अशोक के धम की नीति का मूल्यांकन कीजिए?...


play
user

shekhar11

Volunteer

1:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के अशोक के धर्म प्रवृत्ति और नीति की बात की जाए तो संसार में देखा जाए तो इतिहास में असम किस लिए विख्यात है इसने निरंतर मानव की नैतिक उन्नति के लिए प्रयास किया था जिन सिद्धांतों के पालन से यह नैतिक उत्थान संभव था शो के लेखों में उन्हें धाम कहा गया है दूसरे तथा सातवें स्थान लेखों में अशोक में उन्होंने धर्म की व्याख्या प्रकार किया की धम धम ही साथ होता है बहुत से कल्याणकारी अच्छे कार्य करना पाप रहित होना मित्रता दूसरों के प्रति व्यवहार में मधुरता दया दान तथा सुचिता यह धमकी प्रवृत्ति है कलिंग युद्ध के बाद ही अशोक अपने शिलालेखों के अनुसार दाम में प्रवृत्त हुए थे यहां धाम का असर है बौद्ध धर्म से किया जाता है और वह सिगरी बौद्ध धर्म के अनुयाई बन गए थे बहुत लंबी होने के बाद अशोक क्या व्यक्तित्व एकदम बदल गया था अकबर शिलालेख में जो संभवत कलिंग विजय के 4 वर्ष बाद तैयार किया गया था अशोक ने घोषणा की कॉलिंग देश में कितने आदमी मारे गए मरे या कैद में उनके शो में या हजार में हिस्से का नाश भी अब देवताओं के प्रिय को बड़े दुख का कारण होगा और दे हमें तो इनके बाद कंपलीट शौक है उन्होंने उनकी नेचर उनकी पूरी

aaj ke ashok ke dharm pravritti aur niti ki baat ki jaaye toh sansar mein dekha jaaye toh itihas mein assam kis liye vikhyat hai isne nirantar manav ki naitik unnati ke liye prayas kiya tha jin siddhanto ke palan se yah naitik utthan sambhav tha show ke lekho mein unhe dhaam kaha gaya hai dusre tatha satve sthan lekho mein ashok mein unhone dharm ki vyakhya prakar kiya ki dham dham hi saath hota hai bahut se kalyaankari acche karya karna paap rahit hona mitrata dusro ke prati vyavhar mein madhurata daya daan tatha suchita yah dhamki pravritti hai kalinga yudh ke baad hi ashok apne shilalekho ke anusaar daam mein parvirt hue the yahan dhaam ka asar hai Baudh dharm se kiya jata hai aur vaah sigri Baudh dharm ke anuyayi ban gaye the bahut lambi hone ke baad ashok kya vyaktitva ekdam badal gaya tha akbar shilalekh mein jo sambhavat kalinga vijay ke 4 varsh baad taiyar kiya gaya tha ashok ne ghoshana ki Calling desh mein kitne aadmi maare gaye mare ya kaid mein unke show mein ya hazaar mein hisse ka naash bhi ab devatao ke priya ko bade dukh ka karan hoga aur de hamein toh inke baad complete shauk hai unhone unki nature unki puri

आज के अशोक के धर्म प्रवृत्ति और नीति की बात की जाए तो संसार में देखा जाए तो इतिहास में असम

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  8
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!