महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के शपथ ग्रहण में क्यूँ नहीं जाना चाहते राहुल गांधी? आपकी क्या राय है?...


play
user
0:39

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के शपथ समारोह में राहुल गांधी जा रही है नहीं जा रही है खेल सकते हैं यह उनका निजी गत व्यक्तिगत मामला हो सकता है पर एक बात बताइए कि शिवसेना कांग्रेस और एनसीपी मिलकर सरकार बना रही है ऐसे में राहुल गांधी का व्यक्तिगत मामला हो सकता है शायद उन्हें यह पसंद है

maharashtra mein uddhav thakare ke shapath samaroh mein rahul gandhi ja rahi hai nahi ja rahi hai khel sakte hain yah unka niji gat vyaktigat maamla ho sakta hai par ek baat bataiye ki shivsena congress aur ncp milkar sarkar bana rahi hai aise mein rahul gandhi ka vyaktigat maamla ho sakta hai shayad unhe yah pasand hai

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के शपथ समारोह में राहुल गांधी जा रही है नहीं जा रही है खेल सकते

Romanized Version
Likes  59  Dislikes    views  1663
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के शपथ ग्रहण में क्यों नहीं जाना चाहते राहुल गांधी आपकी क्या राय है कि महाराष्ट्र में 2 पंक्तियां बनी इतने शिवसेना की अगुवाई में एनसीपी के सरकार और कांग्रेस की सरकार से एकता से गठबंधन सरकार बन रही है यह नहीं कहा जाएगा लेकिन कांग्रेस का गठबंधन है इसके पहले कर्नाटक में भी स्तर की सरकार बनी थी और उसका क्या अंजाम हुआ था यह भी पूरा सब लोग को मालूम है इसलिए उद्धव ठाकरे के शपथ ग्रहण में राहुल गांधी ने निर्णय दिया हो क्यों नहीं जाए और वह बोलते कुछ हैं करते पूछे जा भी सकते हैं उनका निजी देना होगा क्योंकि अभी अभी वह गुप्त वास्ते संसद में आए थे और बहुत ही खुश तुषार लग रहे थे और बहुत ही स्मार्ट लग रहे हो सकता है उन्होंने और कांग्रेस पार्टी का एक पैर से कहा जाए कि विचार होगा और जो निर्णय करेंगे वह सब को शिकार होगा करना चाहिए क्योंकि भविष्य क्या है वह तो अभी समझ में नहीं आता है क्योंकि तीनों पार्टियों में जो विचार है वह बिल्कुल उत्तर दक्षिण हैं शिवसेना कठोर हिंदुत्ववादी विचारधारा है और आपको मिस टीचर जगह सॉफ्ट हिंदुत्व वाली और एनसीपी तो मालूम नहीं है सबको सरकार गठन में महत्वपूर्ण चाणक्य की भूमिका निभाई है सरकार को चलाने की जिम्मेदारी दोनों पार्टियों के साथ-साथ शिवसेना की बहुत ज्यादा बनती है और वैचारिक मतभेद पोर्टफोलियो का बंटवारा उत्सव में बहुत खींचातानी होने की गुंजाइश नजर आती है और सरकार बनाना ठीक है बन गई सरकार बन जाएगी लेकिन सरकार चलाना 5 साल बहुत ही कठिन काम होगा और वह सकता है कि कहीं से कितना हो कोई कर नहीं सकता इसलिए

maharashtra mein uddhav thakare ke shapath grahan mein kyon nahi jana chahte rahul gandhi aapki kya rai hai ki maharashtra mein 2 panktiyan bani itne shivsena ki aguvaii mein ncp ke sarkar aur congress ki sarkar se ekta se gathbandhan sarkar ban rahi hai yah nahi kaha jaega lekin congress ka gathbandhan hai iske pehle karnataka mein bhi sthar ki sarkar bani thi aur uska kya anjaam hua tha yah bhi pura sab log ko maloom hai isliye uddhav thakare ke shapath grahan mein rahul gandhi ne nirnay diya ho kyon nahi jaaye aur vaah bolte kuch hain karte pooche ja bhi sakte hain unka niji dena hoga kyonki abhi abhi vaah gupt vaaste sansad mein aaye the aur bahut hi khush tushaar lag rahe the aur bahut hi smart lag rahe ho sakta hai unhone aur congress party ka ek pair se kaha jaaye ki vichar hoga aur jo nirnay karenge vaah sab ko shikaar hoga karna chahiye kyonki bhavishya kya hai vaah toh abhi samajh mein nahi aata hai kyonki teenon partiyon mein jo vichar hai vaah bilkul uttar dakshin hain shivsena kathor hindutvawadi vichardhara hai aur aapko miss teacher jagah soft hindutv waali aur ncp toh maloom nahi hai sabko sarkar gathan mein mahatvapurna chanakya ki bhumika nibhaai hai sarkar ko chalane ki zimmedari dono partiyon ke saath saath shivsena ki bahut zyada banti hai aur vaicharik matbhed portfolio ka batwara utsav mein bahut khinchatani hone ki gunjaiesh nazar aati hai aur sarkar banana theek hai ban gayi sarkar ban jayegi lekin sarkar chalana 5 saal bahut hi kathin kaam hoga aur vaah sakta hai ki kahin se kitna ho koi kar nahi sakta isliye

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के शपथ ग्रहण में क्यों नहीं जाना चाहते राहुल गांधी आपकी क्या रा

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  958
WhatsApp_icon
user

N. K. SINGH 'Nitesh'

Educator, Life Coach, Writer and Expert in British English Language, Author of Book/Fiction Lucky Girl (Love vs Marriage)

3:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि आपने पूछा कि महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की शपथ ग्रहण में क्यों नहीं जाना चाहते हैं राहुल गांधी मैं बता दूं कि राहुल गांधी और सोनिया गांधी की जो नहीं पहुंचे थे इसलिए नहीं आना चाहते क्योंकि यह धर्मनिरपेक्षता के मुद्दे को छोड़ना नहीं चाहते वह एक रास्ता रखना चाहते हैं अपने पास कुछ जानते हैं कि शिवसेना का अस्तित्व जब महाराष्ट्र की राजनीति में आया तो उसके साथ साथ धर्म जुड़ा हुआ था यह लोग हिंदू धर्म को बढ़ावा देते हैं यह हिंदू धर्म की पहचान के लिए भी कार्य करते हैं शिवसैनिक मी शिवसैनिक नाम भी मिला और जब तक बालासाहेब थे तब तक उन्होंने शाम की क्या तुम महाराष्ट्र की राजनीति में बाला साहब ने जो अपना दमखम बनाया जो अपने आप को साबित किया उसके पीछे शिवसेना का हिंदुत्ववादी चेहरा ही था हिंदुत्ववादी कार्य ही था ऐसी स्थिति में आज सरकार बन रही है एनसीपी की कांग्रेस की और शिवसेना की मिली-जुली वैसे में कांग्रेस के लिए जो वरिष्ठ नेता है वह शपथ ग्रहण समारोह में इसलिए नहीं जाना चाहते हैं क्योंकि कल उनके ऊपर अंगुली उठ सकती है कि आप की धर्मनिरपेक्षता का क्या हुआ आपने देखा होगा राहुल गांधी जी ने भी ट्वीट किया है उसमें लिखा है कि मुझे आशा है कि यह सरकार में पोस्ट होगी इसका मतलब है कि राहुल गांधी चाहते हैं कांग्रेस के ऊपर किसी विशेष धर्म से लगा होने का आरोप ना लगे दूसरी तरफ यह कांग्रेस के जो बड़े लीडर हैं राहुल गांधी सोनिया गांधी और भी दूसरे बहुत सारे बड़े लीडर हैं जो वहां उपस्थित नहीं थे शपथ ग्रहण समारोह के दौरान वह चाहते हैं कि एक रास्ता हमेशा तैयार रहे बना रहे क्योंकि इस सरकार की समय सीमा कितनी होगी कुछ नहीं कहा जा सकता यह अलग बात है कि उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में सब ने भरोसा जताया है और उद्धव ठाकरे का करैक्टर कब तक साफ रहा है इसमें कोई दो राय नहीं है उनकी शालीनता बीएफ मिश्रा देखने को मिलते हैं लेकिन यह तीनों मिलकर सरकार को कितनी दूर तक ले जाएंगे और 5 साल तक चला पाएंगे या नहीं या कुछ कहा नहीं जा सकता है ऐसे में कांग्रेस के बड़े नेता सतर्क है इस मामले को लेकर के कि यदि सरकार नहीं चल पाती है और शिवसेना के साथ किया गया गठबंधन अलग होता है तो उन्हें यह कहने का मौका मिले जब शिवसेना धर्म को छोड़ कर आई थी तब ने हम उसे अपनाया इसमें धर्मनिरपेक्ष काम नहीं किया इसलिए हमने आप उसे छोड़ दिया तो इसलिए राहुल गांधी जी महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के शपथ ग्रहण समारोह में नहीं जाना चाहते हैं धन्यवाद

kyonki aapne poocha ki maharashtra mein uddhav thakare ki shapath grahan mein kyon nahi jana chahte hain rahul gandhi main bata doon ki rahul gandhi aur sonia gandhi ki jo nahi pahuche the isliye nahi aana chahte kyonki yah dharmanirapekshata ke mudde ko chhodna nahi chahte vaah ek rasta rakhna chahte hain apne paas kuch jante hain ki shivsena ka astitva jab maharashtra ki raajneeti mein aaya toh uske saath saath dharam juda hua tha yah log hindu dharam ko badhawa dete hain yah hindu dharam ki pehchaan ke liye bhi karya karte hain shivasainik me shivasainik naam bhi mila aur jab tak balasaheb the tab tak unhone shaam ki kya tum maharashtra ki raajneeti mein bala saheb ne jo apna damkham banaya jo apne aap ko saabit kiya uske peeche shivsena ka hindutvawadi chehra hi tha hindutvawadi karya hi tha aisi sthiti mein aaj sarkar ban rahi hai ncp ki congress ki aur shivsena ki mili julie waise mein congress ke liye jo varishtha neta hai vaah shapath grahan samaroh mein isliye nahi jana chahte hain kyonki kal unke upar anguli uth sakti hai ki aap ki dharmanirapekshata ka kya hua aapne dekha hoga rahul gandhi ji ne bhi tweet kiya hai usmein likha hai ki mujhe asha hai ki yah sarkar mein post hogi iska matlab hai ki rahul gandhi chahte hain congress ke upar kisi vishesh dharam se laga hone ka aarop na lage dusri taraf yah congress ke jo bade leader hain rahul gandhi sonia gandhi aur bhi dusre bahut saare bade leader hain jo wahan upasthit nahi the shapath grahan samaroh ke dauran vaah chahte hain ki ek rasta hamesha taiyar rahe bana rahe kyonki is sarkar ki samay seema kitni hogi kuch nahi kaha ja sakta yah alag baat hai ki uddhav thakare ke netritva mein sab ne bharosa jataya hai aur uddhav thakare ka character kab tak saaf raha hai isme koi do rai nahi hai unki shalinata bf mishra dekhne ko milte hain lekin yah teenon milkar sarkar ko kitni dur tak le jaenge aur 5 saal tak chala payenge ya nahi ya kuch kaha nahi ja sakta hai aise mein congress ke bade neta satark hai is mamle ko lekar ke ki yadi sarkar nahi chal pati hai aur shivsena ke saath kiya gaya gathbandhan alag hota hai toh unhe yah kehne ka mauka mile jab shivsena dharam ko chhod kar I thi tab ne hum use apnaya isme dharmanirapeksh kaam nahi kiya isliye humne aap use chhod diya toh isliye rahul gandhi ji maharashtra mein uddhav thakare ke shapath grahan samaroh mein nahi jana chahte hain dhanyavad

क्योंकि आपने पूछा कि महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की शपथ ग्रहण में क्यों नहीं जाना चाहते हैं

Romanized Version
Likes  76  Dislikes    views  2024
WhatsApp_icon
user
1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे बहुत लंबे सियासी ड्रामे के बाद महाराष्ट्र को उसका नया मुख्यमंत्री मिलने वाला है और उद्धव ठाकरे को जो है महाराष्ट्र विकास अधिकारी नाम के गठबंधन ने जिसको कांग्रेस एनसीपी और शिवसेना ने मिलकर बना है अपना नेता चुना है और अब महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे जो है बनने जा रहे हैं दरअसल आपने इसमें यह सवाल पूछा कि राहुल गांधी क्यों नहीं जा रहे हैं उनके शपथ ग्रहण समारोह में आपको बता दी कि उद्धव ठाकरे का शपथ ग्रहण समारोह कल शाम को 6:40 पर होना है और राहुल गांधी और प्रियंका गांधी उसमें जा रहे हैं या नहीं जा रहे हैं यह अभी तक साफ नहीं हुआ है कि किसी भी न्यूज़ चैनल खबर नहीं आई है कि यह दोनों नेता इस शपथ ग्रहण समारोह में जाएंगे कि नहीं जाएंगे तो जहां तक राहुल गांधी की जाने ना जाने की बात है जब तक कांग्रेस या फिर इस गठबंधन के जो नेता है इस बात को स्पष्ट नहीं करते हम नहीं कहती कि राहुल गांधी इसमें क्यों नहीं जा रहे हैं या वह जा रहे हैं तो कितनी जा रहे हैं आप हमें इंतजार करना पड़ेगा कि क्या कांग्रेस इस बात को कंफर्म कर दी गई राहुल गांधी इस में जा रहे हैं और अगर वह नहीं करती तो फिर वह कांग्रेस को इसकी वजह भी पता नहीं पड़ेगी तो हमें लगता है कि आर्टिकल पार्टी के स्टेटमेंट का मिंदर करना चाहिए और तब जाकर हम इस पर कोई बात तड़पाएगी कि उनका देश में जा रहे हैं आप या नहीं जा रहे हैं

dekhe bahut lambe siyasi drama ke baad maharashtra ko uska naya mukhyamantri milne vala hai aur uddhav thakare ko jo hai maharashtra vikas adhikari naam ke gathbandhan ne jisko congress ncp aur shivsena ne milkar bana hai apna neta chuna hai aur ab maharashtra ke naye mukhyamantri uddhav thakare jo hai banne ja rahe hain darasal aapne isme yah sawaal poocha ki rahul gandhi kyon nahi ja rahe hain unke shapath grahan samaroh mein aapko bata di ki uddhav thakare ka shapath grahan samaroh kal shaam ko 6 40 par hona hai aur rahul gandhi aur priyanka gandhi usmein ja rahe hain ya nahi ja rahe hain yah abhi tak saaf nahi hua hai ki kisi bhi news channel khabar nahi I hai ki yah dono neta is shapath grahan samaroh mein jaenge ki nahi jaenge toh jahan tak rahul gandhi ki jaane na jaane ki baat hai jab tak congress ya phir is gathbandhan ke jo neta hai is baat ko spasht nahi karte hum nahi kehti ki rahul gandhi isme kyon nahi ja rahe hain ya vaah ja rahe hain toh kitni ja rahe hain aap hamein intejar karna padega ki kya congress is baat ko confirm kar di gayi rahul gandhi is mein ja rahe hain aur agar vaah nahi karti toh phir vaah congress ko iski wajah bhi pata nahi padegi toh hamein lagta hai ki article party ke statement ka mindar karna chahiye aur tab jaakar hum is par koi baat tadapaegi ki unka desh mein ja rahe hain aap ya nahi ja rahe hain

देखे बहुत लंबे सियासी ड्रामे के बाद महाराष्ट्र को उसका नया मुख्यमंत्री मिलने वाला है और उद

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  748
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महाराष्ट्र उद्धव ठाकरे के शपथ में राहुल गांधी किस लिए नहीं जाना चाहते क्योंकि उनको पर्सनल विचार हो सकते हैं कुछ समय पहले जब शिवसेना बीजेपी के साथ गठबंधन किया हुआ था उस समय राहुल गांधी के बारे में उद्धव ठाकरे ने कई और मर्यादित विचार पेश किए थे इसके कारण राहुल गांधी हो सकता है क्या हाथ में हो जिसके कारण वह नहीं जाना चाहते इसके अलावा भी कई राजनीतिक कारण हो सकते हैं जिसके कारण राहुल गांधी राष्ट्रीय उद्यान ठाकरे के शपथ ग्रहण में नहीं जाना चाहते हैं शिवसेना एक दल के रूप में जानी जाती है हो सकता है कि वह अपने वोट बैंक जो मुस्लिम वोट बैंक होती है उसके कारण व उनके सफर में नहीं जाना चाहते हैं इसके अलावा अन्य कई कारण भी हो सकते हैं

maharashtra uddhav thakare ke shapath mein rahul gandhi kis liye nahi jana chahte kyonki unko personal vichar ho sakte hain kuch samay pehle jab shivsena bjp ke saath gathbandhan kiya hua tha us samay rahul gandhi ke bare mein uddhav thakare ne kai aur maryadit vichar pesh kiye the iske karan rahul gandhi ho sakta hai kya hath mein ho jiske karan vaah nahi jana chahte iske alava bhi kai raajnitik karan ho sakte hain jiske karan rahul gandhi rashtriya udyan thakare ke shapath grahan mein nahi jana chahte hain shivsena ek dal ke roop mein jani jaati hai ho sakta hai ki vaah apne vote bank jo muslim vote bank hoti hai uske karan v unke safar mein nahi jana chahte hain iske alava anya kai karan bhi ho sakte hain

महाराष्ट्र उद्धव ठाकरे के शपथ में राहुल गांधी किस लिए नहीं जाना चाहते क्योंकि उनको पर्सनल

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  156
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!