफ कोई सख्त कदम नहीं उठाएगी तो आपको बता दो हमारे देश की दोनों की रही ज्यादा खराब स्थिति में एक तो हमारी अर्थव्यवस्था पर एक हमारी उमर दे बस आपको बता दूं जिससे मर्द की उत्पत्ति होती है आप उसको ही खत्म कर दोगे जिंदगी में ऐसे इस संसार में ऐसे तो आप अपनी सुख की प्राप्ति नहीं कर सकते हो सबसे पहले हमें अपनी महिलाओं की और वूमेन की इज्जत करनी चाहिए समाज में सबसे ज्यादा हक बनता है वह औरत का बनता है आपको कहीं भी देखोगे जहां पर भी जाओगे आप हो मार्केट में या फिर आप मंदिर में आप जो भी पूजा करते हो महिलाओं की करते हो और अपनी सबसे ज्यादा वीडियो पसंद करते हो तो ऐसी घिनौनी हरकत कर देंगे और फिर भी एक के बाद एक के बाद एक यह गंदा काम होता रहा है और इसके खिलाफ सरकार कदम तो उठा रही है लेकिन एक सख्त कदम नहीं उठा रही है कि इसको डायरेक्ट पहुंची दे दिया जाए आपको बताऊं यदि इसको जैसे कि आप तो जैसे कि व्हीकल एक्ट लगाकर को ज्यादा पर रोक दिया व्हीकल एक्ट की तरह अगर आप चाहो तो इसको भी प्रकार के लिए सख्त कदम उठा सकती है लेकिन सरकार को और मुद्दों पर से फुर्सत नहीं है हिंदू मुस्लिम करवा लिया फिर राम मंदिर पर चर्चा करवा लो ऐसे मुद्दों पर ज्यादा फुरसत है तो इसलिए उस पर ज्यादा चर्चा होनी चाहिए बजाय उस पर तो सबसे पहले तो मैं यही रिक्वेस्ट करूंगा कि सरकार को सख्त से सख्त कदम उठाने चाहिए और ऐसी नफरत फैल गई है कि रात में महिलाओं का निकलना ज्यादा मुश्किल हो गया है और रात में बात सब जाति की रात में जो मनुष्य होता है जो आदमी होता है वह दिन में कुछ और रात में जानवर हो जाता है क्या यह बात समझ नहीं आती है रात में भी याद नहीं रहता है और दिन में भी आदमी रहता है किस दूध पॉजिटिव है उसकी यह समझ नहीं आता है या फिर उसके आसपास कोई लोग नहीं है या फिर उसकी मैथिली तरह से चेंज हो जाती है या फिर ऐसा हो सकता है वह एजुकेटेड हो इसमें सीमेंट लेडी केंद्र आती है तो इसको कुछ कहा नहीं जा सकता है लेकिन जो भी है एक तो बहुत न करने वाली बात है कि ऐसे हमारे देश में पूजा करने वाला देश विभिन्न धर्मों को मारने वाला देश जिसमें महिलाओं की इज्जत नहीं की जा रही है तो वैसे ही सवाल पूछते रहिए और चालू कीजिए गूगल पर बहुत-बहुत धन्यवाद आपका

hello aap good morning everyone aaj ek ninda karne vala ek question jo kiya hai aapne ek ke baad ek gang rape hone ki khabar aa rahi hoon kya abhi sarkar iske khilaf koi sakht kadam nahi uthayegee toh aapko bata do hamare desh ki dono ki rahi zyada kharab sthiti mein ek toh hamari arthavyavastha par ek hamari umar de bus aapko bata doon jisse mard ki utpatti hoti hai aap usko hi khatam kar doge zindagi mein aise is sansar mein aise toh aap apni sukh ki prapti nahi kar sakte ho sabse pehle hamein apni mahilaon ki aur women ki izzat karni chahiye samaj mein sabse zyada haq banta hai vaah aurat ka banta hai aapko kahin bhi dekhoge jaha par bhi jaoge aap ho market mein ya phir aap mandir mein aap jo bhi puja karte ho mahilaon ki karte ho aur apni sabse zyada video pasand karte ho toh aisi ghinauni harkat kar denge aur phir bhi ek ke baad ek ke baad ek yah ganda kaam hota raha hai aur iske khilaf sarkar kadam toh utha rahi hai lekin ek sakht kadam nahi utha rahi hai ki isko direct pahuchi de diya jaaye aapko bataun yadi isko jaise ki aap toh jaise ki vehicle act lagakar ko zyada par rok diya vehicle act ki tarah agar aap chaho toh isko bhi prakar ke liye sakht kadam utha sakti hai lekin sarkar ko aur muddon par se phursat nahi hai hindu muslim karva liya phir ram mandir par charcha karva lo aise muddon par zyada furasat hai toh isliye us par zyada charcha honi chahiye bajay us par toh sabse pehle toh main yahi request karunga ki sarkar ko sakht se sakht kadam uthane chahiye aur aisi nafrat fail gayi hai ki raat mein mahilaon ka nikalna zyada mushkil ho gaya hai aur raat mein baat sab jati ki raat mein jo manushya hota hai jo aadmi hota hai vaah din mein kuch aur raat mein janwar ho jata hai kya yah baat samajh nahi aati hai raat mein bhi yaad nahi rehta hai aur din mein bhi aadmi rehta hai kis doodh positive hai uski yah samajh nahi aata hai ya phir uske aaspass koi log nahi hai ya phir uski maithali tarah se change ho jaati hai ya phir aisa ho sakta hai vaah educated ho isme cement lady kendra aati hai toh isko kuch kaha nahi ja sakta hai lekin jo bhi hai ek toh bahut na karne wali baat hai ki aise hamare desh mein puja karne vala desh vibhinn dharmon ko maarne vala desh jisme mahilaon ki izzat nahi ki ja rahi hai toh waise hi sawaal poochhte rahiye aur chaalu kijiye google par bahut bahut dhanyavad aapka

हेलो आप गुड मॉर्निंग एवरीवन आज एक निंदा करने वाला एक क्वेश्चन जो किया है आपने एक के बाद एक

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  552
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

5:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक के बाद एक घंटा की खबरें आ रही है क्या अब भी सरकार इसके खिलाफ कोई सख्त देखिए यह सही है कि एक के बाद एक खबरें आ रही हैं और हमारे देश में जगह-जगह पर गैंगरेप खोलें दरमियां कांड के बाद सरकार ने सख्त कानून बनाया और जन्म की आजीवन पर और फांसी तक की सजा का प्रावधान किया लेकिन तब भी इस तरह की दुर्घटनाएं जघन्य अपराध हो रहे हैं यह बहुत ही चिंता का विषय है सजा का प्रावधान करना यह सही है लेकिन हमें इस पर सोचना चाहिए कि ऐसी जो घटनाएं होती हैं जगन ने अपराध होते हैं वह क्यों होते हैं रोकथाम उसकी होनी चाहिए हमें हमारी सरकार को जरूर सोचना चाहिए कि कोई माता पिता अपने बेटे को यह नहीं सिखाते हैं किसी भी लड़की के साथ इस तरह की मानव विरोधी इंसानियत के खिलाफ ऐसा काम करें वह सकते हैं बार अपने दोस्तों से और दोस्त लोग जो होते हैं वह सब जोशी ने ज्योति है याने की 18 पुलिस और 25 26 साल की उम्र के लोग व्यस्त इस साल के लोग यह कार्य को अंजाम देते हैं वह लोग बहुत सारा पॉर्नोग्राफी चली पोर्नोग्राफी देखकर यूट्यूब में यह सब्जेक्ट और उसी से जो इंस्पिरेशन लेते हैं और ऐसे काम करने के लिए सोचते किसी भी इंसान के कबीर की जो हार्मोन चेंज होते हैं इसी समय में होते हैं वह लड़की हो या लड़के से हूं लेकिन लड़के लोग इस तरह का घिनौना काम अगर करेंगे तो उनकी सोच को बदलना जरूरी सोच बदलने के लिए हमें उनकी माताओं को जो भी बालक है लड़के हैं उनकी माताओं को जरूर सिखाएं कि इस तरह का काम जिंदगी में कभी भी ना करें इसके अलावा जो इंटरनेट के द्वारा और सोशल मीडिया के द्वारा या जो हो रही है उसमें जो बहुत सारी इस तरह से वारदात को प्रोत्साहन देने वाला जो भी दिखाया जा रहा है इसके ऊपर लगाम लक्ष्मी जरूरी है यूट्यूब सोशल मीडिया हो लेकिन पॉर्नोग्राफिक फिल्म यासीन या न्यूड सींस पर बैन लगाना जरूरी है विश्व को एक कर दिया इंटरनेट पर लिखकर अगर उसके दुष्परिणाम अगर हमारे देश के जवानों को शहीद उस प्रेरणा देता है उनकी मानसिकता को बदलने के लिए हमें इन सब जो पोर्नोग्राफिक फिल्में हैं और पोर्नोग्राफिक आर्टिकल सहित उस पर जरूर बैन लगाना चाहिए वही इस समस्या का असर करता परिवार को सकता है क्योंकि एचडी बलात्कार की घटना नेट के पहले जब नेट नहीं हुआ करता था इंटरनेट नहीं हुआ करता था तो इतनी जगन ने अपराध पहले इतने नहीं होते ऐसे जघन्य अपराध उसके बाद ही हुए हैं उनकी संख्या की बढ़ोतरी उसके बाद ही है इसलिए हम समझ सकते हैं कि इसका मूल कारण क्या है कोई गुरु नहीं सिखाता कोई शिक्षक नहीं सिखाता मां बाप नहीं सिखाते और मैं उस इंसान को जो होते हैं वह पहले भी वही चेंज होते थे आज भी हुई हो रहे हैं लेकिन यह तो सोच में फर्क आने का कारण क्या है उसके ऊपर कुठाराघात करना आज की सबसे बड़ी जरूरत हो गई है हम कामना करते हैं कि इसमें कुछ सोचा जाए विचार विनय में हो और वरिष्ठ एक्शन लिया जाए क्योंकि मानसिकता बदलना कोई इतना आसान नहीं होता और खासकर के युवाओं की युवाओं की मानसिकता बदलना है तो जो उनको इफेक्ट करती हूं उसी मानसिकता को उसके ऊपर हमें जरूर बदलाव करने होंगे आशा करता हूं कि इस पर गंभीरता से सब लोग विचार करेंगे और तभी उसके बाद इस तरह की दुर्घटना इंटर कन्या पदार्थ हम रोक सके धन्यवाद

ek ke baad ek ghanta ki khabren aa rahi hai kya ab bhi sarkar iske khilaf koi sakht dekhiye yah sahi hai ki ek ke baad ek khabren aa rahi hain aur hamare desh mein jagah jagah par gangrape kholen darmiyan kaand ke baad sarkar ne sakht kanoon banaya aur janam ki aajivan par aur fansi tak ki saza ka pravadhan kiya lekin tab bhi is tarah ki durghatanaen jaghanya apradh ho rahe hain yah bahut hi chinta ka vishay hai saza ka pravadhan karna yah sahi hai lekin hamein is par sochna chahiye ki aisi jo ghatnaye hoti hain jagan ne apradh hote hain vaah kyon hote hain roktham uski honi chahiye hamein hamari sarkar ko zaroor sochna chahiye ki koi mata pita apne bete ko yah nahi sikhaate hain kisi bhi ladki ke saath is tarah ki manav virodhi insaniyat ke khilaf aisa kaam kare vaah sakte hain baar apne doston se aur dost log jo hote hain vaah sab joshi ne jyoti hai yane ki 18 police aur 25 26 saal ki umr ke log vyast is saal ke log yah karya ko anjaam dete hain vaah log bahut saara parnografi chali pornography dekhkar youtube mein yah subject aur usi se jo Inspiration lete hain aur aise kaam karne ke liye sochte kisi bhi insaan ke kabir ki jo hormone change hote hain isi samay mein hote hain vaah ladki ho ya ladke se hoon lekin ladke log is tarah ka ghinauna kaam agar karenge toh unki soch ko badalna zaroori soch badalne ke liye hamein unki mataon ko jo bhi balak hai ladke hain unki mataon ko zaroor sikhaye ki is tarah ka kaam zindagi mein kabhi bhi na kare iske alava jo internet ke dwara aur social media ke dwara ya jo ho rahi hai usme jo bahut saree is tarah se vaardaat ko protsahan dene vala jo bhi dikhaya ja raha hai iske upar lagaam laxmi zaroori hai youtube social media ho lekin parnografik film yaseen ya nude since par ban lagana zaroori hai vishwa ko ek kar diya internet par likhkar agar uske dushparinaam agar hamare desh ke jawano ko shaheed us prerna deta hai unki mansikta ko badalne ke liye hamein in sab jo pornografik filme hain aur pornografik article sahit us par zaroor ban lagana chahiye wahi is samasya ka asar karta parivar ko sakta hai kyonki hd balatkar ki ghatna net ke pehle jab net nahi hua karta tha internet nahi hua karta tha toh itni jagan ne apradh pehle itne nahi hote aise jaghanya apradh uske baad hi hue hain unki sankhya ki badhotari uske baad hi hai isliye hum samajh sakte hain ki iska mul karan kya hai koi guru nahi sikhata koi shikshak nahi sikhata maa baap nahi sikhaate aur main us insaan ko jo hote hain vaah pehle bhi wahi change hote the aaj bhi hui ho rahe hain lekin yah toh soch mein fark aane ka karan kya hai uske upar kutharaghat karna aaj ki sabse badi zarurat ho gayi hai hum kamna karte hain ki isme kuch socha jaaye vichar vinay mein ho aur varishtha action liya jaaye kyonki mansikta badalna koi itna aasaan nahi hota aur khaskar ke yuvaon ki yuvaon ki mansikta badalna hai toh jo unko effect karti hoon usi mansikta ko uske upar hamein zaroor badlav karne honge asha karta hoon ki is par gambhirta se sab log vichar karenge aur tabhi uske baad is tarah ki durghatna inter kanya padarth hum rok sake dhanyavad

एक के बाद एक घंटा की खबरें आ रही है क्या अब भी सरकार इसके खिलाफ कोई सख्त देखिए यह सही है क

Romanized Version
Likes  56  Dislikes    views  1135
WhatsApp_icon
user

Shubham Kumar

Yoga Instructor

3:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत ही तीखा प्रश्न आज मैं बहुत ही सहम गया हूं स्टेशन से की की एक एक के बाद एक गैंग रेप होने की खबरें आ रही हैं और अब भी सरकार इसके खिलाफ कोई सख्त कदम क्यों नहीं उठाए बता देना चाहता हूं को सरकार कब तक सरकार के लिए आप लोग चिल्लाते रहेंगे तब तक सरकार के लिए सब लोग बोलते रहेंगे आप यह जंक्शन का अधिकार नहीं बनेगा जन-जन से बातें नहीं जुड़े गी तब तक यह नारे रुकेंगे ना मर्डर रुकेंगे ना कोई कोई भी गलत काम जब तक तब तक नहीं रुकेगा जब तक जन-जन से नहीं जुड़ सकता है कब तक हर चीज के लिए सरकार के पास ही पागल होंगे अगर यह हमारी बहन के साथ होता अगर यह हमारी किसी के साथ होता तो क्या हम सरकार के पास जाते तो आप बोलेंगे मुझे कि हम क्या कर सकते हैं इसके लिए आप यह कर सकते हैं आप उनके लिए अपनी नजरिए को बदल सकते हैं और जब तक नजर का नजरिया नहीं बदलेगा तब तक यह नारे रुकेंगे रुकेंगे सरकार क्या कर सकती है सरकार इसमें कुछ भी नहीं कर सकती और मैं तो यह कहता हूं अभी जो आगामी सरकार हमें चल रही है जो भी वर्तमान में सरकार चली और जो आगामी सरकार आएगी वह मेरे को नहीं रुकवा सकते हैं हमसे बहुत ही डेवलप्ड कंट्री अमेरिका इंग्लैंड यहां जब हमसे हमारे देश से ज्यादा रेप हो रही है क्या वहां रेप रुक गई क्योंकि नजर का नजर का तो इलाज है साहब नजरिए का इलाज नहीं है इसलिए जन जन की बात है और इसे जन जन को समझना होगा कि वह हमारी बहन है हमें मानना होगा कि हमारे देश में जितने भी बहन है वह सब हमारी बहन है और जब हम आज सड़क पर निकलते हैं तुम्हारी नजर उनके कपड़ों पर जाते हैं उनके वस्त्रों पर जाता लेकिन जब तक आज हमारे देश से भाव यह उठ चुका है आज हम लोग सब अभाव में गोरा बीमारियों का तो इलाज है साहब इसके अंदर भाव नहीं है कभी कोई इलाज नहीं आज हम सारी बहनों को एक वेश्या के रूप में देख रहे हैं इसलिए मैं आज बहुत ही एक अंतरात्मा से बात कहना चाहता हूं कि हर एक चेतना की आवाज रखनी चाहिए सरकार की सिर्फ काम नहीं है हर एक चेतना हर एक मनोवृति से बात रखनी चाहिए कि हमारी बहन के साथ आज कुछ हुआ है आज पूरे देश को सहम जाना चाहिए बस 2 दिनों के लिए नहीं 2 दिनों की चर्चाओं की बात नहीं जिस तरह खाना हर दिन हर पल खाना पचने शरीर में उत्तर आपके अंदर भी एक ज्वाला जलती रहनी चाहिए और आपको क्या लगता है उसे फांसी मिल जाएगी उस दरिंदे को को उनका फैसला हो जाएगा उनकी हक की लड़ाई जीत जाएंगे वह उनको फैसला मिलेगा फिर से कोई नया रेप अभी तो पेपरों की तैयारी भी नहीं चुकी थी और नया खबर छप चुका पेपर में किसी रेट नहीं रहती इसलिए आप लोग से विनम्र विनती है मेरी अपनी मन की चेतना को जोड़ें और उनसे जुड़े जो हमारी कोई थी मैं खेत चाहता हूं अगर हमारी कोई बात से आपको ठेस पहुंचा हो तो धन्यवाद

bahut hi teekha prashna aaj main bahut hi saham gaya hoon station se ki ki ek ek ke baad ek gang rape hone ki khabren aa rahi hai aur ab bhi sarkar iske khilaf koi sakht kadam kyon nahi uthye bata dena chahta hoon ko sarkar kab tak sarkar ke liye aap log chillate rahenge tab tak sarkar ke liye sab log bolte rahenge aap yah junction ka adhikaar nahi banega jan jan se batein nahi jude gi tab tak yah nare rokenge na murder rokenge na koi koi bhi galat kaam jab tak tab tak nahi rukega jab tak jan jan se nahi jud sakta hai kab tak har cheez ke liye sarkar ke paas hi Pagal honge agar yah hamari behen ke saath hota agar yah hamari kisi ke saath hota toh kya hum sarkar ke paas jaate toh aap bolenge mujhe ki hum kya kar sakte hai iske liye aap yah kar sakte hai aap unke liye apni nazariye ko badal sakte hai aur jab tak nazar ka najariya nahi badlega tab tak yah nare rokenge rokenge sarkar kya kar sakti hai sarkar isme kuch bhi nahi kar sakti aur main toh yah kahata hoon abhi jo aagaami sarkar hamein chal rahi hai jo bhi vartaman mein sarkar chali aur jo aagaami sarkar aayegi vaah mere ko nahi rukvaa sakte hai humse bahut hi developed country america england yahan jab humse hamare desh se zyada rape ho rahi hai kya wahan rape ruk gayi kyonki nazar ka nazar ka toh ilaj hai saheb nazariye ka ilaj nahi hai isliye jan jan ki baat hai aur ise jan jan ko samajhna hoga ki vaah hamari behen hai hamein manana hoga ki hamare desh mein jitne bhi behen hai vaah sab hamari behen hai aur jab hum aaj sadak par nikalte hai tumhari nazar unke kapdo par jaate hai unke vastron par jata lekin jab tak aaj hamare desh se bhav yah uth chuka hai aaj hum log sab abhaav mein gora bimariyon ka toh ilaj hai saheb iske andar bhav nahi hai kabhi koi ilaj nahi aaj hum saree bahnon ko ek vaishya ke roop mein dekh rahe hai isliye main aaj bahut hi ek antaraatma se baat kehna chahta hoon ki har ek chetna ki awaaz rakhni chahiye sarkar ki sirf kaam nahi hai har ek chetna har ek manovriti se baat rakhni chahiye ki hamari behen ke saath aaj kuch hua hai aaj poore desh ko saham jana chahiye bus 2 dino ke liye nahi 2 dino ki charchaon ki baat nahi jis tarah khana har din har pal khana pachane sharir mein uttar aapke andar bhi ek jwala jalti rehni chahiye aur aapko kya lagta hai use fansi mil jayegi us darinde ko ko unka faisla ho jaega unki haq ki ladai jeet jaenge vaah unko faisla milega phir se koi naya rape abhi toh peparon ki taiyari bhi nahi chuki thi aur naya khabar chhap chuka paper mein kisi rate nahi rehti isliye aap log se vinamra vinati hai meri apni man ki chetna ko joden aur unse jude jo hamari koi thi main khet chahta hoon agar hamari koi baat se aapko thes pohcha ho toh dhanyavad

बहुत ही तीखा प्रश्न आज मैं बहुत ही सहम गया हूं स्टेशन से की की एक एक के बाद एक गैंग रेप हो

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  221
WhatsApp_icon
user

Bhaiya G

cricketer

2:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी हमारे देश में कानून व्यवस्था को हम अच्छी तरह जानते हैं हमारे यहां जो न्याय प्रणाली है वह इतनी स्लो और सुस्त है जिससे इसे मुझे लगता है कि देश का हर सिरजनहार नागरिक जानता है जिसके बारे में दूसरी चीज है जो रेप जैसे कांड अटेंड करते हैं दाबाद में जो भी हुआ दिल्ली में जो हुआ हैदराबाद में भी जो लेटेस्ट में बिल्कुल तुरंत हुआ है यह वो लोग ऐसा कर कैसे लोग देते हैं ऐसा सोच भी कैसे लोग देते हैं मुझे यह समझ में नहीं आता कि क्या मेंटालिटी है इन लोगों की जिन्होंने ऐसे टाइम तभी तक किया है और करते आ रहे हैं देश में हर साल 30000 से 40000 रेप कांड होते हैं मतलब और स्थान अगर हम पढ़ने की बात करें तो 106 रेप दिल्ली होता है भारत में कितनी घटिया और कितनी शर्मनाक बात है जनता क्या कर सकती भैया गवर्नमेंट के लिए 5 साल में आप का चुनाव आता है हमेशा उस चुनाव में जाकर आपको वोटिंग करती है आपकी सरकार बनाती है इसलिए क्या इन सब चीजों को देखने के लिए अगर हमें भी इन्हीं मुद्दों को देख हम घर के मुद्दे तो ऑलरेडी हम सो जाते हैं अब यह मुद्दे घर के नहीं होते हैं यह देश के मुद्दे होते हैं अगर आप इससे भी नहीं समझा सकते हैं तो फिर हम आपको ही लेकर क्यों लेकर आए मैं माननीय अमित शाह जी से और नरेंद्र मोदी जी से आग्रह करूंगा कि इस जो भी यह हुआ है कांड इस कांड के प्रति बहुत ही तत्काल इसके बारे में कोई ना कोई ऐसा सलूशन निकालें जिससे आने वाली पीढ़ी में आने वाली जनरेशन आने वाले टाइम पर लोग इसके बारे में हजार बार सोचे यह वह लोग हैं जो कभी नहीं सुधरेंगे इन्हें अपनी मां बेटी बहन तो दिखती है लेकिन दूसरों की मां बेटी बहन को रेप करने के लिए टाइम करने के उनके दिमाग में ख्याल भी आता है हमें ख्याल को निकालना है कि जो इनको ख्याल आ जाता है अपनी मां बहन बेटी के साथ रेप क्यों नहीं करते बहुत ही बड़ी बड़ा मुद्दा है दो टाइम की रोटी नहीं मिलेगी इंसान जी लेगा लेकिन आजाद हिंदुस्तान में रहकर अगर हम भयभीत होकर रह रहे हैं कि भाई कल को बेटी घर से बाहर मत निकालो उसका रेप हो जाएगा कुछ ऐसा हो जाएगा हम सारी चीजों को मानते हैं कि एक बात अगर आप बोलेगी कपड़े लगते ऐसा ना तभी सारे चीज को सपोर्ट किया जाता है कि हद तक की बिल्कुल यह सब चीजें कहने के लेकिन इस तरह का जो कांड है सामने आता है वह कतई गलत है अगर आज हिंदुस्तान में हम इस तरह की चीजों को सहन करेंगे तो हमें बड़ी ही बड़ी शर्म की बात है इसके बारे में एक गवर्नमेंट को कुछ ना कुछ नया फैसला बनाना चाहिए ताकि यह अपने मां बहन बेटी की तरह दूसरों की मां बहन बेटी को समझें और एक जैसे अटेंड नहीं हो भविष्य में कभी भी

vicky hamare desh mein kanoon vyavastha ko hum achi tarah jante hain hamare yahan jo nyay pranali hai vaah itni slow aur sust hai jisse ise mujhe lagta hai ki desh ka har sirajanahar nagarik jaanta hai jiske bare mein dusri cheez hai jo rape jaise kaand attend karte hain dabad mein jo bhi hua delhi mein jo hua hyderabad mein bhi jo latest mein bilkul turant hua hai yah vo log aisa kar kaise log dete hain aisa soch bhi kaise log dete hain mujhe yah samajh mein nahi aata ki kya mentalaity hai in logo ki jinhone aise time tabhi tak kiya hai aur karte aa rahe hain desh mein har saal 30000 se 40000 rape kaand hote hain matlab aur sthan agar hum padhne ki baat kare toh 106 rape delhi hota hai bharat mein kitni ghatiya aur kitni sharmnaak baat hai janta kya kar sakti bhaiya government ke liye 5 saal mein aap ka chunav aata hai hamesha us chunav mein jaakar aapko voting karti hai aapki sarkar banati hai isliye kya in sab chijon ko dekhne ke liye agar hamein bhi inhin muddon ko dekh hum ghar ke mudde toh already hum so jaate hain ab yah mudde ghar ke nahi hote hain yah desh ke mudde hote hain agar aap isse bhi nahi samjha sakte hain toh phir hum aapko hi lekar kyon lekar aaye main mananiya amit shah ji se aur narendra modi ji se agrah karunga ki is jo bhi yah hua hai kaand is kaand ke prati bahut hi tatkal iske bare mein koi na koi aisa salution nikale jisse aane wali peedhi mein aane wali generation aane waale time par log iske bare mein hazaar baar soche yah vaah log hain jo kabhi nahi sudhrenge inhen apni maa beti behen toh dikhti hai lekin dusro ki maa beti behen ko rape karne ke liye time karne ke unke dimag mein khayal bhi aata hai hamein khayal ko nikalna hai ki jo inko khayal aa jata hai apni maa behen beti ke saath rape kyon nahi karte bahut hi badi bada mudda hai do time ki roti nahi milegi insaan ji lega lekin azad Hindustan mein rahkar agar hum bhayabhit hokar reh rahe hain ki bhai kal ko beti ghar se bahar mat nikalo uska rape ho jaega kuch aisa ho jaega hum saree chijon ko maante hain ki ek baat agar aap bolegi kapde lagte aisa na tabhi saare cheez ko support kiya jata hai ki had tak ki bilkul yah sab cheezen kehne ke lekin is tarah ka jo kaand hai saamne aata hai vaah katai galat hai agar aaj Hindustan mein hum is tarah ki chijon ko sahan karenge toh hamein badi hi badi sharm ki baat hai iske bare mein ek government ko kuch na kuch naya faisla banana chahiye taki yah apne maa behen beti ki tarah dusro ki maa behen beti ko samajhe aur ek jaise attend nahi ho bhavishya mein kabhi bhi

विकी हमारे देश में कानून व्यवस्था को हम अच्छी तरह जानते हैं हमारे यहां जो न्याय प्रणाली है

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  222
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

2:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रिक्वेस्ट है जब तक हमारी मेंटल जी हमारे विचार हमारे सोचने समझने की बदलेगी तब तक यह काम होते रहेंगे इसमें सरकार क्या कर सकती है अब लड़की नौकरी करके आ रही है चार गुंडे पीछे लग गए हैं सरकार की क्या गलती है आजकल नहीं है लोगों की बहुत ज्यादा खराब होती जा रही है ₹100 पर आ गई जान से मार दिया जाता है तो यह कि जब तक अपने दिमाग में नहीं आएगी हर इंसान के दिमाग में नहीं आएगी कल कोई मेरे बेटी के साथ पूरा मेरी बहन के साथ हुआ तो क्या होगा जब दिमाग में नहीं आई तो सरकार क्या खराबी की पिक्चर देखनी है उजाला बैटरी सकता अगर बैटरी जाता है यह गली आधा किलोमीटर की है उसके अंदर कहां से कहां से घूमता रहेगा वह इसलिए हमें अपना विचार करना पड़ेगा हमारे भावना जैन के निकलेगी तब जाके हम इस समस्या से सुधार का होगी कि सरकार क्या करेगी सरकार को करी जा सकती है हम गुस्सा करना चाहिए इसलिए हमें अभी भी चार्ज पर चेंज होंगे हमारे मन की भावना चित्र चेंज नहीं होगी हमारी इच्छा ही नहीं चेंज होगी तो क्या इसका कोई सलूशन नहीं है हर इंसान को यह क्या चाहिए हम किसी की बहन के साथ होगा क्या होगा अब यह दिमाग में नहीं आएगी तब तक हम कुछ नहीं कर सकते क्योंकि हमें अपनी सोच बदल दी है विचार बदलने हैं मन बदलना है और सब महिलाओं को लड़कियों को एक नजर देखना है

request hai jab tak hamari mental ji hamare vichar hamare sochne samjhne ki badalegi tab tak yah kaam hote rahenge isme sarkar kya kar sakti hai ab ladki naukri karke aa rahi hai char gunde peeche lag gaye hain sarkar ki kya galti hai aajkal nahi hai logo ki bahut zyada kharab hoti ja rahi hai Rs par aa gayi jaan se maar diya jata hai toh yah ki jab tak apne dimag mein nahi aayegi har insaan ke dimag mein nahi aayegi kal koi mere beti ke saath pura meri behen ke saath hua toh kya hoga jab dimag mein nahi I toh sarkar kya kharabi ki picture dekhni hai ujaala battery sakta agar battery jata hai yah gali aadha kilometre ki hai uske andar kahaan se kahaan se ghoomta rahega vaah isliye hamein apna vichar karna padega hamare bhavna jain ke nikalegi tab jake hum is samasya se sudhaar ka hogi ki sarkar kya karegi sarkar ko kari ja sakti hai hum gussa karna chahiye isliye hamein abhi bhi charge par change honge hamare man ki bhavna chitra change nahi hogi hamari iccha hi nahi change hogi toh kya iska koi salution nahi hai har insaan ko yah kya chahiye hum kisi ki behen ke saath hoga kya hoga ab yah dimag mein nahi aayegi tab tak hum kuch nahi kar sakte kyonki hamein apni soch badal di hai vichar badalne hain man badalna hai aur sab mahilaon ko ladkiyon ko ek nazar dekhna hai

रिक्वेस्ट है जब तक हमारी मेंटल जी हमारे विचार हमारे सोचने समझने की बदलेगी तब तक यह काम होत

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  582
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!